Search
Breaking

जानिए कॉलेज आपको जीवन का कौन सा सबक सिखाता है ?

हर स्टूडेंट को अपने कॉलेज लाइफ का बड़ा बेसब्री से इंतजार रहता है. हर किसी के जिन्दगी में कॉलेज जाने का अनुभव बड़ा रोमांचकारी होता है.

Nov 15, 2017 12:20 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon
Life Lessons you learn during your College Days
Life Lessons you learn during your College Days
 

हर स्टूडेंट को अपने कॉलेज लाइफ का बड़ा बेसब्री से इंतजार रहता है. हर किसी के जिन्दगी में कॉलेज जाने का अनुभव बड़ा रोमांचकारी होता है. ऐसा लगता है जैसे अब कॉलेज में जाकर सारे सपने पूरे हो  जायेंगे. अचानक छात्र अपने आप को स्कूल के सारे प्रतिबंधों से मुक्त होकर स्वछंदता का अनुभव करते हैं. लेकिन इस दौरान मौज मस्ती के साथ साथ छात्र अपने जीवन को सफल और कामयाब बनाने के लिए महत्वपूर्ण सीख भी ले सकते हैं. अब स्कूल स्टूडेंट्स से अलग एक कॉलेज स्टूडेंट के रूप में आपको अपने जीवन में आने वाली चुनौतियों का सामना करने के लिए मानसिक रूप से तैयार होने की जरुरत होती है.

जिन्दगी के कुछ ऐसे सबक जिन्हें आप अपने कॉलेज लाइफ के दौरान ही सीखते हैं, के जरिये आप अपने जीवन जीने की प्रक्रिया को सरल बना सकते हैं लेकिन इस दौरान हमेशा एक अच्छा इंसान बनने की कोशिश अवश्य करें.

कॉलेज में सीखने वाले जिन्दगी के इन सबकों से किस तरह कॉलेज स्टूडेंट्स सीख लेते हैं,आइये जानते हैं उन्हीं के जुबानी

दुनिया से एक्सपोजर

स्कूल लाइफ से अलग आपको कॉलेज लाइफ के दौरान वास्तविक दुनिया की पहचान का मौका मिलता है. अब आप माता-पिता तथा अभिभावक की कस्टडी से मुक्त होकर कुछ निर्णय स्वयं लेने के लिए स्वतंत्र होते हैं. इस समय आपकी मूलाकात अलग अलग जाति, समुदाय, वेशभूषा वाले छात्रों से होती है और आप ख़ुशी पूर्वक उनके साथ तालमेल बैठाने की कला सीखते हैं.आप अपने इन मित्रों के साथ घूमते समय, लाइब्रेरी में पढ़ते या रिसर्च करते समय बहुत अधिक समय व्यतीत करते हैं.

आइये जानते हैं कि इस विषय में छात्रों की क्या राय है ?

कॉलेज में आपको जीवन को विस्तृत फलक पर देखने का दृष्टिकोण विकसित होता है जो कॉलेज छोड़ने के बाद भी आजीवन आपके लिए सहयोगी होता है.

हर स्टूडेंट को अपने कॉलेज लाइफ का बड़ा बेसब्री से इंतजार रहता है. हर किसी के जिन्दगी में कॉलेज जाने का अनुभव बड़ा रोमांचकारी होता है. ऐसा लगता है जैसे अब कॉलेज में जाकर सारे सपने पूरे हो  जायेंगे. अचानक छात्र अपने आप को स्कूल के सारे प्रतिबंधों से मुक्त होकर स्वछंदता का अनुभव करते हैं. लेकिन इस दौरान मौज मस्ती के साथ साथ छात्र अपने जीवन को सफल और कामयाब बनाने के लिए महत्वपूर्ण सीख भी ले सकते हैं. अब स्कूल स्टूडेंट्स से अलग एक कॉलेज स्टूडेंट के रूप में आपको अपने जीवन में आने वाली चुनौतियों का सामना करने के लिए मानसिक रूप से तैयार होने की जरुरत होती है.

