विद्यार्थी अब 12वीं में Maths और Physics सब्जेक्ट लिए बिना भी कर सकेंगे Engineering

एक ताज़ा रिपोर्ट के अनुसार AICTE ने कुछ नियमों में बड़े बदलाव किये है। नए नियम के अनुसार इंजीनियरिंग के अंडरग्रेजुएट कोर्स (जैसे B.E., B.Tech.) में एडमिशन के लिए 12वीं में Maths और Physics कंपलसरी सब्जेक्ट्स नहीं होंगे।

Created On: Mar 15, 2021 10:39 IST
विद्यार्थी अब 12वीं में Maths और Physics सब्जेक्ट लिए बिना भी कर सकेंगे Engineering
विद्यार्थी अब 12वीं में Maths और Physics सब्जेक्ट लिए बिना भी कर सकेंगे Engineering

अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (AICTE) ने 2021-2022 के लिए अपनी अप्रूवल हैंडबुक में, कक्षा 12 में Physics और Maths को BE, B.Tech जैसे इंजीनियरिंग पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए वैकल्पिक बना दिया है। एक ताज़ा रिपोर्ट के अनुसार अब AICTE ने कुछ नियमों में बड़े बदलाव किये है। 

नए नियमों के अनुसार इंजीनियरिंग के अंडरग्रेजुएट कोर्स (जैसे BE, BTech) में एडमिशन के लिए 12वीं में मैथ्स और फिजिक्स कंपलसरी सब्जेक्ट्स नहीं होंगे। 

इंटरव्यू में अक्सर पूछे जाते हैं ये 7 सवाल, सही जवाब देने पर 99% तक बढ़ जाते है सफल होने के चांस
AICTE के अनुसार नया फैसला NEP (New Education Policy) के अनुरूप है और इससे अब कॉमर्स और मेडिसिन के विद्यार्थी भी B. E. और B. Tech., जैसे कोर्स में दाखिला ले सकेंगे। 

अभी तक, इंजीनियरिंग पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए कक्षा 12 में Maths और Physics के साथ-साथ Chemistry, Biology, Biotechnology Technical Vocational subjects में से कोई एक सब्जेक्ट और होना चाहिए था। 

अगर नहीं लग रहा है पढ़ाई में मन तो ज़रूर जानें पढ़ाई करने के ये पांच मॉडर्न तरीक़े

लेकिन अब AICTE की अप्रूवल प्रोसेस हैंडबुक के अनुसार Physics, Mathematics, Chemistry, Computer Science, Electronic science, Information Technology, Biology, Informatics Practices, Biotechnology, Technical vocational Subject, Agriculture, Engineering Graphics, Business Studies, Entrepreneurship जैसे विषयों के साथ 12वीं पास विद्यार्थी भी BE/BTech में एडमिशन के पात्र होंगे।

इसके अलावा दाखिले के लिए अनारक्षित श्रेणी के उम्मीदवारों को कक्षा 12 में न्यूनतम 45 प्रतिशत अंक प्राप्त करने होंगे और आरक्षित श्रेणी के छात्रों को न्यूनतम 40 प्रतिशत अंक प्राप्त करने होंगे।

जिन छात्रों ने कम से कम 45 प्रतिशत अंकों के साथ तीन वर्षीय डिप्लोमा परीक्षा उत्तीर्ण की है, वे भी इंजीनियरिंग पाठ्यक्रमों के लिए आवेदन करने के लिए पात्र होंगे। 

विविध पृष्ठभूमि से आने वाले विद्यार्थियों के लिए, AICTE ने विश्वविद्यालयों से Maths, Physics, Engineering Drawing इत्यादि विषयों के लिए ब्रिज कोर्स देने की तैयारी करने को कहा है।     

AICTE के अनुसार ये फैसला राज्य, विश्वविद्यालय और प्रवेश परीक्षाओं के लिए बाध्यकारी नहीं है और NEP के अनुरूप है। संस्थान Physics, Chemistry और Mathematics पर आधारित एंट्रेंस एग्जाम करा सकते हैं और भविष्य में NEP के अनुरूप अन्य विषयों को भी सम्मिलित करते रहेंगे। 

हॉबीज़ या शौक जिनसे आप कमा सकते है पैसे और बना सकते हैं बेहतरीन करियर

Comment ()

Related Categories

Post Comment

7 + 2 =
Post

Comments