]}
Search

सावन राज भारती ने बिहार बोर्ड 10वीं में किया टॉप 92.2% अंकों के साथ किया टॉप

Bihar board कक्षा 10वीं बोर्ड परीक्षा 2019 का रिजल्ट शनिवार 6 अप्रैल दोपहर 1 बजे घोषित कर दिया गया है. बिहार बोर्ड कक्षा 10वीं में इस बार सिमुलतला आवासीय विद्यालय (एसएवी) जमुई के छात्र और बांका के रहने वाले सावन राज भारती ने टॉप किया है. सावन राज ने कक्षा 10वीं के रिजल्ट में राज्य में सबसे अधिक 486 अंक यानी 97 फीसदी अंक प्राप्त किए हैं.

Apr 12, 2019 15:15 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon
Bihar Board 2019 Class 10 Toppers Interview
Bihar Board 2019 Class 10 Toppers Interview

Bihar board कक्षा 10वीं बोर्ड परीक्षा 2019 का रिजल्ट शनिवार 6 अप्रैल दोपहर 1 बजे घोषित कर दिया गया है. बिहार बोर्ड कक्षा 10वीं में इस बार सिमुलतला आवासीय विद्यालय (एसएवी) जमुई के छात्र और बांका के रहने वाले सावन राज भारती ने टॉप किया है. सावन राज ने कक्षा 10वीं के रिजल्ट में राज्य में सबसे अधिक 486 अंक यानी 97 फीसदी अंक प्राप्त किए हैं.

अपनी तैयारी को लेकर सावन राज भारती बिहार मैट्रिक टॉपर ने कहा, 'मैं रोजाना 15 घंटे पढ़ा करता था. मैंने अपना अधिकतर समय पढ़ाई पर दिया अर्थात सावन राज भारती टोपर बनने का अपना लक्ष्य पहले से ही निर्धारित कर चुके थे. सावन राज की कड़ी मेहनत और लगन ने आखिर कार उनका सपना पूरा किया. सावन राज ने अपने सफलता का श्रेय अपने माता पिता, अपने स्कूल के शिक्षकों तथा परिजनों को दिया.

सावन राज ने कहा, 'मैंने कोई ट्यूशन नहीं ली, स्कूल की पढ़ाई से ही मैंने तैयारी की. सावन राज के पिता किसान हैं और मां गृहणि हैं. करियर में आगे जाकर सावन राज यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा पास कर एक अच्छा आईएएस ऑफिसर बनना चाहते हैं और देश की सेवा करना चाहते हैं.

साथ ही सावन राज ने यह भी बताया की वह अपने इंटरमीडिएट की पढ़ाई सिमुलतला आवासीय विद्यालय से करना चाहते हैं तथा उसके बाद वह चाहते हैं कि डेल्ही यूनिवर्सिटी से B.Sc की पढ़ाई शुरू करें.

गौरतलब की बात यह भी है कि जिस स्कूल से सावन राज ने टॉप किया है उसी स्कूल से बिहार बोर्ड कक्षा 10वीं के टॉप 15 स्टूडेंट्स में से टॉप 13 टोपर हैं. सिमुलतला आवासीय विद्यालय के प्रिंसिपल ने कहा है कि वे "जांच के लिए तैयार हैं" क्योंकि टॉपर्स लिस्ट के बारे में रिपोर्ट के अनुसार सवाल उठाए गए हैं. जैसा कि स्कूल एक सरकारी संस्था है, परिणाम के पीछे उनका कोई निहित स्वार्थ नहीं है. स्कूल किसी भी तरह की जांच के लिए तैयार है.

Related Stories