Search

परीक्षा की तैयारी में इंटरनेट की महत्त्वपूर्ण भूमिका: लेखराज नाग (झारखंड पीसीएस में प्रथम स्थान)

झारखंड लोक सेवा आयोग ने चौथी संयुक्त प्रतियोगिता परीक्षा (राज्य सिविल सेवा) का अंतिम परिणाम 27 नवम्बर 2012 को घोषित कर दिया. लेखराज नाग ने इस परीक्षा में सर्वोच्च स्थान प्राप्त कर निश्चित ही शानदार सफलता अर्जित की है. इस परीक्षा में लेखराज नाग के सफलता की कहानी उन्हीं की जुबानी.

Feb 12, 2013 16:27 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon

झारखंड लोक सेवा आयोग ने चौथी संयुक्त प्रतियोगिता परीक्षा (राज्य सिविल सेवा) का अंतिम परिणाम 27 नवम्बर 2012 को घोषित कर दिया. लेखराज नाग ने इस परीक्षा में सर्वोच्च स्थान प्राप्त कर निश्चित ही शानदार सफलता अर्जित की है. इस सफलता के लिए वह शत-शत बार हार्दिक बधाई के पात्र हैं. लेखराज नाग के साथ जागरणजोश.कॉम (jagranjosh.com) के उपसंपादक कुणाल झा की बातचीत के मुख्य अंश निम्नलिखित हैं:

जागरणजोश.कॉम: झारखंड पीसीएस परीक्षा में शानदार सफलता के बाद आप कैसा महसूस कर रहे हैं?
लेखराज नाग: अच्छा महसूस कर रहा हूं. यद्यपि मैं अपनी सफलता के बारे में आश्वस्त था, परन्तु प्रथम स्थान पर चयनित होना आशा से अधिक है.
जागरण जोश: आप अपनी विद्यालयी शिक्षा और उच्च शिक्षा के बारे में बताएं.
लेखराज नाग: मेरी विद्यालयी शिक्षा सरस्वती शिशु मंदिर और सेंट इग्नेतियस हाई स्कूल से हुई.  मैंने 12वीं परीक्षा सेंट जेवियर कालेज रांची से और स्नातक परीक्षा इतिहास आनर्स के साथ कार्तिक ओरेयाँन कालेज से उत्तीर्ण की. ईस्टर्न इंस्टीट्यूट फॉर इंटीग्रेटेड लर्निंग इन मैनेजमेंट, सिक्किम से मैंने लोक प्रशासन विषय में परास्नातक किया.
जागरण जोश: आपने झारखंड सिविल सेवा का चयन कब किया?
लेखराज नाग: स्नातक के दौरान ही मैंने झारखंड सिविल सेवा का चयन किया.
जागरण जोश: सिविल सेवा के चयन का आधार क्या था?
लेखराज नाग: मैं झारखण्ड के बहुत पिछड़े जिले से सम्बंधित हूं. मैं अपने राज्य के लिए कुछ करना चाहता था. इस लिए मैंने सिविल सेवा का चयन किया.
जागरण जोश: क्या आपने अपनी परीक्षा की तैयारी के दौरान इंटरनेट की मदद ली थी?
लेखराज नाग: सामान्य अध्ययन (जीएस) और लोक प्रशासन के लिए तैयारी के लिए मैंने इंटरनेट से व्यापक मदद ली.
जागरण जोश: आपने इस परीक्षा की तैयारी के लिए कितना समय लिया?
लेखराज नाग: यह तो अपने –अपने ऊपर निर्भर करता है. इस परीक्षा की तैयारी के लिए मैंने 6 वर्ष का समय लिया. 
जागरण जोश: यह सफलता आपने कितने अवसरों में प्राप्त की?
लेखराज नाग: यह मेरा तीसरा प्रयास था.
जागरण जोश: करेंट अफेयर्स की तैयारी में इंटरनेट ने आपकी कितनी मदद की?
लेखराज नाग: इंटरनेट हमें सीमित समय में करंट अफेयर्स से संबंधित विषयों पर व्यापक सामग्री प्रदान करता है.

Related Stories