Search

NIOS से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण सवाल और उनके जवाब

जानिए NIOS से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण और अक्सर पूछे जाने वाले सवाल और उनके जवाब. NIOS की शुरुआत मानव संसाधन विकास मंत्रालय (MHRD) द्वारा शुरू किया गया था, जिसका लक्ष्य समाज के हर तबके को शिक्षा प्रदान करना है जो रेगुलर स्कूल के माध्यम से शिक्षा नहीं ग्रहण करने में सक्षम नही हैं.

Sep 20, 2019 11:49 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon
NIOS से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण सवाल और उनके जवाब
NIOS से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण सवाल और उनके जवाब

राष्ट्रीय मुक्त विद्यालयी शिक्षा संस्थान (एनआईओएस) या National Institute of Open Schooling (NIOS) मुक्त विद्यालयी शिक्षा प्रणाली (Open Schooling System) को सशक्त करने का निरंतर प्रयास कर रहा है. NIOS  सामान्य तौर पर कुछ ऐसी सुविधाएं मुहैया कराता है जो औपचारिक शिक्षा प्रणाली में उपलब्ध नहीं हैं.

उदहारण के लिए NIOS की कुछ ख़ास सुविधाएं जिसकी वजह से यह औपचारिक शिक्षा प्रणाली से अलग है –

(i) वर्ष भर प्रवेश की सुविधा उपलब्ध है  

(ii) पाठ्यक्रमों के व्यापक चयन

(iii) सार्वजनिक परीक्षा (क्रेडिट संचयन की सुविधा के साथ नौ बार परीक्षा में बैठने का मौका)

(iv) जब चाहो तब परीक्षा की सुविधा.

NIOS  से पढ़ाई को लेकर विद्यार्थियों के मन में कई संशय (Doubt) रहते हैं. इन संशय को दूर करने के लिए विद्यार्थयों को कुछ महत्वपूर्ण सवाल और उनके जवाब हमने यहाँ उपलब्ध कराएं हैं. इनकी मददे से विद्यार्थियों को NIOS से जुड़े कई सवालों  के उत्तर मिल जाएंगे.

प्रश्न – 1. एनआईओएस (NIOS) क्या है?

उत्तर

राष्ट्रीय मुक्त विद्यालयी शिक्षा संस्थान या एनआईओएस (National Institute of Open Schooling or NIOS) एक शैक्षिक संगठन है जो मुक्त (Open) एवं दूरस्थ माध्यम (Distance learning) से शिक्षा प्रदान करता है और राष्ट्रीय बोर्डों यथा केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) तथा भारतीय स्कूल सर्टिफिकेट परीक्षा परिषद (Council for the Indian School Certificate Examination  or CISCE) बोर्डों के समकक्ष स्तर पर पूर्व-स्नातक स्तर (pre-degree level) तक के लिए परीक्षाएं आयोजित करता है और प्रमाणपत्र भी प्रदान करता है.

Video: क्या है NIOS बोर्ड? जानिए courses और अन्य सुविधायें

प्रश्न2. मुक्त एवं दूरस्थ (Open and Distance Learning or ODL) शिक्षा प्रणाली क्या है ?

उत्तर

मुक्त एवं दूरस्थ शिक्षा (ओडीएल) स्व-अध्ययन सामग्री (एसएलएम) और शिक्षार्थियों की गति के आधार पर सुविधाजनक तरीके से शिक्षा के अवसर उपलब्ध कराने की प्रवर्तनकारी संकल्पना है. इस माध्यम में, शिक्षार्थी को एसएलएम (Self Learning Material) के अतिरिक्त पीसीपी (Personal Contract Programme) और टीएमए (Tutor Marked Assessment) के रूप में शैक्षिक सहायता भी उपलब्ध कराई जाती है.

प्रश्न – 3. मुक्त विद्यालयी (Open Schooling) शिक्षा और नियमित विद्यालयी (Regular Schooling) शिक्षा व्यवस्था में क्या अंतर है?

उत्तर

नियमित विद्यालयी शिक्षा व्यवस्था एक नियत समय-सारिणी के साथ कक्षा प्रणाली की औपचारिक व्यवस्था में आमने-सामने की एक परम्परागत शिक्षा व्यवस्था है. जबकि मुक्त विद्यालयी शिक्षा शिक्षार्थी की स्व-अध्ययन एक सुविधाजनक विधि से कराने और उसकी तैयारी के अनुसार मूल्यांकन की पद्धति है. मुक्त शिक्षा प्रणाली उन शिक्षार्थियों के लिए अत्यंत उपयोगी है जो आर्थिक, सामाजिक या भौगोलिक कारणों से औपचारिक शिक्षा प्राप्त नहीं कर पाए हैं या किसी प्रकार का रोजगार करने के साथ-साथ शिक्षा भी प्राप्त करना चाहते है

प्रश्न – 4. एनआईओएस (NIOS) शिक्षा उपलब्ध कराने की दृष्टि से किसी अन्य संस्थान से किस प्रकार भिन्न है?

