Jagran Josh Logo
  1. Home
  2.  |  
  3. अर्थव्यवस्था

अर्थव्यवस्था

General Knowledge for Competitive Exams

Read: General Knowledge | General Knowledge Lists | Overview of India | Countries of World

सेक्शन 80 C: इनकम टैक्स बचाने के 10 तरीके कौन से हैं?

Jul 21, 2017

इनकम टैक्‍स एक्‍ट के सेक्‍शन 80C के तहत एक वित्त वर्ष में विभिन्न योजनाओं में 1.5 लाख रुपए तक का निवेश करके आयकर बचाने का मौका लोगों के पास होता है. अधिकतर लोग केवल LIC, PPF आदि में ही इनवेस्ट कर टैक्स बचाते हैं लेकिन ऐसे कई और विकल्प हैं जहाँ पर निवेश करके सेक्‍शन 80C के तहत कर बचाया जा सकता है. इस लेख में हम ऐसे हे कुछ निवेश विकल्पों के बारे में जानेंगे.

भारत में GST के लागू होने से चीन को क्या नुकसान होगा

Jul 13, 2017

चीन की सस्ती वस्तुएं भारत में बहुत बड़ी मात्रा में बेचीं जातीं हैं. ये वस्तुएं इतनी सस्ती होतीं हैं कि भारत के निर्माता इन चीनी निर्माताओं का मुकाबला नही कर पाते हैं. लेकिन GST लागू होने के बाद चीन के लिए मुसीबत पैदा होने वाली है क्योंकि अभी चीनी वस्तुएं एक प्रदेश से दूसरे प्रदेश में बिना किसी कर को चुकाए और रजिस्ट्रेशन किये भेजी जा सकतीं हैं लेकिन GST लागू होने के बाद ऐसा नही हो पायेगा.

जानें किन देशों में GST की दर भारत से ज्यादा या कम हैं

Jul 13, 2017

जीएसटी (GST) को गुड्स एंड सर्विस टैक्स भी कहते है. यह 1 जुलाई से पूरे देश में लागू हो चुका है. इसके लागु होने से अब हर समान और हर सेवा पर सिर्फ एक टैक्स लगेगा यानी वैट, एक्साइज और सर्विस टैक्स की जगह एक ही टैक्स लगेगा. इस लेख के माध्यम से जीएसटी किन देशों में लागु किया गया है और वह भारत से ज्यादा है या कम के बारे में अध्ययन करेंगे.

RBI के नये नियम से बैंक फ्रॉड की कितनी राशि ग्राहकों को वापस मिलेगी

Jul 12, 2017

भारतीय रिज़र्व बैंक के नये दिशा निर्देशों के अनुसार यदि कोई ग्राहक ऑनलाइन बैंकिंग फ्रॉड या इलेक्ट्रॉनिक भुगतानों का उपयोग करते हुए स्टोर्स में फेस-टू-फेस लेनदेन फ्रॉड (जैसे कार्ड को क्लोन करना) का शिकार होता है और वह इस फ्रॉड की सूचना सम्बंधित बैंक को फ्रॉड होने की तिथि से तीन दिन के अन्दर दे देता है तो उसे कोई वित्तीय नुकसान नही होगा अर्थात पूरा पैसा बैंक द्वारा ग्राहक को लौटाया जायेगा.

मुद्रा के बारे में 7 ऐसी बातें जो आप शायद ही जानते हो

Jul 11, 2017

यह बात तो एक निर्विवाद सच है कि बिना अर्थ के कोई तंत्र नही होता है, इसी कारण रुपये की अनुपस्थिति में किसी भी दुनिया की कल्पना भी नही की जा सकती है. जब रुपये का अविष्कार नही हुआ था तब मनुष्य ने वस्तु विनिमय व्यवस्था का सहारा लिया और जब वस्तु विनिमय व्यवस्था की कमियों के कारण मनुष्य की जरूरतें पूरी होने में बाधा आने लगी तब मुद्रा का अविष्कार किया गया था. इस लेख में मुद्रा के अविष्कार से लेकर उसके बारे में अन्य 7 रोचक बातों का वर्णन किया गया है.

