IAS प्रारंभिक परीक्षा 2017 के लिए करंट अफेयर्स: 22 मई 2017

UPSC IAS परीक्षा के पाठ्यक्रम में कई विषयों शामिल हैं लेकिन करंट अफेयर्स सबसे महत्वपूर्ण हिस्सों में से एक है। IAS परीक्षा की बुनियादी जरूरतों को ध्यान में रखते हुए यहां हमने IAS प्रारंभिक परीक्षा 2017 के लिए मई 2017 के हालिया घटनाओं के आधार पर करंट अफेयर्स क्विज प्रदान कर रहे हैं।

Created On: May 22, 2017 13:10 IST
Modified On: May 22, 2017 18:13 IST

Current Affairs Quiz 17 May

वर्तमान मामले और राष्ट्र की सामाजिक-आर्थिक संरचना पर मुद्दे IAS परीक्षा का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं। IAS तैयारी में मौजूदा घटनाओं के आधार पर करंट अफेयर्स की प्रश्नोत्तरी को प्राथमिकता दी जानी चाहिए। इसलिए IAS परीक्षा को पास करने के लिए नवीनतम विश्लेषण के लिए एक अच्छा विश्लेषण और अभ्यास का होना बहुत जरूरी है।

अंग्रेजी मे पढ़ें- Current Affairs for IAS Prelims Exam 2017- 22 May 2017

1. एक उच्च स्तरीय भारतीय प्रतिनिधिमंडल मई 22-26, 2017 से कानकुन, मेक्सिको में होने वाले आपदा जोखिम कटौती (जीपीडीआरआर) के वैश्विक प्लेटफॉर्म में भाग लेने वाला है। जीपीआरडीआर के बारे में निम्नलिखित बयानों पर विचार करें:
I. आपदा जोखिम कम करने के लिए वैश्विक मंच यानी जीपीडीआरआर एक ऐसा मंच है, जो आपदा जोखिम कम करने संबंधी सेंडाई फ्रेमवर्क (एसएफडीआरआर) - 2015-2030 के कार्यान्वयन में प्रगति की समीक्षा करता है और तत्संबंधी कार्यनीतिक परामर्श, समन्वय और भागीदारी विकास के लिए कार्य करता है।
II. 2015 के बाद यह पहला अवसर होगा, जबकि वैश्विक नेता और आपदा जोखिम करने से संबंधित पक्षों को अंतर्राष्ट्रीय समुदाय के साथ मिल कर एसएफडीआरआर के कार्यान्वयन में हुई वैश्विक प्रगति की समीक्षा करने का अवसर मिलेगा।
III. यह सभी हितधारकों के लिए सतत विकास और जलवायु परिवर्तन अनुकूलन, अनुभवों को साझा करने, अभिनव समाधानों पर चर्चा करने, और अंतरराष्ट्रीय, क्षेत्रीय, राष्ट्रीय और स्थानीय स्तरों पर एक एकीकृत दृष्टिकोण के लिए पाठ्यक्रम का निर्धारण करने में उनके प्रयासों को जुटाने के लिए एक मंच प्रदान करेगा।

निम्न में से कौन सा कथन सही है?
a. केवल I
b. I और II
c. II और III
d. उपरोक्त सभी

उत्तर : d

व्याख्या :

एक उच्च स्तरीय भारतीय शिष्टमंडल आज कानकुन, मैक्सिको के लिए रवाना हो रहा है, जो वहां आपदा जोखिम कम करने के बारे में 22-26 मई, 2017 के दौरान होने वाले वैश्विक विचार विमर्श में हिस्सा लेगा। इस सम्मेलन में 5,000 से अधिक प्रतिनिधियों के हिस्सा लेने की संभावना है, जिनमें राष्ट्राध्यक्ष, मंत्री, मुख्य कार्यकारी अधिकारी, आपदा विशेषज्ञ, स्वयंसेवक, विज्ञान और प्रौद्योगिकी जैसे क्षेत्रों के प्रतिनिधि और शिक्षाविद् शामिल होंगे।

आपदा जोखिम कम करने के लिए वैश्विक मंच यानी जीपीडीआरआर एक ऐसा मंच है, जो आपदा जोखिम कम करने संबंधी सेंडाई फ्रेमवर्क (एसएफडीआरआर) - 2015-2030 के कार्यान्वयन में प्रगति की समीक्षा करता है और तत्संबंधी कार्यनीतिक परामर्श, समन्वय और भागीदारी विकास के लिए कार्य करता है। यह फ्रेमवर्क मार्च, 2015 में सेंडाई, जापान में आयोजित तीसरे संयुक्त राष्ट्र वैश्विक आपदा जोखिम न्यूनता सम्मेलन में पारित किया गया था। 2015 के बाद यह पहला अवसर होगा,

