IAS प्रारंभिक परीक्षा 2017 के लिए करंट अफेयर्स: 10 मई 2017

करंट अफेर्यस IAS परीक्षा का एक अभिन्न हिस्सा बन गया हैं और IAS प्रिलिम्स परीक्षा के लिए इसकी अच्छी तैयारी होना चाहिए। यहाँ हमने राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय महत्व की हालिया घटनाओं से सम्बंधित मौजूदा मामलों की जानकारी क्विज़ के रुप में दे रहे हैं।

Created On: May 10, 2017 17:26 IST

Current Affairs Quiz

इस लेख में वर्तमान मामलों पर आधारित करंट अफेर्यस प्रश्नोत्तरी दे रहे हैं जो कि IAS परीक्षा के लिए महत्वपूर्ण चल रहे मुद्दों को दर्शाता है और यह IAS की तैयारी के दौरान उम्मीदवारों को गति प्राप्त करने में मदद करेगा।

IAS प्रारंभिक परीक्षा 2017 के लिए करंट अफेयर्स: 9 मई 2017

1. हाल ही में परियोजना ''लोकल ट्रीटमेंट ऑफ अर्बन सीवेज स्ट्रीम्स् फार हेल्दी रीयूज'' (लोटसएचआर) यानी ''पुन: स्वस्थय इस्तेमाल के लिए मलजल नालों का स्थानीय उपचार'' के अंतर्गत बारापूला नाले की सफाई का काम प्रारंभ किया गया है। लोकल ट्रीटमेंट ऑफ अर्बन सीवेज स्ट्रीम्स् फार हेल्दी रीयूज परियोजना से सम्बंधित निम्न कथनों पर विचार कीजिये:
I. इसका परियोजना का उद्देश्य् गंदे पानी के प्रबंधन की एक नवीन समग्र प्रबंधन विधि का प्रदर्शन करना है, जिसके ज़रिए गंदे पानी का उपचार करके उसे पुन: इस्तेमाल योग्य (जैसे उद्योग, कृषि, निर्माण आदि कार्यों के लिए) बनाना है।
II. बारापूला नाले की सफाई परियोजना, लोटसएचआर (''लोकल ट्रीटमेंट ऑफ अर्बन सीवेज स्ट्रीम्स फार हेल्दी रीयूज'' यानी ''पुन: स्वस्थय इस्तेमाल के लिए मलजल नालों का स्थानीय उपचार'') भारत और संयुक्त राज्य अमरीका मिलकर संचालित करेंगे।

निम्न से से कौन सा विकल्प सही है ?
a. केवल I
b. केवल II
c. I और II
d. न तो I और न ही II

उत्तर : a

व्याख्या:

बारापूला नाले की सफाई परियोजना, लोटसएचआर (''लोकल ट्रीटमेंट ऑफ अर्बन सीवेज स्ट्रीम्स फार हेल्दी रीयूज'' यानी ''पुन: स्वस्थय इस्तेमाल के लिए मलजल नालों का स्थानीय उपचार'') भारत और हालैंड मिलकर संचालित करेंगे। इस परियोजना के शुभारंभ के प्रतीक के रूप में एक कलाकृति का अनावरण किया गया, जो लोटस और ट्यूलिप नामक फूलों के आकार में बनायी गई थी, जो भारत और हालैंड की शक्ति को दर्शाते हैं। इस अवसर पर

जैव प्रौद्योगिकी विभाग ने दिल्ली विकास प्राधिकरण के परामर्श से दिल्ली में सराय काले खां स्थित बारापूला नाले का चयन किया है, जहां प्रायो‍गिक संयंत्र के रूप में स्थसल पर प्रयोगों के लिए एक परीक्षण प्रयोगशाला स्थाजपित की जाएगी, जिसकी आधारशिला भी आज रखी गई। इसके लिए डीडीए ने जैव प्रौद्योगिकी विभाग को सन डायल पार्क के निकट 200 वर्ग मीटर का एक भूखंड 5 वर्ष के लिए लीज पर दिया है। दोनों एजेंसियों ने बारापूला नाले की सफाई के लिए डिमांस्ट्रेषन प्लांट लगाने का निर्णय किया है। इस परियोजना के लिए जैव प्रौद्योगिकी विभाग और नीदरलैंड की NWO/STW साइंस एजेंसी संयुक्त रूप से धन उपलब्धल कराएंगी।