भारत vs चीन: 13 विभिन्न क्षेत्रों में तुलना

Jul 5, 2017

भारत की अर्थव्यवस्था ने 7.6% की आर्थिक विकास दर हासिल करने के साथ ही पूरी दुनिया में सबसे तेजी बढती हुई अर्थव्यवस्था का ख़िताब अपने नाम कर लिया है| इस समय भारतीय अर्थव्यवस्था का आकार $ 4.99 खरब और चीन की अर्थव्यवस्था का आकार $13.39 खरब है| इस लेख में भारत और चीन की अर्थव्यवस्था को बढ़ने में महत्वपूर्ण योगदान देने वाले क्षेत्रों का तथ्यात्मक अध्ययन किया गया है|

GST दर: 8 मिथ्या और वास्तविकताएं

Jul 4, 2017

गुड्स एंड सर्विस टैक्स (GST), अर्थव्यवस्था को मजबूत और भ्रष्टाचार को कम करने के लिए 1 जुलाई से लागू हुआ हैं. इस लेख में GST की दर को लेकर कुछ मिथ्या और उससे जुड़ी वास्तविकता के बारे में बताया गया है.

GST के फायदे और नुकसान: एक विश्लेषण

Jun 27, 2017

वर्तमान में भारत में बिक्री कर, उत्पाद कर, सीमा शुल्क, मनोरंजन शुल्क, चुंगी कर और वैट जैसे अप्रत्यक्ष कर लगते हैं लेकिन 1 जुलाई से इन सभी अप्रत्यक्ष करों के स्थान पर सिर्फ एक कर “वस्तु एवं सेवा कर” लगाया जायेगा. ऐसा करने के बाद भारत दुनिया में GSTलागू करने वाला 166 वां देश बन जायेगा. आपकी जानकारी के लिए बता दूं कि पाकिस्तान में भी GST लागू है.

आखिर भारतीय अर्थव्यवस्था को प्लास्टिक के नोटों से क्या फायदा होगा?

Jun 23, 2017

भारत में नकली नोटों की बढती समस्या और कागज के नोटों के जल्दी फटने के कारण होने वाले वित्तीय नुकशान को देखते हुए भारतीय रिज़र्व बैंक ने 2014 से देश के पांच शहरों: कोच्चि, मैसूर, जयपुर, शिमला और भुवनेश्वर में प्रयोग के तौर पर 10 रुपये के प्लास्टिक के नोट चलाने का फैसला लिया हैl

“मनी लॉन्ड्रिंग” किसे कहते हैं और यह कैसे की जाती है?

Jun 20, 2017

मनी लॉन्ड्रिंग से तात्पर्य अवैध तरीके से कमाए गए काले धन को वैध तरीके से कमाए गए धन के रूप में परिवर्तित करने से है. मनी लॉन्ड्रिंग अवैध रूप से प्राप्त धनराशि को छुपाने का एक तरीका है। मनी लॉन्ड्रिंग के माध्यम से कमाए गए धन पर सरकार को कोई कर नही मिलता है क्योंकि इस धन का कोई भी लेखा-जोखा सरकार के पास नही होता है.

विश्व के किन देशों में सबसे ज्यादा टैक्स लगता है?

Jun 19, 2017

हर देश अपनी अर्थव्यवस्था को चलाने के लिए अपने नागरिकों की आय पर, उत्पादन क्रियाओं और सेवाओं पर कर लगाता है. जब सरकार के पास कर इकठ्ठा हो जाता है तो वह इसका प्रयोग देश में आधारभूत सुविधाओं जैसे बिजली, पानी, शिक्षा, अस्पताल और सड़क बनाने में करता है ताकि लोगों के कल्याण में वृद्धि की जा सके.

GST 2017: सबसे सस्ती वस्तुओं की सूची

Jun 16, 2017

भारत सरकार के नये फैसले का आधार पर 1 जुलाई से पूरे भारत में वस्तु एवं सेवा कर लगाया जायेगा. इस नये कर कानून के लागू होने के बाद व्यापारियों को कर में छूट सिर्फ नये उत्पादों पर ही मिलेगी इसलिए उत्पादक/कम्पनियाँ/विक्रेता (मॉल, खुदरा व्यापारी, थोक व्यापारी) सभी एक जुलाई के पहले अपने पुराने स्टॉक को ख़त्म करने के लिए विभिन्न उत्पादों पर भारी छूट दे रहे हैं.

