भारत में एथिकल हैकिंग: ये हैं खास करियर प्रॉस्पेक्ट्स

हैकिंग हमेशा नेगेटिव नहीं होती है. अब एथिकल हैकर्स की एक ऐसी आर्मी मौजूद है जो आपको साइबर क्राइम्स से बचाने के लिए दिन-रात काम में जुटी रहती है. ऐसे ही लोगों को ‘एथिकल हैकर्स’ कहा जाता है.

Mar 20, 2019 13:33 IST
    Ethical Hacking in India: Special Career Prospects
    Ethical Hacking in India: Special Career Prospects

    एथिकल हैकिंग का परिचय

    यह सच है कि पिछले कुछ दशकों में प्रोफेशनल एथिकल हैकर्स की मांग भारत सहित दुनिया के सभी देशों में लगातार बढ़ी है क्योंकि ये पेशेवर हमारे कंप्यूटर सिस्टम्स और वेबसाइट्स को खतरनाक घुसपैठ या इल्लीगल हैकिंग से बचाते हैं. अब, अक्सर हमारे मन में यह सवाल उठता है कि एथिकल हैकिंग आखिर क्या है? वास्तव में, किसी कंप्यूटर सिस्टम में डाटा तक अवैध या अनऑथोराइज्ड तरीके से एक्सेस करने की एक्टिविटी को ‘हैकिंग’ के नाम से जाना जाता है. जब यह एक्टिविटी किसी कंप्यूटर सिस्टम के ऐसे ओनर की अनुमति और जानकारी से की जाती है, जिसके डाटा को लीगल फ्रेमवर्क के तहत एक्सेस किया जा रहा है, तो यह एक्टिविटी ‘एथिकल हैकिंग’ कहलाती है. एथिकल हैकिंग कई कंपनियों, फर्म्स, संगठनों और सरकारी एजेंसियों को उनके कंप्यूटर नेटवर्क सिस्टम्स में आसानी से एक्सेस हो सकने वाले प्वाइंट्स की पहचान करके समय रहते इन प्रॉब्लम्स से निपटने में सहायता करती है. अक्सर विभिन्न सरकारी एजेंसियां तथा कॉर्पोरेट फर्म्स अपने नेटवर्क सिस्टम्स में साइबर-क्राइम थ्रेट्स की पहचान करके उनसे निपटने के लिए एथिकल हैकर्स को हायर करती हैं. एक अनुमान के मुताबिक भारत में पिछले वर्ष 22 हज़ार से अधिक वेबसाइट्स हैकिंग का शिकार बनीं जिनमें से 114 सरकारी वेबसाइट्स थीं.

    क्या भारत में एथिकल हैकिंग लीगल है?

    हमारे देश के लीगल सिस्टम के मुताबिक हैकिंग एक गलत काम या एक्टिविटी है. भारत में एथिकल हैकिंग अभी काफी लोकप्रिय नहीं हुई है. भारत में हैकिंग एक दंडनीय अपराध है लेकिन एथिकल हैकिंग को लेकर भारत के कानून में स्पष्ट तौर पर कुछ नहीं बताया गया है. असल में, भारत के लीगल सिस्टम में हैकिंग और एथिकल हैकिंग को लेकर न्यूट्रल स्टेटस है.

    एथिकल हैकिंग के लिए जरुरी क्वालिफिकेशन्स 

    एथिकल हैकिंग या साइबर सिक्योरिटी से संबंध फ़ील्ड्स में कोई कोर्स करने के लिए किसी खास एजुकेशनल क्वालिफिकेशन की आवश्यकता नहीं होती है. किसी मान्यताप्राप्त एजुकेशन बोर्ड से अपनी  10वीं क्लास या 12वीं क्लास पास करने के बाद स्टूडेंट्स ये कोर्सेज कर सकते हैं. ये सर्टिफिकेट और डिप्लोमा कोर्सेज 6 महीने  से लेकर 1 साल की अवधि के हैं. आगे चलकर इस फील्ड में स्टूडेंट्स एडवांस कोर्स भी कर सकते हैं. एथिकल हैकिंग में पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्सेज करने के लिए कैंडिडेट्स के पास कंप्यूटर साइंस या संबद्ध विषय में ग्रेजुएशन की डिग्री होनी चाहिए. एथिकल हैकिंग में महारत हासिल करने के लिए कैंडिडेट्स ने कंप्यूटर प्रोग्रामिंग में मास्टरी जरुर हासिल की हो.  

