Search

IBPS RRB PO 2018: सैलरी और भत्ते

वित्त मंत्रालय द्वारा प्रकाशित परिपत्र ‘revision of pay and allowances of Regional Rural Banks' के अनुसार, भारत सरकार ने क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक अधिनियम, 1976 की धारा 17 (1) के प्रावधान 2 के तहत क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों के कर्मचारियों का वेतनमान राष्ट्रीयकृत वाणिज्यिक बैंक के समतुल्य कर्मचारियों के बराबर होगा। यहाँ हम IBPS RRB PO  की विस्तृत वेतन संरचना पर चर्चा कर रहे है।

Oct 4, 2018 11:52 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon
IBPS RRB PO: Salary and allowances
IBPS RRB PO: Salary and allowances

नौकरी चुनते समय वेतन सबसे महत्वपूर्ण घटकों में से एक है। सरकारी बैंकों में नौकरियां अच्छे वेतन, ग्रेच्युटी, पेंशन योजनाएं और कर्मचारियों के लिए कम ब्याज पर ऋण आदि सुविधओं के साथ आज के समय में सबसे ज्यादा मांग में हैं।

हाल ही में IBPS ने क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों (Regional Rural Banks) में स्केल I ऑफिसर की भर्ती के लिए  अधिसूचना जारी की है। भर्ती प्रक्रिया में तीन चरणों प्रीलिम्स, मेंस और इंटरव्यू में होगी।

किसी भी परीक्षा को पास करने के लिए आपको हर समय प्रोत्साहित रहने की आवश्यकता होती है। सरकारी बैंक में नौकरी मिलने के बाद आपको विभिन्न सुविधओं के साथ अच्छा वेतन मिलता है जो आपको एक अच्छा सामाजिक स्तर अर्थात् सोशल स्टेटस प्रदान करता है।

 यदि आप इस अनुभव के बारे में सोचते है तो खुद को परीक्षा की तैयारी के लिए  सदैव प्रेरित रख सकते  है।  यहाँ हम IBPS RRB स्केल I अधिकारी को मिलने वाले वेतन और भत्तो के बारे में चर्चा करेंगे।

IBPS RRB PO स्केल I अधिकारी: वेतन और सुविधाए

वर्तमान वेतनमान के अनुसार, स्केल I अधिकारियों को 23700-980 / 7-30560-1145 / 2-32850-1310 / 7-42020 के पे स्केल पर सैलरी दी जाती है।इसके अनुसार, IBPS RRB Officer Scale I को in-hand सैलरी प्रति माह 29, 000 रुपये से 33000 रुपये के बीच मिलती है। स्केल में बाद में वृद्धि के साथ अधिकारी 42020 रुपये तक का वेतन प्राप्त कर सकते है। यदि इस बीच अधिकारी को पदोन्नति मिल जाती है, तो वह उस कैडर के वेतनमान में स्थानांतरित कर दिया जाएगा।

नोट: उपरोक्त वेतनमान का उल्लेख सर्व हरियाणा ग्रामीण बैंक की आधिकारिक वेबसाइट पर दी गई जानकारी के आधार पर है।

23700 रुपये के मूल वेतन के अलावा, अधिकारी निम्नलिखित भत्ते और भत्ते के हकदार हैं:

  • महंगाई भत्ता
  • विशेष भत्ता
  • घर किराया भत्ता / लीज्ड आवास
  • समाचार पत्र भत्ता
  • यात्रा भत्ता
  • घरेलू सफाई व्यय
  • चिकित्सा प्रतिपूर्ति
  • राष्ट्रीय पेंशन योजना
  • वाहन भत्ता
  • हिल स्टेशन भत्ता
  • ओवरटाइम भत्ता
  • फर्नीचर भत्ता
  • यात्रा पर छूट
  • लीव इनकैशमेंट

वेतनमान 01.11.2017 को संशोधन के लिए संशोधन कर रहे हैं।

महंगाई भत्ता (Dearness Allowance)

