जोश काउंसलर कॉर्नर – जुलाई, 2018

Jul 30, 2018 19:22 IST
    Josh Counselling Corner July 2018
    Josh Counselling Corner July 2018
    अरुण श्रीवास्तव
    काउंसलर
    counsellor@nda.jagran.com

    आइएएस प्रिलिम्स के विषय?

    मैं आइएएस बनना चाहता हूं। कृपया मुझे बताएं कि आइएएस प्रिलिम्स में कौन-कौन से विषय होते हैं?

    -फरदीन अहमद पाली, ईमेल से

    यूपीएससी द्वारा हर साल आयोजित की जानी सिविल सेवा परीक्षा (जिसके जरिए आइएएस, आइपीएस, आइएफएस आदि का चयन होता है) का पहला चरण प्रारंभिक परीक्षा है, जो एक तरह से स्क्रीनिंग टेस्ट है। इसमें वस्तुनिष्ठ-बहुविकल्पीय प्रश्नों पर आधारित सामान्य अध्ययन (जीएस) के दो अनिवार्य प्रश्नपत्र होते हैं, जिसमें से सिविल सर्विसेज एप्टीट्यूड टेस्ट (सीसैट) पर आधारित दूसरा प्रश्नपत्र सिर्फ क्वालिफाइंग है यानी कम से कम 33 फीसदी अंक पाने वाले अभ्यर्थी इसमें पास माने जाएंगे। जीएस के पहले पेपर में करेंट इवेंट, ज्योग्राफी (भारत एवं विश्व), भारत का इतिहास व स्वतंत्रता आंदोलन, इंडियन पॉलिटी, जनरल साइंस, इकोनॉमी आदि पर आधारित प्रश्न पूछे जाते हैं। प्रिलिम्स क्वालिफाई करने के वाले अभ्यर्थियों को निबंधात्मक प्रकृति की मुख्य परीक्षा के लिए अलग से आवेदन करना होता है। इस परीक्षा, विषयों और उनके सिलेबस के बारे में विस्तार से जानने के लिए यूपीएससी की वेबसाइट देख सकते हैं।

    कैसे बनें निर्देशक/पटकथा लेखक?

    फिल्म निर्देशक और पटकथा लेखक बनने के लिए अभिनेता बनना जरूरी तो नहीं है। कृपया मार्गदर्शन करें।

    -अमिय गुप्ता, ईमेल से

    फिल्म निर्देशक और पटकथा लेखक बनने के लिए अभिनेता होना या बनना कतई जरूरी नहीं है। यह अलग बात है कि लंबा अनुभव हो जाने के बाद अभिनेता भी निर्देशन और लेखन में हाथ आजमाते हैं। वैसे अगर आपकी रुचि निर्देशक/पटकथा लेखक बनने में है, तो बेहतर होगा कि आप इससे संबंधित कोर्स करके जरूरी बारीकियां सीख लें। इसके लिए देश में कई संस्थान हैं, जैसे-पुणे स्थित एफटीआइआइ, दिल्ली स्थित एनएसडी, कोलकाता स्थित एसआरएफटीआइ, लखनऊ स्थित भारतेंदु नाट्य अकादमी आदि। इसके अलावा, महानगरों/बड़े शहरों में स्थित निजी संस्थानों द्वारा भी इस तरह के कोर्स संचालित किए जाते हैं।

    कैसे बनूं अच्छा एक्टर?

    मैं फिल्म अभिनेता बनना चाहता हूं, पर समझ में नहीं आ रहा है कि कौन-सा कोर्स करूं, जिससे मैं भविष्य में एक अच्छा एक्टर बन सकूं?

    -उदय शुक्ला, ईमेल से

    अच्छा एक्टर बनने के लिए एक्टिंग यानी अभिनय में गहरी रुचि होना जरूरी है। अगर आप स्कूल स्तर से नाटकों आदि में सहभागिता करते रहे हैं और अभिनय में मन रमता है, तो निश्चित रूप से इससे संबंधित कोर्स करके खुद को इस कला में निखारना चाहिए। संभव हो तो देश के जाने-माने अभिनय संस्थानों में दाखिला लेने का प्रयास करें। इससे खुद को ग्रूम करने में मदद मिलेगी। वहां नियमित रूप से होने वाले नाटकों में हिस्सा लेकर आप अपनी अलग पहचान बना सकते हैं।

    लॉयर के रूप में करियर

    मैं लॉयर बनना चाहता हूं, पर फिलहाल कन्फ्यूज हूं। ग्रेजुएशन के बाद मुझे क्या करना चाहिए?

