Search

वर्ष 2019 के इन टॉप 9 MBA एग्जाम्स को पास करने का बनाएं लक्ष्य

अगर आप इस साल भारत के किसी टॉप बी-स्कूल में एडमिशन लेना चाहते हैं तो जानिये भारत के इन टॉप MBA एग्जाम्स के बारे में जिन्हें पास करना अधिकतर MBA कैंडिडेट्स का लक्ष्य होता है. यहां इन एग्जाम्स को पास करने के कुछ खास टिप्स भी दिए जा रहे हैं.

Jan 24, 2020 17:52 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon
Top 9 MBA exams that you must aim for in 2019
Top 9 MBA exams that you must aim for in 2019

अगर आप इस साल भारत के किसी टॉप बी-स्कूल में एडमिशन लेना चाहते हैं तो अब आपके लिए हमारे देश में लिए जाने वाले विभिन्न MBA एंट्रेंस एग्जाम्स के पैटर्न के मुताबिक तैयारी करने का समय आ चुका है. हमारे देश में किसी भी टॉप बी-स्कूल के MBA कोर्स में एडमिशन लेने के लिए CAT एग्जाम पास करना आमतौर पर सभी स्टूडेंट्स की टॉप प्रायोरिटी होता है. लेकिन यहां हम आपके लिए देश के टॉप 9 MBA एंट्रेंस एग्जाम्स की जानकारी दे रहे हैं ताकि किसी टॉप बी-स्कूल के MBA कोर्स में एडमिशन लेने के लिए आपके पास कई ऑप्शन्स उपलब्ध हों. हमारी यह सलाह है कि CAT एग्जाम के अलावा भी आपको अन्य MBA एंट्रेंस एग्जाम्स की तैयारी करनी चाहिए ताकि आपको किसी न किसी बेहतर तथा मनचाहे इंस्टीट्यूट में एडमिशन मिल सके. अगर आप एक से अधिक इंस्टिट्यूट्स या यूनिवर्सिटीज़ का MBA एंट्रेंस एग्जाम देंगे तो किसी अच्छे इंस्टीट्यूट के मनचाहे MBA कोर्स में एडमिशन मिलने की संभावना उतनी ही अधिक होगी.

नीचे भारत के टॉप 9 MBA एंट्रेंस एग्जाम्स की लिस्ट प्रस्तुत की गयी है. भारत के किसी टॉप बी-स्कूल में एडमिशन लेने के लिए स्टूडेंट्स इन एंट्रेंस एग्जाम्स को क्वालीफाई करने का प्रयास कर सकते हैं:

  1. CAT 2019: सभी MBA एग्जाम्स में टॉप एग्जाम

MBA एंट्रेंस एग्जाम सेशन के अंत में स्टूडेंट्स द्वारा पछतावा का मुख्य कारण सिर्फ CAT अप्रोच को अपनाने वाली आम गलती ही होती है. हालांकि सभी प्रमुख MBA एंट्रेंस एग्जाम्स के सामान्य पाठ्यक्रम में मात्रात्मक क्षमता (क्वांटीटेटिव एबिलिटी), मौखिक क्षमता (वर्बल एबिलिटी) और डेटा व्याख्या (डेटा इंटरप्रिटेशन) तथा तार्किक तर्क (लॉजिकल रीजनिंग) आदि प्रश्नों के प्रकार, उनकी शैली तथा कभी कभी उनका सेक्शन अलग-अलग हो सकते हैं.

उदाहरण के लिए कुछ MBA एंट्रेंस एग्जाम्स में एक जनरल नॉलेज सेक्शन होता है; जबकि XAT और एमआईसीएटी जैसे एग्जाम्स कुछ ऑबजेक्टिव और सबजेक्टिव प्रश्नों का संयोजन रखते हैं.

CAT 2019: एग्जाम एनालिसिस

मैनेजमेंट एंट्रेंस एग्जाम्स में आने वाली किसी भी चीज़ से निपटने के लिए स्टूडेंट्स को अपनी तैयारी हेतु एक स्ट्रेटेजी  तैयार करने की आवश्यकता है जिसमें MBA एग्जाम्स के सभी अद्वितीय पहलुओं को शामिल किया जाना चाहिए. आइए कुछ विभिन्न MBA एंट्रेंस एग्जाम्स का मूल्यांकन करते हैं और महत्वपूर्ण पहलुओं को समझने की कोशिश करते हैं.

जनरल प्रिपरेशन टिप्स

इन सभी मैनेजमेंट एग्जाम्स में कुछ  समानताएं तथा विभिन्नताएं पायी जाती हैं  और सभी के लिए अलग से तैयारी करना मुश्किल होता है. हालांकि इन सभी एग्जामओं में एक साथ सफलता पाने की स्ट्रेटेजी बनाना थोड़ा मुश्किल होगा लेकिन एक बार आप सही स्ट्रेटेजी बनाने में कामयाब हो गए तो अवश्य ही सभी एग्जाम्स में बढ़िया प्रदर्शन कर पाएंगे. नीचे कुछ ऐसे ही तथ्य दिए गए हैं जिन्हें आप अपनी स्ट्रेटेजी बनाते समय ध्यान में रख सकते हैं:

  • कॉन्सेप्ट पर फोकस करें: MBA एंट्रेंस एग्जाम को क्रैक करने के विषय में गंभीर कैंडिडेट्स को सिलेबस की मूल अवधारणाओं पर ध्यान देना चाहिए. एक अभ्यर्थी के रूप में स्टूडेंट्स को सिलेबस के महत्वपूर्ण तथ्यों के बारे में अपना कॉन्सेप्ट बिलकुल क्लियर रखना चाहिए. सभी तथ्यों की  व्यापक जानकारी और स्पष्ट समझ होनी चाहिए.
  • मॉक टेस्ट: चाहे आप कितनी भी पढ़ाई कर लें जब तक आप मॉक टेस्ट की प्रैक्टिस नहीं करते हैं तब तक आपको एग्जाम्स की स्टाइल तथा उसमें पूछे जाने वाले प्रश्नों के विषय में सही जानकारी ही नहीं होगी. इसलिए अधिक से अधिक मॉक टेस्ट,कम्प्यूटर मोडल तथा पेन पेपर मोडल दोनों ही रूपों में करें. इससे एग्जाम्स के विषय में आपकी समझ बढ़ेगी.टाइम मैनेजमेंट की कला सीखने के साथ साथ एग्जाम स्ट्रक्चर को भी जान सकेंगे.
  • गुड रीडिंग हैबिट: अपने अन्दर पढ़ने की आदत विकसित करें, मैगजींस,एडिटोरियल्स, जनरल नॉलेज की किताबों तथा न्यूजपेपर से तैयारी करें.अपने इर्द गिर्द डेली घटने वाली घटनाओं पर पैनी नजर रखें तथा उन्हें याद करें. इससे न सिर्फ आपका करेंट अफेयर तथा जनरल नॉलेज पर मजबूत पकड़ बनेगी बल्कि इससे आपके राइटिंग स्किल्स में भी सुधार होगा तथा वर्णात्मक तथ्यों पर भी स्पष्ट समझ विकसित होगी.
  1. IIFT 2019 : फॉरेन ट्रेड डोमेन के लिए सही विकल्प

IIFT (भारतीय विदेश व्यापार संस्थान) स्टूडेंट्स को अपने कैम्पस में पेश किए गए मैनेजमेंट कोर्सेज में एडमिशन देने के लिए अपनी अलग से एंट्रेंस एग्जाम आयोजित करता है. IIFT 2019 एक दो घंटे का पेपर मोड परीक्षण है जिसमें 114 -150 प्रश्न होते हैं. ये प्रश्न पांच मुख्य विषयों मात्रात्मक क्षमता (क्वांटीटेटिव एबिलिटी), मौखिक क्षमता (वर्बल एबिलिटी) और डेटा व्याख्या( डेटा इंटरप्रिटेशन ) तथा तार्किक तर्क (लॉजिकल रीजनिंग) आदि तथा जनरल अवेयरनेस आदि से पूछे जाते हैं.