महंगाई भत्ता (डीए) कर्मचारियों को मूल वेतन के प्रतिशत के रूप में दिया जाता है और वर्तमान में, यह मूल वेतन का लगभग 46.5% है। हर तीन महीने में भारत सरकार द्वारा प्रकाशित भारतीय उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (All India Consumer Price Index) के आंकड़ों के आधार पर हर तीन माह में रिवाइज होता रहता है। हालाकि बैंक यूनियन ने आने वाले 11 वे द्विपक्षीय समझौते में इसे हर माह रिवाइज करने की सिफारिश की है।

IBPS RRB 2018 Syllabus and Exam Pattern: Prelims, Main and Interview

घर-किराया भत्ता (House Rent Allowance- HRA) / लीज्ड आवास

यह भत्ता भी अधिकारी के मूल वेतन अर्थात् बेसिक सैलरी के प्रतिशत के रूप में दिया जाता है और यह अर्द्ध शहरी, ग्रामीण या शहरी जैसे पोस्टिंग के स्थान पर निर्भर करता है। ग्रामीण क्षेत्रों के लिए,  यह मूल वेतन का 5% निर्धारित किया गया है जबकि अर्ध-शहरी क्षेत्रों क लिए, यह मूल वेतन का 7.5% है और देश के शहरी क्षेत्रों के मामले में यह 10% है।

कई ग्रामीण बैंक अधिकारियों को लीज्ड आवास की सुविधा भी प्रदान करते है और इसका खर्चा बैंक द्वारा उठाया जाता है। लीज्ड राशि (lease amount) भी पोस्टिंग के स्थान पर निर्भर करती है। हालांकि, अगर आप लीज्ड आवास ले चुके हैं तो आप HRA के हकदार नहीं हैं। इसके अलावा, यदि आपको बैंक द्वारा क्वार्टर दिया जाता है, तो भी आपको HRA नहीं दिया जायेगा।

विशेष भत्ता

इस भत्ते को 10 वे द्विपक्षीय समझौते के अंतर्गत हुए वेतन के रिविजन में शामिल किया गया था, जो कि 01.01.2016 से प्रभावी हुआ था। यह मूल वेतन का 7.75% है।

अख़बार भत्ता

यह भत्ता समाचार पत्रों और पत्रिकाओं की खरीद के लिए दिया जाता है। सामान्यतः यह अर्ध वार्षिकी या वार्षिकी दिया जाता है। इस भत्ते की राशि हर ग्रामीण बैंक में अलग-अलग (प्रति माह 200-300 रुपये के बीच) होती है। हालाकि कुछ ग्रामीण बैंकों द्वारा यह भत्ता नहीं  प्रदान किया जाता।

यात्रा भत्ता (Travelling Allowance)

यह कोई निश्चित मासिक या वार्षिक भत्ता नहीं है लेकिन ऑफिसियल ड्यूटी के लिए यात्रा करने के आदि के लिए यह भत्ता दिया जाता है। उदाहरण के लिए यदि कोई कर्मचारी NPA(non-performing asset)रिकवरी या ऑफिसियल ट्रेनिंग के लिए जा रहा है; तो वह इस भत्ते के लिए योग्य हो जाता है। टीए बिल के अलावा, प्रशिक्षण के दौरान बैंक अधिकारी दियम भत्ता (Diem Allowance) के हकदार भी हैं। चूंकि बैंक के अधिकांश प्रशिक्षण संस्थान देश के बड़े शहरों में होते हैं,  अतः ट्रेनिंग के दौरान यह भत्ता 750-800 रुपये प्रति दिन मिलता  है।

घरेलू रख-रखाव / सफाई भत्ता

यह भत्ता अधिकारियों को घरों के रख-रखाव के लिए दिया जाता है, चाहे वह उनका अपना आवास हो या लीज्ड आवास हो या बैंक क्वार्टर हों। इस भत्ते की राशि लगभग 300-350 रुपये प्रति माह होती है। हालांकि, कुछ ग्रामीण बैंकों में इस भत्ते का प्रावधान नहीं  है।