    - हरिओम माथुर, ईमेल से

    अगर आप खुद को एक लॉयर के रूप में आगे बढ़ाना चाहते हैं, तो दुविधा में समय गंवाने की बजाय अपनी रुचियों के अनुसार सोच-समझकर कदम आगे बढ़ाएं। सबसे पहले अपनी पसंद-नापसंद पर अच्छी तरह से विचार कर लें। देखें कि लॉ सेक्टर में आपका मन कितना लग सकता है। अगर खुद को इस फील्ड के लिए सक्षम मानते हैं और लगता है कि इस करियर को आप भरपूर एंज्वॉय भी करेंगे, तो ग्रेजुएशन के बाद किसी अच्छे संस्थान से तीन साल का एलएलबी कोर्स कर सकते हैं। कोर्स करके बार काउंसिल से पंजीकरण कराने के बाद आप कोर्ट में प्रैक्टिस कर सकते हैं। शुरुआत में किसी सीनियर वकील के साथ काम करके व्यावहारिक अनुभव हासिल करना उपयोगी हो सकता है। कोर्ट में प्रैक्टिस न करना चाहें, तो किसी कॉरपोरेट कंपनी के लीगल विंग या लीगल कंसल्टेंसी देने वाली फर्म का हिस्सा भी बन सकते हैं।

    मुझे फैशन डिजाइनर बनना है?

    मैं बीटेक सेकंड ईयर की स्टूडेंट हूं, लेकिन मुझे फैशन डिजाइनर बनना है। अपनी फैमिली के कारण मैंने बीटेक में दाखिला लिया था, पर यह मुझ से नहीं हो पा रहा है। कृपया बताएं कि मैं क्या करूं?

    - शालिनी, ईमेल से

    अगर आपका मन बीटेक में बिल्कुल नहीं लग रहा है और आपके दिलो-दिमाग में फैशन डिजाइनर बनने की बात बैठी हुई है, तो निश्चित रूप से आपको इसके बारे में अपने परिवार में चर्चा करनी चाहिए। बेशक आपके दो साल बेमन का कोर्स करने में बेकार हो गए, पर आगे के करियर में या जिंदगीभर कुढ़ते रहने की बजाय अभी साहस के साथ खड़ा होने का सही समय है। फैमिली को समझाने की कोशिश करें। उन्हें भरोसा दिलाएं कि अगर आपको मनपसंद करियर में आगे बढ़ने का मौका दिया जाए, तो आप उन्हें निराश नहीं करेंगी। आप उनसे एक मौका देने का अनुरोध करें। जब आप अपनी रुचि के क्षेत्र में जोरदार प्रदर्शन करेंगी, तो उन्हें भी अच्छा लगेगा। आखिर वे भी तो आपकी खुशी और अच्छे करियर के लिए ही बीटेक करा रहे थे।

    टीचिंग है पसंद

    मैं इस साल बारहवीं में हूं। आगे टीचिंग लाइन में जाना चाहता हूं। इसके लिए मुझे क्या करना चाहिए?

    - धर्मेंद्र कुमार, ईमेल से

    अगर आपकी रुचि टीचिंग में है, तो यह अच्छी बात है। इसके लिए कई रास्ते हैं। अगर आप कॉलेज/विश्वविद्यालय जैसे उच्च शिक्षा संस्थानों में अध्यापन करना चाहते हैं, तो इसके लिए आपको ग्रेजुएशन और फिर टीचिंग वाले विषय में पोस्ट ग्रेजुएशन करना होगा। एचआरडी मिनिस्ट्री के हालिया निर्णय के अनुसार, यूनिवर्सिटी में असिस्टेंट प्रोफेसर पद पर आवेदन करने के लिए एमफिल/पीएचडी करना अनिवार्य है, जबकि कॉलेज में असिस्टेंट प्रोफेसर बनने के लिए यूजीसी-नेट क्वालिफाई करना आवश्यक है। बारहवीं तक के स्कूलों में अध्यापक बनने के लिए ग्रेजुएशन के बाद बीएड या समकक्ष कोर्स करने के बाद सीटीईटी/टीईटी क्लीयर करना होगा।

    मास कम्युनिकेशन के लिए मार्गदर्शन?

    मैं मास कम्युनिकेशन में करियर बनाना चाहता हूं। इसके लिए कौन-सा कॉलेज सबसे अच्छा हो सकता है?

    - आर्यन सिंह, सिवान, ईमेल से

    अगर आप खुद को मास कम्युनिकेशन के लिए सक्षम समझते हैं और इसमें पर्याप्त रुचि रखते हैं, तो इस दिशा में जरूर आगे बढ़ें। जहां तक अच्छे कॉलेज की बात है, तो आज के समय में अधिकतर विश्वविद्यालयों/कॉलेजों में पत्रकारिता/जनसंचार से संबंधित डिग्री और डिप्लोमा कोर्स संचालित हो रहे हैं। मेरे विचार से तो सबसे अच्छा संस्थान वही है, जहां मीडिया इंडस्ट्री से संबंधित एडवांस/अपडेटेड कोर्स संचालित हो रहा है। मीडिया इंडस्ट्री प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक, डॉट कॉम से होते हुए मोबाइल जर्नलिज्म तक आ गया है। कोर्स के साथ इन सबसे अपडेट रहकर अपनी वैल्यू बढ़ाई जा सकती है।

    कैसे दूर करें कन्फ्यूजन?

