Search

Positive India: चाय बेचने वाले की बेटी उड़ाएगी फाइटर प्लेन, IAF अकेडमी ट्रेनिंग में किया टॉप- जानें आँचल गंगवाल की कहानी

एक गरीब परिवार से आने वाली आँचल की सफलता का यह सफर आसान नहीं रहा। कई बार ऐसा भी हुआ जब उनके पिता के पास उनकी फीस भरने तक के पैसे नहीं थे। परन्तु IAF पायलट बनने का सपना पूरा करने के लिए आँचल के साथ साथ उनके पिता ने भी कड़ी मेहनत की। 

Jun 26, 2020 14:22 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon
IAF Fighter Pilot Aanchal Gangwal
IAF Fighter Pilot Aanchal Gangwal

हमारे जीवनकाल में हमें कई बाधाओं का सामना करना पड़ता है। लेकिन कुछ ही लोग ऐसे होते हैं जो हिम्मत करते हैं और उनका सामना करने के लिए दृढ़ संकल्प के साथ कुछ कर गुजरते हैं। मध्य प्रदेश के एक चाय बेचने वाले की बेटी ने भी कुछ ऐसा ही कर दिखाया है। 24 वर्षीय आंचल गंगवाल फ्लाइंग ऑफिसर के रूप में भारतीय वायु सेना (Indian Air Force) में शामिल हो गई हैं। आइये जानते हैं उनके इस सफर के बारे में:

Positive India: ओडिशा के एक छोटे से जिले कंधमाल की लड़की बनीं IAF में फ्लाइंग ऑफिसर

आँचल के पिता चलाते हैं चाय का ठेला 

आँचल मध्य प्रदेश के नीमच जिले की  रहने वाली हैं। उनके पिता नीमच के बस स्टैंड पर चाय का ठेला लगाते हैं। आँचल के परिवार की आर्थिक स्थिति काफी कमज़ोर रही है। ऐसा भी समय था जब उनके पिता के पास उनकी फीस भरने के भी पैसे नहीं थे। उनके पिता बताते हैं की "कई बार, मुझे उसके स्कूल या कॉलेज की फीस जमा करने में समस्याओं का सामना करना पड़ा। मुझे शुल्क जमा करने के लिए कई मौकों पर दूसरों से पैसे उधार लेने पड़े। कभी-कभी मुझे फीस जमा करने में देरी के लिए शहर से बाहर होने का नाटक करना पड़ता था।" 

केदारनाथ हादसे में वायु सेना की मदद को देख कर हुई प्रेरित 

2013 की केदारनाथ त्रासदी के दौरान वायु सेना के जवानों को वहां फसे लोगों की बहादुरी से मदद करते हुए देख कर आँचल ने भारतीय वायु सेना में शामिल होने का सपना देखा।  आँचल के पिता का कहना है की "आँचल और मेरे परिवार के लिए इस सपने को साकार करना आसान नहीं था, लेकिन वह दृढ़ थी।"  इस सपने को साकार करने के लिए आँचल ने कड़ी मेहनत की और आज उनकी सफलता के लिए बड़े-बड़े लोग उन्हें और उनके परिवार को बधाई दे रहे हैं। 

Positive India: न्यूयॉर्क की नौकरी छोड़ कर देश की सेवा के लिए किया UPSC क्लियर - जानें IPS इल्मा अफ़रोज़ के संघर्ष की कहानी

आँचल ने IAF एकेडमी में किया टॉप 

 

आँचल ने 20 जून को ना सिर्फ फाइटर पायलट की ट्रेनिंग पूरी की बल्कि अपने बच को टॉप भी किया। इसलिए उन्हें " " से भी सम्मानित किया गया। आँचल की इस सफलता का शोर पूरे देश में है और उन्हें राज्य और केंद्रीय मंत्रियों से भी ट्वीट के द्वारा बधाई दी जा रही है। .आँचल ने अपनी मेहनत से यह साबित कर दिया है की लक्ष्य कितना ही ऊँचा हो यदि आप में उड़ान भरने का हौसला है तो सफलता निश्चित है। 

Positive India: जानें कैसे एक किराने की दुकान चलाने वाले की बेटी ने हर मुश्किल का सामना कर क्लियर किया UPSC और बनी IAS

Related Stories