2014 से अब तक वर्तमान NDA सरकार ने भारतीय अर्थव्यवस्था को कितना बदला है?

Jun 7, 2017

भारत आज पूरी दुनिया में सबसे तेजी से विकास करती अर्थव्यवस्था बन चुका है और इसकी अर्थव्यवस्था का आकार 2.54 लाख करोड़ का हो चुका है जो कि इसे पूरी दुनिया में 7वीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था का ख़िताब दिलाता है. इस लेख में हमने भारत की अर्थव्यवस्था में सन 2013-14 से 2016-17 तक अर्थव्यवस्था के विभिन्न क्षेत्रों में हुए परिवर्तनों के बारे में बताया है.

वस्तु एवं सेवा कर (GST) के फायदे हैं और इसको लागू करने में चुनौतियाँ

Jun 7, 2017

वस्तु एवं सेवा कर (GST) एक ऐसा अप्रत्यक्ष कर है जो कि सभी प्रकार के अप्रत्यक्ष करों जैसे सेवा कर, बिक्री कर, उत्पाद कर, मनोरंजन कर, चुंगी कर इत्यादि को ख़त्म कर देगा. इस कर के 1 जुलाई से पूरे देश में लागू हो जाने के बाद भारत में “कर के ऊपर कर” लगाने की प्रथा का अंत हो जायेगा. भारत में इसके लागू होने से देश की GDP में 1% से 2% का वृद्धि होने का अनुमान है.

दुनिया के किन देशों में टीचर को सबसे ज्यादा सैलरी मिलती है?

Jun 5, 2017

आर्थिक सहयोग और विकास संगठन (OECD) ने हाल ही में अपनी एक रिपोर्ट (Education at a Glance 2016) में दुनिया के उन देशों की सूची जारी की है जहाँ पर टीचर की सैलरी सबसे ज्यादा और सबसे कम है. सबसे ज्यादा सैलरी देने वाले देशों की सूची में प्रथम स्थान पर लक्ज़मबर्ग का नंबर आता है जहाँ पर एक हाई स्कूल के फ्रेशर टीचर की शुरूआती सैलरी $79000 है जबकि सबसे अच्छा टीचर सबसे अधिक सैलरी $1,37,000 पाता है.

विश्व में सबसे अधिक उत्पादन क्षमता वाले देशों की सूची

Jun 2, 2017

अर्थशास्त्र के अनुसार उत्पादकता को प्रति यूनिट के श्रम के लिए उत्पादित इकाइयों की मात्रा और गुणवत्ता के अनुपात के रूप में परिभाषित किया गया है। जब यह देश के आर्थिक स्वास्थ्य की बात आती है तो जीडीपी एकमात्र प्रधान सूचक होता हैl यहां, हम जीडीपी प्रति घंटे, औसतन साप्ताहिक काम (प्रति घंटे) और नियोजित जनसंख्या की तुलना के आधार पर दुनिया में सबसे अधिक उत्पादक देशों की सूची दे रहे हैं।

भारत और पाकिस्तान की अर्थव्यवस्थाओं की तुलना

Jun 1, 2017

आज भारत 2088 अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था होने के साथ ही विश्व की सातवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन गया है. इसके साथ साथ यहाँ की विकास दर पिछली तिमाही में 7.1 प्रतिशत थी जो कि इसे पूरी दुनिया में सबसे तेज गति से बढ़ने वाली अर्थव्यवस्था बनाती है. वहीँ दूसरी ओर पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था का आकार भारत की अर्थव्यवस्था के आकार से लगभग एक तिहाई (273 अरब डॉलर) का है.

जानें विश्व के किन देशों में सबसे ज्यादा सैलरी मिलती है?

May 25, 2017

OECD की ग्लोबल रिपोर्ट के अनुसार, विश्व में सबसे ज्यादा सैलरी देने वाला देश लक्जमबर्ग है, जहाँ पर कर्मचारी को प्रति वर्ष 40 लाख रुपये मिलते हैं. इसके बाद अमेरिका का नंबर आता है जहाँ पर एक कर्मचारी को औसतन 37.85 लाख रुपये प्रति वर्ष मिलता है. भारत में अत्यधिक कुशल कर्मचारी को औसतन 6 लाख रुपये प्रति वर्ष मिलते हैं.

