Search

ऑफिस स्ट्रेस से निजात पाने के 5 कारगर तरीके

क्या ऑफिस में काम करते वक्त आप अक्सर टेंशन में रहते हैं ? कहीं ऐसा तो नहीं कि ऑफिस का काम तथा प्रेशर धीरे धीरे आपके व्यक्तिगत जीवन को भी प्रभावित करने लगा है.

Nov 15, 2017 16:25 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon
5 fun ways to manage your office stress
5 fun ways to manage your office stress

क्या ऑफिस में काम करते वक्त आप अक्सर टेंशन में रहते हैं ? कहीं ऐसा तो नहीं कि ऑफिस का काम तथा प्रेशर धीरे धीरे आपके व्यक्तिगत जीवन को भी प्रभावित करने लगा है. यदि हाँ तो अब आपको अपने ऑफिस में होने वाले स्ट्रेस के विषय में सोचते हुए उससे निजात पाने के लिए तैयार हो जाना चाहिए अन्यथा यह आगे चलकर एक भयंकर बीमारी का कारण भी बन सकता है. 

पेंडिंग पड़े काम, अचानक काम की समीक्षा और ऑफिस पॉलिटिक्स की वजह से अधिकांश प्रोफेशनल स्ट्रेस में रहते हैं. दरअसल अब हमारे पास स्ट्रेस को मैनेज करने के शिवाय कोई विकल्प नहीं रह गया है. जब स्ट्रेस से निजात पाने के पारम्परिक तरीके पूरी तरह लाभ नहीं देते तो उस वक्त जरुरत होती है आउट-द-द-बॉक्स जाकर कुछ तरीकों को अपनाने की. ऐसे कुछ आसान तरीके भी हैं जिन्हें आपनाकर आप मजे लेते हुए अपने स्ट्रेस को कम कर सकते हैं. आइये जानते हैं लिक से हटकर ऐसे ही सर्वश्रेष्ट 5 तरीकें जिनसे स्ट्रेस को थोड़ी देर में ही छू मंतर किया जा सकता है. 

हर पल ऑफिस के विषय में ही नहीं सोंचे

आजकल तो निजी क्षेत्र में काम करने का मतलब है कि शारीरिक रूप से न सही मानसिक रूप से तो हर समय यानी 365 दिन और 24x7 आपको व्यस्त रहना है. व्यावसायिक दुनिया में बढ़ती प्रतिस्पर्धा के कारण नौकरी से जुड़ी अपनी जिम्मेदारियों को निभाने के लिए प्रोफेशनल्स को रोज 9-10 घंटे अपने घर से दूर रहना पड़ता है. प्रोफेशनल्स के बीच यह तनाव का मुख्य कारण है. हमारे शरीर की ही भांति हमारे मस्तिष्क को भी फ्रेश होने के लिए रेस्ट की आवश्यक्ता होती है. इसलिए 24 x 7 सिर्फ ऑफिस के काम के विषय में ही सोचते रहना बिलकुल सही नहीं है. इसलिए अपने आप को ऑफिस स्ट्रेस से दूर रखने के लिए सबसे पहले आपको ऑफिस के अलावा भी कुछ सोचने की जरुरत है. आपकी जिन्दगी सिर्फ ऑफिस तक ही सीमित नहीं है. जब तक ऑफिस में है ऑफिस और उसके कार्यों के साथ ईमानदारी से जुड़े रहिये लेकिन ज्योंही आप ऑफिस से बाहर जाते हैं,आप अपने ऑफिस की दुनिया को भूलाकर कुछ और सोचिये तथा करिए. हो सके तो अपने परिवार और बच्चे के साथ अपना ज्यादा समय व्यतीत करने की कोशिश कीजिये. अगर समय मिले तो योग या फिर कुछ फिजिकल एकसरसाइज कर सकते हैं. इससे स्ट्रेस कम होता है तथा शरीर में स्फूर्ति सी महसूस होती है.आप इन सभी बातों पर विशेष रूप से गौर कीजिये. ऐसा करने पर आपको यह महसूस होगा कि ऑफिस स्ट्रेस से मुक्ति पाना कोई बिग डील नहीं है.   

छुट्टी के लिए समय निकालें  

पूरे विश्व में भारतीय एक श्रेष्ठ कर्मचारी और श्रमिक के रूप में विख्यात हैं. उच्च प्रतिस्पर्धा और नौकरी खोने के डर से अक्सर लोग गलतियाँ कर बैठते हैं और निरंतर तनावग्रस्त स्थिति में काम करते रहते हैं.हम भूल जाते हैं कि इसके अतिरिक्त भी जीवन में कुछ चीजें बहुत महत्वपूर्ण हैं और हमें उस तरफ भी अपना ध्यान देना चाहिए. हम यह तो भूल ही जाते हैं कि संस्थाएं हमें इसीलिए कुछ दिनों का अवकाश प्रदान करती हैं और हमें उसका भरपूर लाभ उठाना चाहिए. यदि आप ऑफिस स्ट्रेस से मुक्ति चाहते हैं तो अपने परिवार तथा दोस्तों के साथ छुट्टी प्लान कीजिये और कुछ समय तक जीवन का आनंद लेते हुए तनाव से दूर रहिये. यदि आपकी रूचि किसी तीर्थ यात्रा,साहसिक खेल,समुद्री तट तथा प्राकृतिक दृश्य को देखने में है तो आप साल में एक बार अवकाश लेकर अपनी इन छोटी किन्तु जीवन में आनंद भरने वाली महत्वपूर्ण इच्छा को अवश्य पूरा करें और फिर एहसास कीजिये कि किस तरह आपका स्ट्रेस आप पर हावी नहीं हो सकता है.

