Search

ऑनलाइन और ऑफलाइन इंश्योरेंस: भारत में इंश्योरेंस प्रोफेशनल्स के लिए करियर स्कोप

आजकल भारत में इंश्योरेंस का कारोबार काफी लोकप्रिय हो रहा है. प्रत्येक परिवार ने आमतौर पर कोई एक या अन्य बीमा पॉलिसी ली हुई है इसलिए, एक इंश्योरेंस प्रोफेशनल बनने के बारे में आपका क्या इरादा है? यहां भारत में इंश्योरेंस प्रोफेशनल्स के संदर्भ में विस्तृत जानकारी दी जा रही है.

Jan 23, 2020 18:33 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon
Career Scope of Insurance Professionals in India
Career Scope of Insurance Professionals in India

आजकल हम सभी ‘इंश्योरेंस’ शब्द से भलीभांति परिचित हैं और देश-दुनिया के करोड़ों परिवारों ने अपनी संपत्ति – मकान, दुकान, कंपनी, जमीन, व्हीकल और कीमती सामान सहित अपने परिवार के तकरीबन सभी सदस्यों की इंश्योरेंस करवा रखी है. यहां तक कि अब लोग अपने स्वास्थ्य के लिए भी कई किस्म के मेडिक्लेम लेते हैं और विभिन्न सरकारी या प्राइवेट कंपनियां भी अपने कर्मचारियों को हेल्थ इंश्योरेंस की सुविधा उपलब्ध करवा रही हैं. अगर हम भारत में इंश्योरेंस के कारोबार पर एक नजर डालें तो एक अनुमान के मुताबिक इस साल अर्थात 2020 तक भारत का कुल इंश्योरेंस कारोबार अमरीकी डॉलर 280 बिलियन तक पहुंच जायेगा और आने वाले कुछ वर्षों में भारत में इंश्योरेंस इंडस्ट्री की सालाना विकास दर लगभग 12 – 15 फीसदी रहेगी. इसी तरह, भारत में वर्तमान में 57 इंश्योरेंस कंपनियां हैं जिनमें से 24 कंपनियां लाइफ इंश्योरेंस से संबंधित हैं और बाकी 33 कंपनियां नॉन-लाइफ इंश्योरर के तौर पर काम कर रही हैं. आइये आगे पढ़ें:

इंश्योरेंस प्रोफेशनल्स के लिए एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया और एजुकेशनल क्वालिफिकेशन

हमारे देश में किसी मान्यताप्राप्त एजुकेशनल बोर्ड से 12वीं पास स्टूडेंट्स इंश्योरेंस की फील्ड से संबंधित विभिन्न एजुकेशनल कोर्सेज में एडमिशन ले सकते हैं:

डिप्लोमा कोर्सेज –

  • पीजी डिप्लोमा – इंश्योरेंस साइंस
  • पीजी डिप्लोमा – मैनेजमेंट ऑफ़ इंश्योरेंस एंड फाइनेंशल सर्विसेज
  • पीजी डिप्लोमा – सर्टिफाइड रिस्क एंड इंश्योरेंस मैनेजमेंट
  • पीजी डिप्लोमा – इंश्योरेंस एंड रिस्क मैनेजमेंट

डिग्री कोर्सेज -

  • बीए – इंश्योरेंस
  • बीए पास – इंश्योरेंस एक सब्जेक्ट के तौर पर
  • बीएससी – एक्चुरियल साइंस एक सब्जेक्ट के तौर पर
  • एमएससी – एक्चुरियल साइंस

महत्वपूर्ण सूचना:  

किसी इंश्योरेंस एजेंट के तौर पर करियर शुरू करने के लिए कैंडिडेट्स को IRDA एंट्रेंस एग्जाम पास करना होता है. इसी तरह, एक एक्चुअरी के तौर पर काम करने के लिए कैंडिडेट्स को एक्चुरियल सोसाइटी ऑफ़ इंडिया, मुंबई द्वारा आयोजित एंट्रेंस एग्जाम पास करना होता है.