जबकि वैश्विक नेता और आपदा जोखिम करने से संबंधित पक्षों को अंतर्राष्ट्रीय समुदाय के साथ मिल कर एसएफडीआरआर के कार्यान्वयन में हुई वैश्विक प्रगति की समीक्षा करने का अवसर मिलेगा।

IAS प्रारंभिक परीक्षा 2017 के लिए करंट अफेयर्स: 10 मई 2017

2. हाल ही में, 13 देशों ने सौर-समृद्ध देशों में सौर ऊर्जा उत्पादन परियोजनाओं के लिए एक सामान्य रिस्क मिटिनगेशन मैकेनिज्म (सीआरएमएम) को परिभाषित और ढांचा बनाने के लिए संयुक्त रूप से एक अध्ययन शुरू करने का समर्थन किया है, जिसे पेरिस के अंतर्राष्ट्रीय घोषणापत्र के कार्यान्वयन में अंतर्राष्ट्रीय सौर गठजोड़ (आईएसए) 30 नवंबर 2015 को अपनाया गया था जिसे एक प्रमुख कदम माना जाता है। अंतर्राष्ट्रीय सौर संधि (आईएसए) कार्यक्रम के बारे में निम्नलिखित बयानों पर विचार करें:
I. अंतर्राष्ट्री य सौर गठजोड़ एक संयुक्त पहल है जिसे भारत के प्रधान मंत्री और फ्रांस के राष्ट्रपति पेरिस में 30 नवंबर 2015 को संयुक्त रूप से शुरू किया गया था।
II. अंतर्राष्ट्री य सौर गठजोड़ के तहत, उष्णकटिबंधीय देशों के बीच पूरी तरह या आंशिक रूप से सौर समृद्ध देशों को साझा करने और उनकी आवश्यकताओं और उद्देश्यों के बारे में डेटा एकत्र करने के लिए आमंत्रित किया जाता है।

निम्न से से कौन सा विकल्प सही है ?
a. केवल I
b. केवल II
c. I और II
d. न तो I और न ही II

उत्तर : c

व्याख्या:

अर्जेंटीना, बुर्किना-फासो, चाड, फ्रांस, भारत, आइवरी कोस्ट, माली, नामीबिया, नाइजर, नाइजीरिया, सेनेगल, यूगांडा और यमन ने संयुक्त रूप से सौर ऊर्जा के लिए एक सामान्य जोखिम प्रबंधन प्रणाली (सीआरएमएम) को परिभाषित करने और संरचना करने के लिए एक अध्ययन शुरू करने का समर्थन किया है। यह अंतर्राष्ट्रीय सौर गठबंधन (आईएसए) के पेरिस घोषणापत्र के कार्यान्वयन में एक महत्वपूर्ण कदम है, जिसे 30 नवंबर, 2015 को और आईएसए कार्यक्रम के लिए अपनाया गया था जिसका लक्ष्य "पैमाने पर वहन योग्य वित्त" को गति प्रदान करना था। यह साधन नाटकीय रूप से नवीकरणीय ऊर्जा के लिए वित्त की लागत और बिजली की कुल कीमत को कम करेगा।

संयुक्त राष्ट्र के महासचिव की उपस्थिति में इंटरनेशनल सोलर एलायंस भारत के प्रधान मंत्री और फ्रांस के राष्ट्रपति पेरिस में 30 नवंबर 2015 को संयुक्त रूप से कोप 21 ( COP 21) के बगल में शुरू की गई एक पहल है। आईएसए के तहत, उष्णकटिबंधीय देशों के बीच पूरी तरह या आंशिक रूप से सौर समृद्ध देशों को साझा करने और उनकी आवश्यकताओं और उद्देश्यों के बारे में; सफल प्रथाओं का अनुकरण; और सौर ऊर्जा के पैमाने पर तैनाती के लिए बाधाओं को दूर करने के लिए सामान्य तंत्र और उपकरणों की स्थापना हेतु डेटा एकत्र करने के लिए आमंत्रित किया जाता है।

