Search

यूपीपीसीएस परीक्षा 2009 में प्रथम स्थान पर चयनित राकेश सिंह का jagranjosh.com के साथ साक्षात्कार

प्रथम प्रयास में ही यूपीपीसीएस परीक्षा 2009 में प्रथम स्थान पर चयनित होकर गोरखपुर के राकेश सिंह ने निस्संदेह शानदार सफलता अर्जित की है. इस परीक्षा में राकेश सिंह के सफलता की कहानी उन्हीं की जुबानी.

Apr 10, 2012 12:08 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon

उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित उत्तर प्रदेश सम्मिलित राज्य/प्रवर अधीनस्थ सेवा (पीसीएस) परीक्षा-2009 में अपने प्रथम प्रयास में ही प्रथम स्थान पर चयनित होकर राकेश सिंह ने निस्संदेह अत्यंत सम्मानजनक उपलब्धि अर्जित की, जिसके लिए वह शत-शत बार हार्दिक बधाई के पात्र हैं. jagranjosh.com के साथ उनके साक्षात्कार के महत्त्वपूर्ण अंश निम्नलिखित है.

jagranjosh.com: उत्तर प्रदेश सम्मिलित राज्य/प्रवर अधीनस्थ सेवा (पीसीएस) परीक्षा-2009 में शानदार सफलता के लिए हार्दिक बधाई.

राकेश सिंह: जी, धन्यवाद

jagranjosh.com: कृपया आप अपनी विद्यालयी शिक्षा और उच्च शिक्षा के बारे में बाताएं.

राकेश सिंह: मैंने कक्षा 10 शिशु मंदिर, सूरजकुंड, गोरखपुर से, कक्षा 12 एमजी इंटर कालेज गोरखपुर तथा बीटेक बरेली विश्वविद्यालय से उत्तीर्ण किया है. उसके बाद मैंने सिविल सेवा की तैयारी शुरू कर दी.

jagranjosh.com: यह सफलता आपने कितने अवसरों में प्राप्त की?

राकेश सिंह: यह मेरा प्रथम प्रयास था.

jagranjosh.com: सिविल सेवा को आपने क्यों चुना?

राकेश सिंह: मैं सार्वजनिक सेवा में जाना चाहता था. यह अन्य सभी सार्वजनिक सेवाओं के मध्य सबसे प्रतिष्ठित एवं चुनौतीपूर्ण सेवा है.

jagranjosh.com: राज्य सिविल सेवा परीक्षा में सफलता के लिए अभ्यर्थी को कितना समय चाहिए?

राकेश सिंह: मैंने इस परीक्षा की तैयारी के लिए 3-4 वर्ष का समय लिया.

jagranjosh.com: क्या आपने इस परीक्षा की तैयारी के लिए इंटरनेट का उपयोग किया था? यह इस परीक्षा में किस तरह सहायक है?

राकेश सिंह: हां, मैंने इंटरनेट का व्यापक उपयोग किया. यह बहुत ही उपयोगी साबित हुआ है. इसने मेरी तैयारी को नया आयाम दिया.

jagranjosh.com: jagranjosh.com के बारे में आप क्या सोचते हैं? क्या यह यूपीपीसीएस परीक्षा की तैयारी के लिए उपयोगी है?

राकेश सिंह:  हां, यह प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए बहुत ही उपयोगी और महत्त्वपूर्ण करेंट अफेयर्स पोर्टल है.

jagranjosh.com: हमारी वेवसाइट पर करेंट अफेयर्स और अन्य पाठ्य सामग्री को आप कैसे उपयोगी मानते हैं?

राकेश सिंह: यह सही समय पर जानकारी प्रदान करता है और किसी भी समाचार के लिए यह विश्लेषणात्मक दृष्टिकोण अपनाता है.

jagranjosh.com: सामान्य अध्ययन का क्षेत्र बहुत व्यापक है. इसकी तैयारी आपने कैसे किया?