उत्तर

एनआईओएस मुक्त एवं दूरस्थ माध्यम से शिक्षण की शिक्षार्थी केन्द्रित अवधारणा का अनुसरण करता है. यह किसी अन्य औपचारिक शिक्षा प्रणाली की तुलना में अधिक व्यापक स्तर पर शिक्षा के विषय उपलब्ध कराती है. शिक्षार्थी अपनी आवश्यकताओं और लक्ष्यों के आधार पर विषयों के संयोजन का चयन करने के लिए स्वतंत्र हैं. शिक्षार्थी विशेष रूप से तैयार की गई स्व-अध्यियन सामग्री (एसएलएम) से अपनी गति के अनुसार अध्ययन करते हैं. शिक्षार्थी को ऑडियो वीडियो सामग्री उपलब्ध कराई जाती है और अवकाश के दिनों व सप्ताहांतों में अध्ययन केन्द्रों पर प्रत्यक्ष कक्षाएं आयोजित की जाती हैं. शिक्षार्थियों को उनकी तैयारी के अनुसार उनके विषयों की परीक्षा में बैठने की स्वतंत्रता होती है.

प्रश्न – 5. NIOS  द्वारा कौन से पाठ्यक्रम चलाये जा रहे हैं?

उत्तर

एनआईओएस निम्नलिखित कार्यक्रम/पाठ्यक्रम चलाता है.

(क) मुक्त बेसिक शिक्षा (ओबीई) कार्यक्रम, जिसमें निम्नलिखित तीन स्तर के पाठ्यक्रम शामिल हैं.

(i) ओबीई ‘क’ स्तर का पाठ्यक्रम - तीसरी कक्षा के समकक्ष

(ii) ओबीई ‘ख स्तर का पाठ्यक्रम - पांचवीं कक्षा के समकक्ष

(iii) ओबीई 'ग' स्तर का पाठ्यक्रम - आठवीं कक्षा के समकक्ष

(ख) शैक्षिक पाठ्यक्रम

(i) माध्यमिक पाठ्यक्रम - दसवीं कक्षा के समकक्ष

(ii) उच्चतर माध्यमिक पाठ्यक्रम - बारहवीं कक्षा के समकक्ष

(ग) व्यावसायिक शिक्षा पाठ्यक्रम

(घ) जीवन समृद्धि पाठ्यक्रम

प्रश्न – 6. क्या एनआईओएस से प्राप्त माध्यमिक/उच्चतर माध्यमिक प्रमाणपत्र को वही मान्यता प्राप्त है जो अन्य बोर्डों को प्राप्त है?

उत्तर 

जी हां. एनआईओएस से प्राप्त माध्यमिक/उच्चतर माध्यमिक प्रमाणपत्रों को वही मान्यता प्राप्त है. जो अन्य बोर्डों द्वारा जारी प्रमाणपत्रों को प्राप्त है. एनआईओएस को दिनांक 14 सितंबर, 1990 में भारत सरकार के संकल्प के तहत माध्यमिक और उच्चतर माध्यमिक स्तर पर सार्वजनिक परीक्षाएं आयोजित करने का प्राधिकार प्राप्त है. इसके अतिरिक्त, एनआईओएस सहित सभी बोर्ड चाहे वे राष्ट्रीय बोर्ड हों या राज्य बोर्ड, राष्ट्रीय पाठ्यचर्या फ्रेमवर्क, 2005 का अनुसरण कर रहे हैं.

अतः एनआईओएस के माध्यमिक और उच्चतर माध्यमिक स्तर के प्रमाणपत्र अन्य बोर्डों के माध्यमिक और उच्चतर माध्यमिक स्तर के प्रमाणपत्रों के समकक्ष और उनके समान हैं.

प्रश्न – 7. NIOS  का संगठनात्मक स्वरूप क्या है?

उत्तर  – 

एनआईओएस का मुख्यालय ए-24-25, इंस्टीट्यूशनल एरिया, सेक्टर-62, नोएडा (उत्तर प्रदेश) में स्थित है.