IAS प्रारंभिक परीक्षा 2017 के लिए करंट अफेयर्स: 8 मई 2017

3. हाल ही में, चितले समिति ने गंगा के डिसिल्टेशन के लिए कई उपायों की सिफारिश सुझाए। चितले समिति के बारे में निम्नलिखित बयानों पर विचार करें:
I. जल संसाधन नदी विकास और गंगा पुनरोद्धार मंत्रालय ने भीमगौड़ा(उत्तशराखंड) से फरक्कास(पश्चिम बंगाल) तक गंगा नदी की गाद निकालने के लिए दिशा निर्देश तैयार करने के वास्तेा जुलाई 2016 में इस समिति का गठन किया था।
II. समिति से गाद और रेत खनन के बीच अंतर करने तथा पारिस्थितिकी और गंगा नदी के ई-प्रवाह के लिए गाद हटाने की आवश्यककता के बारे में बताने को कहा गया था।
III. अपनी रिपोर्ट में समिति ने कहा है कि भौगोलिक, नदी नियंत्रण संरचनाएं, मृदा और जल संरक्षण उपाय, वृक्षों की संख्याक, नदी के तट की भूमि का उपयोग या उसमें फेरबदल (उदाहरण के लिए कृषि, खनन आदि) जैसे स्था नीय कारकों का नदी के तलछटी के भार पर काफी प्रभाव पड़ता है।

निम्न में से कौन सा कथन सही है?
a. केवल I
b. I और II
c. II और III
d. उपरोक्त सभी

उत्तर : d

व्याख्या :

गंगा से गाद निकालने के लिए चितले समिति ने कई उपायों की सिफारिश की है, जिनमें गाद हटाने के कार्य के लिए वार्षिक गाद बजट से सबसे अधिक गाद हटाने की प्रक्रिया का अध्येयन करना, पहले हटाई गई तलछट/गाद के बारे में बताते हुए वार्षिक रिपोर्ट(रेत पंजीयन) तैयार करना और तलछट बजट बनाने का कार्य एक तकनीकी संस्था न को सौंपा जा सकता है, आकृति और बाढ़ प्रवाह का अध्यीयन जिसमें सबसे अधिक गाद वाले स्थाषन से गाद हटाने की आवश्यककता का निरीक्षण और पुष्टि करने पर विचार किया जाना शामिल है।

जल संसाधन नदी विकास और गंगा पुनरोद्धार मंत्रालय ने भीमगौड़ा(उत्तनराखंड) से फरक्काा(पश्चिम बंगाल) तक गंगा नदी की गाद निकालने के लिए दिशा निर्देश तैयार करने के वास्तेा जुलाई 2016 में इस समिति का गठन किया था। राष्ट्रीय गंगा नदी घाटी प्राधिकरण (एनजीआरबीए) के विशेष सदस्यं श्री माधव चितले को समिति का अध्यगक्ष नियुक्तध किया गया था। समिति के अन्यर सदस्यस जल संसाधन, नदी विकास और गंगा पुनरोद्धार मंत्रालय में सचिव, पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय में सचिव और केन्द्रीदय जल तथा विद्युत अनुसंधान स्टे शन, पुणे के निदेशक डॉक्टचर मुकेश सिन्हा  थे। समिति से गाद और रेत खनन के बीच अंतर करने तथा पारिस्थितिकी और गंगा नदी के ई-प्रवाह के लिए गाद हटाने की आवश्यचकता के बारे में बताने को कहा गया था।

IAS प्रारंभिक परीक्षा 2017 के लिए करंट अफेयर्स: 4 मई 2017

4. हाल ही में, अंतर्राष्ट्रीय पर्यटक आगमन (आईटीए) में भारत के रैंक में सुधार हुआ है। मार्च 2017 के लिए नवीनतम यूएनडब्लूटीओ बैरोमीटर के अनुसार, अंतर्राष्ट्रीय पर्यटकों के आगमन के लिहाज़ से भारत का कौनसा स्थान है?
a. 24
b. 40
c. 41
d. 50

उत्तर : a

व्याख्या :

यूएनडब्यूटीओ की परिभाषा के मुताबिक, अंतर्राष्ट्री य पर्यटकों के आगमन (आईटीए) में दो अवयव यथा विदेशी पर्यटकों का आगमन (एफटीए) और अनिवासी देशवासियों का आगमन शामिल हैं। यूएनडब्यूटकोंटीओ ने अपने बैरोमीटर में आईटीए के लिहाज से विभिन्न् देशों की रैंकिंग की है। भारत में अब तक केवल एफटीए के आंकड़ों का ही संकलन होता रहा है। हालांकि, भारत ने अब अनिवासी भारतीयों (एनआरआई) के आगमन के आंकड़ों का भी संकलन शुरू कर दिया है।
वर्ष 2014 और वर्ष 2015 के दौरान क्रमश: 5.43 मिलियन तथा 5.26 मिलियन एनआरआई का आगमन हुआ। तदनुसार, वर्ष 2014 और वर्ष 2015 के दौरान भारत में आईटीए की संख्याी क्रमश: 13.11 मिलियन और 13.28 मिलियन आंकी गई। आईटीए का डेटा अब अंतर्राष्ट्री य सिफारिशों के अनुरूप हो गया है, जिसमें एनआरआई और एफटीए दोनों का आगमन शामिल है।

