Jagran Josh Logo

UP Board Class 12 Chemistry Practice Paper Second Set - 5

Mar 17, 2017 14:23 IST

Jagranjosh presents UP Board Class 12 Chemistry Solved Practice Paper (Paper-2nd) for the coming exam of the academic session 2016 – 17. This practice paper is specially prepared by Chemistry subject experts at jagranjosh.com after the brief analysis of previous year question papers.

About UP Board Solved Chemistry Practice Paper (Paper First) 2016 – 17:

After the analysis of UP Board Class 12 previous year question papers, it has been observed that questions based on certain concepts frequently are asked in board examination every year.

Such questions are given in this solved practice papers. Students go through this paper in order to understand such concepts.

After going through this paper you will:

• Know important question likely to be asked in UP Board Class 12 Chemistry (Paper 1) Exam 2016 – 17

• Learn to give proper explanations to the question in order to score maximum marks

• Able to learn time management by practising questions

Some solved questions from the solved practice paper are:

प्रश्न : शून्य कोटि अभिक्रिया के वेग स्थिरांक का मात्रक है-

(i)      लीटर सेकण्ड-1

(ii)     लीटर.मोल-1. सेकण्ड-1

(iii)    मोल. लीटर-1. सेकण्ड-1

(iv)    मोल. सेकण्ड-1

उत्तर:  मोल. लीटर-1. सेकण्ड-1

प्रश्न : सम्पर्क विधि सो H2SO4 के निर्माण में प्रयुक्त होने वाला उतप्रेरक है-

(i)   Al2O3

(ii)   Cr2O3

(iii)   V2O5

(iv)   MnO2

उत्तर:  V2O5

प्रश्न : धनात्मक कोलॉइडी विलयन है-

(i)     SnO2

(ii)    As2O3

(iii)    गोंद

(iv)   इनमें से कोई नहीं

उत्तर:  इनमें से कोई नहीं

प्रश्न :  कोलॉइडी कणों का साइज लगभग किस रेन्ज में है –

(i)    1Å  से 200Å

(ii)   50Å से 2000Å

(iii)  500Å से 2000Å

(iv)  इनमें से कोई नहींI

उत्तर: (ii) 50 Å से 2000 Å

प्रश्न : वाष्पदाब से आप क्या समझते हैं? वाष्पदाब में क्या होता है जब (i) वाष्पशील विलेय को विलयन में मिलते हैं, (ii) अवाष्प्शील विलेय को विलयन में मिलाया जाता है?

उत्तर : सम्य्वस्था में द्रव्य के ऊपर वाष्प में अणुओं की संख्या स्थिर रहती है| ये अनु द्रव्य की सतह पर दाब डालते हैं और इस दाब को स्मन्य्वस्था वाष्प दाब अथवा वाष्प दाब कहते हैं| किसी विशेष ताप पर द्रव्य के वाष्प दाब का विशिष्ट मान होता है|

(i) जब वाष्पशील घुल्य को घोलक में घुलाया जाता है तो घोल बनता है तो दोनों का वाष्प घोल में ऊपर जमा होता है जो शुद्ध घोलक की तुलना में ज्यादा होता है| इसी कारण बना घोल का वाष्प दाब शुद्ध घोलक के वाष्पदाब से अधिक होता है|

(ii) जब अवाष्प्शील घुल्य को शुद्ध घोलक में डाला जाता है तो घोल बनता है| घोलक का वाष्पदाब घोल में ऊपर जमा होता है वह शुद्ध घोलक की तुलना में इसी अवस्था में कम होता है जो वाष्पदाब का अवनमन खा जाता है| रिजल्टिंग घोल का वाष्पदाब शुद्ध घोलक के वाष्पदाब से कम होता है और यह भी वाष्पदाब का अवनमन कहा जाता है|                

प्रश्न : गैसों के द्रव्य में विलेयता सम्बन्धी हेनरी के नियम को समझाएं? हेनरी स्थिरांक(KH) और गैसों की विलेयता में क्या सम्बन्ध है ?

उत्तर : बहुत सी गैसें जल में घुल जाती हैं| जैसे ऑक्सीजन की जल में घुली मात्रा जलीय जीवन के लिए आवश्यक है| सर्वप्रथम गैस की विलायक में विलेयता और उसके दाब के मध्य मात्रात्मक सम्बन्ध हेनरी नामक वैज्ञानिक के द्वारा दिया गया जिसे हेनरी का नियम कहते हैं|

इसके अनुसार, स्थिर ताप पर किसी गैस की द्रव्य में विलेयता गैस के दाब का समानुपाती होता है| अर्थात गैसों की विलेयता ∝ (अनुपाती) गैस का आंशिक दाब यदि गैस की विलेयता को मोल अंश में व्यक्त किया जाए तो, हेनरी के नियम के अनुसार, किसी विलयन में किसी गैस का मोल अंश उस विलयन के ऊपर उपस्थित गैस के आंशिक दाब का समानुपाती होता है|

अतः हेनरी नियम के अनुसार “ किसी गैस का वाष्प अवस्था में आंशिक दाब(p), उस विलयन में गैस के मोल-अंश (x) समानुपाती होता है|”

Download the Completley Solved Practice Paper

UP Board Class 12 Mathematics-I Solved Guess Paper Set-2

 

Highlights
  • Citing safety concerns, non-Kashmiri students demand
  • They are also calling for action against cops who lathicharged students
  • NIT campus has been tense since students clashed over Indias T20 defeat

Post Comment
Suggested Colleges

Latest Videos

Register to get FREE updates

    All Fields Mandatory
  • (Ex:9123456789)
  • Please Select Your Interest
  • Please specify

  • By clicking on Submit button, you agree to our terms of use
    ajax-loader
  • A verifcation code has been sent to
    your mobile number

    Please enter the verification code below

Newsletter Signup
Follow us on
X

Register to view Complete PDF