बैंकिंग सेक्टर में जॉब पाने के लिए कुछ जरूरी स्किल्स

इंश्योरेंस प्रोफेशनल्स यहां से करें एजुकेशनल कोर्सेज

वैसे तो हमारे देश के तकरीबन सभी कॉलेज और यूनिवर्सिटीज़ इंश्योरेंस से संबंधित विभिन्न एजुकेशनल डिग्री और सर्टिफिकेट कोर्सेज करवाते हैं लेकिन कुछ प्रमुख कॉलेज और यूनिवर्सिटीज़ की लिस्ट निम्नलिखित है:

  • सावित्रीबाई फुले पुणे यूनिवर्सिटी, पुणे
  • इंडियन इंश्योरेंस इंस्टीट्यूट, कलकत्ता
  • इंश्योरेंस इंस्टीट्यूट ऑफ़ इंडिया, मुंबई
  • एक्चुरियल सोसाइटी ऑफ़ इंडिया, मुंबई
  • बिरला इंस्टीट्यूट ऑफ़ मैनेजमेंट एंड टेक्नोलॉजी, नई दिल्ली
  • इंटरनेशनल स्कूल ऑफ़ एक्चुरियल साइंसेज, हैदराबाद
  • एमिटी स्कूल ऑफ़ इंश्योरेंस एंड एक्चुरियल साइंस, नॉएडा
  • इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट फॉर इंश्योरेंस एंड फाइनेंस, हैदराबाद
  • अन्नामलाई यूनिवर्सिटी, चेन्नई
  • इंस्टीट्यूट ऑफ़ इंश्योरेंस एंड रिस्क मैनेजमेंट, हैदराबाद

भारत में इंश्योरेंस प्रोफेशनल्स का जॉब प्रोफाइल

हमारे देश में इंश्योरेंस की फील्ड में पेशेवर कई जॉब प्रोफाइल्स या करियर ऑप्शन्स के लिए अप्लाई कर सकते हैं. इस फील्ड से जुड़े विभिन्न करियर्स निम्नलिखित हैं:

  • इंश्योरेंस सर्वेयर

ये पेशेवर एक इंडिपेंडेंट प्रोफेशनल के तौर पर अपना काम करते हैं और इनके लिए IRDA से लाइसेंस हासिल करना जरुरी होता है. ये पेशेवर नॉन-लाइफ इंश्योरेंस मामलों में संपत्ति में हुए नुकसान का सर्वे करके इंश्योरेंस राशि का अनुमान लगाते हैं. इन पेशेवरों के लिए इंजीनियरिंग या इंश्योरेंस की किसी संबद्ध फील्ड में ग्रेजुएशन की डिग्री हासिल करना जरुरी होता है.  

  • एक्चुअरी

ये पेशेवर रिस्क का मूल्यांकन करने के बाद विभिन्न इंश्योरेंस पॉलिसीस में प्रीमियम्स निर्धारित करते हैं. आमतौर पर ये पेशेवर किसी एक किस्म की इंश्योरेंस के एक्सपर्ट होते हैं. इन पेशेवरों के लिए मैथ्स, स्टेटिस्टिक्स या किसी संबद्ध फील्ड में ग्रेजुएशन की डिग्री जरुरी है.

  • इंश्योरेंस अंडरराइटर

ये पेशेवर इंश्योरेंस के विभिन्न मामलों में संभावित रिस्क का अनुमान लगाकर अपनी इंश्योरेंस कंपनी द्वारा विभिन्न लोगों का इंश्योरेंस करवाने के लिए विभिन्न किस्म के इंश्योरेंस केसेस तैयार करते हैं. इन पेशेवरों के लिए मैथ्स, फाइनेंस, बिजनेस या इकोनॉमिक्स में ग्रेजुएशन की डिग्री जरुरी है.

  • डेवलपमेंट ऑफिसर

ये पेशेवर विभिन्न किस्म की इंश्योरेंस पॉलिसीस को प्रमोट करने के लिए अपने एरिया में प्रचार-प्रसार और अन्य संबद्ध कार्य करने के लिए जिम्मेदार होते हैं. इन पेशेवरों के पास ग्रेजुएशन की डिग्री होनी चाहिए.

  • इंश्योरेंस सेल्स एजेंट

ये पेशेवर सभी तरह के ग्राहकों को उनकी जरूरत के मुताबिक अपनी कंपनी की विभिन्न इंश्योरेंस पॉलिसीस बेचते हैं. आमतौर पर ये पेशेवर लाइफ इंश्योरेंस, हेल्थ इंशोरेंस और प्रॉपर्टी से संबद्ध इंश्योरेंस से जुड़े विभिन्न काम करते हैं. इन पेशेवरों के लिए किसी मान्यताप्राप्त एजुकेशनल बोर्ड से 12वीं पास होना जरुरी है.