जिन्दगी के कुछ ऐसे सबक जिन्हें आप अपने कॉलेज लाइफ के दौरान ही सीखते हैं, के जरिये आप अपने जीवन जीने की प्रक्रिया को सरल बना सकते हैं लेकिन इस दौरान हमेशा एक अच्छा इंसान बनने की कोशिश अवश्य करें.

कॉलेज में सीखने वाले जिन्दगी के इन सबकों से किस तरह कॉलेज स्टूडेंट्स सीख लेते हैं,आइये जानते हैं उन्हीं के जुबानी

दुनिया से एक्सपोजर

स्कूल लाइफ से अलग आपको कॉलेज लाइफ के दौरान वास्तविक दुनिया की पहचान का मौका मिलता है. अब आप माता-पिता तथा अभिभावक की कस्टडी से मुक्त होकर कुछ निर्णय स्वयं लेने के लिए स्वतंत्र होते हैं. इस समय आपकी मूलाकात अलग अलग जाति, समुदाय, वेशभूषा वाले छात्रों से होती है और आप ख़ुशी पूर्वक उनके साथ तालमेल बैठाने की कला सीखते हैं.आप अपने इन मित्रों के साथ घूमते समय, लाइब्रेरी में पढ़ते या रिसर्च करते समय बहुत अधिक समय व्यतीत करते हैं.

आइये जानते हैं कि इस विषय में छात्रों की क्या राय है ?

कॉलेज में आपको जीवन को विस्तृत फलक पर देखने का दृष्टिकोण विकसित होता है जो कॉलेज छोड़ने के बाद भी आजीवन आपके लिए सहयोगी होता है.

मनी मैनेजमेंट

कॉलेज लाइफ के दौरान सबसे महत्वपूर्ण सीख होती है- सही बजट का आकलन और पैसों के सही इस्तेमाल को जानना और समझना. एक निश्चित रकम में पूरे महीने के बजट को नियंत्रित करने के साथ साथ अन्य चीजों के खरीदने की अपनी इच्छा या लालच पर प्रतिबन्ध लगाना या फिर पैसों के अभाव में मित्रों के साथ किसी लम्बे टूर पर नहीं जाने का निर्णय लेकर छात्र बहुत कुछ सीखते हैं. चलिए कुछ छात्रों से पूछते हैं कि किस तरह वे अपने पॉकेट मनी से पूरे महीने का खर्च मैनेज करते हैं ?

कॉलेज हमें न्यूनतम बजट में भी जीवन जीना सीखा देता है. यह एक अच्छी आदत है जिससे आप अपने आगे की जिन्दगी में भी बचत करने में सक्षम होंगे.

आत्मानुशासन

जीवन का तीसरा पाठ जिसे हम कॉलेज लाइफ के दौरान सीखते हैं वो है आत्मानुशासन की कला. वे दिन अब चले गए जब माता-पिता या शिक्षक आपको हर बात पर टोकते या फिर कुछ समझाते एवं होमवर्क तथा स्टडी के लिए कहते थे. अब ये आपकी अपनी जिम्मेदारी है आप जैसे चाहे उसे निभाएं और परीक्षा में अच्छे ग्रेड लाने में कामयाब हों. कुछ छात्रों से आत्मानुशासन पर उनकी राय जानते हैं -

कॉलेज लाइफ मौज मस्ती तथा आत्मानुशासन दोनों का मिश्रण है. अब आपको ही इन दोनों के मध्य एक रेखा खींचकर यह निर्धारित करने की जरुरत होती है कि किस समय मौज मस्ती करनी है और किस समय गंभीरता के साथ अपनी ड्यूटी निभानी है ? बेशक इस समय कुछ जिम्मेदारियां बढ़ती हैं.चूँकि हम उन्हें कम नहीं कर सकते इसलिए आत्मानुशासित होकर उन्हें पूरा करने की जरुरत पड़ती है.