कोर कॉमन सेक्शन के अतिरिक्त, IIFT एंट्रेंस एग्जाम में एक जनरल अवेयरनेस सेक्शन होता है. IIFT मैनेजमेंट प्रोग्राम में एडमिशन लेने के इक्छुक कैंडिडेट्स को इन सभी सेक्शन की तैयारी करनी चाहिए. यद्यपि इस एग्जाम को क्वालीफाई करने की ओवरआल इंडेक्स कम ही रहता है लेकिन कैंडिडेट्स को सभी सेक्शन को न्यूनतम अंकों के साथ क्लियर करना होता है. XAT एग्जाम की तरह ही IIFT जनरल अवेयरनेस सेक्शन में करेंट अफेयर्स और जीके के प्रश्न शामिल होते हैं और अगर पिछले रुझानों को देखा जाय तो जीके के प्रश्न करेंट अफेयर्स से पूछे गए प्रश्नों की तुलना में अधिक हैं. IIFT इंटरनेशनल बिजनेस में MBA की डिग्री प्रदान करता है और इसलिए जनरल अवेयरनेस सेक्शन को तैयार करने के लिए वर्तमान अंतरराष्ट्रीय व्यापार और राजनीति से संबंधित विषयों को कवर करना बहुत महत्वपूर्ण है.कवर किए जाने वाले प्रमुख विषयों में विलय और अधिग्रहण, हालिया नियुक्तियों, कॉर्पोरेट तथ्यों, इतिहास तथा अवार्ड्स आदि घटनाएं प्रमुख हैं.

मार्किंग सिस्टम

IIFT का मार्किंग पैटर्न भी  थोड़ा अलग है.अलग-अलग प्रश्नों के लिए अलग-अलग मार्किंग सिस्टम है.साथ ही एलॉटेड मार्क्स में गलतियों पर 1/3 कॉमन निगेटिव मार्किंग का प्रोविजन भी है.

  1. XAT (XAT) 2019 :  जेवियर लीग में एंट्रेंस के लिए है जरुरी

पिछले साल ही संशोधित एक महत्वपूर्ण मैनेजमेंट एंट्रेंस एग्जाम है XAT 2019.  जेवियर एप्टीट्यूड टेस्ट के  मार्किंग स्कीम और परीक्षण अवधि के मामले में महत्वपूर्ण बदलाव किया गया है. CAT या किसी अन्य MBA एंट्रेंस एग्जाम की तुलना में XAT हमेशा थोड़ा अलग रहा है. इसके लिए स्टूडेंट्स को मात्रात्मक क्षमता (क्वांटिटेटिव एबिलिटी), मौखिक क्षमता (वर्बल एबिलिटी) और डेटा व्याख्या (डेटा इंटरप्रिटेशन) तथा तार्किक तर्क (लॉजिकल रीजनिंग),जनरल अवेयरनेस के साथ साथ डिसीजन मेकिंग और एस्से पेपर की भी तैयारी करनी होगी.

पहली अटेम्प्ट में XAT एग्जाम पास करने के टिप्स

XAT 2019 का प्रश्न पत्र अब पहले के 3 घंटे की बजाय 3.5 घंटे का होगा. समय को  पेपर वार विभाजित किया गया है, जिसमें पेपर 1 में क्वांटिटेटिव एबिलिटी, अंग्रेजी भाषा और लॉजिकल रीजनिंग और डिसीजन मेकिंग जैसे कोर खंड शामिल हैं, 3 घंटे का होगा, जबकि पेपर 2 जिसमें निबंध लेखन और जनरल अवेयरनेस जैसे सेक्शन  शामिल हैं, 30 मिनट का होगा.

डिसीजन मेकिंग सेक्शन

XAT 2019 के डिसीजन मेकिंग क्वेश्चन पेपर का उद्देश्य केसलेट की मदद से कैंडिडेट्स की गणनात्मक, व्याख्यात्मक और तार्किक कौशल का परीक्षण करना है. केसलेट मिनी केस स्टडीज हैं जो एक वर्णनात्मक पाठ संदर्भ के रूप में सभी संबंधित पहलुओं का विवरण देने वाली समस्या या स्थिति को बताता है.डिसीजन मेकिंग  केसलेट के लिए एक आदर्श उत्तर में मूल्यांकन के विवरण शामिल होंगे जो कारणों का उत्तर देते हैं तथा केसलेट में दी गई विशेष स्थिति या समस्या को बताते हैं.

दूसरा, दिए गए उत्तर के पक्ष में अपना स्पष्ट तर्क तथा समस्या को सर्वोत्तम तरीके से हल करने के लिए अपनाये गए सिस्टम का वर्णन करना होगा. डिसीजन मेकिंग सेक्शन को तैयार करने के लिए स्टूडेंट्स को ऊपर दिए गए बातों को ध्यान में रखते हुए पिछले प्रश्न पत्र और अभ्यास को भी हल करना चाहिए.

एस्से राइटिंग या निबंध लेखन स्किल

सिर्फ XAT एग्जाम में ही पूछे जाने के कारण कैंडिडेट्स अक्सर इस सेक्शन को ज्यादा महत्व नहीं देते हैं.

निबंध लेखन सेक्शन  के लिए कोई निश्चित पाठ्यक्रम नहीं है और इसके विषय आम तौर पर महत्वपूर्ण मुद्दों और वर्तमान मामलों से ही होते हैं. XAT के लिए एक अच्छा निबंध किसी भी विषय को समकालीन परिदृश्य में क्यों महत्वपूर्ण समझा जाता है, इसका समग्र दृष्टिकोण प्रदान करता है.

यह सेक्शन पेपर 2 का हिस्सा है  और 30 मिनट के कुल समय में कैंडिडेट्स को निबंध लेखन के लिए 20 मिनट का समय लेना चाहिए.निबंध लेखन के लिए एक आदर्श स्ट्रेटेजी बनाते समय विशेष पत्रिकाएं,एडिटोरियल केस स्टडीज तथा अन्य पर फोकस करना चाहिए. इसके अतिरिक्त स्टूडेंट्स को डेली एक पेन-पेपर टेस्ट के तहत किसी भी विषय पर 200-300 शब्दों में निबंध लिखने का अभ्यास करना चाहिए. इससे निबंध लेखन की कला में निपुणता आती है.

जनरल अवेयरनेस सेक्शन

जनरल अवेयरनेस सेक्शन भी पेपर 2 का हिस्सा है तथा इस पर कुल 10 मिनट का समय मिलता है. इसमें करेंट अफेयर्स तथा जनरल नॉलेज के 30 मल्टीपल च्वाइस क्वेश्चंस पूछे जाते हैं. पिछले साल पूछे गए जनरल अवेयरनेस सेक्शन के प्रश्न कठिन थे. इस सेक्शन में नेशनल, इंटरनेशनल, हिस्ट्री, इकोनोमी, सोशल मूवमेंट, लिट्रेचर, अवार्ड, टेक्नोलॉजी, मूवी, जियोग्राफी तथा अन्य विषय इसके अंतर्गत कवर किये जाते हैं.

मार्किंग सिस्टम 

XAT 2019 के लिए मार्किंग सिस्टम को भी संशोधित किया गया है, रिपोर्टों के मुताबिक गैर-प्रयास किए गए प्रश्नों के लिए निगेटिव मार्किंग शुरू किया जा सकता है और गलत उत्तरों के लिए भी निगेटिव मार्किंग होगी.

  1. SNAP2019: सिम्बायोसिस का एंट्रेंस एग्जाम

SNAP (सिम्बायोसिस नेशनल एप्टीट्यूड टेस्ट) सिम्बायोसिस इंटरनेशनल यूनिवर्सिटी के सभी कॉलेजों तथा इंस्टीट्यूट्स में एडमिशन लेने के लिए मेन एंट्रेंस एग्जाम है. SNAP 2 घंटे का ऑनलाइन टेस्ट होता है. इससे पूर्व इसका आयोजन पेन पेन्सिल मोड में होता था लेकिन 2017 से इस एग्जाम को अन्य सर्वश्रेष्ठ मैनेजमेंट इंस्टीट्यूट्स की केटेगरी में लाने के उद्देश्य से इसे ऑनलाइन कर दिया गया. SNAP टेस्ट का फोकस एनालिटिकल और लॉजिकल रीजनिंग सेक्शन पर होता है.

जनरल अवेयरनेस

अगर अन्य MBA एंट्रेंस एग्जाम से तुलना की जाय तो SNAP का जनरल अवेयरनेस सेक्शन थोड़ा टफ है. इस सेक्शन में जनरल नॉलेज और करंट अफेयर्स के कई टॉपिक्स जैसेकि स्पोर्ट्स, इंडियन कॉन्स्टीट्यूशन, एडवरटाइज़मेंट्स, जनरल हिस्ट्री, बिजनेस और ब्रांड अवेयरनेस, जनरल जियोग्राफी पर्सनैलिटीज़, जनरल इकोनॉमिक्स, बिजनेस न्यूज़, पॉलिटिक्स और अवार्ड्स कवर किये जाते हैं.

मार्किंग सिस्टम

SNAP टेस्ट में अलग-अलग मार्किंग सिस्टम को अपनाया जाता है, इसमें 1 और 2 अंक के अलग-अलग प्रश्न होते हैं. प्रत्येक गलत उत्तर के लिए 25% का निगेटिव मार्किंग किया जाता है.

