Search

BPSC मुख्य परीक्षा को क्रैक करने के लिए BPSC टॉपर राहुल सिन्हा की स्ट्रैटेजी

BPSC टॉपर राहुल सिन्हा ने BPSC मुख्य परीक्षा में शामिल होने वाले उम्मीदवारों के लिए अपने बहुमूल्य सुझाव दिए हैं। BPSC मुख्य परीक्षा की तैयारी के तरीकों पर उनकी राय जानने के लिए इस लेख को पढ़ें।

Jul 26, 2019 17:00 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon

Jagranjosh.com ने BPSC 60 वीं -62 वीं की परीक्षा के टॉपर्स में से एक मि. राहुल सिन्हा का साक्षात्कार 5 फरवरी 2019 को लिया है। इस लेख में हम BPSC मुख्य परीक्षा को क्रैक करने के लिए मि. राहुल सिन्हा द्वारा दिए गए टिप्स प्रदान कर रहे हैं।

साक्षात्कारकर्ता: आप BPSC मुख्य परीक्षा के पैटर्न के बारे में क्या सोचते हैं?

मि.राहुल सिन्हा: BPSC मुख्य परीक्षा का पैटर्न बदल गया है। पहले ऑप्शनल पेपर का बोलबाला हुआ करता था लेकिन अब ऐसा नहीं है। GS पेपर I और II ने उम्मीदवारों के लिए चीजों को बेहतर बनाया है। अब ऑप्शनल पेपर GS पेपर के बराबर ही है।

इसके अलावा, एक क्वालीफाइंग पेपर जनरल हिंदी भी है जो स्वागत योग्य बदलाव है। क्वालीफाइंग पेपर में, उम्मीदवारों को 100 में से 30 अंक प्राप्त करने की आवश्यकता होती है जो वे आसानी से कर सकते हैं क्योंकि उम्मीदवारों ने अपने स्कूल के दिनों में हिंदी का अध्ययन किया है।

BPSC Mains Previous Year Cut Off

साक्षात्कारकर्ता: आपने BPSC मुख्य परीक्षा की तैयारी कब शुरू की?

मि.राहुल सिन्हा: जैसा कि मैंने पहले भी कहा है कि यह एक गलत धारणा है कि उम्मीदवारों को प्रीलिम्स और मुख्य परीक्षा के लिए अलग से तैयारी करनी चाहिए। GS पेपर की तैयारी Prelims परीक्षा से शुरू होती है। इसलिए, मैंने Prelims परीक्षा के साथ ही मुख्य परीक्षा की तैयारी शुरू कर दी थी।

साक्षात्कारकर्ता: आपने क्वालीफाइंग पेपर कैसे तैयार किया?

मि.राहुल सिन्हा: उम्मीदवारों को क्वालीफाइंग पेपर के बारे में ज्यादा परेशान होने की जरूरत नहीं है। उन्होंने अपने स्कूल के दिनों में क्वालीफाइंग पेपर का अध्ययन किया है, इसलिए उन्हें थोड़े अभ्यास की जरूरत है। सामान्य हिंदी का पेपर क्वालीफाइंग करना आसान है।

साक्षात्कारकर्ता: BPSC मुख्य परीक्षा में आपका ऑप्शनल पेपर क्या था?

मि.राहुल सिन्हा: BPSC मुख्य परीक्षा में मेरा ऑप्शनल पेपर दर्शनशास्त्र था।

BPSC Mains Exam 2018: Tips and Strategy for Preparation

साक्षात्कारकर्ता: क्या आपको लगता है कि BPSC मुख्य परीक्षा में ऑप्शनल पेपर चुनने में उम्मीदवारों की शैक्षिक पृष्ठभूमि का सीधा संबंध है?

मि.राहुल सिन्हा: हां, मेरा मानना ​​है कि ऑप्शनल पेपर चुनने में उम्मीदवारों की शैक्षिक पृष्ठभूमि का सीधा संबंध है। यह कहा जाता है कि उम्मीदवार को उस विषय का मास्टर होना चाहिए जिसे वह ऑप्शनल पेपर के रूप में लेता है। तो ऑप्शनल पेपर के रूप में समान विषय की शैक्षिक पृष्ठभूमि होने से फायदा मिलता है।

साक्षात्कारकर्ता: आपने ऑप्शनल पेपर कैसे तैयार किया और किन पुस्तकों का अध्ययन किया?

