]}
Search

स्टूडेंट्स बोरियत कैसे दूर करें, जाने ये 10 टिप्स

आज हम छत्रों को इस आर्टिकल में कुछ ऐसे टिप्स बतायेंगे जिनकी मदद से आप आसानी से अपने बोरियत को दूर कर सकते है| छात्र चाहें तो इस समय का उपयोग सही माईने में अपने रूचि और अपने स्किल्स को बेहतर बनाने में सकते हैं बस ज़रूरत है तो समय और संसाधनों का सही तरीके से उपयोग कर आगे कदम बढ़ने की|

Apr 1, 2020 10:40 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon
Things to do when bored
Things to do when bored

यदि आपको लगता है कि आप बोर हो रहें हैं कुछ करने को नहीं है और आपका सारा समय पढाई के बाद खाली जाता है,तो आप भाग्यशाली हैं कि आपके पास इतना समय है| क्यूंकि आज के समय में इलेक्ट्रॉनिक और इन्टरनेट युग में शायद ही कोई छात्र बोर हो सकता है| देखा जाए तो बोरियत आपके जीवन शैली में कुछ नया करने की आधार शैली भी बना सकती है| छात्र चाहें तो इस समय का उपयोग सही माईने में अपने रूचि और अपने स्किल्स को बेहतर बनाने में सकते हैं बस ज़रूरत है तो समय और संसाधनों का सही तरीके से उपयोग कर आगे कदम बढ़ने की|

आज हम छत्रों को इस आर्टिकल में कुछ ऐसे टिप्स बतायेंगे जिनकी मदद से आप आसानी से अपने बोरियत को दूर कर सकते हैं :

1. पढ़ने की आदत डालें :

सबसे अच्छा और आसान तरीका बोरियत दूर करने के लिए यह होगा की आप किताबें पढ़ना शुरू करें, जितना हो सके अलग-अलग किताबों को पढ़ने की आदत डालें| नॉवेल्स के अलावा बायोग्राफी से जुड़ी किताबें भी पढ़ें, जैसे कुछ प्रसिद्ध व्यक्तित्व की आत्मकथा- बराक ओबामा, एपीजे अब्दुल कलाम और जवाहरलाल नेहरू आदि| इन किताबों से आपको अपनी जीवन के लिए काफी अच्छी प्रेरणा मिलेगी|

2. नई चीज़ें सीखें; क्राफ्ट, पेंटिंग्स आदि :

आप चाहें तो अपने खाली समय में अपने रूचि के अनुसार कुछ क्रिएटिव चीज़े भी सिख सकते हैं जैसे क्राफ्ट आर्ट, पेंटिंग आदि| इसके लिए आप गूगल से काफी हद तक मदद लें सकते हैं या आप अपने समय के अनुकूल कोई क्लास भी ज्वाइन कर सकतें हैं जहाँ आपको काफी कुछ सिखने मिलेगा और आपका समय सही तरीके से आप उपयोग कर पाएंगे|

3. वोलेंटेरिंग या सोशल वर्क :

आप अपने खाली समय को चाहें तो दूसरों की मदद में भी व्यतित कर सकते हैं, अपने घर के आस पास किसी अनाथालय, ओल्ड ऐज होम या बेघर लोगों की मदद कर सकते हैं| आपके इस तरह के योगदान से आपके खुद के जीवन शैली में भी काफी बदलाव नज़र आएगा| आपको बहुत कुछ सिखने मिलेगा जिससे आपको जीवन का एक अलग दृष्टिकोण प्राप्त होगा|

कक्षा 10 के बाद सही स्ट्रीम का चयन कैसे करें ?