  1. GMAC2019 द्वारा NMAT

NMAT एनएमआईएमएस, हैदराबाद और बेंगलुरू कैम्पस में पीजीडीएम कोर्स तथा एनएमआईएमएस मुंबई में फुल टाइम रेगुलर MBA कोर्स में एडमिशन लेने के लिए MBA एंट्रेंस एग्जाम है. यह एग्जाम जीएमएसी (ग्रेजुएट मैनेजमेंट एडमिशन काउंसिल, एक अंतरराष्ट्रीय संगठन जो दुनिया भर के अग्रणी बिजनेस स्कूलों को मिलाकर बना है.) के सहयोग से आयोजित की जाती है.NMAT में लैंग्वेज स्किल्स, क्वांटिटेटिव स्किल्स तथा लॉजिकल रीजनिंग के प्रश्नों पर आधारित दो घंटे का ऑनलाइन टेस्ट (कंप्यूटर बेस्ड) होता है.प्रत्येक सेक्शन में पूछे गए प्रश्न हर साल अलग-अलग होते हैं.

लैंग्वेज स्किल्स

NMAT का मुख्य फोकस लैंग्वेज स्किल्स पर होता है और यह आमतौर पर अन्य MBA एग्जाम की तुलना में टफ एंट्रेंस एग्जाम है. इस सेक्शन के अंतर्गत क्वेश्चन स्टाइल, रीडिंग कम्प्रिहेंसन, इंग्लिश का प्रयोग, वोकेबुलरी टेस्ट, पैरा जम्बल्स, संटेंस करेक्शन, ग्रामर इनपुट्स और वर्बल एनालॉजी पर विशेषतः फोकस किया जाता है.

क्वांट और लॉजिकल रीजनिंग

NMAT का क्वांट और लॉजिकल रीजनिंग CAT तथा अन्य मेजर एंट्रेंस एग्जाम्स की तरह ही है. क्वांटिटेटिव स्किल्स सेक्शन में  डेटा इंटरप्रिटेशन, डेटा सफिसियेंसी, अरिथमेटिक नम्बर्स, अलजबरा, जियोमेट्री, चार्ट और टेबल आदि विषय शामिल किये गए हैं. लॉजिकल रीजनिंग सेक्शन के अंतर्गत ऑपरेटर सेंट्रिक क्वेश्चंस, सीरिज बेस्ड क्वेचंश, नॉन वर्बल रीजनिंग, एनालिटिकल पजल्स, ब्लड रिलेशंस, इनपुट आउटपुट्स ऑफ नम्बर्स आदि कवर किये जाते हैं.

मार्किंग सिस्टम

NMAT और अन्य एंट्रेंस एग्जाम्स के बीच महत्वपूर्ण अंतर उनके मार्किंग सिस्टम को लेकर है. NMAT में निगेटिव मार्किंग का प्राविधान नहीं है. निश्चित समय सीमा के अन्दर अधिक से अधिक प्रश्नों को हल करने की कोशिश स्टूडेंट्स द्वारा की जानी चाहिए. किसी भी सेक्शन को छोड़ने की कोशिश कत्तई न करें.

  1. MAT 2019 : यह एग्जाम होता है साल में चार बार

मैनेजमेंट एप्टीट्यूड टेस्ट (एमएटी) मैनेजेंट प्रोग्राम कराने वाले इंस्टीट्यूट्स में एडमिशन हेतु एक नेशनल लेवल का एंट्रेंस एग्जाम है. इस टेस्ट का आयोजन भारत के 350 बी स्कूल्स में एडमिशन के लिए एआईएमए (ऑल इंडिया मैनेजमेंट एसोसिएशन) द्वारा वर्ष में चार बार किया जाता है.

एग्जाम पैटर्न

मैट एग्जाम,स्टूडेंट्स को ऑनलाइन तथा ऑफलाइन दोनों ही मोड में एग्जाम देने की सुविधा प्रदान करता है. इस टेस्ट में प्रश्न मुख्यतः 5 कोर एरियाज लैंग्वेज कम्प्रिहेंसन,मैथेमेटिकल स्किल्स,डेटा एनालिसिस एंड सफिसियेंसी,इंटेलिजेंस और क्रिटिकल रीजनिंग तथा इंडियन एवं ग्लोबल इनवायरमेंट आदि से पूछे जाते हैं. इस टेस्ट का कुल समय 2 घंटा 30 मिनट होता है.

कोर सेक्शंस

कोर सेक्शन का सिलेबस है लैंग्वेज कम्प्रिहेंसन,मैथेमेटिकल स्किल्स,डेटा एनालिसिस एंड सफिसियेंसी,इंटेलिजेंस और क्रिटिकल रीजनिंग है जिनका लेवल CAT एग्जाम के लेवल के अनुरूप ही होता है.

इंडियन एवं ग्लोबल इनवायरमेंट सेक्शन

इंडियन एवं ग्लोबल इनवायरमेंट सेक्शन सामान्यतः जनरल अवेयरनेस सेक्शन की तरह ही है.इसके जरिये कैंडिडेट्स की आई क्यू टेस्ट की जाती है. इस सेक्शन में जनरल नॉलेज के अतिरिक्त करेंट इकोनोमिक,सोशल, नेशनल तथा इंटरनेशनल घटनाओं को कवर किया जाता है. जिन महत्वपूर्ण टॉपिक्स से इस एग्जाम में प्रश्न पूछे जाते हैं वे हैं – पॉलिटिक्स,स्पोर्ट्स,अवार्ड्स, प्रसिद्ध व्यक्ति,निधन,बुक्स और अन्य. कैंडिडेट्स को पढ़ने की आदत डालनी चाहिए और करेंट अफेयर्स से अपडेटेड रहना चाहिए.

मार्किंग सिस्टम

मैट एग्जाम में कुल 5 सेक्शन होते हैं. 1 मार्क्स के कुल 40 प्रश्न पूछे जाते हैं. 40 प्रश्नों के लिए कुल 200 मार्क्स निर्धारित होते है. प्रत्येक गलत उत्तर के लिए 0.25 काटे जाते हैं

  1. CMAT 2020

कॉमन मैनेजमेंट एटिट्यूड टेस्ट (CMAT) एक नेशनल लेवल का MBA एंट्रेंस एग्जाम है जो स्टूडेंट्स को एआईसीटीई द्वारा अनुमोदित सभी मैनेजमेंट प्रोग्राम में एडमिशन लेने में सक्षम बनाती है. यह एग्जाम एनटीए (नेशनल टेस्टिंग एजेंसी) द्वारा आयोजित किया जाता है और इसे CAT के बाद दूसरा  सबसे महत्वपूर्ण मैनेजमेंट एग्जाम माना जाता है.

एग्जाम पैटर्न

CMAT  एक तीन घंटे का कंप्यूटर आधारित टेस्ट है जिसमें क्वांटिटेटिव एप्टीट्यूड और डेटा इंटरप्रिटेशन, लॉजिकल रीजनिंग, लैंग्वेज कम्प्रिहेंसन और जनरल अवेयरनेस के चार मुख्य सेक्शंस से 100 प्रश्न पूछे जाते हैं. क्वांट, डेटा इंटरप्रिटेशन, लॉजिकल रीजनिंग के मुख्य भाग उसी तरह से संरचित किए जाते हैं जैसे CAT एग्जाम में होते हैं. CMAT के अंतर्गत CAT का पूरा सिलेबस कवर किया जाता है.

जनरल अवेयरनेस

CMAT का जनरल अवेयरनेस सेक्शन काफी अद्वितीय है और इसमें अन्य MBA एंट्रेंस एग्जाम से अलग जीके तथा करेंट अफेयर्स के जेनरिक प्रश्न पूछे जाते हैं. CMAT के जनरल अवेयरनेस सेक्शन के सभी मुख्य विषयों के एक समान अंक है. इसलिए कैंडिडेट्स के लिए यह सेक्शन बहुत महत्वपूर्ण हो जाता है .

प्रश्न सामान्य आईक्यू और समकालीन नेशनल और इंटरनेशनल  मामलों के संबंध में कैंडिडेट्स के समग्र अवेयरनेस का परीक्षण करने के लिए डिज़ाइन किए गए हैं. इस सेक्शन की अच्छी तरह से तैयारी के लिए स्टूडेंट्स को महत्वपूर्ण न्यूज पेपर्स तथा स्टोरीबुक और मैगजींस पढ़ना चाहिए और करेंट अफेयर्स से अपडेटेड रहना चाहिए.

मार्किंग सिस्टम

CMAT का मार्किंग सिस्टम बिलकुल सिंपल है तथा इसमें 4 मार्क्स के कुल 100 प्रश्न पूछे जाते हैं. प्रत्येक गलत उत्तर के लिए एक अंक काटा जाता है. अर्थात निगेटिव मार्क्स का भी प्रावधान है.

