]}
Search

IAS प्रारंभिक परीक्षा 2018 के लिए करंट अफेयर्स: 7 जुलाई 2017

करंट अफेयर्स IAS परीक्षा में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है उम्मीदवारों को मौजूदा मुद्दों और घटनाओं पर आधारित रोजाना करंट अफेयर्स का अभ्यास करना चाहिए ताकि IAS की तैयारी के दौरान IAS परीक्षा के हर चरण में अच्छे अंक स्कोर करने की संभावना बनी रहे। इसलिए, यहां हमने IAS प्रीलिम्स 2018 के लिए जुलाई 2017 के हालिया घटनाओं के आधार पर एक करंट अफेयर्स क्विज दे रहे हैं।

Jul 7, 2017 14:56 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon

Current Affairs Quiz 17 May

वर्तमान मामलों एंव देश की आर्थिक और राजनीतिक ढांचे से सम्बंधित मुद्दे IAS परीक्षा का मुख्य हिस्सा होता है। IAS प्रीलिम्स परीक्षा की तैयारी में मौजूदा मामलों के आधार पर एमसीक्यू (MCQs) और प्रश्नों को प्राथमिकता दी जानी चाहिए। इसलिए, IAS प्रीलिम्स परीक्षा को पास करने के लिए मौजूदा मामलों का विश्लेषण अतिआवश्यक है।

IAS प्रारंभिक परीक्षा 2018 के लिए करंट अफेयर्स: 5 जुलाई 2017

1. "दिल्ली वार्ता 9" के बारे में निम्नलिखित कथनों पर विचार करें जो अक्सर समाचार में दिखाई देता है:
1. भारत के विदेश मंत्रालय (विदेश मंत्रालय) ने आसियान (ASEAN) क्षेत्र के साथ अधिक भागीदारी की आवश्यकता को स्वीकार करते हुए दिल्ली संवाद उद्घाटन का समर्थन किया।
2. इस अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन नेताओं और व्यापारिक निवेशकों के लिए एशिया पैसिफिक क्षेत्र से सम्बंधित मुद्दों चार्ट करने के लिए किया गया था।
3. दिल्ली वार्ता 9 का विषय "आसियान-भारत संबंध: अगले 25 सालों के लिए कोर्सिंग चार्टिंग"

निम्न में से कौन सा कथन सही है।
a. 1 और 2
b. 2 और 3
c. 1 और 3
d. 1, 2 और 3

उत्तर : d

स्पष्टीकरण:
दिल्ली वार्ता का 9वें संस्करण हाल ही में 4-5 जुलाई 2017 से नई दिल्ली में आयोजित हुआ था। दिल्ली वार्ता 9 का विषय था, "आसियान-भारत संबंध: अगले 25 सालों के लिए कोर्सिंग चार्टिंग" एशियान क्षेत्र के साथ अधिक भागीदारी की आवश्यकता को स्वीकार करते हुए भारत के विदेश मंत्रालय (विदेश मंत्रालय) ने 21-22 जनवरी 2009 को उद्घाटन दिल्ली वार्ता का समर्थन किया।

यह फेडरेशन ऑफ इंडियन चैम्बर्स ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री (FICCI) और एसएईए ग्रुप रिसर्च (SAEA) द्वारा आयोजित किया गया था जो प्रतिष्ठित संस्थान दक्षिण पूर्व एशियाई अध्ययन (ISEAS) और आर्थिक अनुसंधान संस्थान आसियान और पूर्वी एशिया (ERIA), नेताओं और व्यापारिक निवेशकों के लिए एशिया प्रशांत क्षेत्र के मुकाबले मुद्दों और गतिशीलता को चार्ट करने के लिए एक अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन के रूप में देखा जा सकता है।