4. अपना कलात्मक पक्ष खोलें :

आप अपने खाली समय में अपनी कलात्मत प्रवृति को और अच्छी तरह उभार सकते हैं| आप चाहे तो इसकी शुरुवात एक कलर बुक और कुछ कलर लेकर छोटी छोटी चीजों से शुरू कर सकते हैं| इससे आपको अपने इस छुपे कला को उभारने का एक अच्छा मौका मिलेगा| आप चाहें तो अपने इस प्रतिभा में आगे बढ़ने के अवसर भी प्राप्त कर सकते हैं|

5. संगीत या डांस क्लास का प्रशिक्षण :

अपने आप को दुनिया के बेहतर चीजों को सिखने के लिए तैयार रखें| एक जगह बैठ कर बोर होने से बेहतर है कि नई चीजें सिखने की कोशिश करें| समय का सद-उपयोग करने के लिए आप म्यूजिक क्लास या डांस क्लास में खुद को नामांकित कर सकते हैं जहाँ आप कई तरह के संगीत उपकरण जैसे- गिटार, हारमोनियम आदि सिख सकते हैं| यदि आपकी रूचि संगीत में है तो साथ ही साथ आप संगीत में भी अपना समय व्यतित कर सकते हैं| इसके अलावा आप अपने रुचि के अनुसार कई तरह के नृत्य भी सिख सकते हैं|

यथार्थवादी लक्ष्यों को बनाने, भविष्य की योजनाओं के बारे में सोचें :

अपने लक्ष्य के बारे में अपने आप से पूछें कि आपका लक्ष्य क्या है और आप अपने लक्ष्यों को हासिल करने के लिए क्या कर रहे हैं। एक छात्र का समय बहुमूल्य संसाधन होता है; उसे अपने प्रतिभा और अपने रुचि को सही तरीके से समझने के लिए| इस समय का सही तरीके से उपयोग करें, अच्छी तरह से समझने की कोशिश करें की आपकी रुचि आपको किस ओर आकर्षित करती है तथा जिस तरफ आपकी रुचि आपको आकर्षित कर रही है क्या वो आपके करियर के लिए सही है? सभी चीजों को सही तरीके से परख कर अपने करियर गोल्स को अभी से तय करें और उसमें आगे बढ़ने की तैयारी शुरू करें|

नई जगह घुमने की योजना बनाएं:

यदि आपको घूमना और नई जगह जाना बहुत पसंद है तो सबसे पहले आप जहाँ भी जाना चाहते हैं उन सभी जगह की एक लिस्ट तैयार करें और जब भी आप उन जगह पर जाएँ उनसे जुड़ी बातें किसी नोट बुक में लिखते जाएँ| इससे आपको काफी अच्छा अनुभव प्राप्त होगा तथा जब आप खाली समय में उसे पढेंगे तब भी आपको काफी अच्छा महसूस होगा|

मैडिटेशन करें :

मैडिटेशन बहुत बड़ा तनाव निवारक माना जाता है| कोशिश करें की खाली समय में मैडिटेशन करने की आदत डालें| मैडिटेशन से आपकी ध्यान केन्द्रित की क्षमता भी बढ़ेगी| कई छात्रों के साथ यह समस्या होती है कि वह पढ़ते समय सही तरीके से ध्यान केन्द्रित नहीं कर पाते हैं| यदि आप अपना समय रोज़ मैडिटेशन में दे तो एकाग्रता क्षमता बढ़ने लगती है|

कैसे करें अपने माइंड को नियंत्रित|

लोगों से बात करें :

लोगों से बात करने की कोशिश करें| अपने दोस्त या परिचित लोगों से बात करने की शुरुवात करें| ऐसा करने से आपके अन्दर कॉंफिडेंट लेवल बढ़ता है और नए लोगो से बात कर उनके विचारों से आपको काफी अच्छे अनुभव मिलते हैं| जितना आप लोगों से बात करते हैं उतना ही आपके अन्दर का कॉंफिडेंट लेवल बढ़ता है|

अपने कम्फर्ट ज़ोन से बाहर निकलें :

कई बार बोर होने का कारण हम खुद होते हैं क्यूंकि हम खुद के बनाए कोम्फेर्ट ज़ोन से बाहर निकलना ही नहीं चाहते हैं| हलाकि हमें इससे बाहर निकल कर चीजों को जानने और समझने की ज़रूरत होती है| पहले से ही डर कर कुछ करने की कोशिश नहीं करना और यह सोचना की यह मुझसे नही होगा या यह संभव ही नहीं, यह सोचना गलह है| हमेशा किसी भी काम के लिए अपने तरफ से 100% दें तथा पहले से ही कोई नकारात्मक धारणा न बनाएं|

शुभकामनायें !!

Related Stories