  1. MICAT 2019

मैनेजमेंट के लिए मुख्य एंट्रेंस एग्जाम MICAT का आयोजन मुद्रा इंस्टीट्यूट ऑफ़ कम्युनिकेशन, अहमदाबाद द्वारा किया जाता है. MICAT हमेशा सबसे विशेष मैनेजमेंट एंट्रेंस एग्जाम्स में से एक रहा है जिसमें काफी कम कॉमन सेक्शन होते हैं. इस वर्ष से, यह टेस्ट कंप्यूटर आधारित मोड से लिया जा रहा है और इसकी अवधि 165 मिनट निर्धारित की गई है.

एग्जाम पैटर्न

XAT एग्जाम की तरह ही, MICAT में भी टेस्ट के एक हिस्से के तौर पर सब्जेक्टिव और ऑब्जेक्टिव क्वेश्चन्स शामिल होते हैं. इसके टेस्ट पेपर में 2 मुख्य सेक्शन्स होते हैं. पहले भाग में डिस्क्रिप्टिव क्वेश्चन्स और दूसरे भाग में ऑब्जेक्टिव क्वेश्चन्स पूछे जाते हैं.

सेक्शन 1 में 4 डिस्क्रिप्टिव क्वेश्चन्स पूछे जाते हैं ताकि कैंडिडेट्स के निम्नलिखित स्किल्स का टेस्ट लिया जा सके:

  • स्टोरी राइटिंग
  • एस्से राइटिंग
  • राइटिंग आर्ग्यूमेंट्स

इसी तरह, MICAT पेपर का सेक्शन 2 तीन सब-सेक्शन्स में बंटा होता है:

  • पार्ट 1: साइकोमेट्रिक टेस्ट
  • पार्ट 2: क्वांटिटेटिव एबिलिटी, रीजनिंग एंड लैंग्वेज स्किल्स
  • पार्ट 3: जनरल नॉलेज सेक्शन.

सेक्शन 3 में साइकोमेट्रिक टेस्ट शामिल होता है.

पेपर 1: डिस्क्रिप्टिव सेक्शन

MICAT और अन्य मैनेजमेंट से संबद्ध एंट्रेंस एग्जाम्स में सबसे बड़ा अंतर यह है कि, MICAT में कैंडिडेट के क्रिएटिव पार्ट का टेस्ट लिया जाता है. सेक्शन 1, जो डिस्क्रिप्टिव सेक्शन है, कैंडिडेट्स की रचनात्मक क्षमताओं का टेस्ट लेता है. किसी भी डिस्क्रिप्टिव टेस्ट की तरह ही, इस सेक्शन की तैयारी करने का सबसे अच्छा तरीका ज्यादा से ज्यादा रीडिंग/ पठन करना है ताकि आप अपने स्टाइल से किसी भी टॉपिक का वर्णन और मूल्यांकन करते हुए टॉपिक को असरदार तरीके से समझा सकें. इसके अलावा, कैंडिडेट को पिछले वर्षों के टेस्ट पेपर्स के आधार पर एस्से राइटिंग के मॉक टेस्ट्स की रोजाना प्रैक्टिस करनी चाहिए. इस वर्ष से, MICAT एक कंप्यूटर आधारित टेस्ट बन जाएगा और इसलिए, कैंडिडेट्स को अपनी टाइपिंग स्पीड बढ़ानी चाहिए ताकि निर्धारित समय के भीतर कैंडिडेट्स अपना टेस्ट पूरा कर सकें.

साइकोमेट्रिक टेस्ट

यह भी एक अन्य MICAT ओनली सेक्शन है जिसके तहत कैंडिडेट्स के साइक या मानसिकता का टेस्ट लिया जाता है. इस टेस्ट की तैयारी करने के लिए कोई निश्चित सिलेबस नहीं है लेकिन आप पिछले वर्षों के टेस्ट पेपर्स देख सकते हैं ताकि आपको इस सेक्शन में पूछे जाने वाले क्वेश्चन्स के टाइप और स्टाइल के बारे में सामान्य अनुमान हो जाये.

जनरल अवेयरनेस

MICAT मीडिया और कम्युनिकेशन डोमेन में स्पेशलाइजेशन सहित मैनेजमेंट प्रोग्राम्स ऑफर करता है. इसलिए, उक्त टेस्ट के जनरल अवेयरनेस सेक्शन में इन्ही विषयों से सम्बन्धित प्रश्न पूछे जाते हैं. आमतौर पर ये प्रश्न मीडिया, एडवरटाइजिंग, मार्केटिंग, फिल्म्स, जनरल सोशल इश्यूज और समस्त ग्लोबल अवेयरनेस से संबंधित होते हैं. मीडिया की फील्ड से संबद्ध टैगलिंग्स, मर्जर्स एंड एक्वीजीशन्स, अवार्ड्स और रिकग्निशन्स के अनुसार प्रमुख बिजनेसों की ब्रांड अवेयरनेस की तरफ भी खास ध्यान दिया जाना चाहिए.

मार्किंग सिस्टम

MICAT एग्जाम के कुल मार्क्स या क्वेश्चन्स को सेक्शन-वाइज दिया गया वेटेज घोषित नहीं करता है. लेकिन पेपर के सेक्शन 2 में जनरल नॉलेज और क्वांटिटेटिव एबिलिटी, रीजनिंग और लैंग्वेज स्किल्स के लिए 25% नेगेटिव मार्किंग की जाती है.

TISSNET (टिसनेट) एंट्रेंस एग्जाम 2019

TISSNET या टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ़ सोशल साइंसेज – नेशनल एंट्रेंस टेस्ट एक इंस्टीट्यूट लेवल का MBA एंट्रेंस एग्जाम है जो टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ़ सोशल साइंसेज (TISS), मुंबई द्वारा आयोजित किया जाता है. TISSNET एग्जाम मुंबई, तुलजापुर, गुवाहाटी और हैदराबाद में स्थित TISS के 4 कैंपसेज में एडमिशन लेने का माध्यम है. TISSNET का आयोजन निम्नलिखित पोस्ट-ग्रेजुएट लेवल कोर्सेज में एडमिशन लेने वाले कैंडिडेट्स की स्क्रीनिंग के लिए किया जाता है:

  • ह्यूमन रिसोर्स मैनेजमेंट और लेबर रिलेशन्स में एमए.
  • सोशल एंटरप्रेन्योरशिप में एमए.

यह एग्जाम एमए (एचआरएम एंड एलआर) कोर्स में एडमिशन लेने के लिए कैंडिडेट्स, खासकर MBA करने के इच्छुक कैंडिडेट्स के बीच काफी लोकप्रिय है क्योंकि यह कोर्स एचआर में MBA की डिग्री के समान समझा जाता है.

TISSNET एग्जाम पैटर्न

TISSNET एक कंप्यूटर आधारित एग्जाम है जो सभी टेस्ट सेंटर्स में केवल एक सेशन में आयोजित किया जाता है. इस एग्जाम में 3 सेक्शन्स से 100 मल्टीप्ल च्वाइस (बहु विकल्पी) प्रश्न पूछे जाते हैं जिनके उत्तर कुल 1 घटे और 40 मिनट अर्थात 100 मिनट में देने होते हैं. सोशल सेंसिटिविटी/ जनरल अवेयरनेस सेक्शन में कुल 40 प्रश्न होते हैं जबकि वर्बल एबिलिटी/ इंग्लिश प्रोफिशिएंसी और मैथ्स एंड लॉजिकल रीजनिंग सेक्शन, दोनों में 30-30 प्रश्न पूछे जाते हैं. कैंडिडेट्स को प्रत्येक सही उत्तर के लिए +1 मार्क दिया जाता है जबकि गलत उत्तरों के लिए नेगेटिव मार्किंग नहीं की जाती है.

सेक्शन प्रश्नों की संख्या. इन सभी प्रश्नों का उत्तर 100 मिनट में देना होता है.

सोशल सेंसिटिविटी/ जनरल अवेयरनेस के 40 प्रश्न

वर्बल एबिलिटी/ इंग्लिश प्रोफिशिएंसी के 30 प्रश्न

लॉजिकल रीजनिंग सेक्शन के 30 प्रश्न   

मार्किंग स्कीम: +1/ कोई नेगेटिव मार्किंग नहीं

जनरल अवेयरनेस

सोशल साइंस इंस्टीट्यूट में एडमिशन के लिए  एंट्रेंस एग्जाम होने के नाते, जनरल अवेयरनेस सेक्शन में सामाजिक संवेदनशीलता, इतिहास, परिभाषाओं, सामाजिक गतिविधियों और आंदोलनों से जुड़े प्रश्न शामिल होते हैं. इनके अतिरिक्त इस सेक्शन में मौजूदा सामाजिक परिदृश्यों और मौजूदा सामाजिक मुद्दों के आधार पर करेंट अफेयर्स से जुड़े प्रश्न पूछे जाते हैं.

