जानिए किस राज्य में हैं कितने IAS अधिकारी और कितने की कमी है

Sep 4, 2018 11:55 IST

    संघ लोक सेवा आयोग द्वारा हर वर्ष सिविल सेवा परीक्षा आयोजित करने के बाद भी देश के लगभग सभी राज्यों तथा केन्द शासित प्रदेसों(प्रदेशों) में IAS अफसरों की कमी रहती है। केन्द्र तथा राज्य सरकारों के लिए यह एक चुनौती समान है कि वह अपने नितियों तथा योजनाएं बनाने के क्रम में उपलब्ध अफसरों से काम निकालें।

    जानिए वर्ष 2018 में IAS/IPS अफसरों को मिलेगी कितनी छुट्टियाँ

    भारत जैसे लोकतांत्रिक देश में सरकार लोकतंत्र से चुनी जाती है पर नेताओं के लिए चुनाव लड़ने के लिए कोई न्युन्तम डिग्री या योग्यता की आवश्यकता नहीं होती है जिससे उन्हें अपनी कार्यभार संभालने के लिए योग्यता प्राप्त अफसरों को सचिव के रूप में नियुक्त करते है।

    आम तौर पर एक IAS अफसर राज्य तथा केन्द्र सरकार के मंत्रालयों का सचिव होता है जो कि नेताओं द्वारा बनायीं गयी योजनाओं का प्रबंधन करता है। इसलिए हमारे देश में किसी भी योजना, चाहे वह राज्य सरकार द्वारा प्रायोजित हो या फिर केन्द्र सरकार द्वारा, उन्हें बनाने, लागू करने और उन्हें अमलीजामा पहनाने की जिम्मेवारी IAS अफसरों की होती है।

    इस लेख में हमने कार्मिक, लोक शिकायत और पेंशन मंत्रालय के अधीन कार्मिक और प्रशिक्षण विभाग के IAS अफसरों की संख्या के आंकड़ों के आधार पर देश के सभी राज्यों का विश्लेषन किया है कि किन राज्यों में IAS अफसरों की कमी है या फिर जितनी होनी चाहिए उतनी संख्यां में IAS अफसरों की तैनाती नहीं है। उत्तर प्रदेश में अधिकृत IAS अफसरों की संख्या 621 है जो कि पूरे देश में सबसे अधिक है। उत्तर प्रदेश में 100 से भी अधिक IAS अफसरों की कमी है। उत्तर प्रदेश के अलावा मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल तथा बिहार पांच ऐसे राज्य हैं जिसमें अधिकृत IAS अफसरों की संख्या क्रमशः 439, 361, 376, 359 तथा 342 है जो कि देश के अन्य राज्यों की तुलना में अधिक है।

    उत्तर प्रदेश में आपको बेहद रोचक आंकड़े देखने को मिलेंगे। कुल 621 अधिकृत IAS अफसरों की संख्यां में उत्तर प्रदेश में प्रत्यक्ष भर्ती के तहत 433 IAS अफसर होने चाहिए जबकि केवल 348 IAS अफसर हीं प्रत्यक्ष भर्ती के माध्यम से तैनात हैं। प्रत्यक्ष भर्ती के अलावा पदोन्नति प्राप्त 188 IAS अफसरों के मुकाबले केवल 167 अफसर हीं हैं। लिहाजा, 85 तथा 21 IAS अफसरों की तैनाती क्रमशः प्रत्यक्ष भर्ती तथा पदोन्नति के द्वारा होना बाकी है। अगर इन आंकड़ों को सम्मिलित किया जाए तो पता चलता है कि उत्तर प्रदेश में कुल 106 IAS अफसरों की कमी है।

    IAS की तैयारी के लिए सबसे बेहतर शहर

    अगर हम मध्य प्रदेश राज्य के आंकड़ों की बात करें जिसमें कुल 439 अधिकृत IAS अफसरों की संख्यां में 306 IAS अफसर प्रत्यक्ष भर्ती के तहत तैनात होने चाहिए लेकिन केवल 240 IAS अफसर हीं तैनात हैं। कुल 133 IAS अफसरों की तैनाती पदोन्नति के माध्यम से होने चाहिए लेकिन केवल 101 IAS अफसर हीं तैनात हैं। कुल मिलाकर मध्य प्रदेश में  98 IAS अफसरों की कमी हैं।