    मैंने बारहवीं नॉन-मेडिकल से किया है। अब मैं ग्रेजुएशन करना चाहती हूं, पर कन्फ्यूज हूं। बीएससी जनरल या मैथ्स (ऑनर्स) में से कौन-सा कोर्स परफेक्ट होगा? किसमें स्कोप ज्यादा है?

    राजरानी, ईमेल से

    दुविधा दूर करने का सबसे सरल उपाय यह है कि आपको वही कोर्स करना चाहिए, जिसमें आपकी सबसे अधिक रुचि हो। हां, अगर अपनी रुचि को लेकर भी कन्फ्यूजन हो, तो पहले कुछ दिन रोजमर्रा की गतिविधियों, आदतों, व्यवहार आदि पर गौर करते हुए अपनी पसंद-नापसंद को जानने-समझने की कोशिश करें। इससे आपको अपनी रुचियों के बारे में जानने और कोर्स के बारे में निर्णय लेने में आसानी हो जाएगी। पसंद के विषय में पढ़ाई करने पर उसमें प्रदर्शन बेहतर होगा और करियर की राह भी आसान हो जाएगी।  

    बताएं कोर्स का नाम?

    मैंने 12वीं के बाद बेसिक कंप्यूटर कोर्स कर रखा है। कृपया कंप्यूटर हार्डवेयर व नेटवर्किंग से संबंधित ऐसे एडवांस कोर्स बताने का कष्ट करें, जिससे आसानी से नौकरी मिल सके।

    सोनू चौधरी, ईमेल से

    कंप्यूटर हार्डवेयर और नेटवर्किंग के इंजीनियर्स की जरूरत लगभग हर संस्थान में होती है। इस तरह के कोर्स भी अब काफी एडवांस हो गए हैं। अब सबसे ज्यादा डिमांड चिप लेवल के जानकारों की होती है। इस कोर्स के साथ सैन नेटवर्किंग, सीसीएनए, सीसीएनपी, सीसीआइई के अलावा अब क्लाउड कंप्यूटिंग, रोबोटिक्स आदि की भी ट्रेनिंग दी जाती है। इंडस्ट्री की बदलती जरूरतों के अनुसार कोर्स करने वाले और खुद को अपडेट रखने वाले स्टूडेंट्स को नौकरी मिलने में कोई परेशानी नहीं होती।  

    आइ आइ टी की कोचिंग?

    मैं बारहवीं का स्टूडेंट हूं। मैं आइआइटी की कोचिंग भी कर रहा हूं। कृपया बेहतर करियर के लिए मार्गदर्शन करें।

    ज्ञानू, ईमेल से

    अगर पीसीएम में आपका मन लगता है और पढ़ाई से बोरियत नहीं होती, तो आप अपनी रुचि के अनुसार करियर का लक्ष्य निर्धारित करें। अगर आपको लगता है कि आप आइआइटी/समकक्ष प्रवेश परीक्षा क्लीयर कर लेंगे, तो निश्चित रूप से आपको इस दिशा में आगे बढ़ना चाहिए।

    फिल्म इंडस्ट्री में करियर?

    12वीं पास हूं। मैं फिल्म इंडस्ट्री में काम करना चाहता हूं। कृपया मेरा मार्गदर्शन करें।

    सोनू दास, ईमेल से

    फिल्म इंडस्ट्री में कई तरह के काम हैं, जैसे-अभिनय, निर्देशन, कोरियोग्राफी। आप सबसे पहले यह देखें कि खुद को किस चीज में सक्षम/योग्य समझते हैं और क्या उस क्षेत्र में पहले कुछ परफॉर्म किया है? अगर किया है, तो इसका आगे फायदा मिल सकता है और नहीं किया है, फिर भी इनमें से किसी क्षेत्र में आगे बढ़ने का जुनून है, तो आप पुणे स्थित एफटीआइआइ, दिल्ली स्थित एनएसडी या क्षेत्रीय स्तर पर संचालित किसी अच्छे एक्टिंग स्कूल को ज्वाइन करके अपनी प्रतिभा को निखारने का प्रयास कर सकते हैं। इसके बाद बॉलीवुड जाकर प्रयास कर सकते हैं। वैसे आप निर्देशन में रुचि रखते हैं, तो किसी थीम पर वेब फिल्म बनाकर यूट्यूब पर भी जारी कर सकते हैं। लोगों द्वारा पसंद किए जाने और लोकप्रियता बढ़ने पर आगे की राह आसान हो सकती है।

    जोश काउंसलर कॉर्नर जुलाई , 2018

    DISCLAIMER: JPL and its affiliates shall have no liability for any views, thoughts and comments expressed on this article.

    Latest Videos

    Register to get FREE updates

      All Fields Mandatory
    • (Ex:9123456789)
    • Please Select Your Interest
    • Please specify

    • ajax-loader
    • A verifcation code has been sent to
      your mobile number

      Please enter the verification code below

    This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK
    X

    Register to view Complete PDF