मार्किंग सिस्टम

TISSNET एग्जाम का मार्किंग सिस्टम बिलकुल सिंपल है. इसमें 1 मार्क्स के कुल 100 प्रश्न पूछे जाते हैं. इस एग्जाम में निगेटिव मार्किंग का कोई प्रावधान नहीं है.

सभी एमबीए परीक्षाओं के शुरुआत के कारण अब एमबीए उम्मीदवारों की मैराथन रेस शुरू हो चुकी है. नेशनल लेवल मैनेजमेंट एंट्रेंस एग्जाम के लिए महत्वपूर्ण तिथियां और परीक्षा तिथियां घोषित की जा चुकी हैं. ऐसे में छात्रों का भरसक यह प्रयास रहेगा कि उनका यह साल बर्बाद न हो. जहाँ तक एमबीए एग्जाम की बात है,तो कैट एग्जाम के जरिये भारत के प्रीमियर इंस्टीट्यूट्स में आसानी से एडमिशन पाया जा सकता है क्योकि यह सभी एमबीए एंट्रेंस एग्जाम की आधारशिला है लेकिन सिर्फ इसी एग्जाम के भरोसे बैठना भी एमबीए उम्मीदवारों के लिए सही नहीं है.

हमारी यह सलाह है कि इसके अतिरिक्त आपको अन्य एमबीए एंट्रेंस एग्जाम्स की भी तैयारी करनी चाहिए ताकि आपको किसी न किसी बेहतर तथा मनचाहे इंस्टीट्यूट में एडमिशन मिल सके.

अधिक प्रयास पर सफलता के चांसेज भी अधिक होते हैं यह नीति एमबीए एडमिशन में भी लागू होती हैं. अर्थात जीतने अधिक इंस्टिट्यूट या यूनिवर्सिटी का एंट्रेंस एग्जाम देंगे अच्छे इंस्टीट्यूट मिलने की संभावना उतनी ही अधिक होगी.नीचे कुछ महत्वपूर्ण एमबीए एग्जाम्स की लिस्ट प्रस्तुत की गयी है जिसे भारत के किसी प्रीमियम इंस्टीट्यूट में एडमिशन के लिए छात्र अपना टारगेट बना उसे क्वालीफाई करने का प्रयास कर सकते हैं. कुछ टॉप एमबीए एग्जाम्स हैं -

 

1. कैट 2018: सभी एमबीए परीक्षाओं की मदर (आधारशिला)

एमबीए एंट्रेंस एग्जाम सेशन के अंत में छात्रों द्वारा पछतावा का मुख्य कारण सिर्फ कैट अप्रोच को अपनाने वाली आम गलती ही होती है.हालांकि सभी प्रमुख एमबीए एंट्रेंस एग्जाम्स के सामान्य पाठ्यक्रम में मात्रात्मक क्षमता (क्वांटीटेटिव एबिलिटी), मौखिक क्षमता (वर्बल एबिलिटी) और डेटा व्याख्या( डेटा इंटरप्रिटेशन ) तथा तार्किक तर्क (लॉजिकल रीजनिंग) आदि प्रश्नों के प्रकार,उनकी शैली तथा कभी कभी उनका सेक्शन अलग-अलग हो सकते हैं. इस साल परीक्षा 25 नवंबर, 2018 को होगी.

उदाहरण के लिए कुछ एमबीए एंट्रेंस एग्जाम्स में एक जेनरल नॉलेज सेक्शन होता है; जबकि एक्सएटी और एमआईसीएटी जैसे एग्जाम्स कुछ  ऑबजेक्टिव और सबजेक्टिव प्रश्नों का संयोजन रखते हैं.

मैनेजमेंट एंट्रेंस एग्जाम्स में आने वाली किसी भी चीज़ से निपटने के लिए छात्रों को अपनी तैयारी हेतु एक स्ट्रेटेजी  तैयार करने की आवश्यकता है जिसमें एमबीए एग्जाम्स के सभी अद्वितीय पहलुओं को शामिल किया जाना चाहिए.आइए  कुछ विभिन्न एमबीए एंट्रेंस एग्जाम्स का मूल्यांकन करते हैं और महत्वपूर्ण पहलुओं को समझने की कोशिश करते हैं.

तैयारी के सामान्य टिप्स

इन सभी मैनेजमेंट एग्जाम्स में कुछ  समानताएं तथा विभिन्नताएं पायी जाती हैं  और सभी के लिए अलग से तैयारी करना मुश्किल होता है. हालांकि इन सभी परीक्षाओं में एक साथ सफलता पाने की स्ट्रेटेजी बनाना थोड़ा मुश्किल होगा लेकिन एक बार आप सही स्ट्रेटेजी बनाने में कामयाब हो गए तो अवश्य ही सभी एग्जाम्स में बढ़िया प्रदर्शन कर पाएंगे. नीचे कुछ ऐसे ही तथ्य दिए गए हैं जिन्हें आप अपनी स्ट्रेटेजी बनाते समय ध्यान में रख सकते हैं

·         कॉन्सेप्ट पर फोकस करें : एमबीए एंट्रेंस एग्जाम को क्रैक करने के विषय में गंभीर उम्मीदवार को सिलेबस की मूल अवधारणाओं पर ध्यान देना चाहिए. एक अभ्यर्थी के रूप में छात्रों को सिलेबस के महत्वपूर्ण तथ्यों के बारे में अपना कॉन्सेप्ट बिलकुल क्लियर रखना चाहिए. सभी तथ्यों की  व्यापक जानकारी और स्पष्ट समझ होनी चाहिए.

 

·         मॉक टेस्ट : चाहे आप कितनी भी पढ़ाई कर लें जब तक आप मॉक टेस्ट की प्रैक्टिस नहीं करते हैं तब तक आपको एग्जाम्स की स्टाइल तथा उसमें पूछे जाने वाले प्रश्नों के विषय में सही जानकारी ही नहीं होगी. इसलिए अधिक से अधिक मॉक टेस्ट,कम्प्यूटर मोडल तथा पेन पेपर मोडल दोनों ही रूपों में करें. इससे एग्जाम्स के विषय में आपकी समझ बढ़ेगी.टाइम मैनेजमेंट की कला सीखने के साथ साथ एग्जाम स्ट्रक्चर को भी जान सकेंगे.

 

·         पढ़ने की अदात : अपने अन्दर पढ़ने की आदत विकसित करें, मैगजींस,एडिटोरियल्स,जेनरल नॉलेज की किताबों तथा न्यूजपेपर से तैयारी करें.अपने इर्द गिर्द डेली घटने वाली घटनाओं पर पैनी नजर रखें तथा उन्हें याद करें.इससे न सिर्फ आपका करेंट अफेयर तथा जेनरल नॉलेज पर मजबूत पकड़ बनेगी बल्कि इससे आपके राइटिंग स्किल्स में भी सुधार होगा तथा वर्णात्मक तथ्यों पर भी स्पष्ट समझ विकसित होगी.

 

2. आई आई एफ टी :  फॉरेन ट्रेड डोमेन का एक सही विकल्प

आईआईएफटी (भारतीय विदेश व्यापार संस्थान) छात्रों को अपने कैम्पस में पेश किए गए मैनेजमेंट कोर्सेज में एडमिशन देने के लिए अपनी अलग से एंट्रेंस एग्जाम आयोजित करता है. आईआईएफटी एमबीए उम्मीदवारों के लिए 2 दिसंबर, 2018 को परीक्षा आयोजित करेगा. आईआईएफटी 2019 एक दो घंटे का पेपर मोड परीक्षण है जिसमें 114 -150 प्रश्न होते हैं. ये प्रश्न पांच मुख्य विषयों मात्रात्मक क्षमता (क्वांटीटेटिव एबिलिटी), मौखिक क्षमता (वर्बल एबिलिटी) और डेटा व्याख्या( डेटा इंटरप्रिटेशन ) तथा तार्किक तर्क (लॉजिकल रीजनिंग) आदि तथा जेनरल अवेयरनेस आदि से पूछे जाते हैं.

कोर कॉमन सेक्शन के अतिरिक्त, आईआईएफटी एंट्रेंस एग्जाम में एक जेनरल अवेयरनेस सेक्शन होता है. आईआईएफटी मैनेजमेंट प्रोग्राम में एडमिशन लेने के इक्छुक उम्मीदवारों को इन सभी सेक्शन की तैयारी करनी चाहिए. यद्यपि इस एग्जाम को क्वालीफाई करने की ओवरआल इंडेक्स कम ही रहता है लेकिन उम्मीदवार को सभी सेक्शन को न्यूनतम अंकों के साथ क्लियर करना होता है.

