Search

वो 4 स्वास्थ्य समस्याएं जो आपकी डेस्क जॉब की वजह से हो सकती हैं

जब सेवा क्षेत्र की बात आती है तो डेस्क का काम आजकल नौकरी का एक मापदंड है. यह नौकरियां लाभ के  साथ बाजार में सबसे आकर्षक अवसरों में से एक सुनहरा मौका बनाती हैं.

Oct 25, 2017 15:20 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon
Desk job health risks
Desk job health risks

जब सेवा क्षेत्र की बात आती है तो डेस्क का काम आजकल नौकरी का एक मापदंड है. यह नौकरियां लाभ के  साथ बाजार में सबसे आकर्षक अवसरों में से एक सुनहरा मौका बनाती हैं. कोई भी इस तथ्य से इनकार नहीं कर सकता  है कि कई डेस्क नौकरियां आपको यात्रा की परेशानियों और अन्य कठिनाइयों से बचा भी लेती हैं. लेकिन इसके साथ साथ  डेस्क की नौकरी भी अपने स्वयं के दोषों को भी अपने साथ लेकर आती हैं.

वस्तुतः कार्यालय को दूसरे घर के रूप में देखा जाता है क्योंकि यह वह स्थान है जहां आप अपने घर की तुलना में अधिक समय व्यतीत करते हैं. इसीलिए आपको डेस्क जॉब से संबंधित स्वास्थ्य जोखिमों पर अतिरिक्त ध्यान देना होगा. अपने आप को इलाज के लिए दवाएं और गोलियों में खपाने की बजाय, अपने स्वास्थ्य की खुराक लें जो आपकी प्रतिरक्षा को बढ़ावा दे सकती हैं और आप को रोजगार की वजह से  स्वास्थ्य जोखिमों से बचा  सकती है.

तो इससे पहले कि आपकी डेस्क नौकरी आपको ज्यादा नुक्सानपहुंचाएं , इन लक्षणों का ध्यान रखें और स्वयं को इन खतरों से बचाएं.

आखों पर जोर

प्रौद्योगिकी के इस युग में  कॉर्पोरेट जगत कागज रहित अर्थव्यवस्था का एक हिस्सा बन गई है. इसका मतलब है कि औसतन  एक कर्मचारी कंप्यूटर और मोबाइल स्क्रीन पर 8-10 घंटे खर्च करता है. यह कहने की ज़रूरत नहीं कि कंप्यूटर ने हमारे जीवन को सरल और आसान किया है लेकिन यह वास्तव में हमारे दृष्टिकोण को भी प्रभावित करता है. कंप्यूटर के साथ लगातार संपर्क में रहते हुए आंखें धुंधली होने लगती हैं. आँखें हमारे सबसे संवेदनशील अंगों  में से एक होती हैं. यह हमारे दैनिक दिनचर्या को भी प्रभावित करती है. जब आप बहुत-पानी या बहुत सूखी आँखों का अनुभव करते हैं, तो आप  अक्सर सिरदर्द या गले में दर्द की शिकायत करते हैं. आप इन लक्षणों की उपेक्षा न करें. वे आँखों पर जोर पड़ने का संकेत हो सकता है .

अपने आप को कैसे बचाएं ?

एक प्रारंभिक कार्य योजना के रूप में आप यह  सुनिश्चित करें कि आपका डेस्कटॉप / लैपटॉप स्क्रीन आपकी आंखों से हाथ की लंबाई की दूरी पर है. इसके अलावा  हर 15-20 मिनट के बाद आप पांच मिनट का ब्रेक लेने से आप कंप्यूटर स्क्रीन से दूर रहेंगे. लंबी अवधि के लिए मोबाइल या कंप्यूटर स्क्रीन का इस्तेमाल न करें.

यह आपकी आंख की मांसपेशियों को आराम देगा और आप सूखी नाम आंखों का अनुभव नहीं करेंगे. अपने वर्ड डॉक्यूमेंट के 'फॉन्ट साइज' को बढ़ाएं ताकि पाठ को पढ़ने के लिए आँखों में ज्यादा जोर न पढ़े.

दोपहर के भोजन या चाय के समय दिन की रोशनी में अपनी आंखों को आराम देने और साँस लेने के लिए ताजी हवा में बाहर निकलें.

निचली कमर का दर्द

लंबे समय तक एक ही अवधि मैं बैठना आपके स्वास्थ्य के लिए खतरनाक हो सकता है और विशेष रूप से आपके शरीर के निचले हिस्से के लिए. काम करते समय  अगर आपको लगता है कि थोड़ी देर के लिए खड़े होकर आप पीठ में थोड़े कमजोर पड़ जाते हैं तो यह समय है कि आप अपने पीठ दर्द के मुद्दे पर गंभीरता से विचार करें.