    How to prepare ethics for IAS Main Exam

     

    महाराष्ट्र में कुल 361 अधिकृत IAS अफसरों की संख्यां में 252 IAS अफसर प्रत्यक्ष भर्ती के तहत तैनात होने चाहिए लेकिन केवल 219 IAS अफसर हीं तैनात हैं। कुल 109 IAS अफसरों की तैनाती पदोन्नति के माध्यम से होने चाहिए लेकिन केवल 94 IAS अफसर हीं तैनात हैं। कुल मिलाकर महाराष्ट्र में अब तक 48 IAS अफसरों की कमी हैं।

    बिहार में कुल 342 अधिकृत IAS अफसरों की संख्यां में प्रत्यक्ष भर्ती के तहत 238 IAS अफसर होने चाहिए जबकि केवल 192 IAS अफसर हीं प्रत्यक्ष भर्ती के माध्यम से तैनात हैं। प्रत्यक्ष भर्ती के अलावा पदोन्नति प्राप्त 104 IAS अफसरों के मुकाबले केवल 51 अफसर हीं हैं। लिहाजा, 46 तथा 53 IAS अफसरों की तैनाती क्रमशः प्रत्यक्ष भर्ती तथा पदोन्नति के द्वारा होना बाकी है। अगर इन आंकड़ों सम्मिलित किया जाए तो पता चलता है कि बिहार में कुल 106 IAS अफसरों की कमी है।

    Cadre

    Authorised Strength

    Total

    Shortage

    Uttar Pradesh

    621

    515

    106

    Madhya Pradesh

    439

    341

    98

    Maharashtra

    361

    313

    48

    Tamil Nadu

    376

    289

    87

    AGMUT

    337

    279

    58

    West Bengal

    359

    277

    82

    Bihar

    342

    243

    99

    Rajasthan

    313

    243

    70

    Gujarat

    297

    241

    56

    Assam-Meghalaya

    263

    221

    42

    Karnataka

    314

    215

    99

    Punjab

    221

    182

    39

    Odisha

    237

    178

    59

    Andhra Pradesh

    211

    170

    41

    Haryana

    205

    155

    50

    Chhattisgarh

    193

    154

    39

    Kerala

    231

    150

    81

    Jharkhand

    215

    144

    71

    Telangana

    208

    130

    78

    Himachal Pradesh

    147

    115

    32

    Jammu & Kashmir*

    137

    91

    46

    Manipur

    115

    91

    24

    Uttarakhand

    120

    87

    33

    Tripura

    96

    76

    20

    Nagaland

    94

    67

    27

    Sikkim

    48

    37

    11

    लगभग सभी राज्यों में IAS अफसरों की कमी को देखा गया है। पूरे देश में सभी राज्यों में अधिकृत IAS अफसरों की संख्यां 6500 है लेकिन केवल 5004 IAS अफसर हीं हैं। कुल 1496 IAS अफसरों की कमी को पूरा करना कार्मिक, लोक शिकायत और पेंशन मंत्रालय के लिए चुनौती भरा लक्ष्य है। हर साल बासवान कमीटी के सुझाव के अनुरूप 180 IAS पदों की रिक्ति निकलती है जिससे 1496 पदों की कमी को पूरा करने के लिए कई वर्ष लग जाऐंगे। इस कमी की वजह से ना केवल राज्य सरकारें बल्कि केन्द्र सरकार भी अफसरों की कमी का सामना कर रही है। देश में बेरोजगार छात्रों की संख्यां भी असामान्य दर से हर वर्ष बढ़ रही है। सरकार को ऐसी नीति पर बनानी चाहिए जिससे सरकार के काम-काज में अफसरों की कमी से हो रहे अविलम्बों पर भी रोक लगे एंव देश में बढ़ रही बेरोजगारी पर भी लगाम लगायी जा सके।

    जानें कितने प्रयासों में ये बने IAS टॉपर्स 2017

    DISCLAIMER: JPL and its affiliates shall have no liability for any views, thoughts and comments expressed on this article.

    Latest Videos

    Register to get FREE updates

      All Fields Mandatory
    • (Ex:9123456789)
    • Please Select Your Interest
    • Please specify

    • ajax-loader
    • A verifcation code has been sent to
      your mobile number

      Please enter the verification code below

    This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK
    X

    Register to view Complete PDF