1. Home
  2.  |  
  3. ARTICLE
  4.  |  
  5. ऑफिस लाइफ
  6.  |  
  7. कार्पोरेट ज्ञान

कार्पोरेट ज्ञान

CATEGORIESCategories

    महत्वपूर्ण चर्चा: नये ऑफिस में अपने बॉस को फ़ॉलो करें या नहीं

    Dec 6, 2019
    जब हम किसी नए ऑफिस में जॉब ज्वाइन करते हैं तो हमें अपने सीनियर्स और बॉस को फ़ॉलो करना पड़ता है. लेकिन क्या हमें अपने बॉस के साथ ही उसके नए ऑफिस में जॉब ज्वाइन कर लेनी चाहिए? .....यह एक चर्चा का विषय है. इस आर्टिकल में हम इस बारे में महत्वपूर्ण चर्चा कर रहे हैं कि आपके लिए नए ऑफिस में अपने बॉस को फ़ॉलो करना कितना जरुरी है? इसके आपको क्या फायदे या नुकसान हो सकते हैं.

    क्या आपको अपनी पुरानी जॉब फिर से ज्वाइन करनी चाहिए या नहीं ?

    Nov 20, 2019
    अगर आपको अपनी पुरानी कंपनी से कॉल आती है कि आप उन्हें दुबारा ज्वाइन कर सकते हैं तो यह अपने आप में एक अच्छा एहसास होगा. लेकिन पुरानी जॉब को फिर से ज्वाइन करने का विचार आपके लिए एक दुविधा की तरह होगा. बहुत सारे ऐसे कारण हैं जिनके बारे में नयी जॉब ज्वाइन करने से पहले आपको सोचना चाहिए.

    प्रत्येक ऑफिस में पाए जाने वाले 3 तरह के बॉस

    Nov 13, 2019
    यहाँ पर हमने ऐसे बॉसों के बारे में जिक्र किया है जो आपको लगभग हर ऑफिस में मिल जायेंगे.इस लेख को पढने के बाद आप इन सब बॉसों के साथ काम करने में सहज हो जायेंगे.

    सांस्कृतिक विविधता से युक्त टीम के साथ काम करने के फायदे

    Jul 23, 2019
    शुरुआत में कुछ लोगों के लिए विभिन्न सहयोगियों की मानसिकता के साथ समायोजित करना कठिन हो सकता है, लेकिन दूसरी तरफ ऐसी टीम में काम करने  के कई लाभ भी हैं. कार्यस्थल पर एक सांस्कृतिक रूप से विविध टीम होने के फायदों पर नजर डालें.

    अपने पेशेवर संपर्कों को इन गिफ्ट्स के जरिये दें धन्यवाद

    Jul 22, 2019
    इस लेख में, हमने अपनी कृतज्ञता व्यक्त करने के लिए कुछ निजीकृत उपहारों  का सुझाव दिया है जो आपके पेशेवर संपर्कों के साथ आपके संबंधों को मजबूत करने में आपकी सहायता कर सकता है.

    पेशेवर लोग कैसे सेल्फ-डाउट से बाहर निकलें?

    Jul 22, 2019
    कभी-कभी पेशेवरों कि जिंदगी में ऐसा टाइम भी आता है जब सेल्फ -डाउट होने लगता है. यह एक ऐसे चीज है जो आपके लक्ष्यों को पूरा करने में एक बाधा बन सकती है. तो ऐसे समस्या से निपटने के लिए हमने यहाँ कुछ सुझाव दिए हैं.

    ये हैं मॉडर्न कॉर्पोरेट वर्क फॉर्मेट में वर्क-लाइफ बैलेंस बनाने के महत्वपूर्ण टिप्स

    Apr 22, 2019
    वर्किंग प्रोफेशनल्स में तो यह चिंता, तनाव, डर और अपनी जॉब को लेकर बढ़ती हुई असुरक्षा की भावना आजकल एक सामान्य-सी बात बन चुकी है. इस वजह से आजकल वर्किंग प्रोफेशनल तनाव और अवसाद के शिकार हो रहे हैं.

