Search

कॉलेज स्टूडेंट्स के लिए रिज्यूम राइटिंग के लेटेस्ट ट्रेंड्स

यहां कुछ ऐसे टिप्स और ट्रिक्स दिए जा रहे हैं  जो आपके रिज्यूम को इतना प्रभावी बनाने में मदद करेंगे कि पहली ही बार में एम्पलॉयर का ध्यान आपके रिज्यूम पर चला जाये.

Jul 1, 2019 15:33 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon
Latest trends in resume writing for college students
Latest trends in resume writing for college students

कॉलेज के फाइनल इयर के स्टूडेंट्स के लिए अच्छा रिज्यूम तैयार करने का स्किल बहुत जरुरी है. आजकल फ्रेश कॉलेज ग्रेजुएट्स के सामने सबसे बड़ी चुनौती यह है कि वे अपना रिज्यूम बनाते समय उसमें क्या शामिल करें और क्या नहीं? लेकिन, कॉलेज में पढ़ते समय अधिकांश छात्र अपने लिए एक बढ़िया रिज्यूम तैयार करने को लेकर अक्सर गंभीर नहीं होते हैं और शुरू के वर्षों में मौज-मस्ती करते हुए अपना काफी कीमती समय बरबाद कर देते हैं. कॉलेज के प्रथम और दूसरे वर्ष के छात्र अक्सर इंटर्नशिप्स और वॉलंटियर प्रोग्राम्स करने से बचते हैं.

वे इस दौरान यह नहीं समझ पाते हैं कि आजकल जॉब मार्केट में काफी ज्यादा प्रतियोगिता होने के कारण उन्हें अन्य कैंडिडेट्स की भीड़ से अपने आपको अलग साबित करना होगा. ऐसा करने के लिए उनके रिज्यूम में केवल एकेडेमिक क्वालिफिकेशन्स के अलावा भी कुछ अन्य खासियतें होनी चाहियें. इसलिये, कॉलेज स्टूडेंट्स को बाद में काफी परेशानी उठानी पड़ती है कि वे अपने रिज्यूम में क्या शामिल करें? इंटर्नशिप्स, वॉलंटियर कार्य, कॉलेज इवेंट्स में भाग लेना या स्टूडेंट काउंसिल में कोई पोजीशन धारण करना आदि कुछ ऐसी एक्टिविटीज हैं जो कॉलेज स्टूडेंट्स’ के रिज्यूम को शानदार बनाकर उन्हें अन्य कैंडिडेट्स की भीड़ से अलग करती हैं. लेकिन, यहां आपका काम समाप्त नहीं हो जाता है क्योंकि जब आपके पास अपने रिज्यूम में पेश करने के लिए काफी अधिक उपलब्धियां और कार्यानुभव हो तो आपको अपने रिज्यूम में इनका विवरण बड़े प्रभावी तरीके से पेश करना चाहिए. अन्यथा, ऐसा हो सकता है कि एम्पलॉयर का आपके रिज्यूम पर बिलकुल ध्यान न जाए. यहां कुछ ऐसे टिप्स और ट्रिक्स दिए जा रहे हैं  जो आपके रिज्यूम को इतना प्रभावी बनाने में मदद करेंगे कि पहली ही बार में एम्पलॉयर का ध्यान आपके रिज्यूम पर चला जाये.    

बनाएं ‘पेशेवर’ रिज्यूम

इस बात पर पूरा ध्यान दें कि आपका रिज्यूम पेशेवर फॉर्मेट में हो. आपका रिज्यूम बेतरतीब नहीं दिखना चाहिए. आप अपने रिज्यूम में अपने बारे में अधिकतम सूचना और जानकारी कम से कम शब्दों में देने की कोशिश करें लेकिन वह जानकारी उपयुक्त होनी चाहिए. ऐसा भी हो सकता है कि आपको दो अलग कंपनियों के लिए विभिन्न आवश्यकताओं के अनुसार या अलग-अलग जॉब्स के लिए अप्लाई करने के लिए अलग-अलग रिज्यूम्स तैयार करने पड़ें. तब, आपके कुछ अनुभव और उपलब्धियां एक जॉब के अनुकूल होंगे और कुछ अन्य अनुभव और उपलब्धियां किसी दूसरी जॉब के ज्यादा अनुकूल होंगे. इसके अलावा, आप इस बात का भी पूरा ध्यान रखें कि आप किस कार्यक्षेत्र या इंडस्ट्री में अपना रिज्यूम भेज रहे हैं?......जैसे कंप्यूटर साइंस में ग्रेजुएशन करने वाले कैंडिडेट्स के लिए इन्फोग्राफिक रिज्यूम ज्यादा कारगर साबित होगा और ग्राफ़िक डिज़ाइनर्स के लिए ज्यादा क्रिएटिव और एबस्ट्रेक्ट रिज्यूम अच्छा रहेगा.

