Search

MBA या MCA में से अपने लिए चुनिए बेस्ट सूटेबल ऑप्शन

अगर आपको यह समझ में नहीं आ रहा है कि आप MBA या MCA में से कौन-सा कोर्स करें?.....तो सबसे पहले आपको यह जानने की कोशिश करनी चाहिए कि इन दोनों प्रोफेशनल कोर्सेज में से कौन-सा कोर्स आपके इंटरेस्ट और एक्सपर्टाइज़ से ज्यादा मेल खाता है?.....

Aug 27, 2019 18:28 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon
MBA or MCA: Which is better?
MBA or MCA: Which is better?

 

“कम्पैरीज़न एक छाया की तरह होता है जो आपको तब तक नहीं छोड़ता है, जब तक आप कोई तर्कसंगत निर्णय नहीं लेते हैं.” इसी तरह, बहुत बार एक अच्छा मैनेजमेंट कोर्स करने के इच्छुक स्टूडेंट्स के मन में कई बार यह सवाल उठता है कि आखिर MBA (मास्टर ऑफ़ बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन) या MCA (मास्टर ऑफ़ कंप्यूटर एप्लीकेशन्स) में से कौन-सा प्रोफेशनल कोर्स उनके लिए बेस्ट करियर ऑप्शन साबित होगा?

प्रोफेशनल कोर्सेज MBA या MCA में से कौन-सा ऑप्शन बेहतर है?

दरअसल आजकल स्टूडेंट्स के सामने बहुत सारे ऑप्शन मौजूद हैं और कभी कभी वे स्टूडेंट्स को बहुत कंफ्यूज कर देते हैं और वे समझ ही नहीं पाते हैं कि आखिर कौन-सा कोर्स ऑप्शन उनके लिए बिलकुल परफेक्ट रहेगा? इस दौरान अगर MBA या MCA में से कोई एक प्रोफेशनल कोर्स चुनना हो तो समस्या और विकट हो जाती है.

स्टूडेंट्स के इसी कन्फ्यूजन को दूर करने के लिए अब हम MBA और MCA कोर्सेज के विभिन्न आस्पेक्ट्स के बारे में चर्चा करते हैं ताकि वे अपने लिए सबसे सूटेबल प्रोफेशनल कोर्स चुन सकें.

हमारे देश में विभिन्न MBA और MCA प्रोफेशनल कोर्सेज स्टूडेंट्स और पेशेवरों के बीच बहुत लोकप्रिय हैं. उदाहरण के लिए MBA उन कैंडिडेट्स के लिए सूटेबल है जो मैनेजीरियल प्लस एडमिनिस्ट्रेटिव स्किल्स में रूचि लेने के साथ माहिर भी हैं. MBA प्रोफेशनल्स टेंशन झेलने और समय सीमा के अन्दर काम करने में एक्सपर्ट होते हैं. जबकि MCA उन लोगों के लिए सूटेबल है जो जनरल कंप्यूटर अप्लिकेशन्स में रूचि रखते हैं और टेक्नीकल फील्ड में आगे बढ़ना चाहते हैं.

आमतौर पर ऐसे स्टूडेंट्स, जिन्होंने BSC या BSC (IT) में ग्रेजुएशन किया हो, उनके लिए इन दोनों प्रोफेशनल कोर्सेज में से एक कोर्स चुनना बहुत मुश्किल होता है. BSC (IT) और BCA, कोर्सेज दरअसल टेक्निकल बैकग्राउंड वाले कोर्स हैं और अगर इन कोर्सेज में अपनी ग्रेजुएशन की डिग्री हासिल करने वाले स्टूडेंट्स MCA करें तो इनका टेक्निकल करियर बनेगा.

लेकिन MBA कोर्स अपने स्टूडेंट्स को एडमिनिस्ट्रेटिव और मैनेजीरियल करियर बनाने में मदद करेगा. एक गलत निर्णय आपको गलत रास्ते पर ले जायेगा और संभव है कि इससे आपकी प्रोग्रेस तथा प्रोफेशनल ग्रोथ का रास्ता हमेशा के लिए बंद हो जाय. लेकिन अगर आप चतुराई से सोच-समझकर कोई निर्णय लेते हैं तो अवश्य ही आप अपने जीवन में तरक्की करेंगे और एक संतोषजनक करियर अपना सकेंगे.

