Jagran Josh Logo

कॅरियर कोच की चिट्ठी: 15 मई 2013

May 16, 2013 18:02 IST

    प्रिय मित्रो,

    EXAMS तो शायद आपके समाप्त हो चुके होंगे। कुछ मित्र शायद ENTRANCE TESTS में व्यस्त होंगे, पर अधिकांश के लिए यह समय गर्मी की छुट्टियों में आनंद मनाने का है। जरूर कीजिए, सभी करते हैं। पर यदि आप दूसरों से अलग होकर कुछ करना चाहते हैं तो यह समय कमर कस के कुछ और सीखने का भी है। अगर आप नहीं चाहते कि अगले दो महीने, सुबह होती है, शाम होती है, उम्र यूं ही तमाम होती है,की तर्ज पर बीत जाए तो फिर कुछ भिन्न तो करना ही है। क्या करें :

    INTERNSHIP कीजिए : आजकल बहुत बडी संख्या में कंपनियां एक-दो महीने के लिए विभिन्न कार्य क्षेत्रों में INTERNS लेती हैं। कुछ तो POCKET MONEY भी देती हैं। यह SALES, SALES PROMOTION, RETAIL, EVENTS इत्यादि और अगर आप किसी PROFESSIONAL COURSE में हैं तो उससे संबंधित क्षेत्र में हो सकता है। एक बार मैंने ऐसे ही एक ग्रुप में एक छात्र से उसके अनुभव पूछे और जानने की कोशिश की कि उसने अलग क्या पाया? छात्र ने अन्य छात्रों, COMPANY के SENIORS के साथ काम करते हुए सीखना इत्यादि बहुत अच्छा पाया। यह बात मुझे सुन के और भी अच्छी लगी, जब उसने कहा कि घर वापस जाने पर परिवार के सदस्य अब उसे बहुत इज्जत से देखते हैं। हो सकता है आपको किसी बहुत बडी कंपनी में INTERNSHIP करने का अवसर न मिले। कोई बात नहीं। किसी भी छोटे व्यवसाय के साथ जुडकर भी आप बहुत कुछ सीख सकते हैं। जरा FAMILY FRIENDS या उनके माध्यम से शुरुआत तो कीजिए।

    VOLUNTEER बनिए : हम सब समाज के लिए कुछ करना चाहते हैं। अपनी सोच को कार्यान्वित कीजिए। हर शहर में बडी संख्या में NGOs कार्यरत हैं। उनसे जुडिए। यदि नहीं तो अपने कुछ मित्रों संग मिलकर अपने शहर, कस्बे या गांव का ही कोई कार्य लेकर शुरू हो जाइए। और कुछ नहीं तो गरीब बच्चों के लिए थोडे समय के लिए TEACHING तो कर ही सकते हैं।

    READING बढाइए
    : कोर्स की किताबें तो सिर्फ करियर के लिए तैयार कर सकती हैं, जीवन की तैयारी के लिए तो और भी बहुत कुछ पढना जरूरी है। अच्छी पुस्तकें, अच्छी जीवनियां, अच्छी MAGAZINES, INTERNET BLOGS इत्यादि पर समय लगाइए। यदि कोई ­HOBBY बनाई है तो उस पर भी विस्तृत रूप से अध्ययन कीजिए।

    ENGLISH सुधारिए : मेरे पास सैकडों EMAILS आती हैं कि ENGLISH कैसे IMPROVE करें। बहुत बार जवाब दे चुका हूं। अपने आप तो नहीं सुधरेगी। कोशिश कीजिए। मदद लीजिए। कम से कम हर रोज पांच नए शब्द सीखने और एक नया वाक्य बोलने की PRACTICE कीजिए। दो महीने में फर्क देखिएगा। अपने मित्रों को भी इस चर्चा में भागीदार बनाइए। इस बार आप उन्हें प्रभावित कीजिए।

     

    DISCLAIMER: JPL and its affiliates shall have no liability for any views, thoughts and comments expressed on this article.

    Latest Videos

    Register to get FREE updates

      All Fields Mandatory
    • (Ex:9123456789)
    • Please Select Your Interest
    • Please specify

    • ajax-loader
    • A verifcation code has been sent to
      your mobile number

      Please enter the verification code below

    Newsletter Signup
    Follow us on
    This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK
    X

    Register to view Complete PDF