सॉफ्ट स्किल्स करें शामिल

शायद आपके रिज्यूम में एकेडेमिक उपलब्धियों की भरमार हो और आपके पास अपनी फील्ड में बढ़िया कंपनियों में इंटर्नशिप्स करने का भी काफी अनुभव हो. लेकिन, अगर आपके व्यक्तित्व का एम्पलॉयर पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता है तो ये सारा विवरण बेकार साबित होगा. आजकल इंटरव्यूअर्स अपने भावी कैंडिडेट्स में सिर्फ बेसिक स्किल्स हीं नहीं देखते हैं बल्कि वे अपने भावी कैंडिडेट्स के व्यक्तित्व को भी अच्छा-खासा महत्व देते हैं. इसलिये, अपने रिज्यूम में कुछ सॉफ्ट स्किल्स का भी विवरण अवश्य दें. 

सोशल मीडिया अकाउंट्स का विवरण

आजकल अधिकांश एम्पलॉयर्स अपने भावी कैंडिडेट्स की सोशल मीडिया प्रोफाइल्स देखना पसंद करते हैं. आप अपनी प्रोफाइल को ‘केवल मित्र’ या प्राइवेट सेटिंग्स के मुताबिक सेट कर सकते हैं किंतु थर्ड पार्टी अकाउंट्स में आप जो पोस्ट्स और एक्टिविटीज करते हैं, वे प्राइवेट नहीं होती हैं. एम्पलॉयर्स आपके व्यक्तित्व का मूल्यांकन आपकी पब्लिक सोशल मीडिया फीड्स से करने की कोशिश करते हैं. इसी तरह, लिंकडीन में आपकी एक्टिव प्रेजेंस होने पर, आपका पेशेवर सोशल मीडिया नेटवर्क आपके व्यक्तित्व को ज्यादा प्रभावी बना देगा.

डिजिटल रिज्यूम और पोर्टफोलियो

रिज्यूम मार्केट में डिजिटल रिज्यूम्स लेटेस्ट ट्रेंड हैं. एक ऑनलाइन पोर्टफोलियो होने पर आपकी एप्लीकेशन काफी असरदार बन जाती है. आपके रिज्यूम और पोर्टफोलियो को शेयर करने की सुविधा आने वाले रिज्यूम ट्रेंड्स में काफी बड़े बदलावों में से एक होंगे. इस उभरते हुए ट्रेंड का फायदा उठाते हुए आप अपना रिज्यूम pdf फाइल फॉर्मेट में सेव कर सकते हैं ताकि एम्पलॉयर आपके रिज्यूम को उसी फॉर्मेट में देख सकें जिस फॉर्मेट में आप चाहते हैं.

कैसे बनाएं प्रभावशाली रिज्यूमे:एक गाइड

कुछ अन्य प्वाइंट्स का रखें ध्यान

डिज़ाइन हो बैलेंस्ड

आप यह अच्छी तरह सुनिश्चित करें कि आपका रिज्यूम फॉर्मेट आपके कंटेंट का पूरक हो. आजकल ढेरों ऑनलाइन रिज्यूम फॉर्मेट्स उपलब्ध हैं और आप अपने स्टाइल के मुताबिक कोई भी रिज्यूम फॉर्मेट चुन सकते हैं. आपको अपनी जॉब प्रोफाइल और डेजिग्नेशन के अनुसार विभिन्न फॉर्मेट्स मिलेंगे. आप अपने स्किल्स और उपलब्धियों के अनुसार ही अपना रिज्यूम फॉर्मेट चुनें.

केवल उपयुक्त एक्सपीरियंस डिटेल्स करें पेश

आप जिस जॉब के लिए अप्लाई कर रहे हैं, उस जॉब के मुताबिक ही उपयुक्त अनुभव पर फोकस करें और अपने रिज्यूम में हरेक अनुभव और उपलब्धि का विवरण पेश करने से बचें क्योंकि इससे जॉब के संबंध में आपकी काबिलियत को लेकर इंटरव्यूअर कंफ्यूज हो जायेंगे.