भारत में इंश्योरेंस की फील्ड में कुछ अन्य प्रमुख जॉब प्रोफाइल्स की लिस्ट

  • इन्वेस्टमेंट प्रोफेशनल
  • एडमिनिस्ट्रेटिव ऑफिसर
  • असिस्टेंट एडमिनिस्ट्रेटिव ऑफिसर
  • इंश्योरेंस एजेंट
  • क्लेम एडजस्टर, क्लेम एग्जामिनर, इंश्योरेंस इन्वेस्टिगेटर

भारत में ऑनलाइन/ ऑफलाइन इंश्योरेंस की फील्ड में करियर स्कोप

हमारे देश में आजकल इंश्योरेंस का कारोबार ऑनलाइन और ऑफलाइन मोड्स से हो रहा है. अब जब भारत में अधिकांश परिवार किसी न किसी तौर पर इंश्योरेंस के कारोबार से जुड़े हैं. कई बड़ी इंश्योरेंस कंपनियां विभिन्न इंश्योरेंस प्रोफेशनल्स के साथ-साथ डॉक्टर्स और इंजीनियर्स को भी इंडिपेंडेंट प्रोफेशनल्स के तौर पर रिक्रूट करती हैं. भारत में विभिन्न इंश्योरेंस प्रोफेशनल्स के लिए बेहतरीन करियर स्कोप है क्योंकि ये पेशेवर व्यक्तियों, कंपनियों, फर्मों और बड़े एंटरप्राइजेज या कॉर्पोरेट हाउसेस को मेडिक्लेम जैसी लाइफ इंश्योरेंस और प्रॉपर्टी जैसी नॉन-लाइफ इंश्योरेंस की विभिन्न पॉलिसीज़ के बारे में जानकारी देकर इन पॉलिसीज़ को लेने के लिए लगातार प्रेरित करते हैं और इसके एवज में लाखों रुपये मासिक या सालाना वेतन और/ या इंसेंटिव्स प्राप्त करते हैं. ऐसे में, आप खुद ही अनुमान लगा सकते हैं कि हमारे देश में किसी इंश्योरेंस प्रोफेशनल के लिए करियर ग्रोथ की कितनी अधिक आशाजनक संभावनाएं हैं.

बीमा क्षेत्र में करियर ग्रोथ की व्यापक संभावना

भारत में इंश्योरेंस प्रोफेशनल्स का सैलरी पैकेज

हमारे देश में इंश्योरेंस की फील्ड से जुड़े किसी फ्रेशर कैंडिडेट को शुरू में आमतौर पर 25 – 30 हजार रुपये मासिक सैलरी मिलती है. जब पेशेवरों को 3 - 4 वर्षों का वर्क एक्सपीरियंस हो जाता है तो वे एवरेज 4 – 5 लाख रुपये सालाना कमाने लगते हैं. इस फील्ड में 8 – 10 साल का वर्क एक्सपीरियंस रखने वाले पेशेवर एवरेज 7 – 10 लाख रुपये सालाना तक कमाते हैं. इसी तरह, इस फील्ड में पेशेवरों को टारगेट हासिल करने पर बढ़िया इंसेंटिव्स भी मिलते हैं.

भारत में टॉप इंश्योरेंस जॉब रिक्रूटर्स  

हमारे देश में इंश्योरेंस प्रोफेशनल्स निम्नलिखित इंश्योरेंस कंपनियों में विभिन्न करियर प्रोफाइल्स के लिए अप्लाई कर सकते हैं:

  • भारतीय जीवन बीमा निगम
  • बजाज अलाइन्ज़ जनरल इंश्योरेंस
  • आईसीआईसीआई लोम्बार्ड जनरल इंश्योरेंस
  • आईसीआईसीआई प्रूडेंशल लाइफ इंश्योरेंस
  • न्यू इंडिया इंश्योरेंस कंपनी
  • रिलायंस लाइफ इंश्योरेंस
  • ओरीएंटल इंश्योरेंस कंपनी
  • एचडीएफ़सी स्टैंडर्ड लाइफ इंश्योरेंस
  • टाटा एआईजी
  • कोटक महिंद्रा ओल्ड म्यूच्यूअल लाइफ इंश्योरेंस लिमिटेड

भारत में प्राइवेट बैंकिंग में करियर ऑप्शन और ग्रोथ प्रॉस्पेक्ट्स  

जॉब, इंटरव्यू, करियर, कॉलेज, एजुकेशनल इंस्टीट्यूट्स, एकेडेमिक और पेशेवर कोर्सेज के बारे में और अधिक जानकारी प्राप्त करने और लेटेस्ट आर्टिकल पढ़ने के लिए आप हमारी वेबसाइट www.jagranjosh.com पर विजिट कर सकते हैं.

 

Related Stories