जैट परीक्षा की तरह ही आईआईएफटी जनरल अवेयरनेस सेक्शन में करेंट अफेयर्स और जीके के प्रश्न शामिल होते हैं और अगर पिछले रुझानों को देखा जाय तो जीके के प्रश्न करेंट अफेयर्स से पूछे गए प्रश्नों की तुलना में अधिक हैं. आईआईएफटी इंटरनेशनल बिजनेस में एमबीए की डिग्री प्रदान करता है और इसलिए जेनरल अवेयरनेस सेक्शन को तैयार करने के लिए वर्तमान अंतरराष्ट्रीय व्यापार और राजनीति से संबंधित विषयों को कवर करना बहुत महत्वपूर्ण है.कवर किए जाने वाले प्रमुख विषयों में विलय और अधिग्रहण, हालिया नियुक्तियों, कॉर्पोरेट तथ्यों, इतिहास तथा अवार्ड्स आदि घटनाएं प्रमुख हैं.

मार्किंग सिस्टम

आईआईएफटी का मार्किंग पैटर्न भी  थोड़ा अलग है.अलग-अलग प्रश्नों के लिए अलग-अलग मार्किंग सिस्टम है.साथ ही एलॉटेड मार्क्स में गलतियों पर 1/3 कॉमन निगेटिव मार्किंग का प्रोविजन भी है.

 

3. XAT (जैट )2019 :  जेवियर लीग का प्रवेशद्वार

पिछले साल ही संशोधित एक महत्वपूर्ण मैनेजमेंट एंट्रेंस एग्जाम है जैट 2019.  जेवियर एप्टीट्यूड टेस्ट के  मार्किंग स्कीम और परीक्षण अवधि के मामले में महत्वपूर्ण बदलाव किया गया है. कैट या किसी अन्य एमबीए एंट्रेंस एग्जाम की तुलना में एक्सएटी हमेशा थोड़ा अलग रहा है. इसके लिए छात्रों को मात्रात्मक क्षमता (क्वांटिटेटिव एबिलिटी), मौखिक क्षमता (वर्बल एबिलिटी) और डेटा व्याख्या( डेटा इंटरप्रिटेशन ) तथा तार्किक तर्क (लॉजिकल रीजनिंग),जेनरल अवेयरनेस के साथ साथ डिसीजन मेकिंग और एस्से पेपर की भी तैयारी करनी होगी.

जनवरी 2019 के तीसरे सप्ताह में जैट 2019 आयोजित होने की संभावना है.एक्सएटी 2019 का प्रश्न पत्र अब पहले के 3 घंटे की बजाय 3.5 घंटे का होगा. समय को  पेपर वार विभाजित किया गया है, जिसमें पेपर 1 में क्वांटिटेटिव एबिलिटी, अंग्रेजी भाषा और लॉजिकल रीजनिंग और डिसीजन मेकिंग जैसे कोर खंड शामिल हैं, 3 घंटे का होगा, जबकि पेपर 2 जिसमें निबंध लेखन और जेनरल अवेयरनेस जैसे सेक्शन  शामिल हैं, 30 मिनट का होगा.

डिसीजन मेकिंग सेक्शन

एक्सएटी 2019 के डिसीजन मेकिंग क्वेश्चन पेपर का उद्देश्य केसलेट की मदद से उम्मीदवारों की गणनात्मक, व्याख्यात्मक और तार्किक कौशल का परीक्षण करना है. केसलेट मिनी केस स्टडीज हैं जो एक वर्णनात्मक पाठ संदर्भ के रूप में सभी संबंधित पहलुओं का विवरण देने वाली समस्या या स्थिति को बताता है.डिसीजन मेकिंग  केसलेट के लिए एक आदर्श उत्तर में मूल्यांकन के विवरण शामिल होंगे जो कारणों का उत्तर देते हैं तथा केसलेट में दी गई विशेष स्थिति या समस्या को बताते हैं.

दूसरा, दिए गए उत्तर के पक्ष में अपना स्पष्ट तर्क तथा समस्या को सर्वोत्तम तरीके से हल करने के लिए अपनाये गए सिस्टम का वर्णन करना होगा. डिसीजन मेकिंग सेक्शन को तैयार करने के लिए छात्रों को ऊपर दिए गए बातों को ध्यान में रखते हुए पिछले प्रश्न पत्र और अभ्यास को भी हल करना चाहिए.

एस्से राइटिंग

सिर्फ जैट एग्जाम में ही पूछे जाने के कारण उम्मीदवार अक्सर इस सेक्शन को ज्यादा महत्व नहीं देते हैं.

निबंध लेखन सेक्शन  के लिए कोई निश्चित पाठ्यक्रम नहीं है और इसके विषय आम तौर पर महत्वपूर्ण मुद्दों और वर्तमान मामलों से ही होते हैं. जैट के लिए एक अच्छा निबंध किसी भी विषय को समकालीन परिदृश्य में क्यों महत्वपूर्ण समझा जाता है, इसका समग्र दृष्टिकोण प्रदान करता है.

यह सेक्शन पेपर 2 का हिस्सा है  और 30 मिनट के कुल समय में उम्मीदवार को निबंध लेखन के लिए 20 मिनट का समय लेना चाहिए.निबंध लेखन के लिए एक आदर्श स्ट्रेटेजी बनाते समय विशेष पत्रिकाएं,एडिटोरियल केस स्टडीज तथा अन्य पर फोकस करना चाहिए. इसके अतिरिक्त छात्रों को डेली एक पेन-पेपर टेस्ट के तहत किसी भी विषय पर 200-300 शब्दों में निबंध लिखने का अभ्यास करना चाहिए. इससे निबंध लेखन की कला में निपुणता आती है.

जेनरल अवेयरनेस सेक्शन

जेनरल अवेयरनेस सेक्शन भी पेपर 2 का हिस्सा है तथा इस पर कुल 10 मिनट का समय मिलता है. इसमें करेंट अफेयर्स तथा जनरल नॉलेज के 30 मल्टीपल च्वाइस क्वेश्चंस पूछे जाते हैं. पिछले साल पूछे गए जेनरल अवेयरनेस सेक्शन के प्रश्न कठिन थे. इस सेक्शन में नेशनल, इंटरनेशनल,हिस्ट्री,इकोनोमी,सोशल मूवमेंट,लिट्रेचर,अवार्ड,टेक्नोलॉजी,मूवी,जियोग्राफी तथा अन्य विषय इसके अंतर्गत कवर किये जाते हैं.

मार्किंग सिस्टम .

जैट 2019 के लिए मार्किंग सिस्टम को भी संशोधित किया गया है, रिपोर्टों के मुताबिक गैर-प्रयास किए गए प्रश्नों के लिए निगेटिव मार्किंग शुरू किया जा सकता है और गलत उत्तरों के लिए भी निगेटिव मार्किंग होगी.

4. स्नैप  2018: सिम्बायोसिस का प्रवेशद्वार

स्नैप (सिम्बायोसिस नेशनल एप्टीट्यूड टेस्ट) सिम्बायोसिस इंटरनेशनल यूनिवर्सिटी के सभी कॉलेजों तथा इंस्टीट्यूट्स में एडमिशन लेने के लिए मेन एंट्रेंस एग्जाम है. स्नैप 2 घंटे का ऑनलाइन टेस्ट होता है. इससे पूर्व इसका आयोजन पेन पेन्सिल मोड में होता था लेकिन 2017 से इस एग्जाम को अन्य सर्वश्रेष्ठ मैनेजमेंट इंस्टीट्यूट्स की केटेगरी में लाने के उद्देश्य से इसे ऑनलाइन कर दिया गया. स्नैप टेस्ट का फोकस एनालिटिकल और लॉजिकल रीजनिंग सेक्शन पर होता है.

जेनरल अवेयरनेस

अगर अन्य एमबीए एंट्रेंस एग्जाम से तुलना की जाय तो स्नैप का जेनरल अवेयरनेस सेक्शन थोड़ा टफ है. इस सेक्शन में नेशनल,इंटरनेशनल,हिस्ट्री,इकोनोमी,सोशल मूवमेंट,लिट्रेचर,अवार्ड,टेक्नोलॉज,मूवी,जियोग्राफी तथा अन्य विषय कवर किये जाते हैं.

मार्किंग सिस्टम

स्नैप टेस्ट में अलग-अलग मार्किंग सिस्टम को अपनाया जाता है, इसमें 1 और 2 अंक के अलग-अलग प्रश्न होते हैं. प्रत्येक गलत उत्तर के लिए 25% का निगेटिव मार्किंग किया जाता है.

5. जीएमएसी 2018 द्वारा एनएमएटी

एनएमएटी एनएमआईएमएस, हैदराबाद और बेंगलुरू कैम्पस में पीजीडीएम कोर्स तथा एनएमआईएमएस मुंबई में फुल टाइम रेगुलर एमबीए कोर्स में एडमिशन लेने के लिए एमबीए एंट्रेंस एग्जाम है.