क़यामत के दिन की तिजोरी (डूम्स डे वॉल्ट) क्या है और इसे क्यों बनाया गया है?

May 24, 2017

'डूम्स डे वॉल्ट' नार्वे में 100 देशों द्वारा बनाया गया एक ऐसा जीन बैंक है जिसमें अब तक 9 लाख विभिन्न खाद्य पदार्थों जैसे गेहूं, चना, मटर इत्यादि के बीजों को संभाल कर किसी आपातकालीन स्थिति से निपटने के लिए रखा गया हैं.भारत भी इस परियोजना का हिस्सा है. इसका निर्माण 26 फरवरी 2008 में पूरा हुआ था.

जानें किन देशों की मुद्रा का मूल्य भारत के रुपये से कम है?

May 23, 2017

एक देश की मुद्रा का दूसरे देश की मुद्रा में ‘मूल्य’ ही विनिमय दर कहलाती है. वियतनाम, इंडोनेशिया, कम्बोडिया और हंगरी आदि कुछ ऐसे देश हैं जिनकी मुद्रा का मूल्य भारत के रुपये से बहुत कम है. दूसरे शब्दों में भारत की मुद्रा की एक इकाई खरीदने के लिए इन देशों की अधिक मुद्रा खर्च करनी पड़ेगी.

बिटकॉइन (Bitcoin) मुद्रा क्या है और कैसे काम करती है?

May 22, 2017

बिटकॉइन डिजिटल मुद्रा का एक रूप है सरल शब्दों में, यह एक गणितीय संरचना है जो एल्गोरिदम पर चलता है। इसे किसने विकसित किया था इसके बारे में कोई भी ठोस सबूत नही है लेकिन छदम रूप से इसके संस्थापक का नाम ‘सोतशी नाकामोतो’ माना जाता हैl जिस तरह रुपए, डॉलर और यूरो खरीदे जाते हैं, उसी तरह बिटकॉइन की भी खरीद होती है। ऑनलाइन भुगतान के अलावा इसको पारम्परिक मुद्राओं में भी बदला जाता है।

हवाला व्यापार किसे कहते हैं और यह कैसे काम करता है?

May 18, 2017

हवाला लेन देन में धन अनधिकृत रूप से एक देश से दूसरे देश में विदेशी विनिमय किया जाता हैl अर्थात हवाला का मतलब एजेंटों के माध्यम से धन का एक देश से दूसरे देश में हस्तांतरण किया जाता है l इस प्रकार यह पैसे के लेन देन का एक गैर कानूनी तरीका है जिसे “हुंडी” भी कहा जाता हैl गृह मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार भारत में प्रतिवर्ष हवाला कारोबार का आकार 20 से 25 अरब डॉलर का हैl

भारत के किन राज्यों की GDP विश्व के अन्य देशों के बराबर या ज्यादा है?

May 18, 2017

वर्तमान में भारत की अर्थव्यवस्था का आकार 2 ट्रिलियन डॉलर से भी अधिक का हो गया है और भारत विश्व में सबसे अधिक विकास दर वाली अर्थव्यवस्था है l भारत का सबसे समृद्ध राज्य महाराष्ट्र है जिसका सकल घरेलू उत्पाद (GDP) 380 अरब डॉलर है जो कि नार्वे की अर्थव्यवस्था के आकार के बराबर हैl भारत का दूसरा सबसे अधिक GDP वाला राज्य तमिलनाडु (208 अरब डॉलर) और इसके बाद कर्नाटक (190 अरब डॉलर) का स्थान आता है l

वन बेल्ट वन रोड (OBOR) परियोजना क्या है और भारत इसका विरोध क्यों कर रहा है?

May 16, 2017

OBOR यानि वन बेल्ट वन रोड परियोजना के माध्यम से चीन पुराने रेशम मार्ग को पुनर्जीवित करने की एक कोशिश कर रहा है जिससे एशिया, यूरोप और अफ्रीका के बीच व्यापार को नए आयाम दिए जा सकेl चीन इस सम्बन्ध में एक अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन बीजिंग (चीन) में 14 और 16 मई के बीच आयोजित कर रहा हैl वन बेल्ट वन रोड परियोजना में कुल खर्च 1400 अरब डॉलर आएगा l

क्या आप भारत के सभी वेतन आयोगों का इतिहास जानते हैं?