स्टूडेंट्स के लिए प्रोफेशन कोर्स MBA या MCA में से कौन-सा प्रोफेशनल कोर्स बेहतरीन करियर ऑप्शन साबित होगा? यह जानने और समझने के लिए इन प्रोफेशनल कोर्सेज के विभिन्न आस्पेक्ट्स का एनालिसिस है जरुरी. आइये आगे पढ़ें:

MCA: आशाजनक करियर ऑप्शन

MCA एक पोस्ट ग्रेजुएट कोर्स है जिसे तीन साल में पूरा किया जा सकता है और इसके करिकुलम को कुल 6 सेमेस्टर में बांटा गया है. MCA में एडमिशन लेने के लिए अनिवार्य योग्यता 12वीं कक्षा में साइंस विषय तथा BCA की डिग्री है. BCA कोर्स करने वाले स्टूडेंट्स MCA के लिए अप्लाई कर सकते हैं.

स्टूडेंट्स को इस कोर्स को पढ़ने से एडवांस टेक्निकल स्किल्स जैसे एल्गोरिदम डिजाइन, कंप्यूटर नेटवर्क, डाटाबेस मैनेजमेंट, लेटेस्ट  प्रोग्रामिंग लंग्वेजेज, सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट, इनफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी सहित अन्य विषयों की जानकारी मिलती है और इन टॉपिक्स की अच्छी समझ हो जाती है.

MCA के बाद मिलने वाले करियर ऑप्शंस

दरअसल, MCA टेक्नोलॉजी बेस्ड कोर्स है. यह कोर्स स्टूडेंट्स को वेब डेवलपर्स, सॉफ्टवेयर प्रोग्रामर, डिजाइनर, सिस्टम एनालिस्ट, सॉफ्टवेयर टेस्टर्स और अन्य आईटी से संबंधित जॉब प्रोफाइल के लिए जरुरी योग्यता प्रदान करता है. अगर आप अपने काम में माहिर हैं तो आप जरुर किसी अच्छी कंपनी में काफी आकर्षक सैलरी पैकेज ले सकते हैं.

MBA: बेहतरीन करियर ऑप्शन

मास्टर इन बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन (MBA) एक पोस्ट ग्रेजुएट कोर्स है जिसे कुल चार सेमेस्टर में बांटा गया है और इसकी कुल अवधि 2 साल की होती है. किसी MBA कोर्स में एडमिशन लेने के लिए स्टूडेंट्स को किसी भी विषय में ग्रेजुएट होना चाहिए. इसी तरह, किसी टॉप बी-स्कूल में एडमिशन लेने के लिए स्टूडेंट्स ने ग्रेजुएशन में अच्छे मार्क्स हासिल किये हों.

MBA के प्रोफेशनल कोर्स में स्टूडेंट्स को किसी ऑर्गनाइजेशन या कंपनी को चलाने के लिए जरुरी सभी एडमिनिस्ट्रेटिव और मैनेजीरियल स्किल्स की पूरी जानकारी प्रदान की जाती है. यह कोर्स स्टूडेंट्स को लीडरशिप क्वालिटी, बिजनेस स्किल्स और मैनेजमेंट स्किल्स को गहराई से सीखने में मदद करता है. आजकल बड़ी कंपनियां टॉप बी-स्कूलों से MBA कर रहे स्टूडेंट्स को हायर करने में आपसी कॉम्पिटिशन रखती हैं. इंद्रा नूयी, अंशुल जैन, अजय बंगा जैसे टॉप मैनेजमेंट प्रोफेशनल्स इसके ज्वलंत उदाहरण हैं.

MBA के बाद मिलते हैं ये करियर ऑप्शंस 

किसी टॉप बी-स्कूल से MBA करने के बाद आपके पास जॉब ऑफर्स की भरमार होगी. किसी टॉप बी-स्कूल से MBA की डिग्री आपको किसी मल्टीनेशनल कंपनी में हायर पोजीशन दिला सकती है. MBA कैंडिडेट्स बिजनेस मैनेजर, फाइनेंस मैनेजर, एग्जीक्यूटिव रिक्रूटर, एडवर्टाइजिंग एग्जीक्यूटिव, मार्केटिंग एग्जीक्यूटिव और सीईओ जैसे जॉब प्रोफाइल्स में काम कर सकते हैं.

बेशक, MCA ग्रेजुएट्स की तुलना में MBA ग्रेजुएट्स की सैलरी शुरू-शुरू में थोड़ी कम होती है लेकिन किसी अछि पोस्ट पर पहुंचते ही यह कई गुणा बढ़ सकती है.

