Search
Breaking

HCL के साथ 12th क्लास पास बच्चे बन रहे हैं आत्मनिर्भर

किसी ने सही कहा है कि एक बेहतर भविष्य के लिए सही मार्गदर्शन बहुत जरूरी है, क्योंकि एक सही फैसला ही बच्चों के क़दमों को सफलता की राह पे ले जाकर आसमान की बुलंदियों पे बिठाता है।

Jun 15, 2020 13:15 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon
12th class pass children are becoming self sufficient with HCL
12th class pass children are becoming self sufficient with HCL

आजकल स्टूडेंट्स 12th तो आसानी से पास कर लेते हैं, लेकिन दिक्कत तब आती है जब आस-पास कोई गाइड करने वाला नहीं होता और उन्हें समझ नहीं आता कि कौन सा करियर उनके लिए सही है या किस क्षेत्र में करियर बनाने का अच्छा अवसर मिलेगा। इसलिए किसी ने सही कहा है कि एक बेहतर भविष्य के लिए सही मार्गदर्शन बहुत जरूरी है, क्योंकि एक सही फैसला ही बच्चों के क़दमों को सफलता की राह पे ले जाकर आसमान की बुलंदियों पे बिठाता है। 

बच्चों का कुछ ऐसा ही मार्गदर्शन कर रहा है “टेक बी”, HCL का प्रारंभिक कैरियर प्रोग्राम, जो 12वीं पास छात्रों को शुरुआती कैरियर के अवसर प्रदान करता है। ये  एक एकीकृत उच्च शिक्षा कार्यक्रम है, जो सरकार के "कौशल भारत" मिशन में भी बढ़ चढ़कर योगदान देता है।

इस प्रोग्राम की सबसे खास बात ये है कि ये 10+2 छात्रों को आने वाले कल के लिए तैयार करता है, ताकि वो जब भी मैदान में उतरें, उन्हें हर चीज़ की जानकारी हो। साथ ही ये प्रोग्राम HCL में प्रवेश स्तर वाली IT नौकरियों के लिए छात्रों को तकनीकी और पेशेवर रूप से भी तैयार करता है।

सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनने के लिए उम्मीदवार 12 महीने के प्रशिक्षण से गुजरते हैं। इन 12 महीनों के दौरान सूचना प्रौद्योगिकी, प्रासंगिक सॉफ्टवेयर टूल, प्रक्रियाओं और जीवन कौशल के मूल सिद्धांतों को भी सीखते हैं। प्रशिक्षण के सफलतापूर्वक पूरा होने पर, बच्चों को HCL टेक्नोलॉजीज में एप्लीकेशन और इंफ्रास्ट्रक्चर सपोर्ट, टेस्टिंग और सीएडी सपोर्ट के क्षेत्रों में प्रतिष्ठित परियोजनाओं में काम करने का मौका मिलता है। प्रशिक्षण की पूरी अवधि के दौरान, इन 12 महीनों  में नामांकित छात्रों को प्रति माह 10,000 रुपये का स्टाइपेंड भी दिया जाता है।

हम आपको ये भी बता दें कि HCL में काम करते हुए, छात्र IT प्रोग्राम में परास्नातक करने के लिए BITS Pilani और SASTRA University जैसे प्रतिष्ठित विश्वविद्यालयों में भी दाख़िला ले सकते हैं। इस प्रोग्राम में इच्छुक छात्रों को एक प्रवेश परीक्षा से गुज़ारना पड़ता है। ये कार्यक्रम कक्षा प्रशिक्षण और नौकरी के प्रशिक्षण का एक संयोजन प्रदान करता है, और इस बात पर पूरा फोकस किया जाता है कि प्रोग्राम ख़त्म होने तक बच्चे आत्मनिर्भर बनें।

टेक बी प्रोग्राम के साथ, HCL का उद्देश्य है कि सर्वोत्तम प्रतिभा को इंडस्ट्री का सही प्रशिक्षण मिले। HCL के इस प्रोग्राम के साथ देश की टॉप यूनिवर्सिटीज भी जुडी हैं, जिनकी डिग्री लेना हर छात्र का सपना होता है। यही वजह है कि अब तक 2000 से अधिक छात्र टेक बी प्रोग्राम का हिस्सा बन चुके हैं और अब HCL के साथ काम कर रहे हैं। इस अनिश्चित समय में, ये आंकड़े और टेक बी दोनों निश्चित रूप से छात्रों और अभिभावकों के लिए आशा की एक किरण हैं।

HCL के टेक बी प्रोग्राम से जुड़कर छात्रों को कई फायदे होंगे,जैसे:

जॉब फर्स्ट - भारत की प्रमुख IT कंपनी HCL के साथ नौकरी का आश्वासन

वित्तीय साधन - पहले महीने से ही स्टाइपेंड मिलना शुरू हो जाता है ताकि आप आत्मनिर्भर हो जायें    

उच्च शिक्षा - भारत के प्रतिष्ठित तकनीकी संस्थानों जैसे BITS Pilani और SASTRA University से डिग्री 

बच्चों और माता पिता को फ़ाइनेंशियल हेल्प देने और फ़ीस का भार कम करने के लिए भी इस प्रोग्राम में ध्यान रखा गया है, अगर कोई छात्र ट्रेनिंग के दौरान 90% या उस से अधिक स्कोर करता है, तो फ़ीस 100% माफ़ होगी और 85-90% लाने वाले बच्चों को फ़ीस में 50% की छूट मिलेगी। 

HCL के टेक बी प्रोग्राम में पूरे भारत के वो छात्र जिन्होंने 2019 और 2020 में बारहवीं कक्षा पूरी कर ली है,आवेदन कर सकते हैं। कक्षा बारहवीं में छात्रों के पास मैथ्स (Maths) होना अनिवार्य है। 

आवेदन करने के लिए https://registrations.hcltechbee.com/HCL/ पर जायें। प्रोग्राम में रजिस्ट्रेशन की अंतिम तारीख है 30 जून 2020।

रजिस्ट्रेशन लिंक

अधिक जानकारी के लिए कृपया YouTube पर वीडियो देखें  - https://youtu.be/zzgLPTG-7gU

Related Categories

Related Stories