यह परीक्षा जीएमएसी (स्नातक प्रबंधन प्रवेश परिषद,ग्रेजुएट मैनेजमेंट एडमिशन काउंसिल, एक अंतरराष्ट्रीय संगठन जो दुनिया भर के अग्रणी बिजनेस स्कूलों को मिलाकर बना है.) के सहयोग से आयोजित की जाती है.एनएमएटी में लैंग्वेज स्किल्स, क्वांटिटेटिव स्किल्स तथा लॉजिकल रीजनिंग के प्रश्नों पर आधारित दो घंटे का ऑनलाइन टेस्ट (कंप्यूटर बेस्ड) होता है.प्रत्येक सेक्शन में पूछे गए प्रश्न हर साल अलग-अलग होते हैं.

लैंग्वेज स्किल्स

एनएमएटी का मुख्य फोकस लैंग्वेज स्किल्स पर होता है और यह आमतौर पर अन्य एमबीए एग्जाम की तुलना में टफ एंट्रेंस एग्जाम है. इस सेक्शन के अंतर्गत क्वेश्चन स्टाइल,रीडिंग कम्प्रिहेंसन,इंग्लिश का प्रयोग, वोकेबुलरी टेस्ट,पारा जम्बल्स,संटेंस करेक्शन,ग्रामर इनपुट्स और वर्बल एनालॉजी पर विशेषतः फोकस किया जाता है.

क्वांट और लॉजिकल रीजनिंग

एनएमएटी का क्वांट और लॉजिकल रीजनिंग कैट तथा अन्य मेजर एंट्रेंस एग्जाम्स की तरह ही है. क्वांटिटेटिव स्किल्स सेक्शन में  डेटा इंटरप्रिटेशन, डेटा सफिसियेंसी,अरिथमेटिक नम्बर्स,अलजबरा,जियोमेट्री,चार्ट और टेबल आदि विषय शामिल किये गए हैं. लॉजिकल रीजनिंग सेक्शन के अंतर्गत ऑपरेटर सेंट्रिक क्वेश्चंस,सीरिज बेस्ड क्वेचंश ,नन वर्बल रीजनिंग, एनालिटिकल पजल्स,ब्लड रिलेशंस,इनपुट आउटपुट्स ऑफ नम्बर्स आदि कवर किये जाते हैं.

मार्किंग सिस्टम

एनएमएटी और अन्य एंट्रेंस एग्जाम्स के बीच महत्वपूर्ण अंतर उनके मार्किंग सिस्टम को लेकर है.एनएमएटी में निगेटिव मार्किंग का प्राविधान नहीं है. निश्चित समय सीमा के अन्दर अधिक से अधिक प्रश्नों को हल करने की कोशिश छात्रों द्वारा की जानी चाहिए. किसी भी सेक्शन को छोड़ने की कोशिश कत्तई न करें.

 

6. मैट 2018 : साल में चार बार होने वाला एग्जाम

मैनेजमेंट एप्टीट्यूड टेस्ट (एमएटी) मैनेजेंट प्रोग्राम कराने वाले इंस्टीट्यूट्स में एडमिशन हेतु एक नेशनल लेवल का एंट्रेंस एग्जाम है. इस टेस्ट का आयोजन भारत के 350 बी स्कूल्स में एडमिशन के लिए एआईएमए (ऑल इंडिया मैनेजमेंट एसोसिएशन) द्वारा वर्ष में चार बार किया जाता है.

एग्जाम पैटर्न

मैट एग्जाम,छात्रों को ऑनलाइन तथा ऑफलाइन दोनों ही मोड में एग्जाम देने की सुविधा प्रदान करता है. इस टेस्ट में प्रश्न मुख्यतः 5 कोर एरियाज लैंग्वेज कम्प्रिहेंसन,मैथेमेटिकल स्किल्स,डेटा एनालिसिस एंड सफिसियेंसी,इंटेलिजेंस और क्रिटिकल रीजनिंग तथा इंडियन एवं ग्लोबल इनवायरमेंट आदि से पूछे जाते हैं. इस टेस्ट का कुल समय 2 घंटा 30 मिनट होता है.

कोर सेक्शंस

कोर सेक्शन का सिलेबस है लैंग्वेज कम्प्रिहेंसन,मैथेमेटिकल स्किल्स,डेटा एनालिसिस एंड सफिसियेंसी,इंटेलिजेंस और क्रिटिकल रीजनिंग है जिनका लेवल कैट एग्जाम के लेवल के अनुरूप ही होता है.

इंडियन एवं ग्लोबल इनवायरमेंट सेक्शन

इंडियन एवं ग्लोबल इनवायरमेंट सेक्शन सामान्यतः जेनरल अवेयरनेस सेक्शन की तरह ही है.इसके जरिये उम्मीदवारों की आई क्यू टेस्ट की जाती है. इस सेक्शन में जेनरल नॉलेज के अतिरिक्त करेंट इकोनोमिक,सोशल, नेशनल तथा इंटरनेशनल घटनाओं को कवर किया जाता है. जिन महत्वपूर्ण टॉपिक्स से इस एग्जाम में प्रश्न पूछे जाते हैं वे हैं – पॉलिटिक्स,स्पोर्ट्स,अवार्ड्स, प्रसिद्ध व्यक्ति,निधन,बुक्स और अन्य. उम्मीदवारों को पढ़ने की आदत डालनी चाहिए और करेंट अफेयर्स से अपडेटेड रहना चाहिए.

 

मार्किंग सिस्टम

मैट एग्जाम में कुल 5 सेक्शन होते हैं. 1 मार्क्स के कुल 40 प्रश्न पूछे जाते हैं.40 प्रश्नों के लिए कुल 200 मार्क्स निर्धारित होते है. प्रत्येक गलत उत्तर के लिए 0.25 काटे जाते हैं

 

7. सी मैट 2018

कॉमन मैनेजमेंट एटिट्यूड टेस्ट (सीएमएटी) एक नेशनल लेवल का एमबीए एंट्रेंस एग्जाम है जो छात्रों को एआईसीटीई द्वारा अनुमोदित सभी मैनेजमेंट प्रोग्राम में एडमिशन लेने में सक्षम बनाती है. यह एग्जाम एनटीए (राष्ट्रीय परीक्षण एजेंसी) द्वारा आयोजित किया जाता है और इसे कैट के बाद दूसरा  सबसे महत्वपूर्ण मैनेजमेंट एग्जाम माना जाता है.

एग्जाम पैटर्न

सी मैट  एक तीन घंटे का कंप्यूटर आधारित टेस्ट है जिसमें क्वांटिटेटिव एप्टीट्यूड और डेटा इंटरप्रिटेशन, लॉजिकल रीजनिंग, लैंग्वेज कम्प्रिहेंसन और जेनरल अवेयरनेस के चार मुख्य सेक्शंस से 100 प्रश्न पूछे जाते हैं. क्वांट, डेटा इंटरप्रिटेशन, लॉजिकल रीजनिंग के मुख्य भाग उसी तरह से संरचित किए जाते हैं जैसे कैट एग्जाम में होते हैं. सी मैट के अंतर्गत कैट का पूरा सिलेबस कवर किया जाता है.

जेनरल अवेयरनेस

सी मैट का जेनरल अवेयरनेस सेक्शन काफी अद्वितीय है और इसमें अन्य एमबीए एंट्रेंस एग्जाम से अलग जीके तथा करेंट अफेयर्स के जेनरिक प्रश्न पूछे जाते हैं.सी मैट के जेनरल अवेयरनेस सेक्शन के सभी मुख्य विषयों के एक समान अंक है. इसलिए उम्मीदवारों के लिए यह सेक्शन बहुत महत्वपूर्ण हो जाता है .

प्रश्न सामान्य आईक्यू और समकालीन नेशनल और इंटरनेशनल  मामलों के संबंध में उम्मीदवार के समग्र अवेयरनेस का परीक्षण करने के लिए डिज़ाइन किए गए हैं. इस सेक्शन की अच्छी तरह से तैयारी के लिए छात्रों को महत्वपूर्ण न्यूज पेपर्स तथा स्टोरीबुक और मैगजींस पढ़ना चाहिए और करेंट अफेयर्स से अपडेटेड रहना चाहिए.

 

मार्किंग सिस्टम

सी मैट का मार्किंग सिस्टम बिलकुल सिंपल है तथा इसमें 4 मार्क्स के कुल 100 प्रश्न पूछे जाते हैं. प्रत्येक गलत उत्तर के लिए एक अंक काटा जाता है. अर्थात निगेटिव मार्क्स का भी प्रावधान है.

