एनडीआरएफ-एसडीआरएफ में करियर के मौके – योग्यता, सैलरी और प्रमुख संस्थान

प्राकृतिक आपदाओं को देखते हुए देश में एनडीआरएफ-एसडीआरएफ एक्सपर्ट प्रोफेशनल्स की जरूरत लगातार बढ़ रही है. आइए जानें, क्या है एनडीआरएफ-एसडीआरएफ और कैसे इसमें करियर के मौके तलाशे जा सकते हैं.

Aug 23, 2018 15:39 IST
    Career in Disaster Management
    Career in Disaster Management

    केरल में बाढ़ की विभीषिका से हुए नुकसान से पूरा देश दुखी है। उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, पूर्वी उत्तर प्रदेश और बिहार के कई इलाकों में भी बाढ़ से हाल बेहाल है। इन इलाकों में शासन, प्रशासन और स्थानीय लोगों के अलावा एनडीआरएफ-एसडीआरएफ की टीमें भी काफी मददगार साबित हो रही हैं। प्राकृतिक आपदाओं को देखते हुए देश में ऐसे एक्सपर्ट प्रोफेशनल्स की जरूरत लगातार बढ़ रही है। आइए जानें, क्या है एनडीआरएफ-एसडीआरएफ और कैसे इसमें करियर के मौके तलाशे जा सकते हैं...

    देश के किसी भी कोने में आजकल बाढ़, भूकंप या अग्निकांड जैसे हालात पैदा होने पर राहत कार्य में लगे लाल जैकेट पहने जवानों को देखा जा सकता है। ये जवान, सेना के जवानों और सामाजिक संस्थाओं के साथ काफी बढ़-चढ़कर बचाव अभियान में हिस्सा लेते हैं। मुसीबत में फंसे लोगों को सुरक्षित स्थानों तक पहुंचाने में मदद करते हैं। दरअसल, लाल जैकेट पहने ये प्रोफेशनल नेशनल डिजास्टर रिस्पॉन्स फोर्स (एनडीआरएफ) व स्टेट डिजास्टर रिस्पॉन्स फोर्स (एसडीआरएफ) के राहत कार्यकर्ता होते हैं, जो प्राकृतिक आपदाओं से निपटने में सराहनीय भूमिका निभा रहे हैं।

    नौकरी के अवसर

    आपदा प्रबंधन की पढ़ाई के बाद एनडीआरएफ और एसडीआरएफ में नौकरी के मौके तो हैं ही। इसके अलावा, सभी सरकारी और गैर-सरकारी संस्थानों में भी ऐसे प्रशिक्षित लोगों की काफी जरूरत देखी जा रही है। खासतौर से अग्निशमन विभाग, इंश्योरेंस कंपनीज, केमिकल इंडस्ट्री, रिफाइनरीज, खनन और पेट्रोलियम कंपनियों में ऐसे लोगों की सबसे अधिक मांग है, जहां आप ऑपरेशनल एनालिस्ट, सिक्युरिटी एडमिनिस्ट्रेटर या सुपरवाइजर के रूप में नौकरी पा सकते हैं। तमाम एनजीओ में भी प्राथमिकता के साथ आपदा प्रबंधन के जानकारों को रखा जा रहा है। कोर्स करके किसी शैक्षिक संस्थान में अध्यापन कार्य भी कर सकते हैं। एनडीआरएफ और एसडीआरएफ में भर्ती के लिए रोजगार समाचार पत्रों में हर साल वैकेंसी की अधिसूचनाएं निकलती रहती हैं, इसमें आवेदन करके भी एक अच्छी नौकरी पाई जा सकती है।

    प्रमुख संस्थान

    • नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ डिजास्टर मैनेजमेंट, दिल्ली www.nidm.gov.in
    • डेल्ही कॉलेज ऑफ फायर सेफ्टी इंजीनियरिंग, दिल्ली www.dcfse.com
    • डेल्ही इंस्टीट्यूट ऑफ फायर इंजीनियरिंग, दिल्ली www.dife.in
    • गंगा इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी ऐंंड मैनेजमेंट, दिल्ली www.gangainstitute.com

    आवश्यक योग्यता

    शिक्षण संस्थानों में डिजास्टर मैनेजमेंट में सर्टिफिकेट से लेकर स्नातक, परास्नातक, पीजी डिप्लोमा और पीएचडी तक के कोर्स संचालित हो रहे हैं। इन प्रत्येक कोर्स के लिए अलग-अलग शैक्षिक योग्यताएं निर्धारित हैं। इनमें अंडरग्रेजुएट या सर्टिफिकेट कोर्स के लिए 50 प्रतिशत अंकों से कम से कम 12वीं पास होना जरूरी है। जबकि मास्टर और एमबीए सरीखे कोर्स के लिए स्नातक होना आवश्यक है।

    साहसिक कार्यों में रुचि

    डेल्ही कॉलेज ऑफ फायर सेफ्टी के निदेशक जेड. एस. लाकड़ा के अनुसार, आपदा प्रबंधन में साहसी लोगों की जरूरत होती है। इसमें अक्सर जोखिम के बीच काम करना पड़ता है। कई बार ऐसी स्थिति होती है कि किसी व्यक्ति को बचाने के लिए अपनी जान खतरे में डालकर राहत कार्य करना होता है।

    सैलरी

    आपदा प्रबंधन में सर्टिफिकेट या डिप्लोमा कोर्स करके आने वालों को शुरुआत में 15 से 20 हजार रुपये की सैलरी आसानी से मिल जाती है।

    Loading...

    Register to get FREE updates

      All Fields Mandatory
    • (Ex:9123456789)
    • Please Select Your Interest
    • Please specify

    • ajax-loader
    • A verifcation code has been sent to
      your mobile number

      Please enter the verification code below

    Loading...