राकेश सिंह: सामान्य अध्ययन को मैंने दो हिस्सों-परम्परागत और गैर परंपरागत, में विभाजित कर लिया था.परम्परागत हिस्से में इतिहास, भूगोल, अर्थशास्त्र और भारतीय राजनीति विषय को शामिल किया था. इससे मेरे ज्ञान का आधारभूत पक्ष (Basics knowladge) मजबूत हुआ. गैर परम्परागत हिस्से में मैंने करेंट अफेयर्स को शामिल किया था. इसके लिए मैंने समाचार पत्र और इंटरनेट की मदद ली.

jagranjosh.com:  प्रारंभिक परीक्षा के नए पाठ्यक्रम में वैकल्पिक विषय के स्थान पर CSAT को शामिल किया गया. आपकी राय में क्या यह सिविल सेवकों के चयन में बेहतर दृष्टिकोण है.

राकेश सिंह: यह पाठ्यक्रम प्रोत्साहित करने वाला है. यह सभी अभ्यर्थियों को एक धरातल पर लाएगा.

jagranjosh.com: प्रारंभिक परीक्षा में असफल अभ्यर्थियों के लिए आपकी क्या सलाह है?

राकेश सिंह: आपको अपनी रणनीति पर अत्यधिक ध्यान केंद्रित करना चाहिए. आपको अपने पर विश्वास करने के साथ अपना ध्यान सभी क्षेत्रों पर केंद्रित करना चाहिए.

jagranjosh.com: प्रारंभिक परीक्षा, सम्पूर्ण परीक्षा प्रणाली का कठिनतम/सरलतम हिस्सा है. इस पर आपकी क्या राय है?

राकेश सिंह: निस्संदेह प्रारंभिक परीक्षा, सम्पूर्ण परीक्षा प्रणाली का कठिनतम हिस्सा है.

jagranjosh.com: आपने मुख्य परीक्षा की तैयारी कब प्रारम्भ की?

राकेश सिंह: मैंने मुख्य परीक्षा की तैयारी, प्रारंभिक परीक्षा के साथ–साथ शुरू कर दी थी.

jagranjosh.com: मुख्य परीक्षा के लिए आपके वैकल्पिक विषय क्या थे?

राकेश सिंह: मुख्य परीक्षा में मेरा वैकल्पिक विषय भूगोल और दर्शनशास्त्र था.

jagranjosh.com: मुख्य परीक्षा के लिए वैकल्पिक विषय के चयन का मुख्य आधार क्या था?

राकेश सिंह: भूगोल अधिक अंक प्रदायी (scoring) विषय है. दर्शनशास्त्र के लिए मेरी अवधारणा बिल्कुल स्पष्ट थी.

jagranjosh.com: कृपया आप अपने साक्षात्कार के बारे में विस्तार से बताइए. साक्षात्कार का समय, साक्षात्कार पैनल की संख्या और पूंछे गए प्रश्नों के प्रकार के बारे में भी बताएं.

राकेश सिंह: मेरा साक्षात्कार श्रीमान तिवारी जी के बोर्ड में 25 फरवरी 2012 को हुआ. इस बोर्ड में पांच सदस्य थे. साक्षात्कार में मुझसे उत्तरप्रदेश विधान सभा चुनाव 2012, भूगोल और अर्थशास्त्र से संबंधित प्रश्न पूछे गए. स्वेज नहर का निर्माण कब किया गया था? मुझसे गैर-निष्पादित परिसंपत्तियों के बारे में प्रश्न पूछा गया था.

jagranjosh.com: क्या आप मानते हैं कि करेंट अफेयर्स की अच्छी समझ साक्षात्कार में महत्त्वपूर्ण भूमिका अदा कर सकता है?

राकेश सिंह: हां, इसके बिना साक्षात्कार में पूछे गए अधिकांश प्रश्नों का उत्तर नहीं दे सकते. साक्षात्कार में कम से कम 70 से 80 प्रतिशत प्रश्न करेंट अफेयर्स से संबंधित पूछे जाते हैं.

Related Stories