IAS मुख्य परीक्षा 2017: इतिहास वैकल्पिक विषय 2

IAS मुख्य परीक्षा 2018 के लिए तैयारी करते समय IAS मुख्य परीक्षा के पिछले सालों में पूछे गए प्रश्नपत्रों का अभ्यास करना चाहिए। यहां हमने IAS मुख्य परीक्षा 2017 के इतिहास वैकल्पिक पेपर 2 के प्रश्न पत्र प्रदान किया है।

Created On: Nov 22, 2017 18:21 IST
IAS Mains Exam 2017 History Optional Paper 2
IAS Mains Exam 2017 History Optional Paper 2

UPSC द्वारा IAS मुख्य परीक्षा में पूछे गए प्रश्नों का पैटर्न के बारे में जानने के लिए IAS उम्मीदवारों को IAS मुख्य परीक्षा के पिछले वर्षों के प्रश्न-पत्रों का अध्ययन एवं विश्लेषण करना चाहिए। यहां हमने IAS मुख्य परीक्षा 2017 इतिहास वैकल्पिक पेपर 2 प्रदान किया है जो कि IAS उम्मीदवारों को IAS मुख्य परीक्षा में प्रश्न पूछने के पैटर्न का विश्लेषण कर सकते हैं।

IAS मुख्य परीक्षा 2017: इतिहास वैकल्पिक विषय 1

IAS मुख्य परीक्षा 2017

इतिहास वैकल्पिक विषय 2

निर्धारित समय : तीन घंटे

अधिकतम अंक : 250

प्रश्न-पत्र के लिए विशिष्ट अनुदेश

कृपया प्रश्नों के उत्तर देने से पूर्व निम्नलिखित प्रत्येक अनुदेश को ध्यानपूर्वक पढ़ें :

इसमें आठ प्रश्न हैं जो दो खण्डों में विभाजित हैं तथा हिन्दी और अंग्रेजी दोनों में छपे हैं। परीक्षार्थी को कुल पाँच प्रश्नों के उत्तर देने हैं।

प्रश्न संख्या 1 और 5 अनिवार्य हैं तथा बाकी में से प्रत्येक खण्ड से कम-कम-कम एक प्रश्न चुनकर किन्हीं तीन प्रश्नों के उत्तर दीजिए।

प्रत्येक प्रश्न/भाग के अंक उसके सामने दिए गए है।

प्रश्नों के उत्तर उसी माध्यम में लिखे जाने चाहिए जिसका उल्लेख आपके प्रवेश-पत्र में किया गया है, और इस माध्यम का स्पष्ट उल्लेख प्रश्न-सह-उत्तर (क्यू.सी.ए.) पुस्तिका के मुख-पृष्ठ पर निर्दिष्ट स्थान पर किया जाना चाहिए। उल्लिखित

माध्यम के अतिरिक्त अन्य किसी माध्यम में लिखे गए उत्तर पर कोई अंक नहीं मिलेंगे।

प्रश्नों में शब्द सीमा, जहाँ विनिर्दिष्ट है का अनुसरण लिया जाना चाहिए ।

प्रश्नों के उत्तरों की गणना क्रमानुसार की जाएगी। यदि काटा नहीं हो, तो प्रश्न के उत्तर की गणना की जाएगी चाहे वह उत्तर अंशत: दिया गया हो| प्रश्न-सह-उत्तर पुस्तिका में खाली छोड़ा हुआ पृष्ठ या उसके अंश को स्पष्ट रूप से काटा जाना चाहिए।

खण्ड A

प्रश्न 1. निम्नलिखित कथनो में से प्रत्येक का लगभग 150 शब्दों में समालोचनात्मक परीक्षण कीजिए:

(a) "मराठा राज्य का विघटन आन्तरिक दबाव के फलस्वरुप हुआ था। "

(b) "राजा (राजा राममोहन राय ) की मेहनतो का प्रमुख भारत में मध्यकालीनता के बालों के विरुद्ध उनके संघर्ष में निहित प्रतीत होता हे। "

(c) "भारत में रेल निर्माण की ब्रिटिश नीति उन्नीसवीं शताब्दी में ब्रिटिश अर्थव्यवस्था के लिए लगभग रही थी। "

(d) "आर्य समाज को भारत में पश्चिम से आयातित स्थितियों के परिणाम में रूप में , पूर्णतया तार्किकत , घोषित किया जा सकता है। "

(e) "श्री नारायण गुरु की समाजिक सुधार आन्दोलन में , उपाश्रित (सबलटर्न ) परिप्रेक्ष्ये की द्रिष्टी से, एक प्रधान मध्यक्षेप था। "

प्रश्न 2.

(a) उन्नीसवीं शताब्दी में अंकालों की पुनरावृतिं के लिए उत्तरदायी कारकों को स्पष्ट कीजिए। ब्रिटिश भारतीय सरकार ने कौन -से उपचारी उपाय अपनाए थे ?

(b) उन्नीसवीं शताब्दी के उत्तरार्द्ध में महत्वपूर्ण सामाजिक मुद्दों के प्रति जागरूकता पैदा करने में समाचारपत्रों की भूमिका का आकलन कीजिए।

(c) पंजाब के समामेलन की और ले जाने वाली ब्रिटिश साम्राज्यीय शक्ति के प्रमुख विचारो को रेखांकित कीजिए।

प्रश्न 3.

