]}
Search

ग्रेजुएट हैं तो बन सकते हैं सुप्रीम कोर्ट में कोर्ट असिस्टेंट; पायें विस्तृत जानकारी

कोर्ट अटेंडेंट का पद देश भर के विभिन्न न्यायालयों, सुप्रीम कोर्ट, हाई कोर्ट, डिस्ट्रिक्ट एवं सेशन कोर्ट, अपीलेट ट्रिब्यूनल्स, व अन्य संबंधित न्यायाधिकरणों में होता है. जिस भी किसी न्यायालय में कोर्ट अटेंडेंट की नियुक्ति होती है उसके ऑफिस में सभी सहायक कार्यों को निपटाने की जिम्मेदारी कोर्ट अटेंडेंट की होती है.

Apr 3, 2019 17:47 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon
Know How to Become a Court Attendant
Know How to Become a Court Attendant

कोर्ट अटेंडेंट का पद देश भर के विभिन्न न्यायालयों, सुप्रीम कोर्ट, हाई कोर्ट, डिस्ट्रिक्ट एवं सेशन कोर्ट, अपीलेट ट्रिब्यूनल्स, व अन्य संबंधित न्यायाधिकरणों में होता है. जिस भी किसी न्यायालय में कोर्ट अटेंडेंट की नियुक्ति होती है उसके ऑफिस में सभी सहायक कार्यों को निपटाने की जिम्मेदारी कोर्ट अटेंडेंट की होती है. किसी भी कोर्ट या न्यायालय में कोर्ट अटेंडेंट का पद काफी भाग-दौड़ भरा लेकिन जिम्मेदारी का होता है. कोर्ट अटेंडेंट के कार्यों में फाइल लाना व ले जाना, फोटो कॉपी आदि करना, दस्तावेजों को तैयार करने में मदद करना, कोर्ट के पत्राचार को टाइप करना, आदि शामिल होते हैं.

कोर्ट में कोर्ट अटेंडेंट की नियुक्ति ग्रुप ‘सी’ कर्मचारी के रूप में की जाती है. कोर्ट में कोर्ट अटेंडेंट बनने के लिए आवश्यक स्किल्स में से जरूरी है कि आपके पास कोर्ट प्रोसिडिंग्स, असिस्टेंट के रूप में आवश्यक कंप्यूटर व फाइलिंग की नॉलेज हो और अत्यधिक काम के दबाव में धैर्य के साथ काम करने में निपुण होना चाहिए.

कोर्ट में कोर्ट अटेंडेंट बनने के लिए कितनी होनी चाहिए योग्यता?

कोर्ट में कोर्ट अटेंडेंट बनने के लिए जरूरी है कि उम्मीदवार को किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से किसी भी विषय में दसवीं उत्तीर्ण होना चाहिए. इसके अतिरिक्त किसी मान्यता प्राप्त संस्थान से आइटीआइ सर्टिफिकेट प्राप्त उम्मीदवार भी कोर्ट अटेंडेंट के पदों के लिए आवेदन कर सकते हैं. निम्नलिखित योग्यताओं वाले उम्मीदवारों को वरीयता दी जाती है–

  • मल्टी-स्किल में प्रशिक्षण.
  • एलएमवी/एचएमवी/कुकिंग/इलेक्ट्रिशियन/कारपेंट्री/हाउसकीपिंग आदि के लिए आवश्यक प्रमाण पत्र.

कोर्ट में कोर्ट अटेंडेंट बनने के लिए कितनी है आयु सीमा?

कोर्ट में कोर्ट अटेंडेंट बनने के लिए जरूरी है कि उम्मीदवार की आयु 18 वर्ष से 27 वर्ष के बीच हो. आरक्षित श्रेणी, जैसे एससी/एसटी/ओबीसी/दिव्यांग/भूतपूर्व कर्मचारी/स्वतंत्रता सेनानी के आश्रित उम्मीदवारों को अधिकतम आयु सीमा सरकार के नियमानुसार छूट दी जाती है.

कोर्ट में कोर्ट अटेंडेंट बनने के लिए चयन प्रक्रिया

आमतौर पर कोर्ट में कोर्ट अटेंडेंट के पद पर उम्मीदवारों का चयन लिखित परीक्षा, संबंधित ट्रेड/स्किल परीक्षा और इंटरव्यू के आधार पर किया जाता है. लिखित परीक्षा 1.5 घंटे की बहुविकल्पीय परीक्षा होती है, जिसमें जनरल इंटेलीजेंस, न्यूमेरिकल एप्टीट्यूड, जनरल इंग्लिश, और जनरल अवेयरनेस से जुड़े प्रश्न होते हैं. लिखित परीक्षा के आधार पर शॉर्टलिस्ट किये गये उम्मीदवारों को संबंधित ट्रेड परीक्षा या स्किल टेस्ट के लिए बुलाया जाता है.

कितनी मिलती है कोर्ट में कोर्ट अटेंडेंट को सैलरी?

कोर्ट में कोर्ट अटेंडेंट के पद पर सातवें वेतन आयोग के पे-मैट्रिक्स के लेवल 3 के साथ आरंभिक मूल वेतन रु. 21700 और देय भत्तों के अनुरूप सैलरी दी जाती है . इस प्रकार कोर्ट में कोर्ट अटेडेंट को आरंभ में कुल रु.33315 सैलरी दी जाती है.

कोर्ट में कोर्ट अटेंडेंट की कैसे मिलेगी सरकारी नौकरी?

कोर्ट अटेंडेंट का पद देश भर के विभिन्न न्यायालयों, सुप्रीम कोर्ट, हाई कोर्ट, डिस्ट्रिक्ट एवं सेशन कोर्ट, अपीलेट ट्रिब्यूनल्स, व अन्य संबंधित न्यायाधिकरणों, आदि में होता है इसलिए इस पद के लिए रिक्तियां समय-समय पर इन्हीं संस्थानों में निकलती रहती है. इन सभी रिक्तियों के बारे में भारत सरकार के प्रकाशन विभाग से प्रकाशित होने वाले रोजगार समाचार, दैनिक समाचार पत्रों एवं सरकारी नौकरी की जानकारी देने वाले पोर्टल्स या मोबाइल अप्लीकेशन के माध्यम से अपडेट रहा जा सकता है.

Rojgar Samachar eBook

यह भी पढ़ें : सामान्य ज्ञान तथ्य

इस नौकरी को पाने के लिए पढ़ें करेंट अफेयर्स

Related Stories