IAS प्रारंभिक परीक्षा 2018 के लिए करंट अफेयर्स: 29 जून 2017

2. अभी हाल हीं में जिज्ञासा नामक एक छात्र-वैज्ञानिक कनेक्ट नामक कार्यक्रम शुरू किया गया है। जिज्ञासा स्कीम के बारे में निम्नलिखित कथनों पर विचार करें:
1. ‘जिज्ञासा’ जहां एक ओर स्कूल के विद्यार्थिओं और उनके अध्यापकों में जिज्ञासा की संस्कृति को, वहीं दूसरी ओर वैज्ञानिक अभिरूचि को अंतर्निविष्ट करेगी।
2. इस कार्यक्रम के अंतर्गत 100,000 विद्यार्थियों और लगभग 1000 अध्यापको को सालाना तौर पर लक्षित करते हुए 1151 केन्द्रीय विद्यालयों को सीएसआईआर की 38 राष्ट्रीय प्रयोगशालाओं के साथ जोड़े जाने की संभावना है।
3. यह कार्यक्रम विद्यार्थियों और अध्यापको को सीएसआईआर की प्रयोगशालाओं का दौरा कर और लघु विज्ञान परियोजनाओं में भाग लेकर विज्ञान में पढ़ाई जाने वाली सैद्धांतिक अवधारणाओं को व्यवहारिक अनुभव करने में सक्षम बनाएगा।

निम्न में से कौन सा कथन सही है।
a. 1 और 2
b. 2 और 3
c. 1 और 3
d. 1, 2 और 3

उत्तर : d

स्पष्टीकरण:
विद्यार्थी–वैज्ञानिक संपर्क कार्यक्रम-‘’जिज्ञासा’’ कार्यक्रम का आज राष्ट्रीय राजधानी में आधिकारिक तौर पर शुभारंभ किया गया। वैज्ञानिक एवं औद्योगिक अनुसंधान परिषद् (सीएसआईआर) केन्द्रीय विद्यालय संगठन के साथ मिलकर इस कार्यक्रम का कार्यान्वयन करेगी। इसमें स्कूल के विद्यार्थियों और वैज्ञानिको को आपस में जोड़ने पर ध्यान केंद्रित किया जा रहा है, ताकि विद्यार्थियों को कक्षा में सिखाई गई बातों को योजनाबद्ध अनुसंधान प्रयोगशाला पर आधारित शिक्षण के साथ समुचित रूप से जोड़ा जा सके।

‘जिज्ञासा’ जहां एक ओर स्कूल के विद्यार्थिओं और उनके अध्यापकों में जिज्ञासा की संस्कृति को, वहीं दूसरी ओर वैज्ञानिक अभिरूचि को अंतर्निविष्ट करेगी। इस कार्यक्रम के अंतर्गत 100,000 विद्यार्थियों और लगभग 1000 अध्यापको को सालाना तौर पर लक्षित करते हुए 1151 केन्द्रीय विद्यालयों को सीएसआईआर की 38 राष्ट्रीय प्रयोगशालाओं के साथ जोड़े जाने की संभावना है।

यह कार्यक्रम विद्यार्थियों और अध्यापको को सीएसआईआर की प्रयोगशालाओं का दौरा कर और लघु विज्ञान परियोजनाओं में भाग लेकर विज्ञान में पढ़ाई जाने वाली सैद्धांतिक अवधारणाओं को व्यवहारिक अनुभव करने में सक्षम बनाएगा।

IAS प्रारंभिक परीक्षा 2018 के लिए करंट अफेयर्स: 27 जून 2017

3. हाल ही में दिवाला और शोधन अक्षमता बोर्ड भारत के नागरिकों को दिवाला और शोधन अक्षमता संहिता, 2016 के तहत अधिसूचित नियमों पर टिप्पणियों को आमंत्रित किया है। भारत के दिवाला और शोधन अक्षमता बोर्ड के बारे में निम्नलिखित कथनों पर विचार करें:
I. दिवाला और शोधन अक्षमता संहिता, 2016 के प्रावधानों के अनुसार, 1 अक्टूबर 2016 को भारत की दिवाला और शोधन अक्षमता बोर्ड की स्थापना हुई थी।
II. दिवाला और शोधन अक्षमता संहिता, 2016 (संहिता) एक आधुनिक आर्थिक कानून है और नियमों को लागू करने के लिए भारत के दिवाला और शोधन अक्षमता संहिता बोर्ड (आईबीबीआई) है, जो कि संहिता के प्रावधानों को पूरा करते हैं तथा संहिता और इसके तहत बनाए गए नियम और जितनी जल्दी हो सके 30 दिनों के लिए संसद के प्रत्येक सदन से पहले आधिकारिक गैजेट में प्रकाशित अधिसूचना द्वारा बनाए गए हैं ।