इसके संगठनात्मक स्वरूप में मुख्यालय में पांच विभाग तथा देश के विभिन्न राज्यों/ भागों में उन्नीस क्षेत्रीय केन्द्र, दो उप-क्षेत्रीय केन्द्र तथा एक प्रकोष्ठ शामिल हैं. एनआईओएस के विभाग हैं (i) शैक्षिक (ii) व्यावसायिक शिक्षा (iii) मूल्यांकन (iv) शिक्षार्थी सहायता सेवाएँ और (v) प्रशासन.

प्रश्न – 8. मुझे NIOS के बारे में जानकारी कैसे प्राप्त हो सकती है?

उत्तरः

इसके लिए आप एनआईओएस की वेबसाईट www.nios.ac.in देख सकते हैं या |

इपीएबीएक्सः 0120-4089800, टोल फ्री नंबरः 18001809393 पर फोन द्वारा संपर्क कर सकते हैं.

प्रश्न – 9. क्या भारतीय विश्व विद्यालय संघ ने एनआईओएस प्रमाणपत्रों को समकक्षता प्रदान की है?

उत्तर  

जी हां. भारतीय विश्वविद्यालय संघ ने दिनांक 25 जुलाई, 1991 के पत्र सं ईवी 11/(354)/91 के तहत भारतीय विश्वविद्यालयों में उच्चतर शिक्षा में प्रवेश के लिए एनआईओएस के पाठ्यक्रमों को मान्यताप्राप्त बोर्डों की अन्य परीक्षाओं के समान समकक्षता प्रदान की है.

प्रश्न – 10. क्या NIOS से उत्तीर्ण माध्यमिक स्तर का शिक्षार्थी किसी अन्य बोर्ड में बारहवीं कक्षा में प्रवेश प्राप्त कर सकता है?

उत्तर  

जी हां. चूंकि एनआईओएस सहित राष्ट्रीय और राज्य स्तर के सभी बोर्ड एनसीईआरटी द्वारा निर्मित राष्ट्रीय पाठ्यक्रम फ्रेमवर्क-2005 का अनुसरण कर रहे हैं, इसलिए, एनआईओएस से माध्यमिक स्तर की परीक्षा उत्तीर्ण करने वाला शिक्षार्थी किसी अन्य बोर्ड में बारहवीं कक्षा में प्रवेश प्राप्त करने के योग्य है.

प्रश्न – 11. क्या एनआईओएस से उच्चतर माध्यमिक स्तर की परीक्षा पास करने वाला शिक्षार्थी विश्वविद्यालय या व्यावसायिक कॉलेजों में प्रवेश प्राप्त करने के योग्य है?

उत्तर  

जी हां. एनआईओएस का शिक्षार्थी किसी अन्य विश्वविद्यालय या व्यावसायिक कॉलेज में प्रवेश प्राप्त करने के योग्य है यदि वह उन विश्वविद्यालय/व्यावसायिक कॉलेज के योग्यता मानदंड को पूरा करता हो.

 

प्रश्न – 12. NIOS में प्रवेश लेने की प्रक्रिया क्या है?

उत्तर  –   

एनआईओएस ने माध्यमिक और उच्चतर माध्यमिक स्तर पर 100% ऑन-लाइन प्रवेश आरंभ किया है ताकि शिक्षार्थी स्वयं अपना पंजीकरण करा सकें. इस योजना के अंतर्गत, शिक्षार्थियों के पास तीन विकल्प हैं:

(i) वे एनआईओएस की वेबसाइट अर्थात् www.nios.ac.in पर जाकर प्रत्यक्ष रूप से स्वयं अपना

पंजीकरण करा सकते हैं.

(ii) वे अपने निकटतम एआई (अध्ययन केन्द्र/सहायता केन्द्र में जाकर वहाँ ऑन-लाइन पंजीकरण के लिए उनकी सहायता कर सकते हैं.

(iii) वे अपने क्षेत्रीय केन्द्रों में जा कर ऑन-लाइन पंजीकरण के लिए उनकी सहायता कर सकते हैं.

(iv) शिक्षार्थी देशभर में ऑनलाइन पंजीकरण के लिए भारत सरकार के जन सेवा केन्द्र की सेवाओं का प्रयोग भी कर सकते हैं.

प्रश्न – 13. माध्यमिक पाठ्यक्रम में प्रवेश के लिए योग्यता मानदंड क्या हैं?

