नेटवर्किंग का सटीक इस्तेमाल करके जल्दी पायें प्रोफेशनल सक्सेस

अगर आप जल्दी ही अपनी प्रोफेशनल सक्सेस पाना चाहते हैं तो आपके लिए अपनी करियर लाइन के लोग भी बहुत फायदेमंद साबित हो सकते हैं. इसलिए आप सबसे पहले अपने लिए स्ट्रोंग नेटवर्किंग तैयार करें.

Created On: Apr 5, 2021 21:21 IST
Networking Usage for Professional Success in India
Networking Usage for Professional Success in India

देश-दुनिया में किसी भी करियर लाइन में जल्दी ही प्रोफेशनल सक्सेस पाने के लिए नेटवर्किंग का काफी महत्त्वपूर्ण योगदान होता है. आसान शब्दों में, नेटवर्किंग का सीधा-सा अर्थ है - लोगों के साथ संपर्क बनाना और उन संपर्कों को कायम रखना. नेटवर्किंग के माध्यम से आप जरुरत पड़ने पर दूसरों की मदद करते हैं और दूसरे लोग भी आपकी मदद करते हैं. अब, चूकिं मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है इसलिए  यह कहना सही नहीं होगा कि जीवन में बिना किसी के मदद के कोई भी व्यक्ति बहुत बड़ा आदमी बन सकता है. एमबीए के अधिकांश कोर्सेज में नेटवर्किंग को बहुत महत्व नहीं दिया जाता है. अधिकतर स्टूडेंट्स यह तो जानते हैं कि एमबीए के बाद उन्हें कार्पोरेट जगत का सामना करना है लेकिन यह  सामना किस तरह करना है ? यह वे स्टूडेंट्स अच्छी तरह नहीं जानते हैं.

इसलिए एमबीए स्टूडेंट्स को विभिन्न कार्यक्रमों, सम्मेलनों और इंटरनेट पर लोगों के साथ अपनी स्ट्रोंग नेटवर्किंग अवश्य तैयार करनी चाहिए. हमारे देश सहित कई देशों में अनेक ऐसी कंपनिया है जो हायरिंग के लिए किसी भी तरह का एडवरटिजमेंट नहीं निकालती हैं. ऐसी कंपनियां कुछ ऐसे लोगों को इंसेंटिव्स देती हैं जो स्किल्ड कर्मचारियों की भर्ती में मदद करते हैं. इसी तरह, अधिकांश नियोक्ता उन लोगों को काम पर रखना ज्यादा पसंद करते हैं जिन्हें वे पहले से जानते हैं. इसलिए, इस आर्टिकल में हम आपके लिए जल्दी ही प्रोफेशनल सक्सेस पाने के लिए नेटवर्किंग के सटीक इस्तेमाल के बारे में जानकारी दे रहे हैं:

नेटवर्किंग के बारे में गलत अवधारणा

नेटवर्किंग एक तरह से एक प्रक्रिया है जिसमें एक व्यक्ति अपनी ग्रोथ के लिए अन्य लोगों का उपयोग करता है.

लेकिन अच्छे नेटवर्कर इस तरह के सिद्धांतों पर कभी विश्वास नहीं करते और ना ही उसका पालन करते हैं. वे लोगों के साथ नेटवर्किंग करते हुए अपने लाभ और करियर के बारे में हमेशा नहीं सोचते हैं. वे लोगों की सोंच आदि के बारे में जानने के लिए उत्सुक रहते हैं.स्व-केंद्रित दृष्टिकोण से दूर, नेटवर्किंग दिलचस्प लोगों और विचारों से जुड़ने की एक कला है.वरिष्ठ लोगों के साथ नेटवर्किंग कई मामलों में अधिक उपयोगी साबित होती है.