मि.राहुल सिन्हा: पहली बात यह कि उम्मीदवारों को ऑप्शनल पेपर में रुचि होनी चाहिए। यदि उनकी रुचि कम है तो उनके लिए अच्छी तैयारी करना मुश्किल होगा। ऑप्शनल पेपर की तैयारी के दौरान मैंने जो कुछ किया, उसका अध्ययन मैंने पतंजलि IAS की अध्ययन सामग्री के माध्यम से किया। मैंने C D Sharma और Y Masih की पुस्तकों को भी पढ़ा। यह ऑप्शनल पेपर के लिए पर्याप्त था।

BPSC Mains Exam 2018: Exam Pattern and Syllabus

साक्षात्कारकर्ता: BPSC मुख्य परीक्षा में GS पेपर I और II के लिए क्या रणनीति अपनानी चाहिए?

मि.राहुल सिन्हा: जैसा कि मैंने पहले भी कहा है कि यह एक सामान्य गलत धारणा है कि उम्मीदवारों को Prelims और मुख्य परीक्षा के लिए अलग से GS पेपर की तैयारी करनी चाहिए। GS पेपर की तैयारी Prelims परीक्षा से शुरू होती है और उम्मीदवारों को केवल मानक पुस्तकों को पढ़ना चाहिए।

व्यक्तिगत रूप से, मैंने इतिहास के लिए स्पेक्ट्रम, बिहार समग्र, Current Affairs के लिए समाचार पत्रों को पढ़ा। Stats के लिए मैंने पिछले वर्ष के प्रश्न पत्र को पढ़ा। इनके अलावा, Polity के लिए लक्ष्मीकांत उपयुक्त पुस्तक है। अर्थशास्त्र के लिए मैंने बिहार सरकार के आर्थिक सर्वेक्षण को पढ़ा। समाचार पत्रों से विज्ञान और प्रौद्योगिकी पर आधारित प्रश्न तैयार करने में मदद मिलती है।

BPSC Top Posts

साक्षात्कारकर्ता: BPSC मुख्य परीक्षा में उत्तर देते समय किन पहलुओं पर प्रकाश डाला जाना चाहिए?

मि.राहुल सिन्हा: BPSC मुख्य परीक्षा में उत्तर देते समय उम्मीदवारों को अच्छा नहीं बल्कि सबसे अच्छा उत्तर लिखना होता है। उम्मीदवारों को सही डेटा और आंकड़ों का उपयोग करना चाहिए। उन्हें सरकार के आधिकारिक आंकड़ों से डेटा पेश करना चाहिए।

इसके अलावा, एक बार जब वे तथ्यों को पेश कर चुके होते हैं तो उन्हें उस स्थिति के बारे में अपने विचार रखने चाहिए। परीक्षक यह देखना चाहता है कि आप कितने सक्षम हैं। केवल डेटा पेश करने से आपका उत्तर अच्छा नहीं बन पाएगा। इसलिए उत्तर में अपना विचार रखना बेहतर है।

साक्षात्कारकर्ता: BPSC मुख्य परीक्षा में उत्तर लेखन का अभ्यास कैसे मदद करता है?

मि.राहुल सिन्हा: यदि अभ्यर्थी मुख्य परीक्षा से पहले उत्तर लिखने का अभ्यास करते हैं तो यह उनके लिए बहुत उपयोगी है। वे कलम के संपर्क में रहते हैं और जब उन्हें उत्तर लिखना होता है तो उन्हें सिर्फ वही लिखना है जो उन्होंने पहले भी लिखा है।

Salary & Promotion of SDM in BPSC

साक्षात्कारकर्ता: BPSC मुख्य परीक्षा में समय प्रबंधन कितना महत्वपूर्ण है?

मि.राहुल सिन्हा: समय एक ऐसा पक्ष है जिस पर ध्यान देने की जरूरत है। उम्मीदवारों को ऐसा लगता होगा कि उनके पास समय कम है जिसे केवल अच्छा अभ्यास करके पूरा किया जा सकता है। पूरी तरह अभ्यास किए बिना उम्मीदवार समय की कमी को दूर नहीं कर सकते। इसलिए यह सलाह दी जाती है कि समय की कमी को दूर करने के लिए उन्हें अच्छी तरह अभ्यास करना चाहिए।

साक्षात्कारकर्ता: Jagranjosh.com के IAS और सिविल सेवा सेक्शन में सुधार के लिए और क्या किया जा सकता है?

मि.राहुल सिन्हा: jagranjosh.com के IAS और सिविल सेवा सेक्शन को बेहतर बनाने के लिए कुछ चीजें की जा सकती हैं। Study Material और Test Papers प्रदान करने की सख्त आवश्यकता है ताकि उम्मीदवार इसे सिविल सेवाओं से संबंधित अपनी सभी जरूरतों के लिए इस्तेमाल कर सकें।

Salary & Promotion of DSP in BPSC

Related Stories