Search

भारत में इन यूनिवर्सिटीज़ से करें हिंदी मीडियम में MBA और बनें मैनेजमेंट एक्सपर्ट

आजकल के इस कारोबारी माहौल और कॉर्पोरेट वर्ल्ड में भारत की जॉब मार्केट में MBA प्रोफेशनल्स की बहुत डिमांड होने के कारण हिंदी भाषी स्टूडेंट्स  भी अब भारत की कुछ प्रमुख यूनिवर्सिटीज़ से अपनी MBA डिग्री प्राप्त करके अपने करियर में सफलता हासिल कर सकते हैं.

Sep 26, 2019 18:23 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon
Major universities of India having an MBA through Hindi medium
Major universities of India having an MBA through Hindi medium

हमें आजादी मिलने के इतने वर्षों के बाद भी भारत की अधिकतर यूनिवर्सिटीज़ या इंस्टीट्यूट्स में पढ़ाये जाने वाले लगभग सभी प्रोफेशनल कोर्सेज इंग्लिश मीडियम में ही पढ़ाये जाते हैं. सभी सब्जेक्ट मैटर्स के इंग्लिश लैंग्वेज में उपलब्ध होने के कारण यूनिवर्सिटीज़ या इंस्टीट्यूट्स की यह मज़बूरी बन जाती है कि वे इन कोर्सेज को मुख्य रूप से इंग्लिश मीडियम से ही करवाएं. जी हां! एक खास बात जरुर है कि इन कोर्सेज में आपको हिंदी और इंग्लिश मीडियम में अपने एग्जाम देने की छूट मिलती है. दरअसल, उत्तर- भारत में अभी भी हिंदी को महत्व दिया जाता है और यहां के लोग इस भाषा को ज्यादा प्रेफर करते हैं. ये लोग हिंदी मीडियम में ही अपनी पढ़ाई भी पूरी करना चाहते हैं. लेकिन हायर एजुकेशनल/ प्रोफेशनल  डिग्रीज़ के मामले में उन्हें यह सुविधा नहीं मिल पाती और वे मजबूरन इंग्लिश मीडियम में ही अपने हायर एजुकेशनल डिग्री/ प्रोफेशनल कोर्सेज करते हैं.

अब आप सोचिये कि, कितना अच्छा होगा अगर कुछ प्रोफेशनल कोर्सेज की पढ़ाई हिंदी मीडियम से करवाई जाय. समूचे उत्तर-भारत या यूं कहें कि ज्यादातर भारतीय स्टूडेंट्स  को अगर अपनी मातृ भाषा में ये एजुकेशनल/ प्रोफेशनल कोर्सेज करने का अवसर मिले तो शायद वे और अधिक बेहतर प्रदर्शन कर पाएं. इसी तरह, ऐसे स्टूडेंट्स जो इंग्लिश लैंग्वेज में पकड़ कमजोर होने के कारण इन प्रोफेशनल कोर्सेज में एडमिशन लेने से डरते हैं, बेशक वे अपने मनोनुकूल स्ट्रीम में एडमिशन लेकर अपने जीवन को कामयाब बनाने के सपने को साकार कर सकेंगे.

ऐसे स्टूडेंट्स की सुविधा के लिए हम नीचे कुछ ऐसे यूनिवर्सिटीज़ की लिस्ट पेश कर रहे हैं जहां मैनेजमेंट की पढ़ाई हिंदी मीडियम से करावाई जाती है. भारत की जॉब मार्केट में MBA प्रोफेशनल्स की बहुत अधिक डिमांड होने के कारण हिंदी भाषी स्टूडेंट्स  भी अब MBA की डिग्री हासिल करके अपने करियर में कामयाबी हासिल कर सकते हैं. इसलिए MBA के स्टूडेंट्स या कैंडिडेट्स की सुविधा के लिए हिंदी मीडियम से MBA कराने वाले कॉलेजों या यूनिवर्सिटीज़ के नाम, उनकी एडमिशन प्रोसेस के साथ संपूर्ण सिलेबस का विवरण नीचे दिया जा रहा है:

दूरस्थ शिक्षा निदेशालय, महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी यूनिवर्सिटी - यह यूनिवर्सिटी गुजरात में स्थित है. इस यूनिवर्सिटी में डिस्टेंस लर्निंग के जरिये हिंदी मीडियम से MBA करने की सुविधा उपलब्ध है. MBA प्रोग्राम में एडमिशन लेने के लिए अप्रैल- जून के बीच इस यूनिवर्सिटी द्वारा एडमिशन की अधिसूचना जारी की जाती है और नए एजुकेशन सेशन में एडमिशन देने के लिए आवेदन आमंत्रित किये जाते हैं. इस यूनिवर्सिटी में MBA के तहत काराए जाने वाले मुख्य कोर्सज निम्नलिखित हैं:

MBA स्टडी मटीरियल

क्र. सं.

कंपल्सरी /ऑप्शनल

क्वेश्चन पेपर कोड/ सिलेबस

सब्जेक्ट

1.

कंपल्सरी

एमएस 401

प्रबंधन के मूल आधार (Fundamentals of Management)

2.

कंपल्सरी

एमएस 402

संगठनात्मक व्यवहार (Organisational Behaviour)

3.

कंपल्सरी

एमएस 403

प्रबंधकीय लेखांकन (Managerial Accounting)

4.

कंपल्सरी

एमएस 404

प्रबंधकीय अर्थशास्त्र (Managerial Economics)

5.

कंपल्सरी

एमएस 405

व्यवसाय के कानूनी पहलु (Legal Aspects of Business)

6.

कंपल्सरी

एमएस 406

प्रबंध सूचना प्रणाली एवं संगणक के अनुप्रयोग (Management Information System and Computer Applications)

कुल क्रेडिट्स

 

क्र. सं.

कंपल्सरी /ऑप्शनल

क्वेश्चन पेपर कोड/ सिलेबस

सब्जेक्ट

1.

कंपल्सरी  

एमएस 411

मानव संसाधन प्रबंधन (Human Resource Management)

2.

कंपल्सरी  

एमएस 412

वित्तीय प्रबंधन (Financial Management)

3.

कंपल्सरी  

एमएस 413

विपणन प्रबंधन (Marketing Management)

4.

कंपल्सरी  

एमएस 414

अंतरराष्ट्रीय व्यापार प्रबंधन (Management of International Business)

5.

कंपल्सरी  

एमएस 415

आर्थिक वातावरण (Economic Environment)

कुल क्रेडिट्स

 

क्र. सं.

कंपल्सरी /ऑप्शनल

क्वेश्चन पेपर कोड/ सिलेबस

सब्जेक्ट

1.

कंपल्सरी  

एमएस 420

शोध के मूल आधार (Fundamentals of Research)

2.

कंपल्सरी  

एमएस 421

उद्यमिता के मूल आधार (Fundamentals of Entrepreneurship)

3.

कंपल्सरी  

एमएस 422

व्यावसायिक सम्प्रेषण (Business Communication)

4.

   

ऐच्छिक विषय - I (Elective - I) (soon)

5.

   

ऐच्छिक विषय - II (Elective - II) (soon)

6.

   

ऐच्छिक विषय - III (Elective - III) (soon)

7.

   

ऐच्छिक विषय - IV (Elective - IV) (soon)

कुल क्रेडिट्स

20

क्र. सं.

कंपल्सरी /ऑप्शनल

क्वेश्चन पेपर कोड/ सिलेबस

सब्जेक्ट

1.

ऑप्शनल

एमएस 423

उपभोक्ता व्यवहार (Consumer Behaviour)

2.

ऑप्शनल

एमएस 424

बिक्री प्रबंधन (Sales Management)

3.

