MBA करने से पहले जरूर जानें इन सवालों के जवाब

यदि आप एमबीए कोर्स करने की योजना बना रहे हैं, तो यहां कुछ सामान्य प्रश्न हैं, जो अधिकांश एमबीए करने वाले उम्मीदवारों के मन में उठते हैं. अतः नीचे दिए गए प्रश्नों को पढ़कर अपने संदेहों को दूर करने का प्रयत्न करें.

Created On: Sep 20, 2019 15:22 IST
Modified On: Apr 26, 2020 19:44 IST
MBA FAQs: Getting Started for MBA
MBA FAQs: Getting Started for MBA

एक मोटिवेशनल स्पीकर स्टीफन कोवी ने एक बार कहा था कि "मैं अपनी परिस्थितियों का उत्पाद नहीं हूं. मैं अपने फैसलों का एक उत्पाद हूं.”

अपने लिए एक करियर विकल्प तय करने का निर्णय इन निर्णयों में से एक है क्योंकि यह आपके जीवन तथा भविष्य का फैसला करता है.यह एक ऐसे अपरिवर्तनीय निवेश की तरह है जो केवल तभी लाभ देगा जब आप यह निर्णय बहुत सोचविचार कर लेंगे.पिछले कुछ वर्षों में मैनेजमेंट का फील्ड सभी डोमेन के छात्रों के बीच एक लोकप्रिय करियर के रूप में सामने आया है. इसलिए, यदि आप भी मैनेजमेंट के क्षेत्र में अपना करियर बनाने की इच्छा से एमबीए करने पर विचार कर रहे हैं तो यह काफी स्वाभाविक है कि आपके दिमाग में इससे जुड़े कई सवाल भी होंगे.

हमने एमबीए उम्मीदवारों द्वारा कुछ अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्नों की एक सूची संकलित की है और आपके संदेहों को समाप्त करने के लिए उनका उत्तर भी देने का प्रयास किया है.

योग्यता से जुड़े सवाल

क्या मैं 12 वीं के बाद सीधे एमबीए चुन सकता हूं?

एकीकृत एमबीए कोर्स के माध्यम से सीधे कक्षा 12 को पूरा करने के बाद आप एमबीए प्रोग्राम में शामिल हो सकते हैं. एकीकृत एमबीए पाठ्यक्रमों के लिए कोर्स अवधि 4 से 5 साल है और उन्हें आम तौर पर बी.टेक जैसे अन्य ग्रेजुएशन पाठ्यक्रमों के संयोजन में पेश किया जाता है. जिन उम्मीदवारों ने अपनी उच्च माध्यमिक परीक्षाओं में न्यूनतम 50% कुल अंक प्राप्त किए हैं, वे इन पाठ्यक्रमों के लिए आवेदन करने के पात्र हैं.

कुछ लोकप्रिय इंस्टीट्यूट जो 5 साल के एकीकृत एमबीए पाठ्यक्रम प्रदान करते हैं वे निम्नांकित हैं :

  • नरसी  मोंजी इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट एंड हायर स्टडीज - एनआईएमएस, डीम्ड यूनिवर्सिटी
  • आईआईटी खड़गपुर विनोद गुप्ता स्कूल ऑफ मैनेजमैंट
  • महर्षि दयानंद यूनिवर्सिटी, रोहतक
  • बिड़ला इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी एंड साइंस
  • कुरुक्षेत्र यूनिवर्सिटी
  • यूनिवर्सिटी ऑफ लखनऊ, बादशाह बाग, लखनऊ
  • आईआईटी मुंबई शैलेश जे मेहता स्कूल ऑफ मैनेजमेंट
  • डिपार्टमेंट ऑफ मैनेजमेंट स्टडीज, गोवा यूनिवर्सिटी
  • देवी अहिल्या यूनिवर्सिटी, इंदौर
  • वेल्लोर इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी
  • इंस्टीट्यूट ऑफ प्रोफेशनल स्टडीज, खांडवा

क्या बीबीएम के फाइनल ईयर के छात्र कैट के लिए अप्लाई कर सकते हैं ?

हां, बीबीएम के फाइनल ईयर के छात्र जो अपने फाइनल एग्जाम में उपस्थित हुए हैं या अपने परिणामों की प्रतीक्षा कर रहे हैं, कैट के लिए आवेदन कर सकते हैं. चयन के मामले में आपको इस बात की पुष्टि करते हुए कि आप संबंधित संस्थान में एमबीए / पीजीडीएम प्रोग्राम्स में प्रवेश के लिए आवश्यक सभी शैक्षिक मानदंडों को पूरा करते हैं,अपने कॉलेज / इंस्टीट्यूट के प्रिंसिपल / रजिस्ट्रार द्वारा जारी प्रमाण पत्र जमा करना होगा,

क्या मै बिना किसी एमबीए एंट्रेंस एग्जाम को क्लियर किये एमबीए में एडमिशन ले सकता हूँ ?