आइए MBA और MCA कोर्सेज के विभिन्न आस्पेक्ट्स का कम्पैरेटिव एनालिसिस नीचे प्रस्तुत टेबल में देखें:

कम्पैरीज़न बेसिस

MCA

MBA

टेक्नीकल स्किल सेट

 

तर्क को समझने तथा स्वीकार करने की क्षमता

ऑपरेशन सिस्टम विंडोज,लिनक्स

लैंग्वेज : सी ++,कोर

जावा .

वेब टेक्नोलॉजी : एएसपी .एनईटी, एचटीएमएल

डाटा एक्सेस टेक्नोलॉजी: ए डीओ.एनईटी

डाटाबेस  : एमएस,एस क्यूएल,सर्वर 2000 ओरेकल का बेसिक    

टूल्स  : एमएस ऑफिस, एमएस विजुअल स्टुडियो, एनईटी

बिजनेस स्ट्रेटेजी का ज्ञान

स्वायट एनालिसिस कंडक्ट करने की योग्यता

प्रोडक्ट बेचने,कस्टमर को कन्विंस करने की अपूर्व योग्यता

 प्रोडक्ट और टारगेट की व्यापक समझ

पर्सनल स्किल सेट

नए टेक्नोलॉजी को सीखने तथा उसे ग्रहण करने की योग्यता.

 टीम के सदस्यों के साथ प्रभावी ढंग से कम्युनिकेशन

टीम के साथ काम करने और  नेतृत्व करने एवं जिम्मेदारियों को लेने की क्षमता.

विभिन्न टेक्निकल क्षेत्रों में हो रहे लेटेस्ट एडवांसमेंट और डेवेलपमेंट से अपडेटेड रहना.  

क्रिएटिव आइडियाज

आउट बॉक्स थिंकिंग

असाधारण कम्युनिकेशन स्किल्स (सॉफ्ट स्किल्स)

क्रिटिकल थिंकिंग,रिजल्ट/टारगेट ओरिएंटेड 
कन्विंस करने की क्षमता

बिजनेस स्ट्रेटेजी का नॉलेज

करिकुलम

प्रोग्रामिंग और डाटा स्ट्रक्चर

इन्फो सिस्टम्स एनालिसिस डिजाइन और इम्प्लिमेंटेशन

कंप्यूटर कम्युनिकेशन नेटवर्क

सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग

ऑप्टिमाइजेशन टेक्नीक्स

प्रोग्रामिंग लैंग्वेज जैसे-सी,जावा और प्रोजेक्ट्स आदि

फायनेंसियल रिपोर्टिंग और एनालिसिस

ऑर्गनाइजेशनल बिहैवियर

प्रिंसिपल ऑफ मैनेजमेंट   प्रोबेबिलिटी और स्टेटिक्स

 ऑपरेशनल  मैनेजमेंट

कॉस्टिंग और कंट्रोल सिस्टम

कार्पोरेट फाइनेंस

स्ट्रेटेजिक मैनेजमेंट

मार्केटिंग

बिजनेस रिसर्च मेथड्स

फाइनेंशियल इंसेंटिव

इनिशियल सैलरी रेंज 3-3.5 लाख सालाना

इनिशियल सैलरी 300,000/-रूपये सालाना

करियर पाथ

सॉफ्टवेयर डेवेलपर

वेब डिजाइनर

सिस्टम मैनेजर

सॉफ्टवेयर आर्किटेक्ट

जावा डेवेलपर

क्वालिटी एश्योरेंस इंजीनियर

सॉफ्टवेयर कंसल्टेंट

 डीबीए

ट्रबल शूटर

प्रोजेक्ट मैनेजर

बिजनेस मैनेजर

एक्जीक्यूटिव रिक्रूटर

फाइनेंस मैनेजर

एडवर्टाइजिंग एग्जीक्यूटिव

मार्केटिंग एग्जीक्यूटिव

टॉप एडमिनिस्ट्रेटिव पोजीशंस –सीईओ, सीएफओ और सीओओ  

जॉब स्कोप

आई टी कंपनीज

कंसल्टेंसी फर्म्स

लार्ज मल्टीनेशनल कारपोरेशन

गवर्नमेंट सेक्टर

प्राइवेट सेक्टर टेलीकॉम कंपनीज

रिटेल इंडस्ट्री

कंसल्टेंट फर्म

हॉस्पिटालिटी इंडस्ट्री

एडवर्टाइजिंग इंडस्ट्री

बैंकिंग और फायनेंसियल इंस्टीट्यूशंस

मीडिया इंगेजमेंट

डिजिटल मार्केटिंग

एजुकेशन

जॉब नेचर

 नए सॉफ्टवेयर की व्यावहारिकता  की जांच

 सॉफ़्टवेयर किस तरह काम कर रहा है, उसको सपोर्ट तथा उसका डाक्यूमेंटेशन और यह सुनिश्चित करना कि यह सॉफ्टवेयर यूजर्स के अनुकूल है या नहीं.