कार्यालय के एर्गोनॉमिक्स के अनुसार, आपको लंबे घंटों तक बैठने से बचना चाहिए क्योंकि यह आपके शरीर की गति को खराब करेगा और यह आपको स्लेबिंग, मोटापा, हृदय रोग और अन्य संबंधित विकारों से ग्रसित कर सकता है. काम करते समय  आमतौर पर एक व्यक्ति अमूमन भूल जाता है कि उसके शरीर को आराम करने की जरूरत है और आलस के कारण वह  घूमने की ओर ध्यान नहीं देता.

खुद को कैसे बचाएं ?

आपकी  पहली जिम्मेदारी है कि आप अपने बैठने के आसन का ख्याल रखें. दरअसल डेस्क-जॉब पर आप काम करते करते यह भूल जाते हैं कि आप कितने घंटो तक बैठ गए. लेकिन जब आपके पीठ की मांसपेशियों में दर्द होने लगता है या कसाव का अनुभव होने लगता  हैं तो थोड़ी देर के लिए घूमने के लिए उठें.

यदि संभव हो तो सुबह या शाम को घूमने की आदत डालें या थोड़ा दौड़ने की आदत डाले या 15-20 मिनट के लिए नियमित रूप से घर पर योग करने  की कोशिश कर सकते हैं ताकि पीठ के दर्द से बच सकें.

जोड़ों  की समस्याएं

सबसे आम डेस्क के साथ आने वाली मुख्य समस्याओं से एक जोड़ों  के दर्द की समस्या है. हालांकि इस तरह की समस्याएं प्रौढ़ लोगो द्वारा महसूस की जाती रही हैं जबकि आजकल यह समस्या ऑफिस जाने वाले लोगो में भी देखी जा रही है.

काम करके जब आप अपनी सीट से उठते हैं और आप अपने जोड़ों में क्रैकिंग ध्वनि महसूस करते हैं या अपने कूल्हे जोड़ों में फ्लेक्सेस महसूस करते हैं तो आप जोड़ो के दर्द की समस्या से ग्रसित हो सकते हैं.

पेशेवर लोगो की जीवन शैली का इस समस्या में बहुत बड़ा योगदान है. तो इस समस्या को गंभीरता से लेने की जरूरत है.

खुद को कैसे बचाएं ?

एक स्वस्थ कार्यालय जीवन के लिए आप अपने डेस्क से हर 45 मिनट के बाद उठ के थोडा चहल कदमी करिए. यह आपको जोड़ों के दर्द की समस्या से बचाएगा.

कॉर्पल टनल सिंड्रोम

कॉर्पल टनल सिंड्रोम (सीटीएस) आपकी कलाई में नसों के दबने के कारण होता है और इस समस्या को अक्सर डेस्क में  नौकरी कर रहे  पेशेवरों में देखा जाता है. 'माउस' के लगातार उपयोग से आपके हथेली की नसें दब जाती हैं, इसकी वजह से आपकी उंगलियों सुन्न हो जाती हैं. अगर आप अपनी कलाई में झुकाव, संवेदना की कमी, खुजली या तेज दर्द को महसूस करते हैं तो इसे अनदेखा न करें. यह सीटीएस के शुरुआती लक्षण हो सकता है. इस स्तर पर अज्ञानता आपकी चोट और मामूली दर्द को और ख़राब कर सकती है.

अपने आप को कैसे बचाएं ?

यह अनुशंसा की जाती है कि यदि आप सीटीएस के लक्षणों का सामना कर रहे हैं तो डॉक्टर से परामर्श लें और अपने डेस्क पर अपने साथ एक कलाई पैड रखें. यह आपकी कलाई को आराम देगा. साथ ही यह भी सुनिश्चित करें कि आपके की बोर्ड के पास एक आरामदायक माउस पैड है. सावधानीपूर्वक रोकथाम के उपाय आपको एक्यूपंक्चर, ड्रग्स या सर्जरी के दर्द से बचाएगा.

हम यह भी अनुशंसा करते हैं कि आप नियमित रूप से काम करते हुए, कुछ घंटों के अंतराल में अपने कलाई को खींचे व घुमाएं. सीटीएस के जोखिम से बचने के लिए आप बुनियादी अभ्यासों पर एक नज़र डालें ताकि आप उन्हें दैनिक दिनचर्या में ला सकें.

ये कुछ स्वास्थ्य समस्याएं थीं जो डेस्क के काम में लगे पेशेवरों से जुड़ी हैं. ऐसे कई अन्य जोखिम हैं जो आपके जीवन में चिंता पैदा कर सकते हैं. हमें उम्मीद है कि यदि आप इनमें से किसी भी लक्षण का अनुभव करते हैं तो उन्हें अनदेखा नहीं करेंगे. एक सामान्य स्वास्थ्य चिकित्सक से परामर्श करें और अतिरिक्त सावधानी बरतें.

Related Stories