निम्न से से कौन सा विकल्प सही है ?
a. केवल I
b. केवल II
c. I और II
d. न तो I और न ही II

उत्तर : c

व्याख्या:

दिवाला और दिवालियापन संहिता, 2016 (कोड) एक आधुनिक आर्थिक कानून है संहिता की धारा 240 नियमों के अधीन नियम बनाने के लिए दिवालियापन और दिवालियापन बोर्ड (आईबीबीआई) को अधिकार देता है: (ए) संहिता के प्रावधानों को पूरा करने, (बी) कोड और नियमों के अनुरूप हैं उसके अधीन बनाए; (सी) आधिकारिक गजट में प्रकाशित अधिसूचना द्वारा बनाई गई हैं; और (डी) 30 दिनों के लिए संसद के प्रत्येक सदन से पहले जितनी जल्दी हो सके, रखी गई हैं।

आईबीबीआई ने नियम बनाने के लिए एक पारदर्शी और परामर्श प्रक्रिया विकसित की है। आईबीबीआई का प्रयास है कि विनियमन बनाने की प्रक्रिया में प्रभावी ढंग से हितधारकों को शामिल किया जाए। प्रक्रिया आम तौर पर कार्य समूह बनाने वाले ड्राफ्ट नियमों से शुरू होती है। आईबीबीआई ने इन मसौदा नियमों को सार्वजनिक क्षेत्र में उन टिप्पणियों के लिए मांगे। हितधारकों के साथ मसौदा नियमों के बारे में चर्चा करने के लिए इसमें कुछ गोलमेज हैं। इसकी सलाहकार समिति की सलाह ली जाती है यह प्रक्रिया आईबीबीआई के गवर्निंग बोर्ड के साथ अंतिम नियमों को खत्म करती है और आईबीबीआई ने उन्हें सूचित किया। इस प्रक्रिया को जमीनी हकीकत में कारक बनाने के लिए नियमों का स्वामित्व सुरक्षित होता है और नियमों को मजबूत और सटीक बनाता है, जो समय के लिए और उद्देश्य के लिए प्रासंगिक है।

IAS प्रारंभिक परीक्षा 2018 के लिए करंट अफेयर्स: 23 जून 2017

4. हाल ही में, भारत ने अत्यधिक रोगजनक एवियन इन्फ्लुएंजा (एच 5 एन 1 और एच 5 एन 8) से मुक्त घोषित किया। एवियन इन्फ्लूएंजा के बारे में निम्नलिखित कथनों पर विचार करें:
1. एवियन इन्फ्लूएंजा एक अत्यधिक संक्रामक वायरल बीमारी है जो खाद्य उत्पादक पक्षियों की प्रजातियों को प्रभावित करता है जैसे मुर्गियों, टर्की, ब्वॉय, गिनी फावल और पालतू पक्षियों और जंगली पक्षियों को भी प्रभावित करता है।
2. एवियन इन्फ्लुएंजा ने कई वर्षों से अंतर्राष्ट्रीय समुदाय का ध्यान आकर्षित करने के बाधित किया है क्योंकि मुर्गियो में प्रकोपों को कई देशों में आजीविका और अंतरराष्ट्रीय व्यापार दोनों पर गंभीर असर पड़ा हैं।
3. एवियन इन्फ्लूएंजा वायरस इंसानों को संक्रमित नहीं करते हैं लेकिन कुछ एवियन इन्फ्लूएंजा जैसे कि H5N1, H5N2, H5N8, H7N8 एक वैश्विक स्तर पर सार्वजनिक स्वास्थ्य समस्या बनकर सामले आया है।

निम्न में से कौन सा कथन सही है।
a. 1 और 2
b. 2 और 3
c. 1 और 3
d. 1, 2 और 3

उत्तर : d

स्पष्टीकरण:

भारत में अक्टूबर, 2016 से फरवरी, 2017 के दौरान दिल्ली, ग्वालियर (मध्य प्रदेश), राजपुरा (पंजाब), हिसार (हरियाणा), बेल्लारी (कर्नाटक), अल्लप्पुझा और कोट्टायम (केरल), अहमदाबाद (गुजरात), दमन (दमन), खोरड़ा और अंगुल (ओडिशा) के विभिन्न महामारी केंद्रों में अत्यधिक रोगजनक एवियन इन्फ्लूएंजा के फैलने की रिपोर्ट प्राप्त हुई थी।