उत्तर  –   

एक व्यक्ति जिसने आठवीं कक्षा पास की हो और उसके पास 14 वर्ष की आयु पूरी करने का वैध प्रमाणपत्र हो तो वह माध्यमिक पाठ्यक्रम में पंजीकरण के लिए आवेदन कर सकता है.

एक स्व-प्रमाणपत्र कि मैंने माध्यमिक पाठ्यक्रम करने के लिए पर्याप्त शिक्षा की है' देकर भी शिक्षार्थी माध्यमिक पाठ्यक्रम में प्रवेश के लिए योग्य हो सकता है.

ऐसा व्यक्ति जिसने माध्यमिक स्तर की शिक्षा कर ली है वह भी अपने पाठ्यक्रम को पूरा करने या अपने अंकों में और सुधार करने के लिए एनआईओएस के माध्यमिक पाठ्यक्रम में प्रवेश कर सकता है.

प्रश्न – 14. प्रवेश की वैधता अवधि क्या है?

उत्तर 

एक बार लिया गया प्रवेश अगले 5 वर्षों तक वैध रहता है.

प्रश्न – 15. क्या NIOS शुल्क में किसी प्रकार की छूटें प्रदान करता है?

उत्तर 

एनआईओएस के नियमानुसार महिलाओं तथा अ.जा./अ.ज.जा./भूतपूर्व सैनिकों तथा भिन्न रूप से

अक्षम शिक्षार्थियों को शुल्क में छूट प्रदान की जाती है.

प्रश्न – 16. क्या कोई शिक्षार्थी सीधे उच्चतर माध्यमिक पाठ्यक्रमों में प्रवेश कर सकता है ?

उत्तर 

जी नहीं. उच्चतर माध्यमिक पाठ्यक्रम में प्रवेश करने के लिए शिक्षार्थी को एक मान्यता बोर्ड से

माध्यमिक पाठ्यक्रम में पास होना अनिवार्य है.

प्रश्न – 17. उच्चतर माध्यमिक पाठ्यक्रम में प्रवेश के लिए न्यूनतम आयु सीमा क्या है?

उत्तर 

उच्चतर माध्यमिक पाठ्यक्रम में प्रवेश के लिए न्यूनतम आयु सीमा प्रवेश के वर्ष की 31 जुलाई

को 15 वर्ष है.

प्रश्न – 18. एनआईओएस में पढ़ाई के माध्यम के रूप में कौन सी भाषाएँ उपलब्ध हैं?

उत्तर 

एनआईओएस में माध्यमिक पाठ्यक्रम अंग्रेजी, हिन्दी, उर्दू, मराठी, तेलुगू, गुजराती, मलयालम तथा उडिया भाषाओं में तथा उच्चतर माध्यमिक पाठ्यक्रम अँग्रेजी, हिन्दी, उर्दू तथा बंगला भाषाओं में उपलब्ध है.

प्रश्न –19. माध्यमिक पाठ्यक्रम (कक्षा- X) के लिए कौन से विषय उपलब्ध हैं?

उत्तर 

अंग्रेजी, उर्दू, संस्कृत, बंग्ला, मराठी, तेलुगु, गुजराती, कन्नड़, पंजाबी, असमिया, नेपाली, मलयालम, उड़िया, अरबी, फारसी, तमिल, गणित, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी, सामाजिक ज्ञान, अर्थशास्त्र, व्यवसाय अध्ययन, गृह विज्ञान, मनोविज्ञान, भारतीय संस्कृति और विरासत, चित्रकला, डॉटा एन्ट्री कार्य.

प्रश्न – 20. उच्चतर माध्यमिक पाठ्यक्रम (कक्षा-XII) के लिए कौन से विषय उपलब्ध हैं ?

उत्तर 

हिन्दी, अंग्रेजी, बांग्ला, तमिल, उर्दू, संस्कृत, गणित, भौतिकी, रसायन विज्ञान, जीव विज्ञान, इतिहास, भूगोल, राजनीति अध्ययन, अर्थशास्त्र, व्यवसाय अध्ययन, लेखांकन, गृह विज्ञान, मनोविज्ञान, जन संचार, डॉटा एन्ट्री कार्य. अद्यतन स्थिति की जानकारी करने के लिए अद्यतन शैक्षिक विवरणिका देखें.

प्रश्न – 21. क्या मैं अपने प्रवेश की वैधता अवधि के दौरान अपने विषयों को बदल सकता/सकती हूं?