कुछ लोग ऐसा मानते हैं कि हमें बड़ी मछलियों को पकड़ने के लिए ही पानी में घुसने का प्रयास करना चाहिए. लेकिन यह दृष्टिकोण मौलिकतः गलत है और इसका पालन करने पर सफलता नहीं मिल सकती है. हर किसी का अपना अलग अनुभव होता है और कब किसका अनुभव काम आ जाये यह कहा नहीं जा सकता है. अक्सर छोटे समझे जाने वाले लोग जो राय देते हैं उनसे लोगों का जीवन बदल जाता है. हो सकता है कभी उन्ही के संपर्क से आपका काम बन जाये.इसलिए सभी विकल्प खुले रखें और सभी की सामान्य रूप से मदद करें. अच्छी नेटवर्किंग का फायदा आपको तत्काल मिल जाएगा, ऐसा सोचना बिलकुल गलत है. अच्छी नेटवर्किंग की इच्छा रखने वालों के लिए यह एक सतत प्रक्रिया है.इसके द्वारा दीर्घकालिक संबंधों का निर्माण किया जाता है. वस्तुतः इस क्षेत्र में किया गया निवेश शेयर बाजार में किये गए निवेश की तरह नहीं है. यह जीवन भर नेटवर्कों का ताना बाना बुनने जैसा है और यह प्रक्रिया जीवन पर्यंत चलती रहती है. अच्छा नेटवर्क जीवन में अवश्य काम आता है.

लेकिन कभी भी मतलब के हिसाब से नेटवर्किंग नहीं बनाना चाहिए और काम होते ही उसे समाप्त नहीं करना चाहिए. इससे आपका कुछ भी फायदा नहीं होगा. मान लीजिये आप किसी सम्मेलन में किसी से मिलते हैं और एक सप्ताह के अन्दर वे किसी भी मामले में आपकी मदद करते हैं तो आपको अपना काम होते ही उनके साथ अपना सम्बन्ध नहीं तोड़ देना चाहिए. हमेशा अपने नेटवर्किंग के लोगों के साथ जुड़े रहना चाहिए. इससे लॉन्ग टर्म में फायदा होता है

अपनी नेटवर्किंग तैयार करते समय इन पॉइंट्स का जरुर रखें ध्यान

नेटवर्किंग एक कला है. कुछ लोगों में यह कला जन्मजात होती है जबकि कुछ लोगों के लिए मार्गदर्शन और अभ्यास की आवश्यकता होती है.सिर्फ बिजनेस कार्ड लेने या देने मात्र से ही नेटवर्किंग नहीं बनती है. इसके लिए व्यक्ति विशेष के साथ अपनी मीटिंग को यादगार बनाना होता है. यदि आप ऐसा करने में सक्षम नहीं हैं तो आपके बिजनेस कार्ड का कोई मतलब नहीं रह जाता है. अच्छे नेटवर्किंग के लिए निम्नांकित बातों पर ध्यान दीजिये.