ऊपर उल्लेखित एवियन इन्फ्लुएंजा (एचपीएआई) के सभी प्रकोपों को ओआईई के लिए अधिसूचित किया गया और तैयारी, नियंत्रण और एवियन इन्फ्लुएंजा की रोकथाम के बारे में कार्य योजना के अनुसार नियंत्रण और रोकथाम के ऑपरेशन चलाए गए थे।
पूरे देश और प्रकोप ग्रस्त क्षेत्रों के चारों ओर निगरानी रखी गई और राज्यों में ऑपरेशन (परिचालन, कीटाणुशोधन और साफ-सफाई सहित) की समाप्ति के बाद राज्यों में एवियन इन्फ्लुएंजा वायरस की मौजूदगी का कोई सबूत नहीं देखा गया। उपरोक्त को ध्यान में रखते हुए  भारत ने 6 जून, 2017 से देश को एवियन इंफ्लुएंजा (एच 5 एन 8 और एच 5 एन 1) से खुद को मुक्त घोषित कर दिया है और ओआईई के लिए अधिसूचित कर दिया है।

IAS प्रारंभिक परीक्षा 2018 के लिए करंट अफेयर्स: 22 जून 2017

5. हाल ही में यह उभर कर आया है कि मल्टी-ड्रग रेसिस्टेंट (एमडीआर) टीबी अपेक्षाकृत बच्चों में अधिक है। मल्टी-ड्रग रेसिस्टेंट (एमडीआर) के बारे में निम्नलिखित में से कौन सा कथन सही है?
a. मल्टीड्रग-प्रतिरोधी टीबी (टीडीडी) टीबी है जो आइसोनियाजिड और राइफैम्पिसिन का जवाब नहीं देता जो कि 2 सबसे शक्तिशाली एंटी टीबी ड्रग्स है।
b. एमडीआर-टीबी प्रमुख द्वितीय-लाइन टीबी औषधि समूहों के लिए प्रतिरोधी हो सकता है।
c. a और b दोनों
d. इनमें से कोई नहीं

उत्तर : c

स्पष्टीकरण:

टीबी के कारण होने वाले बैक्टीरिया रोग का इलाज करने के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले रोगाणुरोधी दवाओं के प्रतिरोध को विकसित कर सकते हैं। मल्टीड्रग-प्रतिरोधी टीबी (टीडी) टीबी है जो कम से कम आइसोनियाजिड और रिफाम्पिसिन का जवाब नहीं देता है जो 2 सबसे शक्तिशाली एंटी टीबी ड्रग्स है।

बहुउद्देशीय प्रतिरोध के उभरने और प्रसार करने के दो कारण हैं:

• टीबी के इलाज के प्रबंधन की कपट

• व्यक्ति-से-व्यक्ति संचरण

टीबी वाले अधिकांश लोग कड़ाई से पालन किए गए, 6 महीने की दवा के आहार से ठीक हो जाते हैं जो सहायता और पर्यवेक्षण वाले रोगियों को प्रदान किया जाता है। रोगाणुरोधी दवाओं के उपयोग के अनुचित या गलत उपयोग या दवाओं के अप्रभावी योगों और समय से पहले इलाज के रुकावट के उपयोग से दवा प्रतिरोध हो सकता है, जिसे तब प्रसारित किया जा सकता है।

उपचार के विकल्प सीमित और महंगे हैं, सिफारिश की दवाएं हमेशा उपलब्ध नहीं हैं, और रोगियों से ड्रग्स के कई प्रतिकूल प्रभाव पड़ते हैं।

अतिसंवेदनशील दवा प्रतिरोधी टीबी, एक्सडीआर-टीबी, टीबी की अधिक विरोधी दवाओं के अतिरिक्त प्रतिरोध के साथ बहु-प्रतिरोधी प्रतिरोधी टीबी का एक रूप है जो इसलिए कम उपलब्ध दवाओं का भी जवाब देती है। यह दुनिया भर के 117 देशों में दर्ज किया गया है।

IAS Prelims 2017 Expected Cutoff and Paper Analysis in Hindi

Related Stories