    भारत में एथिकल हैकिंग के प्रमुख कोर्सेज और सर्टिफिकेट कोर्सेज

    पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्सेज

    • एमएससी – साइबर लॉ एंड इनफॉर्मेशन सिक्यूरिटी.
    • एमएससी – इनफॉर्मेशन सिक्यूरिटी एंड साइबर फॉरेंसिक्स
    • एमटेक – कंप्यूटर साइंस एंड इनफॉर्मेशन सिक्यूरिटी
    • एमटेक – साइबर सिक्यूरिटी
    • एमटेक - इनफॉर्मेशन सिक्यूरिटी एंड साइबर फॉरेंसिक्स
    • एमटेक - इनफॉर्मेशन सिक्यूरिटी
    • एमटेक – नेटवर्क कम्युनिकेशन एंड सिक्यूरिटी
    • एमटेक – नेटवर्क मैनेजमेंट एंड इनफॉर्मेशन सिक्यूरिटी.
    • पीजी डिप्लोमा - इनफॉर्मेशन सिक्यूरिटी
    • पीजी डिप्लोमा – साइबर लॉज
    • एडवांस्ड डिप्लोमा – एथिकल हैकिंग

    सर्टिफिकेट कोर्सेज

    • सर्टिफाइड एथिकल हैकर (ईसी – काउंसिल)
    • सर्टिफाइड हैकिंग फॉरेंसिक इन्वेस्टिगेटर (ईसी – काउंसिल)
    • जीआईएसी सर्टिफाइड पेनेट्रेशन टेस्टर (जीपीईएन) – एसएएन और जीआईएसी
    • सर्टिफाइड इन्ट्रूजन एनालिस्ट (जीसीआईए)

    भारत में एथिकल हैकिंग के लिए प्रमुख इंस्टीट्यूट्स

    • इंस्टीट्यूट ऑफ़ इनफॉर्मेशन सिक्यूरिटी, मुंबई, चंडीगढ़
    • एथिकल हैकिंग ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट, नई दिल्ली
    • अंकित फडिया ट्रेनिंग सेंटर, दिल्ली, बिहार, छत्तीसगढ़, तमिलनाडु, झारखंड, पंजाब, त्रिपुरा, राजस्थान, आंध्र प्रदेश
    • नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ इलेक्ट्रॉनिक्स एंड इनफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी, कालीकट
    • मद्रास यूनिवर्सिटी, मद्रास
    • इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ़ इनफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी (आईआईआईटी), इलाहाबाद
    • एसआरएम यूनिवर्सिटी, तमिलनाडु

    एथिकल हैकिंग में जॉब प्रोवाइडर सेक्टर्स

    एथिकल हैकर्स के लिए अब दुनिया भर में पहले की तुलना में जॉब्स के काफी अवसर उपलब्ध हैं. आजकल भारत सहित दुनिया के सभी देशों की तकरीबन हरेक छोटी-बड़ी कंपनी के आईटी डिपार्टमेंट में एथिकल हैकर्स रखे जा रहे हैं. हमारे देश में एथिकल हैकर्स को जॉब प्रोवाइड करवाने वाले प्रमुख सेक्टर्स की एक लिस्ट यहां दी जा रही है:

    • सिविल एविएशन
    • कंप्यूटर साइंस एंड इनफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी
    • कंसल्टेंसीज
    • ब्यूटी केयर एंड लाइफस्टाइल
    • बेसिक साइंसेज
    • एप्लाइड साइंसेज
    • बैंकिंग
    • इंश्योरंस
    • इन्वेस्टमेंट
    • आर्ट्स
    • मीडिया एंड एंटरटेनमेंट
    • मल्टीमीडिया
    • वेबडिजाइनिंग
    • एनीमेशन
    • एग्रीकल्चर
    • हॉर्टिकल्चर
    • डिफेन्स एंड पैरामिलिटरी सर्विसेज
    • डिजाइनिंग
    • मेडिसिन
    • जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन
    • लॉ एंड लीगल सर्विसेज
    • हॉस्पिटैलिटी एंड टूरिज्म