ऑप्शनल

एमएस 425

सेवा विपणन (Service Marketing)

4.

ऑप्शनल

एमएस 426

खुदरा प्रबंधन (Retail Management)

क्र. सं.

कंपल्सरी /ऑप्शनल

क्वेश्चन पेपर कोड/ सिलेबस

सब्जेक्ट

1.

ऑप्शनल

एमएस 428

वित्तीय सेवाओं के मूल आधार (Fundamentals of Financial Services)

2.

ऑप्शनल

एमएस 429

वित्तीय संस्थानों का प्रबंधन (Management of Financial Institutions)

3.

ऑप्शनल

एमएस 430

कार्यशील पूँजी का प्रबंधन (Working Capital Management)

4.

ऑप्शनल

एमएस 431

मुद्रा एवं बैंकिंग (Money and Banking)

क्र. सं.

कंपल्सरी /ऑप्शनल

क्वेश्चन पेपर कोड/ सिलेबस

सब्जेक्ट

1.

ऑप्शनल

एमएस 433

प्रशिक्षण और विकास (Training & Development)

2.

ऑप्शनल

एमएस 435

औद्योगिक संबंधों का प्रबंधन (Management of Industrial Relations)

3.

ऑप्शनल

एमएस 436

श्रम कानून (Labour Law)

4.

ऑप्शनल

एमएस 437

संगठनों में टीम बिल्डिंग (Team Building in Organizations)

क्र. सं.

कंपल्सरी /ऑप्शनल

क्वेश्चन पेपर कोड/ सिलेबस

सब्जेक्ट

1.

कंपल्सरी  

एमएस 438

अंतिम अनुसंधान परियोजना (Final Research Project)

2.

कंपल्सरी  

एमएस 439

सामरिक प्रबंधन (Strategic Management)

3.

   

ऐच्छिक विषय - I (Elective - I) (soon)

4.

   

ऐच्छिक विषय - II (Elective - II) (soon)

5.

   

ऐच्छिक विषय - III (Elective - III) (soon)

6.

   

ऐच्छिक विषय - IV (Elective - IV) (soon)

कुल क्रेडिट्स

20

क्र. सं.

कंपल्सरी /ऑप्शनल

क्वेश्चन पेपर कोड/ सिलेबस

सब्जेक्ट

1.

ऑप्शनल

एमएस 442

विज्ञापन एवं बिक्री संवर्धन (Advertising and Sales Promotion)

2.

ऑप्शनल

एमएस 443

आपूर्ति श्रृंखला प्रबंधन (Supply Chain Management)

3.

ऑप्शनल

एमएस 444

ब्रांड प्रबंधन (Brand Management)

4.

ऑप्शनल

एमएस 445

विपणन शोध (Marketing Research)

क्र. सं.

कंपल्सरी /ऑप्शनल

क्वेश्चन पेपर कोड/ सिलेबस

सब्जेक्ट

1.

ऑप्शनल

एमएस 446

विलय और अधिग्रहण (Mergers & Acquisitions)

2.

ऑप्शनल

एमएस 447

स्टॉक मार्केट ऑपरेशंस (Stock Market Operations)

3.

ऑप्शनल

एमएस 448

सुरक्षा विश्लेषण और पोर्टफोलियो प्रबंधन (Security Analysis & Portfolio Management)

4.

ऑप्शनल

एमएस 449

अंतरराष्ट्रीय वित्तीय प्रबंधन (International Financial Management)

क्र. सं.

कंपल्सरी /ऑप्शनल

क्वेश्चन पेपर कोड/ सिलेबस

सब्जेक्ट

1.

ऑप्शनल

एमएस 450

संगठनात्मक विकास (Organisational Development)

2.

ऑप्शनल

एमएस 451

मानव संसाधन विकास(Human Resource Development)

3.

ऑप्शनल

एमएस 452

मुआवज़ा प्रबंधन (Compensation Management)

4.