    इंटरव्यू ड्रिल: ट्रिकी क्वेश्चन्स के कैसे दें इम्प्रेसिव आंसर्स

    Jan 17, 2019
    आजकल बहुत बार कैंडिडेट्स से इंटरव्यू में काफी ट्रिकी क्वेश्चन्स पूछे जाते हैं. इस आर्टिकल में हम कुछ ऐसे टिप्स पेश कर रहे हैं जो ऐसे क्वेश्चन्स के इम्प्रेसिव जवाब तैयार करने में आपकी काफी मदद करेंगे ताकि वह जॉब आपको मिल सके. 

    एक्सपर्ट स्पीक – नॉन वर्बल कम्युनिकेशन: आपके हाव-भाव बताते हैं बहुत कुछ

    Oct 5, 2018
    हम अपना मैसेज प्रभावी तरीके से भेजने के लिए काफी सचेत हो जाते हैं और यह सुनिश्चित कर लेते हैं कि हम कॉन्फिडेंट और कॉम्पीटेंट लगें और इस बात की चिंता करते हैं कि हमारी प्रेजेंटेशन के भविष्य में क्या नतीजे निकलेंगे? आपकी बॉडी एक बहुत ही भौतिक या शारीरिक तरीके से बातचीत का जवाब देती है. अपने अगले कुछ कम्युनिकेशन सेशन्स में कुछ सुझावों का सचेत रहकर इस्तेमाल करें. जल्दी ही आप इन नॉन-वर्बल कम्युनिकेशन टिप्स का इस्तेमाल सहजता से करने लगेंगे और फिर आपको इन गेस्चर्स का इस्तेमाल करते हुए जरूरत से ज्यादा सावधान नहीं रहना पड़ेगा.

    सकारात्मक सोच से बढ़ें अपने करियर में आगे

    Aug 30, 2018
    प्रोफेशनल वल्र्ड में हमारी सोच बहुत मायने रखती है। यदि सोच सकारात्मक है, तो यह नए-नए आइडियाज लेकर आती है और हमारे व्यक्तित्व को बेहतर बनाने में योगदान करती है। दरअसल, सोच हमारी दृष्टि से ही विकसित होती है कि हम किसी चीज को किस तरह देखते हैं। किसी भी चीज को देखने के कई एंगल हो सकते हैं, जिसे हम दृष्टिकोण कहते हैं। हमें उनमें से उस एंगल को चुनना होता है, जो हमारे लिए सर्वथा उपयुक्त है। यही हमारी सकारात्मक सोच होती है।

    ब्रेक के बाद करियर की शुरुआत कैसे करें?

    Aug 24, 2018
    जॉब फील्ड में बदलावों को देखते हुए एक लंबे ब्रेक के बाद करियर को फिर से शुरू करना किसी के लिए भी आसान नहीं होता। खासतौर से कामकाजी महिलाओं के लिए यह और भी चुनौतीपूर्ण होता है, क्योंकि तब जरूरत के मुताबिक आपके पास स्किल नहीं होती। कॉन्फिडेंस लेवल पहले जैसा नहीं होता है। नई पारी की शुरुआत के लिए खुद को कैसे तैयार किया जाए, बता रही हैं जॉब्सफॉरहर की फाउंडर एवं सीईओ नेहा बगारिया

    बिजनेस में जरूरी है सोशल कमिटमेंट

    Aug 16, 2018
    एक सीरियल एंटरप्रेन्योर की पहचान है इनकी, जो शुरुआती चरण में ही बिजनेस की संभावनाओं को परख लेते हैं। 2017 में आयोजित ग्लोबल सीईओ एक्सीलेंस अवॉड्र्स के तहत विपुल जैन को मेडिकल रिसर्च सीईओ का सम्मान एवं इनकी कंपनी ‘एडवांससेल्स’को ‘बेस्ट स्टेम सेल टेक्नोलॉजी रिसर्च एवं डेवलपमेंट कंपनी’ के रूप में पहचान मिल चुकी है

    खुद को पहचानें

    Aug 16, 2018
    आजादी के मायने पहले जैसे नहीं रहे। हम कहीं-न-कहीं उससे भटक गए हैं। लेकिन वह समय आ गया है कि हमको आजादी के अपने मायने बदलने होंगे। तभी उन सीमाओं से छुटकारा पा सकेंगे, जो सपनों को साकार करने से रोकते हैं। आखिर सच्ची आजादी की तरफ कैसे अपना कदम बढ़ाएं, बता रहे हैं विनीत टंडन...

