Search

भारत में एपिडेमियोलॉजिस्ट का करियर और योग्यता

कोई भी महामारी दुनिया के हर देश के लिए युद्ध जैसी स्थिति उत्पन्न कर देती है. आजकल, COVID 19 भारत सहित पूरी दुनिया के लिए वास्तविक खतरा बना हुआ है. इसलिए, आप भारत में एक एपिडेमियोलॉजिस्ट बनकर ऐसी किसी घातक महामारी के दौरान लोगों और राष्ट्र की सेवा कर सकते हैं.

Mar 24, 2020 16:57 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon
COVID 19 Effect: Career and Eligibility of Epidemiologist in India
COVID 19 Effect: Career and Eligibility of Epidemiologist in India

आजकल भारत सहित पूरी दुनिया में कोविड 19 अर्थात कोरोना वायरस का संकट मंडरा रहा है और विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कोविड 19 को एपिडेमिक अर्थात महामारी का दर्जा दे दिया है. यह एक चिंताजनक विषय है कि इन दिनों पूरी दुनिया में लाखों मरीज़ कोविड 19 से जूझ रहे हैं और इस महामारी से मरने वालों की संख्या हर रोज़ बड़ी तेजी से बढ़ रही है. इन दिनों हमारे देश के साथ-साथ पूरी दुनिया के लोग एपीडेमियोलॉजिस्ट के करियर का महत्त्व समझ सकते हैं. अगर आप भी एपीडेमियोलॉजी की फ़ील्ड में अपना करियर शुरू करना चाहते हैं तो इस आर्टिकल में आपके लिए भारत में एपीडेमियोलॉजी की फ़ील्ड से संबंधित एजुकेशनल क्वालिफिकेशन, जॉब प्रोफाइल्स और सैलरी पैकेज सहित सारी जरुरी जानकारी दी जा रही है.

एपीडेमियोलॉजी क्या है?

यह पब्लिक हेल्थ की एक ऐसी ब्रांच है जिसमें किसी भी एरिया या देश की पॉपुलेशन में तेज़ी से फ़ैल रही किसी भी बीमारी या रोग के बारे में समय रहते पता लगाकर उसकी रोकथाम के पूरे इंतजाम किये जाते हैं. इस फील्ड में किसी भी एपिडेमिक के तेज़ी से होने वाले फैलाव का अनुमान लगाने के लिए मैथ्स के प्रोबेबिलिटी और स्टेटिस्टिक्स का इस्तेमाल किया जाता है.

एपिडेमियोलॉजिस्ट का पेशा और जॉब प्रोफाइल

ये पेशेवर संबद्ध एरिया या देश में रहने वाले विशाल जन-समूह के सभी हेल्थ इश्यूज़ को सुधारने के लिए जरुरी काम करते हैं और अपने एरिया में रहने वाले लोगों के बीच किसी भी बीमारी की पहचान, फैलाव और रोकथाम के लिए जरुरी सभी संभव उपाय और रिसर्च वर्क करते हैं ताकि जल्दी से जल्दी किसी भी बीमारी को महामारी बनने से रोका जा सके या फिर, महामारी को रोक कर लोगों की हेल्थ और वेल्थ की रक्षा की जा सके. इन पेशेवरों के काम को मुख्य तौर पर दो वर्गों – रिसर्च फील्ड और क्लिनिकल फील्ड – में बांटा जाता है. ये पेशेवर संक्रामक रोगों, पुरानी बीमारी, एनवायरनमेंटल हेल्थ, जेनेटिक डिजीज, बायो-टेररिज्म और नेचुरल डिजास्टर की स्थिति में लोगों को हर तरह से सुरक्षित रखने के लिए अपना महत्त्वपूर्ण योगदान देते हैं. इस फील्ड में अपना करियर शुरू करने के लिए इन पेशेवरों के पास एपीडेमियोलॉजी या संबद्ध स्ट्रीम में मास्टर डिग्री जरुर होनी चाहिए.

भारत में एपिडेमियोलॉजी की फील्ड से संबद्ध विभिन्न एजुकेशनल कोर्सेज और एलिजिबिलिटी

हमारे देश में साइंस (फिजिक्स, केमिस्ट्री और बायोलॉजी) के साथ किसी भी मान्यताप्राप्त बोर्ड से 12वीं पास स्टूडेंट्स बीएससी और अन्य संबद्ध अंडरग्रेजुएट कोर्सेज में एडमिशन ले सकते हैं. इसी तरह, एपीडेमियोलॉजी की फ़ील्ड में पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्सेज के लिए स्टूडेंट्स ने किसी मान्यताप्राप्त यूनिवर्सिटी से कम से कम 55 फीसदी मार्क्स के साथ साइंस या संबद्ध स्ट्रीम में ग्रेजुएशन की डिग्री हासिल की हो और एमफिल तथा पीएचडी के लिए स्टूडेंट्स के पास अच्छे मार्क्स सहित पोस्टग्रेजुएशन की डिग्री होनी चाहिए. एपीडेमियोलॉजी की फ़ील्ड से संबंधित प्रमुख एजुकेशनल कोर्सेज निम्नलिखित हैं:

  • बैचलर ऑफ़ साइंस
  • बैचलर – पब्लिक हेल्थ
  • मास्टर – पब्लिक हेल्थ
  • मास्टर ऑफ़ साइंस (एमएससी) – एपिडेमियोलॉजी
  • एमवीएससी - एपिडेमियोलॉजी
  • एमवीएससी – वेटरनरी पब्लिक हेल्थ एंड एपिडेमियोलॉजी
  • पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा – एपिडेमियोलॉजी
  • पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा – एपिडेमियोलॉजी एंड हेल्थ मैनेजमेंट
  • पीएचडी – एपिडेमियोलॉजी
  • पीएचडी – पब्लिक हेल्थ

जानिये कॉलेज स्टूडेंट्स कुछ ऐसे रख सकते हैं अपनी हेल्थ का ध्यान

एपिडेमियोलॉजी की फील्ड में भारत के टॉप एजुकेशनल इंस्टीट्यूशन्स

स्टूडेंट्स भारत में निम्नलिखित प्रमुख एजुकेशनल इंस्टीट्यूशन्स से एपिडेमियोलॉजी की फील्ड से संबंधित विभिन्न एजुकेशनल कोर्सेज कर सकते हैं:

  • होमी भाभा नेशनल इंस्टीट्यूट, मुंबई
  • जवाहरलाल नेहरु यूनिवर्सिटी, नई दिल्ली
  • नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ़ एपीडेमियोलॉजी, चेन्नई
  • बिड़ला इंस्टीट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी एंड साइंस, पिलानी
  • इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी, गांधीनगर
  • टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ़ सोशल साइंसेज, मुंबई
  • क्रिश्चियन मेडिकल कॉलेज, तमिलनाडु
  • राजेंद्र मेमोरियल रिसर्च इंस्टीट्यूट ऑफ़ मेडिकल साइंसेज, पटना
  • कृष्णा इंस्टीट्यूट ऑफ़ मेडिकल साइंसेज यूनिवर्सिटी, महाराष्ट्र
  • ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ़ हाइजीन एंड पब्लिक हेल्थ, कलकत्ता

भारत में एपीडेमियोलॉजी की फ़ील्ड से जुड़े प्रमुख करियर विकल्प/ जॉब प्रोफाइल्स

हमारे देश में एपीडेमियोलॉजी की फ़ील्ड में पेशेवर निम्नलिखित जॉब्स के लिए अप्लाई कर सकते हैं:

  • डिजास्टर एपिडेमियोलॉजिस्ट
  • इन्फेक्शन कंट्रोल एपिडेमियोलॉजिस्ट
  • मॉलिक्यूलर एपिडेमियोलॉजिस्ट
  • फार्मास्यूटिकल एपिडेमियोलॉजिस्ट
  • सुपरवाइजरी एपिडेमियोलॉजिस्ट
  • वेटरनरी एपिडेमियोलॉजिस्ट

ये हैं कुछ अन्य करियर विकल्प/ जॉब प्रोफाइल्स  

  • कम्युनिटी हेल्थ वर्कर्स
  • सर्वे रिसर्चर्स
  • स्टेटिस्टिशियन
  • एकेडमिक एक्सपर्ट्स

भारत में एपिडेमियोलॉजिस्ट का सैलरी पैकेज

हमारे देश में इन पेशेवरों को इनकी एजुकेशनल क्वालिफिकेशन और वर्क एक्सपीरियंस के मुताबिक सैलरी मिलती है और शुरू में ये पेशेवर 20 हजार – 45 हजार रुपये मासिक सैलरी लेते हैं. जो एपिडेमियोलॉजिस्ट्स फार्मास्यूटिकल या मेडिकल मैन्युफैक्चरिंग इंडस्ट्री में काम करते हैं, उन्हें काफी आकर्षक सैलरी पैकेज मिलता है.

बढ़ते वायु प्रदूषण के चलते एयर क्वालिटी मैनेजमेंट में बढ़े करियर विकल्प, जानें टॉप कोर्सेज, कॉलेज और जॉब्स यहां  

भारत में एपिडेमियोलॉजिस्ट पेशेवर यहां कर सकते हैं अप्लाई

भारत में ये पेशेवर निम्नलिखित रिक्रूटिंग इंस्टीट्यूशन्स में अपने लिए सूटेबल जॉब तलाश सकते हैं:

  • फार्मास्यूटिकल कंपनियां
  • मेडिकल मैन्युफैक्चरिंग यूनिट्स
  • साइंटिफिक रिसर्च लैब्स
  • कॉलेज और यूनिवर्सिटीज़
  • सरकारी रिसर्च केंद्र
  • सेंटर्स फॉर डिजीज कंट्रोल
  • विश्व स्वास्थ्य संगठन
  • भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद
  • स्टेट एड्स कंट्रोल सोसाइटीज़
  • NGOs

देश सेवा और भारत में विलेज हेल्थकेयर वर्कर का करियर स्कोप

जॉब, इंटरव्यू, करियर, कॉलेज, एजुकेशनल इंस्टीट्यूट्स, एकेडेमिक और पेशेवर कोर्सेज के बारे में और अधिक जानकारी प्राप्त करने और लेटेस्ट आर्टिकल पढ़ने के लिए आप हमारी वेबसाइट www.jagranjosh.com पर विजिट कर सकते हैं.

 

Related Stories