उत्तर 

जी हां. आप अपने एक या अधिक विषयों को बदल सकते हैं बशर्ते आपके विषयों की कुल संख्या सात से अधिक नहीं होनी चाहिए. तथापि, इस प्रकार के परिवर्तन की अनुमति आपके पंजीकरण से चार वर्ष के भीतर ही है, ताकि आप प्रवेश की वैधता अवधि के भीतर सार्वजनिक परीक्षा में बैठ सके. प्रथम परीक्षा में विषयों में किसी प्रकार के परिवर्तन/संवर्धन की अनुमति नहीं है. उत्तीर्ण किए जा चुके विषयों में परिवर्तन नहीं किया जा सकता है.

प्रश्न – 22. कक्षा-X का उत्तीर्ण प्रमाणपत्र प्राप्त करने के लिए कितने विषय अपेक्षित हैं?

उत्तर 

माध्यमिक स्तर पर उत्तीर्ण प्रमाणपत्र प्राप्त करने के लिए, शिक्षार्थी को एक या अधिकतम दो भाषाओं के साथ अधिकतम पांच विषयों में उत्तीर्ण होना आवश्यक है.

प्रश्न – 23. क्या मैं अतिरिक्त विषयों में भी प्रवेश ले सकता हूं?

उत्तर 

जी हां, आप दो अतिरिक्त विषय चुन सकते हैं. इस प्रकार, आप अधिकतम सात विषय ले सकते हैं

प्रश्न – 24. पंजीकरण और परीक्षा के लिए प्रवेश शुल्क कितना है?

उत्तर 

पंजीकरण और परीक्षा के लिए नवीनतम शुल्क की रूपरेखा एनआईओएस की वेबसाइट और विवरणिका में उपलब्ध है.

प्रश्न – 25. क्या एक शिक्षार्थी एक औपचारिक बोर्ड से माध्यमिक/उच्चतर माध्यमिक पाठ्यक्रम में उत्तीर्ण होने के पश्चात एनआईओएस के माध्यमिक/उच्चतर माध्यमिक पाठ्यक्रम में प्रवेश प्राप्त कर सकता है?

उत्तर 

जी हां. यदि आपने किसी राष्ट्रीय/राज्य बोर्ड से माध्यमिक/उच्चतर माध्यमिक पाठ्यक्रम की शिक्षा प्राप्त की है और आप एनआईओएस में समान पाठ्यक्रम में प्रवेश प्राप्त करना चाहते हैं तो आपको एनआईओएस में चार विषयों के साथ प्रवेश प्राप्त हो सकता है. इस पाठ्यक्रम को पूरा करने के पश्चात आपको केवल अंक तालिका प्रदान की जाएगी. दोहरी/आंशिक प्रवेश योजना के अंतर्गत प्रमाणपत्र जारी नहीं किया जाता है.

प्रश्न – 26. क्या शैक्षिक पाठ्यक्रम में शिक्षा प्राप्त कर रहा शिक्षार्थी व्यावसायिक पाठ्यक्रम के विषय चुन सकता है?

उत्तर 

जी हां, इसकी अनुमति है.

प्रश्न – 27. मुझे मेरे प्रवेश की पुष्टि किस प्रकार प्राप्त होगी?

उत्तर 

एक विशिष्ट पाठ्यक्रम में प्रवेश की पुष्टि सामान्यतः एनआईओएस द्वारा एक पहचान पत्र जारी करके होती है जिसमें एनआईओएस के पास उपलब्ध रिकार्डों के आधार पर आपके प्रवेश संबंधी विवरण होते हैं. प्रवेश की पुष्टि के बाद शिक्षार्थी को उसकी नामांकन संख्या के बारे में भी सूचित किया जाता है.

प्रश्न – 28. मुझे स्व-अध्ययन सामग्री कैसे प्राप्त होगी?

उत्तर

विभिन्न विषयों के लिए विशेष रूप से तैयार की गई मुद्रित स्व-अध्ययन सामग्री अन्य सहायक सामग्री सहित डाक द्वारा आपके घर के पते पर भेजी जाती है. अतः आप अपने घर का सही और पूरा पता दें.

प्रश्न – 29. यदि मुझे इस सामग्री का पार्सल प्राप्त नहीं होता है तो मैं स्वयं किस प्रकार यह अध्ययन सामग्री प्राप्त कर सकता हूँ?