• हमेशा मौखिक रूप से अपना परिचय देने के लिए तैयार रहें.आपको कभी भी अपने संभावित संपर्क वाले व्यक्ति के सामने चुपचाप खड़ा नहीं रहना चाहिए.उससे सहजता के साथ अपना परिचय देते हुए मिलने की कोशिश करनी चाहिए. टेंशन फ्री होकर बातें करें. टेंशन की स्थिति में व्यक्ति अक्सर सामने वाले से सही तरीके से नहीं मिल पाता है. इसलिए हमेशा प्रसन्नता पूर्वक अपने बारे में कुछ पंक्तियों तथा अपने स्किल्स को बताते हुए सामने वाले से बात करने की कोशिश करते हुए अपना नेटवक बनाने की कोशिश करनी चाहिए.
• अपने पर्सनल एजेंडा को अलग रखने की कोशिश करें. यदि आप किसी को अच्छी तरह सुनते हैं तो अवश्य ही सामने वाला व्यक्ति आपको याद रखेगा और उससे आपका सम्बन्ध बन सकता है.ज्यादतर लोग अपने बारे में बातें करना पसंद करते हैं. यदि आपको ऐसा कोई मिलता है तो उन्हें ऐसा करने दें तथा उनकी बातें ध्यान से सुनें और उनका बिजनेस कार्ड अपने पास रख लें. किसी से सीधे सीधे जॉब ओपनिंग के बारे में पूछने की बजाय किसी और से बातें करने की कोशिश करें.
• किसी सम्मेलन में जाने से पहले अपने काम के लोगों के विषय में जानना चाहिए. इसके लिए ऑनलाइन उनकी प्रोफाइल सर्च करें. लोग इस बात को जानकर बहुत प्रभावित हो सकते हैं कि आप पहले से ही उनको जानते हैं. इससे आपका समय बर्बाद नहीं होता है क्योंकि आपको यह पता होता है कि आपको किसके साथ संपर्क बनाना है.
•  आप किसी कोने में खड़ा होकर यह नहीं सोंचे कि अब मुझे क्या करना है ? अपने बगल में बैठे व्यक्ति से बातचीत करने की कोशिश करें. अपने सुपरवाइजर के कॉन्टैक्ट का उपयोग करें.सम्मलेन के हर कार्यक्रम में हिस्सा लें. दोपहर का लंच हमेशा किसी के साथ ही करें. कोशिश करें कि आप जिसके साथ नेटवर्क बनाना चाहते थें उसी के साथ लंच करें क्योंकि लंच करते समय अक्सर लोग खुलकर बातें करते हैं तथा सम्बन्ध अच्छे बनते हैं.
• आप अपने आप को इस तरह प्रेजेंट करें कि अधिकांश लोग आपसे बातें करने को उत्सुक हों. अपने से बात करने वाले के साथ प्रासंगिक बात करें. अपना ज्यादा समय दूसरों की मदद करने में व्यतीत करें.
•  सम्मेलन के दौरान किसी दुकान पर बात करने के बाद किसी कॉफी शॉप में पुनः मिलकर बात करने का प्रस्ताव रखें. अक्सर लोग सम्मेलनों में मिलने के बाद भूल जाते हैं कि मैं अमुक आदमी से मिला भी था. यदि सम्मेलन के बाद ही आपनी दूसरी बैठक आयोजित करते हैं तो इससे दोनों के दिमाग में एक दूसरे की समृति बनी रहती है. आप दोनों एक दूसरे की रूचि के अनुसार लंच आदि का ऑर्डर भी कर सकते हैं. किसी के साथ सही कॉन्टैक्ट बनाने का यह एक बढ़िया ऑप्शन होता है.
• लोगों से बात करते समय हमेशा अपने व्यक्तिगत लाभ के विषय में ही नहीं सोंचे. बहुत बड़े व्यावसायिक मुद्दों पर बात करने की बजाय छोटे मुद्दों पर भी बात किया जा सकता है. कभी कभी हास्य का भी सहारा लेना सही रहता है लेकिन औपचारिकता के तहत ही इसका उपयोग किया जाना चाहिए. अपनी बातचीत को हमेशा गर्मजोशी के साथ एक दूसरे को धन्यवाद देते हुए समाप्त करें.
• नेटवर्किंग करते समय अपने द्वारा किए गए वादों को याद रखें और बाद में हमेशा अपने कॉन्टेक्ट को बनायें रखें.
• नेटवर्किंग ऑनलाइन के साथ-साथ लिंक्डिन जैसी साइटों पर भी की जा सकती है.

जॉब, इंटरव्यू, करियर, कॉलेज, एजुकेशनल इंस्टीट्यूट्स, एकेडेमिक और पेशेवर कोर्सेज के बारे में और अधिक जानकारी प्राप्त करने और लेटेस्ट आर्टिकल पढ़ने के लिए आप हमारी वेबसाइट www.jagranjosh.com पर विजिट कर सकते हैं.

अन्य महत्त्वपूर्ण लिंक

कुछ यूं बनाएं ऑफिस में अपने पहले दिन को एक यादगार दिन

कल्चरल कोशेंट: मनचाही जॉब पाने के लिए जरुरी और सहायक फ़ैक्टर

वर्ष 2021 में इंडियन कॉलेज स्टूडेंट्स के लिए टॉप पार्ट टाइम जॉब्स

 

Comment ()

Post Comment

9 + 0 =
Post

Comments