कई निजी विश्वविद्यालय और एमबीए इंस्टीट्यूट हैं जो उम्मीदवारों को उनके एकेडमिक या वर्क प्रोफ़ाइल के आधार पर डाइरेक्ट एडमिशन देते हैं. उन्हें गूगल के जरिये आसानी से ढूंढा जा सकता है. हालांकि, कैट, सीएमएटी या कोई अन्य प्रतिष्ठित एमबीए एंट्रेंस एग्जाम का स्कोर होने से आपको सर्वोत्तम इंस्टीट्यूट में प्रवेश प्राप्त करने में मदद मिलती है. उम्मीदवारों का चयन करने वाली कंपनियां फाइनल सेलेक्शन के लिए उच्च स्कोर वाले छात्रों पर विचार करती हैं.

आईआईएम में एडमिशन के लिए न्यूनतम कैट प्रतिशत कितना होना चाहिए ?

विभिन्न आईआईएम के पास पीजीडीएम प्रोग्राम्स में प्रवेश के लिए छात्रों का चयन करने के लिए अलग-अलग शॉर्टलिस्टिंग क्राइटेरिया है. हालांकि, यह एक थम्ब रुल है कि किसी भी प्रीमियम इंस्टीट्यूट में एडमिशन के लिए कम से कम 90 प्रतिशत मार्क्स तो होने ही चाहिए. लेकिन सिर्फ हाई स्कोर से ही आप एडमिशन नहीं पा सकते हैं. इसके लिए आपको इंस्टीट्यूट विशेष का जीडी / पीआई / वैट आदि को क्वालीफाई करना होगा. आईआईएम छात्रों का फाइनल सेलेक्शन करते समय उनके पिछले एकेडमिक रिकॉर्ड और कार्य अनुभव पर भी विचार करता है.

तैयारी से जुड़े सवाल

क्या कोचिंग के बिना भी कैट क्लियर करना संभव है?

हाँ! हर साल कई छात्र बिना कोचिंग किये ही कैट एग्जाम को क्वालीफाई करने में सफल होते हैं. यदि आप प्रतिदिन 3 से चार घंटा सीरियसली और सही डाइरेक्शन में स्टडी करते हैं तो आप अवश्य इस एग्जाम को क्लियर कर सकते हैं. रेगुलर स्टडी ही इस एग्जाम को पास करने का मूल मन्त्र है. कैट एग्जाम के फॉर्मेट और सिलेबस के अनुरूप अपनी स्ट्रेटेजी बनायें तथा मंथली या वीकली टारगेट बनायें और उस टारगेट को पूरा भी करें. मॉक टेस्ट का अभ्यास अपने साथी मित्रों के साथ करें. साथ ही पिछले साल के प्रश्न पत्रों को हल कर अपने कमजोर पक्षों को जानकर उसे दूर करने की कोशिश करें. अगर आप उक्त तरीके से ईमानदारी पूर्वक तैयारी करते हैं तो आपको सफल होने से कोई नहीं रोक सकता तथा आपको किसी कोचिंग इंस्टीट्यूट में जाने की भी आवश्यकता नहीं है.

 

कैट एग्जाम को क्वालीफाई करने के लिए आर्ट्स स्टूडेंट्स को किन पुस्तकों का अध्ययन करना चाहिए ?

मार्केट में कैट एग्जाम के सिलेबस को कवर करने वाली कई पुस्तकें उपलब्ध हैं. इन पुस्तकों में क्वांटिटेटिव एप्टीट्यूड,डेटा इंटरप्रिटेशन और वर्बल एबिलिटी और लॉजिकल रीजनिंग का विस्तृत विवरण उपलब्ध होता है.लेकिन एक आर्ट्स स्टूडेंट होने नाते, आपको इन विषयों की वैचारिक समझ को एक बहुत ही मौलिक स्तर पर विकसित करना होगा. एनसीईआरटी किताबों से आप इनसे जुड़े मौलिक कॉन्सेप्ट्स को समझ सकते हैं.एक बार जब आप इन विषयों की मौलिक बातों को समझ जाएंगे तो आप इन पुस्तकों का गहन अध्ययन कर अच्छी तरह से तैयारी कर सकते हैं.

लोकेशन से जुड़े सवाल

भारतीय एमबीए बनाम विदेशी एमबीए, किसका चयन करना सही है ?