 क्रिएटिव

एनालिटिकल एबिलिटी

किसी कंपेन को चलाने के लिए आवश्यक इन्नोवेशन

पोजिटिव आउटलुक

नंबर प्लेयर

प्लानिंग और स्ट्रेटेजीज

कंटेंट ओरिएंटेड

प्रॉफिट ओरिएंटेड

प्रोडक्ट बेचने के लिए उत्साह

टॉप प्रोफेशनल्स

बिल गेट्स  (माइक्रोसॉफ्ट कारपोरेशन के संस्थापक)

विशाल सिक्का  (इन्फोसिस ग्रुप के सीईओ)

सुन्दर पिच्चाई  (गूगल के सीईओ)

सत्या नडेला  (माइक्रोसॉफ्ट के सीईओ)

 मार्क जुकर बर्ग  (फेसबुक के संस्थापक एवं चेयरमैन)

सचिन बंसल और बिनय बंसल  (फ्लिपकार्ट के संस्थापक)

टिम कुक  (एपल के सीईओ )

कुमार मंगलम बिड़ला( आदित्य बिड़ला ग्रुप के चेयरमैन)

आदि गोदरेज  (गोदरेज ग्रुप के चेयरमैन)

आनंद महिंद्रा (महिंद्रा और महिंद्रा के चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर)

किरण मजुमदार शॉ (बायोकॉन लिमिटेड की मैनेजिंग डायरेक्टर और चेयरमैन)

सायरस मिस्त्री  (टाटा ग्रुप के चेयरमैन)

 

सारांश

MBA और MCA प्रोफेशनल कोर्सेज के कई आस्पेक्ट्स का एनालिसिस समझने के बाद आप अपने लिए सबसे सूटेबल करियर ऑप्शन चुन सकते हैं. इसी तरह, आप अपने भीतर भी निम्नलिखित क्वालिटीज़ की परख कर सकते हैं:

  • स्किल्स
  • एप्टीट्यूड और
  • इंटरेस्ट

यदि आप नेटवर्किंग, सॉफ्टवेयर और आईटी से संबंधित क्षेत्रों में अपना करियर बनाने की इच्छा रखते हैं तो आपको बेहिचक MCA की डिग्री हासिल करनी चाहिए.

दूसरी तरफ, यदि आपको लोगों से मिलना जुलना पसंद है तथा आप अपना करियर मैनेजमेंट के क्षेत्र में बनाना चाहते हैं अथवा एक एंटरप्रेन्योर बनने की इच्छा रखते हैं तो आप बेशक MBA की डिग्री हासिल कर सकते हैं.

वास्तव में आपके पास है सबसे सूटेबल करियर ऑप्शन और प्रोफेशनल कोर्स चुनने का सही जवाब

आप हमेशा इस बात को ध्यान में रखिये कि इन प्रश्नों का जवाब आपको अपने अन्दर से ही तलाशना होगा. आपका दिल और दिमाग जिस किसी प्रोफेशनल कोर्स का भी चयन करना चाहता है,  उस कोर्स का ही चयन कीजिये. दूसरों की बातों में आने से अपने आप को रोकें. आपको आपसे बेहतर कोई नहीं जान सकता है.

आपके सामने इन दोनों प्रोफेशनल कोर्सेज का विस्तृत विवरण है और आप अब अपने विवेक के मुताबिक सूटेबल निर्णय ले सकते हैं.

आशा है कि हमारे इस विश्लेषण से आपको सही करिकुलम चुनने में मदद मिलेगी और इससे आप का करियर उज्जवल बनेगा.

आप अपने लिए कोई सबसे बेहतर ऑप्शन चुनें. हमारी शुभकामनाएं आपके साथ हैं!!

हमारे इस आर्टिकल को उन लोगों के साथ शेयर करें जो इस बात को लेकर भ्रमित हैं कि MBA या MCA प्रोग्राम में से कौन-सा कोर्स ऑप्शन उनके लिए बेहतर होगा? इस बारे में अधिक जानकारी के लिए जागरण जोश के MBA करियर सेक्शन पर विजिट करें और लेटेस्ट जानकारी हासिल करें.

Related Stories