Search

JEE Main 2019 एक्सपर्ट टिप्स: लॉन्ग और शोर्ट टर्म Strategy

Mar 11, 2019 15:15 IST

JEE Main 2019 के दूसरे चरण की परीक्षा के लिए रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया समाप्त हो चुकी है. यह परीक्षा 7 अप्रैल से 20 अप्रैल तक नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (NTA) द्वारा पूरी तरह से कंप्यूटर बेस्ड टेस्ट मोड में कंडक्ट की जायेगी.  JEE Main 2019 की जनवरी परीक्षा के लिए 11,09,250 उम्मीदवारों ने रजिस्ट्रेशन किया था, किन्तु 9,41,117 स्टूडेंट्स ने यह परीक्षा अटेम्पट की थी. 15 स्टूडेंट्स ने कड़ी मेहनत करके JEE Main 2019 में 100 NTA स्कोर हासिल किया था. वहीँ दूसरी और कुछ ऐसे विद्यार्थी भी थे जो अपनी अपेक्षाओं पर खरे नहीं उतर पाए. ऐसे विद्यार्थियों को नेशनल टेस्टिंग एजेंसी के द्वारा दूसरा मौका दिया जा रहा है जिससे वे फिर से कड़ी मेहनत करके अच्छा स्कोर हासिल कर सकें. जो विद्यार्थियों किसी कारणवश JEE Main 2019 की जनवरी परीक्षा के लिए रजिस्ट्रेशन नहीं कर सके थे वे भी इस बार अप्रैल में होने वाली परीक्षा के लिए रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं. आपको बता दें कि JEE Main 2019 की All India Ranking (AIR) निकालने के लिए विद्यार्थियों द्वारा दोनों परीक्षाओं में से बेस्ट स्कोर लिए जाएगा.

इंजीनियरिंग उम्मीदवार  JEE Main 2019 के दूसरे चरण के लिए jeemain.nic.in पर जाकर 7 मार्च तक ऑनलाइन आवेदन फॉर्म भर सकते हैं. यह परीक्षा 7 अप्रैल से 20 अप्रैल तक पूरी तरह से कंप्यूटर बेस्ड टेस्ट माध्यम में कंडक्ट की जाएगी. जो विद्यार्थी JEE Main 2019 की जनवरी परीक्षा दे चुके हैं वे भी यह परीक्षा अटेम्पट कर अपना स्कोर कार्ड सुधार सकते हैं. जो विद्यार्थी जनवरी की परीक्षा दे चुके हैं और जो अप्रैल की परीक्षा देने वाले हैं उन्हें बहुत से सवाल परेशान कर रहें हैं. आज हम इस विडियो में जाने माने JEE कोचिंग संस्थान के एक्सपर्ट के द्वारा विद्यार्थियों के सभी doubts को दूर करने का प्रयास करेंगे.

प्रश्न: JEE Main की तैयारी करने के लिए सही समय कौन सा है?

उत्तर:

वैसे तो विद्यार्थियों को JEE Main की तैयारी 9वीं कक्षा से ही शुरू कर देनी चाहिए. विद्यार्थियों को कक्षा 9 और 10 में विज्ञान और गणित के सभी कॉन्सेप्ट्स को अच्छे से समझना चाहिए जिससे उन्हें कक्षा 11 और 12 के कॉन्सेप्ट्स को समझने में परेशानी नहीं हो. JEE Main 2019 की जनवरी परीक्षा के रिजल्ट के बाद उम्मीदवारों को अपने द्वारा हासिल किये गये मार्क्स के आधार पर रणनीति बनानी चाहिए.

  1. जिन विद्यार्थियों ने 200+ मार्क्स हासिल किये हैं उन्हें केवल JEE Advanced 2019 के लिए तैयारी करनी चाहिए.
  2. जिन विद्यार्थियों का स्कोर 150-200 के बीच था उन्हें JEE Main April 2019 और JEE Advanced 2019  दोनों के लिए तैयारी करनी चाहिए. जिससे उन्हें अप्रैल अटेम्पट के बाद JEE Main 2019 की रैंकिंग के आधार पर NITs और IIITs में आसानी से दाखिला मिले सके.
  3. ऐसे विद्यार्थी जिनका स्कोर 125 से कम हैं उनको केवल JEE Main 2019 की अप्रैल परीक्षा पर फोकस करना चाहिए.

प्रश्न: विद्यार्थियों को JEE के लिए स्टडी मटीरियल का चयन कैसे करना चाहिए? क्या केवल NCERT की किताबों को पढ़कर विद्यार्थी JEE Main को क्रैक कर सकते हैं?

उत्तर:

JEE Main की परीक्षा का सिलेबस NCERT की किताबों पर ही आधारित होता है. किन्तु केवल NCERT की किताबों के आधारी पर JEE Main को क्रैक करना मुमकिन नहीं है, क्योंकि NCERT की किताबों में थ्योरी पार्ट को ज्यादा विस्तार से नहीं समझाया जाता. इसलिए सभी कॉन्सेप्ट्स को ढंग से समझने के लिए विद्यार्थियों को रेफेरेंस बुक्स की सहायता लेना आवश्यक होता है. इसके साथ-साथ NCERT की किताबों में प्रश्नों की संख्या में भी बहुत कम होती है, जिससे उम्मीदवारों को परीक्षा की तैयारी के दौरान प्रैक्टिस करने में परेशानी हो सकती है.

लेकिन कुछ चैप्टर्स ऐसे हैं जो Informative हैं, जिनके लिए विद्यार्थी केवल NCERT की किताबों पर निर्भर कर सकते हैं, जो कि निम्नलिखित हैं:

  1. Mathematics- Mathematical Reasoning, Statistics और Relation
  2. Chemistry- Inorganic और Organic Chemistry
  3. Physics – Semiconductor, Communication System और Electromagnetic Waves

About the Expert:

श्री शैलेंद्र माहेश्वरी Career Point Ltd. की कोटा ब्रांच में Academics डिपार्टमेंट के डायरेक्टर हैं. वे इस इंस्टिट्यूट के साथ 1995 से जुड़े हुए हैं. Career Point इंस्टिट्यूट JEE Main, JEE Advanced, Pre-Medical, Olympiad और NTSE जैसी विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं के उम्मीदवारों को तैयारी मुहैया करवाता है.