कई संबद्ध राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय संस्थाएं इस परियोजना में समन्वय कर रही हैं। इसका उद्देश्य् गंदे पानी के प्रबंधन की एक नवीन समग्र प्रबंधन विधि का प्रदर्शन करना है, जिसके ज़रिए गंदे पानी का उपचार करके उसे पुन: इस्तेकमाल योग्यै (जैसे उद्योग, कृषि, निर्माण आदि कार्यों के लिए) बनाना है।

IAS प्रारंभिक परीक्षा 2017 के लिए करंट अफेयर्स: 8 मई 2017

2. शहरों का रहन-सहन सूचकांक अगले महीने जारी किया जायेगा। शहरों का रहन-सहन सूचकांक से सम्बंधित निम्न कथनों पर विचार कीजिये:
I. शहरों का रहन-सहन सूचकांक के तहत आरंभ में 140 शहरों में रहन-सहन मानकों का आकलन किया जायेगा जिनमें 10 लाख एवं उससे ज्यािदा आबादी वाले 53 शहरों के साथ-साथ स्मा र्ट सिटी भी शामिल होंगी।
II. शहरों का रहन-सहन सूचकांक के तहत शहरों का आकलन 15 प्रमुख पैमानों पर किया जायेगा जो गवर्नेंस, सामाजिक बुनियादी ढांचे जैसे कि शिक्षा, स्‍वास्य् प  एवं रक्षा तथा सुरक्षा, आर्थिक।
III. शहरी विकास मंत्रालय ने राज्योंा और शहरों के हित में ‘शहरों में रहन-सहन मानकों के संग्रह एवं गणना की विधि’ पर एक विस्तृत दस्ताजवेज जारी किया है।

निम्न में से कौन सा कथन सही है।
a. केवल I
b. I और II
c. II और III
d. उपरोक्त सभी

उत्तर : d

व्याख्या :

शहरी विकास मंत्रालय अगले महीने शहरों का रहन-सहन सूचकांक जारी करेगा, जो देश में ही विकसित सूचकांक पर आधारित होगा। इस आशय की घोषणा सचिव (शहरी विकास) राजीव गाबा ने हाल ही मे की है। आरंभ में 140 शहरों में रहन-सहन मानकों का आकलन किया जायेगा जिनमें 10 लाख एवं उससे ज्या दा आबादी वाले 53 शहरों के साथ-साथ स्मागर्ट सिटी भी शामिल होंगी। इस आकलन कार्य के लिए उपयुक्तं एजेंसी का चयन करने हेतु मंत्रालय पहले ही निविदाएं आमंत्रित कर चुका है, जो मंत्रालय द्वारा विकसित पैमानों पर आधारित होगा। शहरी विकास मंत्रालय ने राज्यों  और शहरों के हित में ‘शहरों में रहन-सहन मानकों के संग्रह एवं गणना की विधि’ पर एक विस्तृत दस्तांवेज जारी किया है।

शहरों का आकलन 15 प्रमुख पैमानों पर किया जायेगा जो गवर्नेंस, सामाजिक बुनियादी ढांचे जैसे कि शिक्षा, स्वाेस्य्ान  एवं रक्षा तथा सुरक्षा, आर्थिक
पहलुओं तथा भौतिक बुनियादी ढांचे जैसे कि आवास, खुले स्थ्ल, भूमि के उपयोग, ऊर्जा एवं जल की उपलब्ध ता, ठोस कचरे के प्रबंधन, प्रदूषण इत्याषदि से संबंधित होंगे। शहरों की रैंकिंग दरअसल रहन-सहन सूचकांक पर ही आधारित होगी जो कुल मिलाकर 79 पहलुओं को कवर करेगा।