इन्फ़ोग्राफिक्स का करें इस्तेमाल

अपने रिज्यूम में सारा विवरण लिखकर ही पेश न करें. अगर संभव हो तो अपने विवरण को विज्युअल फॉर्म में पेश करें. टेबल्स और ग्राफ्स जैसे इन्फ़ोग्राफिक्स का इस्तेमाल करें ताकि आपका रिज्यूम देखने में काफी प्रभावी लगे. अपने रिज्यूम को ज्यादा पभावी बनाने के लिये उपलब्ध सफेद/खाली स्थान का अच्छा इस्तेमाल करें.

बनाएं स्पष्ट और छोटा रिज्यूम

आपका रिज्यूम पढ़ने में कठिन और बेतरतीब नहीं होना चाहिए. आप अपने रिज्यूम में कठिन भाषा और मुश्किल शब्दों का इस्तेमाल करने से बचें. आप अपने लिए एक छोटा रिज्यूम तैयार करें जिसमें सभी प्वाइंट्स और विवरण आसान शब्दों और छोटे-छोटे वाक्यों में दिए जायें.  

सही फॉन्ट का करें इस्तेमाल

आपने बहुत जगह पढ़ा होगा कि अपना रिज्यूम आप एरिअल, टाइम्स न्यू रोमन, हेल्वेटिका और ऐसे ही किसी अन्य प्रोफेशनल लगने वाले फ़ॉन्ट्स में तैयार कर सकते हैं. अब, यह बात महत्वपूर्ण नहीं रही है  क्योंकि रिज्यूम में इन फ़ॉन्ट्स का इस्तेमाल अब पुराना और आउटडेटिड हो चुका है. अब आप कैलिब्री या केम्ब्रिया जैसे फ़ॉन्ट्स का इस्तेमाल अपने रिज्यूम में कर सकते हैं. आप अपनी पसंद के अनुसार अपने रिज्यूम के लिए कोई भी फॉन्ट इस्तेमाल कर सकते हैं लेकिन इस बात का पूरा ध्यान रखें कि आपका फॉन्ट पढ़ने में आसान हो. 

ऑब्जेक्टिव लिखने से बचें

अब, रिज्यूम में ऑब्जेक्टिव सेक्शन लिखना ज्यादा प्रभावी नहीं रहा है. अब आप अपने रिज्यूम में ऑब्जेक्टिव सेक्शन के स्थान पर अपनी प्रोफेशनल या करियर समरी दे सकते हैं और अगर आप कोई फ्रेश ग्रेजुएट या स्टूडेंट हैं तो आप इस जगह अपनी एकेडेमिक उपलब्धियां या इंटर्नशिप अनुभवों का विवरण दे सकते हैं. उदाहरण के लिए आप यह लिख सकते हैं कि अपनी इंटर्नशिप्स के दौरान आपने कौन से स्किल्स हासिल किये हैं? ...आदि.

जानिये क्यों जरुरी होता है रिज्यूम का प्रोफेशनली क्रिटिकल एग्जामिनेशन ?

जब आप अगली बार अपना रिज्यूम तैयार करें तो इन सरल प्वाइंट्स का पूरा ध्यान रखें. कोई रिज्यूम तैयार करने का सबसे कठिन हिस्सा यह होता है कि रिज्यूम का ऐसा डिज़ाइन हो कि उस पर सभी का ध्यान चला जाए. उक्त प्वाइंट्स आपको बढ़िया रिज्यूम बनाने में पूरी सहायता करेंगे.

कॉलेज स्टूडेंट्स, बढ़िया रिज्यूम तैयार करने के टिप्स, जॉब ऑप्शन्स, करियर और कॉलेज लाइफ से संबंधित ऐसे और अधिक आर्टिकल पढ़ने के लिए www.jagranjosh.com/college पर विजिट करें. आप नीचे दिए गए बॉक्स में अपना ईमेल-आईडी सबमिट करके भी ये आर्टिकल सीधे अपने इनबॉक्स में प्राप्त कर सकते हैं. क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया? यदि हां ! तो इसे अपने दोस्तों और सहपाठियों के साथ अवश्य शेयर करें.

Related Stories