टाइम मैनेजमेंट

क्या कॉलेज लाइफ अपनी धुन और इच्छाओं के अनुसार जीने वाला लाइफ है. या फिर छात्रों को एक निश्चित टाइमटेबल का पालन करते हुए प्लानिंग के साथ हर कार्य करना पड़ता है ? इस बारे में आइए उन्हीं से जानते हैं -

एक पुरानी कहावत है नो नॉलेज विदाउट कॉलेज. यानि कॉलेज लाइफ जीवन जीने का तरीका सिखाता है. यह बात बिलकुल सटीक बैठती है कॉलेज स्टूडेंट्स के विषय में. इस  दौरान छात्र अपने जीवन के सभी महत्वपूर्ण पहलुओं पर गौर करते हैं तथा उनपर चिंतन तथा अमल करते हुए अपने जीवन को कामयाब बनाते हैं.

अगर यह वीडियो आपको दिलचस्प लगा, तो आप इसे अपने साथी मित्रों तथा रिश्तेदारों के साथ अवश्य शेयर करें.

कॉलेज लाइफ के दौरान सबसे महत्वपूर्ण सीख होती है- सही बजट का आकलन और पैसों के सही इस्तेमाल को जानना और समझना. एक निश्चित रकम में पूरे महीने के बजट को नियंत्रित करने के साथ साथ अन्य चीजों के खरीदने की अपनी इच्छा या लालच पर प्रतिबन्ध लगाना या फिर पैसों के अभाव में मित्रों के साथ किसी लम्बे टूर पर नहीं जाने का निर्णय लेकर छात्र बहुत कुछ सीखते हैं. चलिए कुछ छात्रों से पूछते हैं कि किस तरह वे अपने पॉकेट मनी से पूरे महीने का खर्च मैनेज करते हैं ?

कॉलेज हमें न्यूनतम बजट में भी जीवन जीना सीखा देता है. यह एक अच्छी आदत है जिससे आप अपने आगे की जिन्दगी में भी बचत करने में सक्षम होंगे.

आत्मानुशासन

जीवन का तीसरा पाठ जिसे हम कॉलेज लाइफ के दौरान सीखते हैं वो है आत्मानुशासन की कला. वे दिन अब चले गए जब माता-पिता या शिक्षक आपको हर बात पर टोकते या फिर कुछ समझाते एवं होमवर्क तथा स्टडी के लिए कहते थे. अब ये आपकी अपनी जिम्मेदारी है आप जैसे चाहे उसे निभाएं और परीक्षा में अच्छे ग्रेड लाने में कामयाब हों. कुछ छात्रों से आत्मानुशासन पर उनकी राय जानते हैं -

कॉलेज लाइफ मौज मस्ती तथा आत्मानुशासन दोनों का मिश्रण है. अब आपको ही इन दोनों के मध्य एक रेखा खींचकर यह निर्धारित करने की जरुरत होती है कि किस समय मौज मस्ती करनी है और किस समय गंभीरता के साथ अपनी ड्यूटी निभानी है ? बेशक इस समय कुछ जिम्मेदारियां बढ़ती हैं.चूँकि हम उन्हें कम नहीं कर सकते इसलिए आत्मानुशासित होकर उन्हें पूरा करने की जरुरत पड़ती है.

टाइम मैनेजमेंट

क्या कॉलेज लाइफ अपनी धुन और इच्छाओं के अनुसार जीने वाला लाइफ है. या फिर छात्रों को एक निश्चित टाइमटेबल का पालन करते हुए प्लानिंग के साथ हर कार्य करना पड़ता है ? इस बारे में आइए उन्हीं से जानते हैं -

एक पुरानी कहावत है नो नॉलेज विदाउट कॉलेज. यानि कॉलेज लाइफ जीवन जीने का तरीका सिखाता है. यह बात बिलकुल सटीक बैठती है कॉलेज स्टूडेंट्स के विषय में. इस  दौरान छात्र अपने जीवन के सभी महत्वपूर्ण पहलुओं पर गौर करते हैं तथा उनपर चिंतन तथा अमल करते हुए अपने जीवन को कामयाब बनाते हैं.

अगर यह वीडियो आपको दिलचस्प लगा, तो आप इसे अपने साथी मित्रों तथा रिश्तेदारों के साथ अवश्य शेयर करें.

Related Categories

Related Stories