चिकित्सा प्रतिपूर्ति (Medical Reimbursement)

यह बैंकों द्वारा सभी कर्मचारियों को दी जाने वाली सबसे महत्वपूर्ण भत्तो में से एक है। आप अपनी सुविधा तथा आवश्यकतानुसार किसी भी अस्पताल में अपना इलाज करा सकते हैं और इलाज का खर्चा बैंक द्वारा वहन किया जायेगा।इसमें स्वयं के उपचार के लिए किए गए खर्चका 100% और आश्रितों के मामले में किए गए खर्च का 75% बैंक द्वारा  भुगतान किया जाता है।  बैंक द्वारा अधिकारियो को उनकी चिकित्सिक आवश्यकताओ के लिए वार्षिक आधार   एकमुश्त राशि भी प्रदान की जाती है। औसतन, यह राशि प्रति वर्ष 8000 रुपये तक होती है।

वाहन-भत्ता (Conveyance Allowance)

यह भत्ता रोजाना वाहन खर्च के लिए अधिकारियों को दिया जाता है। यदि आपके पास वाहन है, तो आपको हर महीने पट्रोल के खर्च का बिल जमा करने पर एक निश्चित राशि बैंक द्वारा भत्ते के रूप में दी जाती है।  यदि आपके पास कोई वाहन नहीं है, तो हर महीने एकमुश्त राशि का भुगतान बैंक द्वारा किया जाता है । यह राशि हर महीने 750-800 रुपये तक होती है।

हिल-स्टेशन भत्ता

हिल-स्टेशन भत्ता पहाड़ी क्षेत्रों में पोस्टेड कर्मचारियों को प्रदान किया जाता है। यह भत्ता भी मूल वेतन के प्रतिशत के रूप में दिया जाता है। RRB PO अर्थात् IBPS RRB PO स्केल I अधिकारी कैडर कर्मचारियों को मूल वेतन का 4% हिल-स्टेशन भत्ते के रूप में मिलता है।

ओवरटाइम भत्ता

यदि आप सामान्य कामकाज के घंटों के ज्यादा काम करते हैं तो आपको ओवरटाइम भत्ता प्रदान किया जाता  है। परन्तु आप दैनिक आधार पर इस भत्ते के लिए क्लेम नहीं कर सकते है। इस राशि को मंजूरी देने का अधिकार शाखा प्रबंधक का होता है। RRB में यह राशि 150 रुपये से 200 रुपये प्रति घंटे तक होती  है।

फर्नीचर भत्ता

यह लीज्ड आवास / निज आवास / बैंक द्वारा दिए गये क्वार्टर के लिए अधिकारियों को दिया जाता है। यह एक विशेष अवधि लगभग 5 साल के लिए दिया जाता है।आम तौर यह राशि  5 साल की अवधि के लिए 1.25 लाख है, हालांकि यह एक ग्रामीण बैंक से दूसरे ग्रामीण बैंक के लिए भिन्न-भिन्न हो सकती है।

यात्रा पर छूट

स्केल I अधिकारियों को यात्रा करने के लिए किराये में छूट दी जाती  है। आम तौर पर, हर चार साल में  एसी-टियर II में 3000 किमी तक यात्रा करने पर स्केल I अधिकारियो को किराये में छूट दी जाती  है।  

IBPS RRB PO स्केल I अधिकारी एक ऐसी नौकरी है जो आपको कई सारी सुविधाओ और भत्तो के साथ एक सभ्य वेतन प्रदान करती है। इसके अलावा, इस नौकरी से आपको समाज में सम्मान भी मिलता है।

तो, मेहनत करे और IBPS RRB PO  परीक्षा के लिए अपना सर्वश्रेष्ठ दें ।

शुभकामनाएं!!

IBPS RRB 2018: Important Dates, Exam Pattern, Syllabus, Eligibility Criteria

IBPS RRB Officer Scale I: जॉब प्रोफाइल और करियर ग्रोथ

Related Stories