उत्तर

यदि अध्ययन सामग्री का पार्सल आपके पास नहीं पहुंचता है तो आप अपने आवास पर अध्ययन सामग्री के पुनः प्रेषण के लिए उप निदेशक, सामग्री वितरण इकाई, सीडब्ल्यूसी, जी.टी. करनाल रोड, राणा प्रताप बाग, दिल्ली - 110033 को रु. 100/- (एक सौ रूपए केवल) का डिमांड ड्रॉफ्ट भेज सकते हैं और यह डिमांड ड्रॉफ्ट सचिव, एनआईओएस के पक्ष में और दिल्ली में देय होगा.

प्रश्न – 30. क्या प्रवेश रिकार्ड में संशोधन किए जाने का कोई प्रावधान है?

उत्तर

जी हां, यदि प्रवेश के समय किसी विवरण जैसे नाम, पिता के नाम, माता के नाम, जन्म तिथि, पता या फोटो आदि सही ढंग से नहीं लिखे गए हैं तो शिक्षार्थी संबंधित क्षेत्रीय केन्द्र में सहायक दस्तावेज प्रस्तुत करके संशोधन के लिए अनुरोध कर सकता है. इस संबंध में दिशानिर्देश एनआईओएस की वेबसाइट पर दिये गए हैं.

प्रश्न – 31. क्या एक शिक्षार्थी अपने विषय में परिवर्तन कर सकता है या अतिरिक्त विषय ले कर सकता है?

उत्तर

प्रवेश के पश्चात शिक्षार्थी अपेक्षित शुल्क का भुगतान करके अपने विषय बदल सकता है या कोई अतिरिक्त विषय प्राप्त कर सकता है.

प्रश्न – 32. क्या एनआईओएस पहचान पत्र की दूसरी प्रति जारी करता है?

उत्तर

जी हां, पहचान पत्र खो जाने की स्थिति में, संबंधित पुलिस स्टेशन में इसकी प्रथम सूचना रिपोर्ट (एफआईआर) दर्ज कराने के पश्चात पहचान पत्र की दूसरी प्रति जारी की जाती है. इसके लिए शिक्षार्थी को एक कागज पर एनआईओएस के संबंधित क्षेत्रीय केन्द्र में आवेदन करना होगा और इस आवेदन के साथ एफआईआर की प्रति, अपेक्षित शुल्कं का बैंक ड्राफ्ट और दो फोटो संलग्न करने होंगे. इस बारे में विस्तृत दिशा-निर्देश एनआईओएस की वेबसाइट पर देखे जा सकते हैं.

प्रश्न – 33. क्या शिक्षार्थी कोई भी विषय संयोजन चुन सकता है?

उत्तर

शिक्षार्थी उत्तीर्ण होने का मानदंड और प्रमाणन मानदंड के साथ-साथ आगे की शिक्षा के लिए अन्य बोर्डो/विश्वविद्यालयों की आवश्यकताओं को भी ध्यान में रखते हुए एनआईओएस की वेबसाइट और विवरणिका पर दी गई सूची से अपनी पसंद के विषय चुन सकता/सकती है.

प्रश्न – 34. क्या शिक्षार्थी माध्यमिक (Class 10th) और उच्चतर माध्यमिक (Class 12th) स्तर पर शैक्षिक पाठ्यक्रमों के साथ व्यावसायिक विषय ले सकता है?

उत्तर

जी हाँ. एनआईओएस के पाठ्यक्रमों को और अधिक सार्थक बनाने के लिए माध्यमिक और उच्चतर माध्यमिक स्तरों पर व्यावसायिक पाठ्यक्रम स्वतंत्र रूप से या शैक्षिक विषयों के साथ चलाए जाते हैं.

प्रश्न – 35. क्या भारत सरकार के जन सेवा केंद्र NIOS के सहायता केंद्रों के रूप में कार्य करने के लिए प्राधिकृत हैं?

उत्तर –

जी हाँ. एनआईओएस ने सीएससी ई-गवर्नेस इंडिया ज्ञापन सूचना और प्रौद्योगिकी मंत्रालय, भारत सरकार के साथ समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए हैं. इस एमओयू के अंतर्गत देश भर के सभी जन सेवा केंद्र एनआईओएस के सहायता केंद्रों के रूप में वहाँ कार्य करेंगे जहां कोई भी भावी शिक्षार्थी निर्धारित दरों पर एनआईओएस की विभिन्न ऑनलाइन सुविधाएं ले रहे हैं. ये दरें पुस्तिका के पृष्ठ 15 से 16 पर दिए गए हैं. शिक्षार्थी को इन दरों के अनुसार राशि का भुगतान करना होगा और यह राशि एनआईओएस के पंजीकरण शुल्क के अतिरिक्त होगी.

Related Categories

    Related Stories