]}
Search

जानें डाक विभाग में ग्रामीण डाक सेवक की नौकरी के लिए योग्यता, सैलरी और चयन प्रक्रिया के बारे में

ग्रामीण डाक सेवक अर्थात जीडीएएस का पद केंद्र सरकार के दूरसंचार मंत्रालय के अंतर्गत भारतीय डाक विभाग में होता है. ग्रामीण डाक सेवक की नियुक्ति डाक विभाग के देश भर में फैले 23 राज्यों/सर्किल में होती है.

Aug 7, 2019 12:38 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon

ग्रामीण डाक सेवक अर्थात जीडीएएस का पद केंद्र सरकार के दूरसंचार मंत्रालय के अंतर्गत भारतीय डाक विभाग में होता है. ग्रामीण डाक सेवक की नियुक्ति डाक विभाग के देश भर में फैले 23 राज्यों/सर्किल में होती है. ग्रामीण डाक सेवक का पद सरकार के वैतनिक पदों से अलग होता है जो कि ‘जीडीएस (कंडक्ट एवं इंगेजमेंट) रूल्स 2011’ द्वारा शासित होता है. इस पद पर नियुक्ति सरकार के नियमित कर्मचारियों से अलग नियमों के तहत होती है.

ग्रामीण डाक सेवक के पद पर नियमित सैलरी के बजाय ‘टाइम रिलेटेड कॉन्टीन्यूटी एलाउंसेस (टीआरसीए)’ के अनुसार भत्ते दिये जाते हैं. आमतौर पर ग्रामीण डाक सेवक के काम के घंटे नियमित कर्मचारियों से कम, लगभग 5 घंटे, होते हैं. ग्रामीण डाक सेवक की नियुक्ति अलग-अलग श्रेणियों में की जाती है – जीडीएस ब्रांच पोस्ट मास्टर्स, जीडीएस मेल डेलीवरर्स, जीडीएस मेल पैकर्स, जीडीएस मेल कैरियर्स.

जीडीएस के पदों पर नियुक्ति नियमित पदों के प्रतिस्थापन के तौर पर होती है, इसलिए ग्रामीण डाक सेवक का पद स्थायी होता है, हालांकि उम्मीदवार को हमेशा जीडीएस के पद पर ही कार्य करना होगा. वैसे ग्रामीण डाक सेवक विभागीय परीक्षाओं में सम्मिलित होकर विभागीय पदों, जैसे – मल्टी टास्किंग स्टाफ (एमटीएस या ग्रुप डी या क्लास-IV) पर नियुक्ति पाकर नियमित विभागीय कर्मचारी बन सकते हैं.

डाक विभाग के जिस किसी भी श्रेणी में ग्रामीण डाक सेवक की नियुक्ति की जाती है उसमे यह पद सबसे निचला एवं कार्यकारी होता है. ग्रामीण डाक सेवक का कार्य होता है कि वह संबंधित कार्यों के लिए सहायक का कार्य करे और वरिष्ठ कर्मचारियों के दिशा-निर्देशों के अनुरुप रोजमर्रा की विभागीय गतिविधियों के क्रियान्वयन में सहयोग करे.

ग्रामीण डाक सेवक के लिए कितनी होनी चाहिए योग्यता?

ग्रामीण डाक सेवक बनने के लिए जरूरी है कि उम्मीदवार को किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से किसी भी विषय के साथ 10वीं उत्तीर्ण होना चाहिए. इसके साथ ही, उम्मीदवारों को न्यूनतम 60 दिवस की अवधि का कंप्यूटर कोर्स किसी ऐसे संस्थान से किया हुआ होना चाहिए जो कि केंद्र या राज्य सरकार के संबंधित विभाग द्वारा मान्यता प्राप्त हो.

ग्रामीण डाक सेवक के लिए कितनी है आयु सीमा?

ग्रामीण डाक सेवक बनने के लिए जरूरी है कि उम्मीदवार की आयु 18 वर्ष से 40 वर्ष के बीच हो. आरक्षित श्रेणी के उम्मीदवारों को अधिकतम आयु सीमा सरकार के नियमानुसार छूट दी जाती है.

ग्रामीण डाक सेवक के लिए चयन प्रक्रिया

ग्रामीण डाक सेवक के पद पर उम्मीदवारों का चयन आमतौर पर शैक्षणिक रिकॉर्ड के आधार पर बनी मेरिट लिस्ट से किया जाएगा, जिसे 10वीं के प्राप्त अंकों के आधार पर बनाया जाता है. इन पदों पर चयन प्रक्रिया में उच्चतर शैक्षणिक योग्यता को किसी भी प्रकार की वरीयता नहीं दी जाती है.

कितनी मिलती है ग्रामीण डाक सेवक को सैलरी?

ग्रामीण डाक सेवक के पद पर नियमित विभागीय कर्मचारियों के अनुसार सैलरी नहीं दी जाती है. इस पद पर ‘टाइम रिलेटेड कॉन्टीन्यूटी एलाउंसेस (टीआरसीए)’ के अनुसार भत्ते दिये जाते हैं.

ग्रामीण डाक सेवक की कहां मिलेगी सरकारी नौकरी?

ग्रामीण डाक सेवक का पद डाक विभाग में होता है और इनकी नियुक्ति डाक विभाग के देश भर में फैले 23 राज्यों/सर्किल में होती है. अलग-अलग राज्यों/सर्किल के लिए डाक विभाग की नियुक्ति के लिए रिक्तियां समय-समय पर निकलती रहती हैं. इन सभी रिक्तियों के बारे में भारत सरकार के प्रकाशन विभाग से प्रकाशित होने वाले रोजगार समाचार, दैनिक समाचार पत्रों एवं सरकारी नौकरी की जानकारी देने वाले पोर्टल्स या मोबाइल अप्लीकेशन के माध्यम से अपडेट रहा जा सकता है.

Rojgar Samachar eBook

यह भी पढ़ें: सामान्य ज्ञान सूची

इस नौकरी को पाने के लिए पढ़ें करेंट अफेयर्स

Related Stories