भारत में एमबीए करने और किसी भी विदेशी विश्वविद्यालय से एमबीए करने के विषय में चयन करना एमबीए उम्मीदवारों के लिए काफी दुविधाजनक हो सकता है. इस प्रश्न का उत्तर आपकी प्राथमिकताओं और लक्ष्यों पर निर्भर करेगा जिन्हें आप एमबीए की डिग्री लेकर हासिल करना चाहते हैं. चुनाव करने से पहले आपको इन मुख्य पहलुओं पर विचार करना चाहिए.

प्राथमिकतायें

इंटरनेशनल बिजनेस की प्रैक्टिस की आवश्यकताओं के अनुरूप विदेशी यूनिवर्सिटी से एमबीए की डिग्री अधिक अनुकूल हैं. इसलिए, यदि आप अपनी एमबीए की डिग्री पूरी करने के बाद विदेश में काम करने की योजना बना रहे हैं, तो विदेशी एमबीए के लिए जाना समझदारी है. लेकिन  अगर आप भारत में अपना करियर बनाना चाहते हैं, तो आपको देश के किसी टॉप बी-स्कूल से एमबीए की डिग्री लेने के विषय में सोचना चाहिए.भारतीय प्रबंधन संस्थानों (इंडियन मैनेजमेंट इंस्टीट्यूट्स) ने भारतीय पाठ्यक्रम परिदृश्य के अनुरूप अपने कोर्स करिकुलम और ट्रेनिंग प्रोग्राम को ट्यून किया है. ये कोर्सेज भारत में एक बिजनेस मैनेजर के रूप में कार्य करने के लिए सही अंतर्दृष्टि प्रदान करते हैं.

लर्निंग और नॉलेज

भारतीय और विदेशी विश्वविद्यालयों द्वारा प्रदान किए जाने वाले सभी मैनेजमेंट प्रोग्राम्स सेम कोर सिलेबस पर आधारित होते हैं. इसलिए, सैद्धांतिक स्तर पर भारतीय एमबीए और विदेशी एमबीए के बीच बहुत अंतर नहीं है. लेकिन जब इन अवधारणाओं के व्यावहारिक अनुप्रयोग की बात आती है, तो इनका प्रशिक्षण काफी भिन्न होता है. इसलिए, इस प्रश्न का उत्तर आपकी पोस्ट एमबीए प्लान्स पर निर्भर करता है.

कॉस्ट

विदेशी विश्वविद्यालयों द्वारा प्रदान किए गए एमबीए प्रोग्राम भारतीयों की अपेक्षा तुलनात्मक रूप से ट्यूशन फीस के साथ-साथ बोर्डिंग और लॉजिंग शुल्क के मामले में अधिक महंगी हैं. यदि आप लोन लेकर अपनी पढ़ाई पूरी करना चाहते हैं तो विदेश में एमबीए करने से आपके लोन का इंटरेस्ट रेट अधिक होगा और भारतीय एमबीए के लोन के वनिस्पत अधिक समय तक का हो सकता है.

इन्वेस्टमेंट पर रिटर्न

विदेशी एमबीए आपको केवल तभी भुगतान करेगा जब विदेश में काम करने की योजना बना रहे हैं. यदि आप विदेशों में अध्ययन करने और भारत में काम करने की योजना बना रहे हैं, तो इससे कोई खास फर्क नहीं पड़ता है.

इंस्टीट्यूट से जुड़े सवाल

मुझे किस आधार पर एमबीए इंस्टीट्यूट चुनना चाहिए?

आपको एमबीए इंस्टीट्यूट का चुनाव करते समय निम्नांकित तथ्यों पर ध्यान देना चाहिए -

विश्वसनीयता

कभी भी अपने लिए किसी इंस्टीट्यूट का चयन करते समय इंस्टीट्यूट की विश्वसनीयता पर जरुर ध्यान देना चाहिए.लोकप्रिय शैक्षणिक संस्थानों के साथ संबद्धता के नाम पर डमी एमबीए की डिग्री देकर छात्रों को धोखा देने वाले गैरकानूनी निजी संस्थानों के कई मामले सामने आए हैं. इसलिए आप जिस इंस्टीट्यूट में एडमिशन लेने जा रहे हैं उसके एफिलिएशन तथा उसके द्वारा प्रदान की जा रही डिगी की छानबीन पूरी तरह अवश्य कर लें.

आदर्श रूप से आपको एक ऐसे एमबीए इंस्टीट्यूट का चयन करना चाहिए जिसे यूजीसी या एआईसीटीई द्वारा मान्यता प्राप्त है और वह इंस्टीट्यूट एमबीए / पीजीडीएम डिग्री प्रदान करने के लिए अधिकृत हो.