    एथिकल हैकिंग से संबद्ध प्रमुख जॉब प्रोफाइल्स

    किसी एथिकल हैकर के काम में संबद्ध कम्पनी के सिस्टम में पेनेट्रेटिंग शामिल है, ठीक उसी तरह, जिस तरह से कोई पेशेवर हैकर एडवांस्ड टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करके आपकी कंपनी के कंप्यूटर और नेटवर्क सिस्टम्स को हैक कर सकता है. असल में, एथिकल हैकर अपनी एम्पलॉयर कंपनी के कंप्यूटर और नेटवर्क सिस्टम्स की किसी भी कमी का पता लगाता है ताकि उस कमी को समय रहते दूर कर लिया जाए और एम्पलॉयर कंपनी के कंप्यूटर और नेटवर्क सिस्टम्स की हैकिंग न हो सके. कंपनी की सिक्यूरिटी टीम का हिस्सा होने के तौर पर एथिकल हैकर यह भी सुनिश्चित करता है कि एम्पलॉयर कंपनी का सिस्टम फायरवाल्ड है, सिक्यूरिटी प्रोटोकॉल्स दुरुस्त हैं और सभी सेंसिटिव फाइल्स एन्क्रिप्टेड हैं. नीचे कुछ चुनिंदा पेशेवरों की लिस्ट दी जा रही है:

    • एटीएम टेक्नीशियन
    • कंप्यूटर प्रोग्रामर
    • डाटा एंट्री ऑपरेटर
    • डीटीपी ऑपरेटर
    • इनफॉर्मेशन सिक्यूरिटी एनालिस्ट
    • मेडिकल ट्रांसक्रिप्शनिस्ट
    • नेटवर्क एडमिनिस्ट्रेटर
    • सिस्टम एडमिनिस्ट्रेटर
    • कॉल सेंटर एग्जीक्यूटिव
    • साइबर सिक्यूरिटी एक्सपर्ट
    • डाटाबेस एडमिनिस्ट्रेटर
    • एथिकल हैकर
    • लेज़र प्रिंटर टेक्नीशियन
    • मोबाइल एप्लीकेशन डेवलपर
    • एसईओ एग्जीक्यूटिव
    • वेबमास्टर

    एथिकल हैकिंग में मिलता है यह सैलरी पैकेज

    अगर हम इस पेशे से संबद्ध सैलरी पैकेज की चर्चा करें तो हमारे देश में, वर्तमान परिवेश में एक फ्रेशर एथिकल हैकर प्रति वर्ष लगभग रु. 4.8 लाख तक कमा सकता है लेकिन इस फील्ड में एक हाईली क्वालिफाइड पेशेवर कुछ वर्षों के कार्य-अनुभव के बाद लगभग रु.30 लाख सालाना तक कमा सकता है.

    एथिकल हैकिंग की फील्ड में करियर प्रॉस्पेक्ट्स

    पूरी दुनिया में साइबर क्राइम्स और इल्लीगल हैकिंग के मामलों के लगातार बढ़ने के कारण एथिकल हैकिंग की फील्ड में करियर प्रॉस्पेक्ट्स काफी शानदार नज़र आ रहे हैं. इंटरनेशनल डाटा कॉर्पोरेशन द्वारा किये गए एक सर्वे के मुताबिक अगले कुछ वर्षों में भारत में एथिकल फील्ड से संबद्ध पेशेवरों की मांग लगभग 77 हजार एम्पलॉईज तक और पूरी दुनिया में 1.88 लाख एम्पलॉईज तक बढ़ जायेगी. भारत और दुनिया के कुछ बड़े ब्रांड्स – विप्रो, डैल, रिलायंस, गूगल, असेंचर, आईबीएम और इनफ़ोसिस में टैलेंटेड एथिकल हैकर्स अपना करियर बना सकते हैं.

    जॉब, इंटरव्यू, करियर, एकेडेमिक और पेशेवर कोर्सेज के बारे में और अधिक जानकारी प्राप्त करने और लेटेस्ट आर्टिकल पढ़ने के लिए आप हमारी वेबसाइट www.jagranjosh.com पर विजिट कर सकते हैं.

    Loading...

    Register to get FREE updates

      All Fields Mandatory
    • (Ex:9123456789)
    • Please Select Your Interest
    • Please specify

    • ajax-loader
    • A verifcation code has been sent to
      your mobile number

      Please enter the verification code below

    Loading...