(a) गदर आन्दोलन की उत्पत्ति की रुपरेखा प्रस्तुत कीजिए तथा भारत में क्रांतिकारियों पर उसके प्रभाव की विवेचना कीजिए।

(b) यह स्पष्ट कीजिए कि किस कारण 1942 -1946 के दौरान भारत के सांविधानिक अवरोध का समाधान ढूँढ़ने के प्रयास असफल हो गए थे।

(c) 1920 -1940 के दौरान किसान सभाओं के अधीन कृषक आन्दोलनों के स्वरुप की विवेचना कीजिए।

प्रश्न 4.

(a) विवेचना कीजिए की गाँधी के सत्याग्रहों ने किस प्रकार भारतीयों के बीच भय के दौर को समाप्त किया था तथा इस प्रकार साम्राज्यवाद के एक महत्वपूर्ण खंम्बे को उखाड़ फेंका था।

(b) स्वतन्त्रता -उपरान्त अवधि में विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी के विकासो ने कहाँ तक भारत को आधुनिकीकरण के पथ पर अग्रसर कर दिया हैं।

(c) भारतीय संघ के साथ राजसी रियासतों के द्वारा हस्ताक्षरित 'अधिमिलन प्रपत्र (इंस्ट्रूमेंट ऑफ़ एक्सेशन )' और 'ठहराव समझौता (स्टैंडस्टिल एग्रीमेंट )' के स्वरूप पर प्रकाश डालिए।

खण्ड - B

प्रश्न 5. निम्नलिखित कथनो में से प्रत्येक का लगभग 150 शब्दों में समालोचनात्मक परीक्षण कीजिए :

(a) "कान्ट के तर्क की पुनर्परिभाषा तथा उसके द्वारा अन्तश्चेतना की पुनःस्थापना , प्रबोध (इनलाइटनमेंट) के प्रभावशाली तर्कबुद्धिवाद के विरुद्ध बौद्धिक प्रतिक्रया के एक उच्च बिन्दु का सूचक था। "

(b) "गृह में नेपोलियन के कांसुली शासन के अन्तर्गत महान सुधारों के पीछे की भावना बोनापार्ट सेनानायक की विधियों का बोनापार्ट राजमर्मज्ञ के कार्य के लिए हस्तांतरण करना था।

(c) "ग्रेट ब्रिटेन में चार्टिस्ट आन्दोलन की जड़ें आंशिक रूप से राजनितिक एवं आंशिक रूप से आर्थिक थीं।

(d) "18 जनवरी, 1871 जर्मनी की ताकत एवं गौरव के लिए विजय का दिन था तथा 28 जून , 1919 उसके दण्ड की दिन था। "

(e) "9 नवम्बर, 1989 को बर्लिन दीवार के विध्वंस ने यूरोप में सहयोग के विचार को नया अर्थ प्रदान किया था। "

प्रश्न 6.

(a) स्पष्ट कीजिए की इग्लैंड औद्योगिकी क्रान्ति का अग्रदूत किस कारण बना था। साथ ही इसके सामाजिक परिणामों पर भी प्रकाश डालिए।

(b) प्रथम विश्व युद्ध को आधुनिक इतिहास में प्रथम 'सम्पूर्ण ' युद्ध ज=की संज्ञा क्यों दी गई थी ?

(c) विवेचान कीजिए कि कृषिभूमि संकट के साथ गहन औद्योगिक मंडी ने 1848 की क्रान्तियों को किस प्रकार उत्पन्न किया था।

प्रश्न 7.

(a) जर्मन एकीकरण के प्रक्रम को , राजनयिक के साथ , किन निर्धारक कारकों ने सुगठित किया था ?

(b) इस कथन का परीक्षण कीजिए की " 'बोल्शेविकवाद ' के खतरे ने न केवल 1917 की रुसी क्रान्ति के तुरन्त बाद के वर्षों के इतिहास को ही प्रभावित किया था।, अपितु उस तारीख के बाद से विश्व के सम्पूर्ण इतिहास को भी प्रभावित किया था "।

(c) स्पष्ट कीजिए कि बोलीवार के प्रयास लातीनी अमेरिकनों के संगठित मोरचा उत्पन्न करने में फलदायक होने में किस कारण विफल हो गए थे।

प्रश्न 8.

(a) इटली में जनतन्त्र को उखाड़ फेकने एवं फासीवादी तानाशाही को स्थापित करने वाली परिस्तिथियों का परीक्षण कीजिए।

(b) "1980 के दशक तक आते -आते , सोवियत संघ की साम्यवादी व्यवस्था देश को एक महाशक्ति की भूमिका में बनाए रखने में असमर्थ थी। " प्रमाण दीजिए।

(c) इन्डोनेशिया में डच साम्राज्यवाद के स्वरूप का परीक्षण कीजिए।

अन्य IAS मुख्य परीक्षा 2017 प्रश्नपत्र

Comment ()

Related Stories

Post Comment

6 + 8 =
Post

Comments