May 15, 2017

भारत में पहले वेतन आयोग का गठन जनवरी, 1946 में श्रीनिवास वरादाचरियर की अध्यक्षता में स्थापित किया गया थाl दूसरे वेतन आयोग का गठन अगस्त 1957 में आजादी के 10 साल बाद स्थापित हुआ था और इसकी सिफारिशों का सरकार पर ₹ 39.6 करोड़ का वित्तीय प्रभाव पड़ा था। अभी हाल ही में घोषित 7 वें वेतन आयोग को लागू किये जाने से सरकार पर 1 लाख करोड़ से अधिक का वित्तीय बोझ सहन करना पड़ेगा l

चीन पाकिस्तान आर्थिक गलियारा क्या है और भारत इसका विरोध क्यों कर रहा है

May 15, 2017

चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारा (CPEC) पाकिस्तान के ग्वादर से लेकर चीन के शिनजियांग प्रांत के काशगर तक लगभग 2442 किलोमीटर लम्बी एक वाणिज्यिक परियोजना है l इस परियोजना की लागत 46 अरब डॉलर आंकी जा रही है l इस परियोजना का प्रमुख उद्येश्य रेलवे और हाइवे के माध्यम से तेल और गैस का कम समय में वितरण करना है।

हीरा कैसे बनता है और असली हीरे को कैसे पहचानें?

May 15, 2017

हीरा एक पारदर्शी रत्न होता है। यह रासायनिक रूप से कार्बन का शुद्धतम रूप है इसमें बिल्कुल मिलावट नहीं होती है, यदि हीरे को ओवन में 763 डिग्री सेल्सियस पर गरम किया जाये, तो यह जलकर कार्बन डाइ-आक्साइड बना लेता है तथा बिलकुल भी राख नहीं बचती है, इस प्रकार हीरे 100% कार्बन से बनते हैं।

वाणिज्यिक बैंकों और सहकारी बैंकों में क्या अंतर होता है?

May 12, 2017

भारतीय रिज़र्व बैंक आंकड़ों के अनुसार, 2017 में देश में 31राज्य सहकारी बैंक काम कर रहे हैं। भारत में केंद्रीय या जिला सहकारी बैंकों की संख्या 2013-14 में 370 थी।वर्तमान में भारत में 81वाणिज्यिक बैंक कार्यरत हैं। बैंकिंग विनियमन अधिनियम, 1949 पूरी तरह से भारत के सभी वाणिज्यिक बैंकों पर लागू होता है, जबकि सहकारी बैंक आंशिक रूप से इस अधिनियम का पालन करने के लिए बाध्य है।

भारत में नीली क्रांति

May 11, 2017

भारत में मत्य्य उत्पादन में बृद्धि के लिए चलाई गई एक विशेष योजना को ‘नीली क्रांति’ का नाम दिया गया है| आर्थिक समीक्षा 2014-15 के अनुसार वर्ष 2013-14 में 95.8 लाख टन मछली का उत्पादन कर आज भारत विश्व का दूसरा सबसे बड़ा मछली उत्पादक राष्ट्र बन गया है |

भारत में कृषि से सम्बंधित क्रांतियाँ

May 11, 2017

भारत में सबसे पहली क्रांति की शुरुआत 1966-67 में हुई हरित क्रांति से मानी जाती है | इस क्रांति के कारण भारत खाद्य उत्पादन में आत्म निर्भर हो गया| हरित क्रांति में मुख्य योगदान उन्नत किस्म के बीजों का रहा है | इसी क्रांति के बाद भारत में दुग्ध क्रांति, पीली क्रांति, गोल क्रांति नीली क्रांति आदि की शुरुआत हुई और भारत दूध, सरसों, आलू और मत्स्य उत्पादन में आत्म निर्भर हो गया |

Register to get FREE updates

    All Fields Mandatory
  • (Ex:9123456789)
  • Please Select Your Interest
  • Please specify

  • By clicking on Submit button, you agree to our terms of use
    ajax-loader
  • A verifcation code has been sent to
    your mobile number

    Please enter the verification code below

Latest Videos

Newsletter Signup
Follow us on