IAS प्रारंभिक परीक्षा 2017 के लिए करंट अफेयर्स: 5 मई 2017

3. हाल ही मे भारत सर्वसम्मलति से संयुक्तल राष्ट्रग के मानव बस्तीं कार्यक्रम ‘संयुक्तस राष्ट्रू- पर्यावास’ का अध्य.क्ष निर्वाचित किये गए हैं। संयुक्त् राष्ट्रग के मानव बस्तीं कार्यक्रम से सम्बंधित निम्न कथनों पर विचार कीजिये:
I. संयुक्तष राष्ट्रि-पर्यावास विश्वट भर में सामाजिक एवं पर्यावरणीय दृष्टि से टिकाऊ मानव बस्तियों को बढ़ावा देता है। संयुक्तर राष्ट्र्-पर्यावास अपनी रिपोर्ट संयुक्तप राष्ट्रि महासभा के समक्ष पेश करता है।
II. वर्ष 1995 में संयुक्त। राष्ट्रर-पर्यावास के अस्तित्वत में आने के बाद भारत को केवल तीन बार ही इस महत्व.पूर्ण संगठन का अध्यसक्ष निर्वाचित किया गया है। भारत को इससे पहले वर्ष 2001 और वर्ष 2007 में संयुक्तय राष्ट्रक–पर्यावास का अध्य्क्ष निर्वाचित किया गया था।

निम्न से से कौन सा विकल्प सही है ?
a. केवल I
b. केवल II
c. I और II
d. न तो I और न ही II

उत्तर : a

व्याख्या:

भारत को 10 वर्षों के लम्बेु अंतराल के बाद संयुक्तह राष्ट्रक संगठन (यूएनओ) की एक इकाई संयुक्तह राष्ट्र –पर्यावास का अध्य‍क्ष सर्वसम्मसति से चुन लिया गया है। संयुक्तठ राष्ट्रय-पर्यावास विश्व। भर में सामाजिक एवं पर्यावरणीय दृष्टि से टिकाऊ मानव बस्तियों को बढ़ावा देता है। संयुक्तल राष्ट्र्-पर्यावास अपनी रिपोर्ट संयुक्ती राष्ट्रऊ महासभा के समक्ष पेश करता है।

वर्ष 1978 में संयुक्ता राष्ट्रह-पर्यावास के अस्तित्व  में आने के बाद भारत को केवल तीन बार ही इस महत्वरपूर्ण संगठन का अध्यषक्ष निर्वाचित किया गया है। भारत को इससे पहले वर्ष 1988 और वर्ष 2007 में संयुक्त8 राष्ट्रध–पर्यावास का अध्यहक्ष निर्वाचित किया गया था।

संयुक्तु राष्ट्र्-पर्यावास की शासी परिषद एक अंतर-सरकारी नीति निर्माता एवं निर्णय लेने वाला संगठन है और इस नाते वह मानव बस्तियों के बारे में एकीकृत एवं व्यासपक अवधारणा को बढ़ावा देता रहा है और मानव बस्ती  से जुड़ी समस्या ओं को सुलझाने में विभिन्नध देशों एवं क्षेत्रों की मदद करता रहा है।

IAS प्रारंभिक परीक्षा 2017 के लिए करंट अफेयर्स: 24 अप्रैल 2017

4. हाल ही में समाचार में  निम्नलिखित में से कौन सी वक्तव्य चिन्नार वन्यजीव अभयारण्य के बारे में सही है, जिसे हाल ही मे न्यूज मे देखा गया है?
I. चिन्नार वन्यजीव अभ्यारण्य (CWS) ने तस्करों से जब्त हुए भारतीय स्टार कछुओं के पुनर्वास के लिए एक परियोजना शुरू कर दी है।
II. CWS देश में स्टार कछुओं का एकमात्र पुनर्वास केंद्र बन गया है।

उपरोक्त में कौन सा कथन सही है?
a. 1 और 2
b. 2 और 3
c. 1 और 3
d. 1, 2 और 3

उत्तर: d

व्याख्या:

कंटीली झाड़ियों और मरुस्थलीय प्रजातियों वाला वन क्षेत्र चिन्नार भारत की लुप्तप्राय विशाल भूरी गिलहरी (जायंट ग्रिजल्ड स्क्विरल) की वास भूमि है। यहां उनकी कुल संख्या 200 से भी कम बची है। केरल के अन्य अभयारण्यों के विपरीत पश्चिमी घाट के वृष्टि छाया वाले इलाके में स्थित होने के कारण चिन्नार को साल में केवल दो महीने वर्षा प्राप्त होती है। वन्य जीव के मामले में समृद्ध यहां का मिश्रित पतझड़ वन ट्रेकिंग के लिए बहुत ही उपयुक्त है।