इस आंकड़े को शामिल करने की बदौलत भारत की बेहतर रैंकिंग को अब यूएनडब्यून   टीओ द्वारा स्वीोकार कर लिया गया है, जो वास्तिविक एवं तुलनीय परिदृश्य‍ को दर्शाती है। मार्च, 2017 के लिए नवीनतम यूएनडब्यूर   टीओ बैरोमीटर के मुताबिक, अंतरराष्ट्री य पर्यटकों के आगमन के लिहाज से भारत की रैंकिंग 2014 और 2015 दोनों ही वर्षों में 24वीं रही, जबकि इन दोनों वर्षों में भारत की पिछली रैंकिंग क्रमश: 41 और 40 थी। इसे शामिल करने के बाद आईटीए में भारत की हिस्सेछदारी भी वर्ष 2015 में 0.68 फीसदी (एफटीए पर आधारित) से बढ़कर 1.12 फीसदी हो गई है।

IAS प्रारंभिक परीक्षा 2017 के लिए करंट अफेयर्स: 5 मई 2017

5. 2013-14 की तुलना में डीडीयूजीजेवाई के तहत 2016-17 में 5 गुणा अधिक विद्युतीकरण किए गए। भारत में ग्रामीण विद्युतीकरण के बारे में निम्नलिखित बयानों पर विचार करें:
I. नई डीडीयूजीजेवाई के तहत, भारत सरकार परियोजना लागत का 60% (विशेष श्रेणी राज्यों के लिए 85%) की दर से अनुदान प्रदान करती है।
II. ग्रामीण विद्युतीकरण कार्यों की प्रगति की निगरानी के लिए क्षेत्र में 350 से अधिक ग्राम विद्युत अभियंताओं (जीवीए) की तैनाती की गई है।
III. जनसंख्या के मानदंडों को छोड़ दिया गया है और सभी गांवों/बस्तियों को बिना जनसंख्या प्रतिबंध के इस योजना के तहत योग्य हैं।

निम्न में से कौन सा कथन सही है?
a. केवल I
b. I और II
c. II और III
d. उपरोक्त सभी

उत्तर : d

व्याख्या :

पूर्वकालीन योजना के शेष ग्रामीण विद्युतीकरण कार्यों को दीन दयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना (डीडीयूजीजेवाई) में शामिल किया गया है। इस योजना का परिव्यय 43,033 करोड़ रूपये है और भारत सरकार से 33,453 करोड़ रूपए की अनुदान है। ग्रामीण इलाकों में विद्युतीकरण कार्यों के साथ कुल समग्र परिव्यय 75,893 करोड़ रुपए का अनुदान जिसमें भारत सरकार से 63,027 करोड़ रुपये का अनुदान सम्मिलित है।

नई डीडीयूजीजेवाई के तहत भारत सरकार परियोजना लागत का 60% (विशेष श्रेणी राज्यों के लिए 85%) की दर से अनुदान प्रदान करती है। इसके अलावा निर्धारित लक्ष्यों की पूर्ति पर 15% अनुदान की दर से अतिरिक्त अनुदान (विशेष श्रेणी राज्यों के लिए 5%) प्रदान किया जाता है।

इस योजना के अंतर्गत नई परियोजनाएं जिनमें फीडर पृथक्करण (15572.9 9 करोड़ रूपए), सिस्टम सशक्तिकरण और ग्रामीण परिवारों को जोड़ने (1 9 706.5 9 करोड़ रूपये), मीटरिंग (3874.48 करोड़ रूपये), ग्राम विद्युतीकरण (2792.57 करोड़ रूपये) और संसद आदर्श ग्राम योजना (398.54 करोड़ रूपए) सहित 32 राज्यों/संघ शासित प्रदेशों के लिए 42,553.17 करोड़ रूपए मंजूर हैं।

IAS प्रारंभिक परीक्षा 2017 के लिए करंट अफेयर्स: 24 अप्रैल 2017

Comment ()

Post Comment

1 + 6 =
Post

Comments