फैकल्टी

आजकल बी-स्कूलों में शिक्षण के मूल पहलू को अनदेखा करते हुए उत्कृष्ट आधारभूत सुविधाओं की पेशकश करने की एक प्रवृत्ति सी बन गयी है. लेकिन अगर आपको अपने लिए किसी अच्छे एमबीए इंस्टीट्यूट का चुनाव करना है तो वहां के फैकल्टी के विषय में पूरी तरह जानें. उनका एकेडमिक रिकॉर्ड और रिसर्च पेपर देंखें. ये सारी जानकारी आपको इंस्टीट्यूट के वेबसाईट पर मिल जाएगी.

करिकुलम और पेडागॉजी

अधिकांश बी-स्कूल मैनेजमेंट प्रोग्राम्स के लिए एक ही तरह के सामान्य सिलेबस सेट का पालन करते हैं, लेकिन उसे  पढ़ाया जाने वाला तरीका काफी अलग होता है. चूँकि मैनेजमेंट एक प्रोफेशनल डोमेन है और केवल सैद्धांतिक ज्ञान आपके करियर में आपकी काफी मदद नहीं कर सकती है.इसलिए इंस्टीट्यूट के करिकुलम और पेडागॉजी दोनों पर विशेष रूप से ध्यान दें. आप उन इंस्टीट्यूट को प्रिफर करें जहाँ इंडस्ट्री विजिट तथा प्रैक्टिकल कॉन्सेप्ट पर ज्यादा फोकस किया जाता हो.

प्लेसमेंट

किसी भी एमबीए इंस्टीट्यूट में शामिल होने से पहले सबसे अधिक विचार करने वाली जो बात है वह है इंस्टीट्यूट के प्लेसमेंट रिकॉर्ड की जांच करना. अधिक संख्या में आजकल इंस्टीट्यूट या कॉलेज प्लेसमेंट करवाते हैं लेकिन

कभी-कभी यह प्रशिक्षण, सेमिनार और कार्यशालाओं तक ही सीमित रह जाता है.आपको ऐसे इंस्टीट्यूट का चयन करना चाहिए जो इनके अलावा भी प्लेसमेंट में सहायता प्रदान करता हो. इसमें पर्सनाल्टी डेवेलपमेंट, सॉफ्ट  स्किल्स वर्कशॉप्स, इंडस्ट्री विजिट और समर इंटर्नशिप प्रोग्राम आदि शामिल हो सकते हैं. इसके अलावा, उन कॉर्पोरेट ब्रांडों को भी देखें जो कैंपस प्लेसमेंट ड्राइव के लिए कॉलेज जाते हैं और इन सत्रों के दौरान उच्चतम, निम्नतम और एवरेज सैलरी देते हैं.

कुछ संगत सवाल

क्या एमबीए की डिग्री से जॉब मिलना निश्चित है ?

अधिकांश एमबीए उम्मीदवार एमबीए की डिग्री, एक सफल और पुरस्कृत करियर के पासपोर्ट के रूप में इसे समझकर लेते हैं. लकिन हमें यह कहते हुए खेद है कि इसमें सच्चाई नहीं है.किसी अन्य शैक्षिक योग्यता की तरह एमबीए सिर्फ एक डिग्री है और नौकरी की गारंटी नहीं देता है. हालांकि, एक प्रोफेशनल डिग्री होने के नाते एमबीए के बाद नौकरी पाने की संभावना अपेक्षाकृत अधिक रहती है. ऐसे कई एमबीए कॉलेज और इंस्टीट्यूट हैं जो अपने छात्रों के लिए नौकरी की गारंटी देते हैं और नियुक्ति प्रदान करते हैं, लेकिन नौकरी पाने के बाद भी आपको प्रतिबद्ध समय सीमा के भीतर प्रोफेशनल्स टारगेट्स को पूरा करके अपना मूल्य साबित करना होगा.

हमें आशा है कि उपर्युक्त सवाल जबाव एमबीए करने की योजना बना रहे छात्रों के लिए लाभदायक सिद्ध होंगे.

एमबीए और करियर के बारे में और अधिक अपडेट्स प्राप्त करने के लिए jagranjosh.com पर विजिट करते रहें.

Cat Percentile Predictor 2021

Related Categories

Comment (0)

Post Comment

3 + 3 =
Post
Disclaimer: Comments will be moderated by Jagranjosh editorial team. Comments that are abusive, personal, incendiary or irrelevant will not be published. Please use a genuine email ID and provide your name, to avoid rejection.