एक सघन चंदन वन का पास में स्थित होना चिन्नार के लिए एक अतिरिक्त आकर्षण है। साथ ही इस स्थान पर गौर और हाथियों के झुंडों को भी विचरते हुए देखा जा सकता है। शुष्क पर्णपाती वन, ऊंचे शोला वन और कुछ घास-भूमि इस अभयारण्य की जैव विविधता में चार चांद लगाते हैं। करिमुथी से चिन्नार की ओर यात्रा करने पर आपको सड़क के दोनों ओर हाथी, चित्तीदार मृग, सांबर, हनुमान लंगूर और मोरों के झुंड दिखाई पड़ते हैं।

चिन्नार वन्यजीव अभयारण्य (Chinnar Wildlife Sanctuary -CWS) में केरल के वन विभाग द्वारा एक महत्त्वकांक्षी प्रोजेक्ट चलाया गया है। इसके अंतर्गत तस्करों से जब्त किये हुए इंडियन स्टार कछुओं (Indian star tortoises-Geochelone elegans) का पुनर्वासन किया गया है। यह प्रोजेक्ट अत्यधिक सफल सिद्ध हुआ है। इस प्रकार चिन्नार वन्यजीव अभयारण्य देश में स्टार कछुओं का एकमात्र पुनर्वास केंद्र बन गया है।

'न्यू इंडिया' की कहानी

5. हाल ही मे भारत सर्वसम्म्ति से संयुक्तर राष्ट्रट के मानव बस्तीर कार्यक्रम ‘संयुक्तं राष्ट्रव- पर्यावास’ का अध्य.क्ष निर्वाचित किये गए हैं। संयुक्त् राष्ट्रट के मानव बस्तीर कार्यक्रम से सम्बंधित निम्न कथनों पर विचार कीजिये:
I. संयुक्त राष्ट्र-निवास संयुक्त राष्ट्र संघ (यूएनओ) का एक अंग है जो दुनिया भर में सामाजिक और पर्यावरण के स्थायी मानव बस्तियों को बढ़ावा देता है
II. संयुक्त राष्ट्र-आवास संयुक्त राष्ट्र महासभा को रिपोर्ट करता है

निम्न से से कौन सा विकल्प सही है ?
a. केवल I
b. केवल II
c. I और II
d. न तो I और न ही II

उत्तर : a

व्याख्या:

10 वर्षों के लम्बेन अंतराल के बाद भारत को फिर से संयुक्तै राष्ट्र  संगठन (यूएनओ) की एक इकाई संयुक्ता राष्ट्र –पर्यावास का अध्यभक्ष के रुप में नेतृत्व करने का अवसर मिला है। संयुक्तश राष्ट्रई-पर्यावास विश्व् भर में सामाजिक एवं पर्यावरणीय दृष्टि से टिकाऊ मानव बस्तियों को बढ़ावा देता है। संयुक्तस राष्ट्रम-पर्यावास अपनी रिपोर्ट संयुक्तब राष्ट्रव महासभा के समक्ष पेश करता है।

वर्ष 1978 में संयुक्तम राष्ट्रव-पर्यावास के अस्तित्वर में आने के बाद भारत को केवल तीन बार ही इस महत्व्पूर्ण संगठन का अध्यटक्ष निर्वाचित किया गया है। भारत को इससे पहले वर्ष 1988 और वर्ष 2007 में संयुक्त8 राष्ट्रध–पर्यावास का अध्यहक्ष निर्वाचित किया गया था। संयुक्तु राष्ट्र्-पर्यावास की शासी परिषद एक अंतर-सरकारी नीति निर्माता एवं निर्णय लेने वाला संगठन है और इस नाते वह मानव बस्तियों के बारे में एकीकृत एवं व्यासपक अवधारणा को बढ़ावा देता रहा है और मानव बस्ती  से जुड़ी समस्या ओं को सुलझाने में विभिन्नध देशों एवं क्षेत्रों की मदद करता रहा है।

भारत के बहादुर IPS Officers

Comment ()

Post Comment

8 + 2 =
Post

Comments