ऑप्शनल

एमएस 453

मानव संसाधन नियोजन (Human Resource Planning)

इस MBA कोर्स में एडमिशन लेने के लिए स्टूडेंट्स के पास किसी मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी या कॉलेज से कम से कम 50-55 प्रतिशत अंकों के साथ ग्रेजुएशन की डिग्री होनी चाहिए.

बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी - उत्तर प्रदेश के वाराणसी में स्थित और अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त बनारस हिंदू  यूनिवर्सिटी में भी हिंदी मीडियम से रेगुलर MBA की डिग्री प्रदान की जाती है.

इस यूनिवर्सिटी के MBA प्रोग्राम में एडमिशन के लिए प्रति वर्ष मार्च से अप्रैल के बीच आवेदन आमंत्रित किये जाते हैं. यह यूनिवर्सिटी MBA कैंडिडेट्स के चयन के लिए एंट्रेंस टेस्ट लेती है तथा एंट्रेंस टेस्ट में प्राप्त मार्क्स या मेरिट के आधार पर उन्हें ग्रुप डिस्ककशन और पर्सनल इंटरव्यू के लिए बुलाया जाता है. इस एंट्रेंस टेस्ट का आयोजन मार्च से मई महीने के बीच किया जाता है.

MBA एडमिशन फॉर्म भरने के लिए कैंडिडेट्स के पास किसी मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी से कम से कम 55 प्रतिशत (45-50 प्रतिशत आरक्षित वर्गों के लिए) मार्क्स के साथ ग्रेजुएशन की डिग्री होनी चाहिए.

बनारस हिंदू  यूनिवर्सिटी  में MBA प्रोग्राम के तहत स्टूडेंट्स  को पढ़ाये जाने वाले मुख्य कोर्सेज ये हैं -

फैकल्टी ऑफ़ मैनेजमेंट

  1. मास्टर ऑफ बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन (एमबीए)
  2. मास्टर ऑफ इंटरनेशनल बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन (एमआईबीए)

ये दोनों कोर्सेज 2 वर्ष की अवधि वाले हैं तथा इन्हें कुल 6 सेमेस्टर में विभाजित किया गया है.

डिप्लोमा कोर्सेज (पार्ट-टाइम)

1.माइक्रो फाइनेंस एंड इंटरप्रेन्योरशिप डिप्लोमा

2.लेजर एंड हॉस्पिटालिटी मैनेजमेंट

3.हेल्थकेयर मैनेजमेंट

इन डिप्लोमा प्रोग्राम्स की अवधि 1 वर्ष की होती है.

स्पेशल कोर्सेज

  1. बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन में स्नातक डिप्लोमा (पीजीडीबीए)
  2. क्रोमोसोमल जेनेटिक एंड मोलेकुलर डायग्नोस्टिक में पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा

ये प्रोग्राम्स पूर्ण कालिक प्रोग्राम्स हैं जिनकी अवधि 1 वर्ष है.

इन दो मुख्य यूनिवर्सिटीज़ के अतिरिक्त मुंबई यूनिवर्सिटी, स्वास्ति विद्यापीठ इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट एंड टेक्नोलॉजी में भी हिंदी मीडियम से MBA करने की सुविधा उपलब्ध है. इस विषय में और अधिक जानकारी के लिए स्टूडेंट्स इन यूनिवर्सिटीज़ की ऑफिशियल वेबसाइट्स से पूरी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं.

हमें उम्मीद है कि इस जानकारी से हिंदी मीडियम से MBA करने की इच्छा रखने वाले स्टूडेंट्स को बिना किसी परेशानी के अपना MBA कोर्स करने में काफी मदद मिलेगी.

MBA से संबंधित अधिक जानकारी और लेटेस्ट अपडेट्स पाने के लिए आप www.jagranjosh.com के MBA सेक्शन पर रेगुलरली विजिट करते रहें.

Related Stories