    कामयाबी का रास्ता

    Aug 8, 2018
    अक्सर कहा जाता है कि सफलता का कोई शॉर्टकट नहीं होता। यह सही भी है आपको सफलता पाने के लिए अपने हुनर में माहिर होना पड़ेगा और इसके लिए समय भी लगेगा।

    अच्छी टीम में निवेश जरूरी

    Aug 6, 2018
    20 वर्षों से अधिक का ऑपरेशनल एवं एंटरप्रेन्योरियल अनुभव रखने वाले आलोक मित्तल ने भारत के लघु एवं मध्यम उद्योगों के संचालन में आने वाली परेशानियों को देखते हुए इंडिफाई लेंडिंग प्लेटफॉर्म की स्थापना की। इसकी मदद से कोई भी लघु उद्यमी आसानी से अपने कारोबार के लिए कर्ज हासिल कर सकता है। डिजिटल लेंडर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया के अध्यक्ष एवं इंडिफाई के सह-संस्थापक आलोक मित्तल मानते हैं कि जो आप बनना या करना चाहते हैं, वह करने की अगर आजादी मिले, तो वही सफलता है...

    सजग रहें, तो गलतियां नहीं होंगी

    Jul 31, 2018
    नहीं। दरअसल, गलतियां इंसान से ही होती हैं। लेकिन गलतियां सीखने के लिए होती हैं, ताकि अगली बार गलती न हो। यदि हम अपनी गलती से अपनी कमियों की परख करके अगला प्रयास करते हैं, तो हमें जरूर सफलता मिलती है। परंतु यदि हम एक ही गलती को बार-बार दोहरा रहे हैं, तो समझिए कि मामला गंभीर है। इसका अर्थ यह है हमारी रुचि उस काम में नहीं है और हम उस काम के प्रति सजग नहीं हैं।

    उद्यमिता की चुनौतियां

    Jul 31, 2018
    उद्योग जगत की ओर से अक्सर यह चिंता जाहिर की जाती रही है कि हमारे यहां स्किल्ड वर्कफोर्स और पर्याप्त इनोवेशन यानी नवाचार की कमी है, पर ऐसा कहते हुए शायद इंडस्ट्री इस सवाल का जवाब देना भूल जाती है कि स्किल और उद्यमिता को बढ़ावा देने के लिए खुद उसने कितना प्रयास किया है? देश में उद्यमिता और नवाचार की चुनौतियां क्या हैं, विचार कर रहे हैं अरुण श्रीवास्तव

    ऑफिस में कैसे मांगे माफी ?

    Mar 23, 2018
    इस लेख में, हम यह बताएंगे कि आप ऑफिस में किस तरह से माफी मांग सकते हैं  जो आपके पेशेवर जीवन में आपकी सहायता कर सकती है.

    4 गुण जो आपको ऑफिस में एक लीडर बना सकते हैं

    Mar 23, 2018
    इस लेख में हमने इन्हीं गुणों के बारे में विस्तार से बताया है जो आपको काम पर एक लीडर बनने में मदद कर सकते हैं .

    उद्यमी बनने के लिए व्यक्तित्व से जुड़ी कुछ महत्वपूर्ण विशेषताएं

    Mar 16, 2018
    इस लेख में हमने समझाया है कि एक अच्छा उद्यमी कैसे बनें.

    123 Next   

    Register to get FREE updates

      All Fields Mandatory
    • (Ex:9123456789)
    • Please Select Your Interest
    • Please specify

    • ajax-loader
    • A verifcation code has been sent to
      your mobile number

      Please enter the verification code below

    Loading...
    Loading...