स्थान, मौसम और दिनचर्या में बदलाव की वजह से आप थोड़ा राहत तथा आनंद महसूस करेंगे, जिससे अपने आप स्ट्रेस कम हो जायेगा. छुट्टियों से वापस आकर आप एक नए उत्साह तथा उमंग के साथ अपना काम प्रारम्भ करेंगे जिसमें आप अच्छे और सकारात्मक परिणाम दे सकते हैं.   

थोड़ा वक्त अपने लिए भी निकालें

यदि कुछ व्यक्तिगत और व्यावसायिक कारणों से आप काम से छुट्टी नहीं ले सकते हैं तो इसका मतलब यह नहीं है कि आप ऑफिस स्ट्रेस को मात नहीं दे सकते हैं. आपके लिए सबसे बड़ी दवा अपने लिए कुछ समय निकालकर अपने किसी मनपसंद कार्य को करना होगा. इसके अतिरिक्त आप अपने पारिवारिक जिम्मेवारियों का ख़ुशी ख़ुशी निर्वाह करते हुए भी अपने स्ट्रेस से छुटकारा पा सकते हैं. वस्तुतः ऑफिस की चिंता तथा व्यक्तिगत चुनौतियों की परवाह किये बिना अपने मन पसंद किसी काम के लिए समय निकालना स्ट्रेस से मुक्ति का सर्वोत्तम और शानदार तरीका है. आपको जो भी अच्छा लगे फ़िल्में देखना, नॉवेल पढ़ना, लोगों से बातें करना कुछ भी जी खोलकर कीजिये और फिर देखिये कैसे गायब होता है आपका स्ट्रेस ? इससे न सिर्फ आपकी स्थिति सामान्य होगी बल्कि आप आने वाली चुनौतियों का सामना करने के लिए मानसिक रूप से तैयार होंगे.  

खेल में हिस्सा लें

आजकल स्ट्रेस को कम करने के लिए मनोविज्ञान के अंतर्गत 'गेमिफिकेशन' शब्द का बहुत प्रचलन है. गेमिफिकेशन' का मतलब है कि अपनी समस्याओं को एक गेम का रुप दे देना और उसके साथ विजय की आशा से तन्मयता से खेलना और विजयी होने पर अपने आप को पुरस्कृत भी करना. इसके पीछे की मूल प्रेरणा अपने आप को कुछ और अधिक करने के लिए प्रेरित करने की होती है.  

गेमिफिकेशन मनोविज्ञान ऑफिस स्ट्रेस से निबटने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है. अपनी प्रोफेशनल चुनौतियों को एक गेम समझते हुए तन्मयता और सजगता के साथ उसको स्वीकार करना तथा उसका सामना करने के सहज उद्देश्य से उस पर विजय पाकर अपने आप या संस्थान को पुरस्कृत करने से स्ट्रेस की संभावना बहुत कम रहेगी. 

ब्रेक रूम टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करें

आजकल वर्किंग प्रोफेशनल के बीच स्ट्रेस इतनी आम बात हो गयी है कि बहुत सारी स्टार्टअप कम्पनियों ने स्ट्रेस को खत्म करने का बीड़ा उठाते हुए अपना व्यवसाय शुरू किया है. इनमें से कुछ प्रसिद्ध स्टार्टअप कंपनियों में से एक है 'ब्रेकरूम'. इस संस्थान ने स्ट्रेस कम करने का बड़ा मजेदार तरीका ईजाद किया है. यह संस्थान गुड़गांव में स्थित है और यह लोगों को अपने फ्रस्ट्रेशन और स्ट्रेस से मुक्ति दिलाने के लिए समान को तोड़ने का विकल्प देता है. अगर आपको अपने बॉस पर गुस्सा आ जाता है तो आप सीधे सीधे टच रूम में जायें और सामान को तोड़ना शुरू कर दें. अगर आप रोना चाहते हैं तो आप ब्रेक रूम में चिल्ला चिल्ला कर रो भी सकते हैं. ऐसा करने से आपको मानसिक राहत मिलती है और स्ट्रेस नहीं होता. हालांकि यह एक बहुत खर्चीला प्रक्रिया है. वैसे तो यह कहा जा सकता है कि सामान तोड़ने, फोड़ने से स्ट्रेस नहीं जाता लेकिन इसे अपनाने वालों की राय है कि इससे मन को शांति मिलती है तथा कुछ देर के लिए राहत महसूस होती है और थोड़ी देर बाद पुनः सामान्य रूप से अपना काम प्रारम्भ किया जा सकता है.

पेंडिग टारगेट और ऑफिस का टाइम शिड्यूल प्रोफेशनल्स के लिए हमेशा तनावपूर्ण ही होते हैं. यह उनके जीवन का अहम हिस्सा बन चुका है. लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि आप स्ट्रेस में रहे और इससे आपकी जिन्दगी प्रभावित हो. बेहतर यही है कि अपने प्रोफेशनल और पर्सनल लाइफ में बैलेंस बनाते हुए ऊपर दिए गए तथ्यों पर गौर कर जीवन जीने की कोशिश कीजिये. स्ट्रेस से आपका सामना नहीं होगा. क्षणिक स्ट्रेस रीजल्ट के लिए प्रेरित करता है लेकिन जब वह लम्बे समय तक रहता है तो एक बीमारी का रूप धारण कर लेता है. स्ट्रेस होने पर घबराएं नहीं तत्काल उसे दूर करने का उपाय कर जीवन को सुखमय बनाएं.

Related Stories