 

8. एमआईकैट 2018

मैनेजमेंट के लिए मुख्य एंट्रेंस एग्जाम एमआईकैट का आयोजन मुद्रा इंस्टीट्यूट ऑफ़ कम्युनिकेशन, अहमदाबाद द्वारा किया जाता है. एमआईकैट हमेशा सबसे विशेष मैनेजमेंट एंट्रेंस एग्जाम्स में से एक रहा है जिसमें काफी कम कॉमन सेक्शन होते हैं. इस वर्ष से, यह टेस्ट कंप्यूटर आधारित मोड से लिया जा रहा है और इसकी अवधि 165 मिनट निर्धारित की गई है.

एग्जाम पैटर्न

जैट (ZAT) एग्जाम की तरह ही, एमआईकैट में भी टेस्ट के एक हिस्से के तौर पर सब्जेक्टिव और ऑब्जेक्टिव क्वेश्चन्स शामिल होते हैं. इसके टेस्ट पेपर में 2 मुख्य सेक्शन्स होते हैं. पहले भाग में डिस्क्रिप्टिव क्वेश्चन्स और दूसरे भाग में ऑब्जेक्टिव क्वेश्चन्स पूछे जाते हैं.

सेक्शन 1 में 4 डिस्क्रिप्टिव क्वेश्चन्स पूछे जाते हैं ताकि कैंडिडेट्स के निम्नलिखित स्किल्स का टेस्ट लिया जा सके:

स्टोरी राइटिंग

एस्से राइटिंग

राइटिंग आर्ग्यूमेंट्स

इसी तरह, एमआईकैट पेपर का सेक्शन 2 तीन सब-सेक्शन्स में बंटा होता है:

पार्ट 1: साइकोमेट्रिक टेस्ट

पार्ट 2: क्वांटिटेटिव एबिलिटी, रीजनिंग एंड लैंग्वेज स्किल्स

पार्ट 3: जनरल नॉलेज सेक्शन.

सेक्शन 3 में साइकोमेट्रिक टेस्ट शामिल होता है.

एमआईकैट और अन्य मैनेजमेंट से संबद्ध एंट्रेंस एग्जाम्स में सबसे बड़ा अंतर यह है कि, एमआईकैट में कैंडिडेट के क्रिएटिव पार्ट का टेस्ट लिया जाता है. सेक्शन 1, जो डिस्क्रिप्टिव सेक्शन है, कैंडिडेट्स की रचनात्मक क्षमताओं का टेस्ट लेता है. किसी भी डिस्क्रिप्टिव टेस्ट की तरह ही, इस सेक्शन की तैयारी करने का सबसे अच्छा तरीका ज्यादा से ज्यादा रीडिंग/ पठन करना है ताकि आप अपने स्टाइल से किसी भी टॉपिक का वर्णन और मूल्यांकन करते हुए टॉपिक को असरदार तरीके से समझा सकें. इसके अलावा, कैंडिडेट को पिछले वर्षों के टेस्ट पेपर्स के आधार पर एस्से राइटिंग के मॉक टेस्ट्स की रोजाना प्रैक्टिस करनी चाहिए. इस वर्ष से, एमआईकैट एक कंप्यूटर आधारित टेस्ट बन जाएगा और इसलिए, कैंडिडेट्स को अपनी टाइपिंग स्पीड बढ़ानी चाहिए ताकि निर्धारित समय के भीतर कैंडिडेट्स अपना टेस्ट पूरा कर सकें.

साइकोमेट्रिक टेस्ट

यह भी एक अन्य एमआईकैट ओनली सेक्शन है जिसके तहत कैंडिडेट्स के साइक या मानसिकता का टेस्ट लिया जाता है. इस टेस्ट की तैयारी करने के लिए कोई निश्चित सिलेबस नहीं है लेकिन आप पिछले वर्षों के टेस्ट पेपर्स देख सकते हैं ताकि आपको इस सेक्शन में पूछे जाने वाले क्वेश्चन्स के टाइप और स्टाइल के बारे में सामान्य अनुमान हो जाये.

जनरल अवेयरनेस

एमआईकैट मीडिया और कम्युनिकेशन डोमेन में स्पेशलाइजेशन सहित मैनेजमेंट प्रोग्राम्स ऑफर करता है. इसलिए, उक्त टेस्ट के जनरल अवेयरनेस सेक्शन में इन्ही विषयों से सम्बन्धित प्रश्न पूछे जाते हैं. आमतौर पर ये प्रश्न मीडिया, एडवरटाइजिंग, मार्केटिंग, फिल्म्स, जनरल सोशल इश्यूज और समस्त ग्लोबल अवेयरनेस से संबंधित होते हैं. मीडिया की फील्ड से संबद्ध टैगलिंग्स, मर्जर्स एंड एक्वीजीशन्स, अवार्ड्स और रिकग्निशन्स के अनुसार प्रमुख बिजनेसों की ब्रांड अवेयरनेस की तरफ भी खास ध्यान दिया जाना चाहिए.

मार्किंग सिस्टम

एमआईकैट एग्जाम के कुल मार्क्स या क्वेश्चन्स को सेक्शन-वाइज दिया गया वेटेज घोषित नहीं करता है. लेकिन पेपर के सेक्शन 2 में जनरल नॉलेज और क्वांटिटेटिव एबिलिटी, रीजनिंग और लैंग्वेज स्किल्स के लिए 25% नेगेटिव मार्किंग की जाती है.

 

TISSNET (टिसनेट) एंट्रेंस एग्जाम

TISSNET या टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ़ सोशल साइंसेज नेशनल एंट्रेंस टेस्ट एक इंस्टीट्यूट लेवल का एमबीए एंट्रेंस एग्जाम है जो टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ़ सोशल साइंसेज (TISS), मुंबई द्वारा आयोजित किया जाता है. TISSNET एग्जाम मुंबई, तुलजापुर, गुवाहाटी और हैदराबाद में स्थित TISS के 4 कैंपसेज में एडमिशन लेने का माध्यम है. TISSNET का आयोजन निम्नलिखित पोस्ट-ग्रेजुएट लेवल कोर्सेज में एडमिशन लेने वाले कैंडिडेट्स की स्क्रीनिंग के लिए किया जाता है:

ह्यूमन रिसोर्स मैनेजमेंट और लेबर रिलेशन्स में एमए

ग्लोबलाइजेशन और लेबर में एमए

सोशल एंटरप्रेन्योरशिप में एमए.

यह एग्जाम एमए (एचआरएम एंड एलआर) कोर्स में एडमिशन लेने के लिए कैंडिडेट्स, खासकर एमबीए करने के इच्छुक कैंडिडेट्स के बीच काफी लोकप्रिय है क्योंकि यह कोर्स एचआर में एमबीए की डिग्री के समान समझा जाता है.

TISSNET एग्जाम पैटर्न

TISSNET एक कंप्यूटर आधारित एग्जाम है जो सभी टेस्ट सेंटर्स में केवल एक सेशन में आयोजित किया जाता है. इस एग्जाम में 3 सेक्शन्स से 100 मल्टीप्ल च्वाइस (बहु विकल्पी) प्रश्न पूछे जाते हैं जिनके उत्तर कुल 1 घटे और 40 मिनट अर्थात 100 मिनट में देने होते हैं. सोशल सेंसिटिविटी/ जनरल अवेयरनेस सेक्शन में कुल 40 प्रश्न होते हैं जबकि वर्बल एबिलिटी/ इंग्लिश प्रोफिशिएंसी और मैथ्स एंड लॉजिकल रीजनिंग सेक्शन, दोनों में 30-30 प्रश्न पूछे जाते हैं. कैंडिडेट्स को प्रत्येक सही उत्तर के लिए +1 मार्क दिया जाता है जबकि गलत उत्तरों के लिए नेगेटिव मार्किंग नहीं की जाती है.

सेक्शन प्रश्नों की संख्या. इन सभी प्रश्नों का उत्तर 100 मिनट में देना होता है.

सोशल सेंसिटिविटी/ जनरल अवेयरनेस के 40 प्रश्न

वर्बल एबिलिटी/ इंग्लिश प्रोफिशिएंसी के 30 प्रश्न

लॉजिकल रीजनिंग सेक्शन के 30 प्रश्न   

मार्किंग स्कीम: +1/ कोई नेगेटिव मार्किंग नहीं

 

जेनरल अवेयरनेस

सोशल साइंस इंस्टीट्यूट में एडमिशन के लिए  एंट्रेंस एग्जाम होने के नाते, जेनरल अवेयरनेस सेक्शन में सामाजिक संवेदनशीलता, इतिहास, परिभाषाओं, सामाजिक गतिविधियों और आंदोलनों से जुड़े प्रश्न शामिल होते हैं. इनके अतिरिक्त इस सेक्शन में मौजूदा सामाजिक परिदृश्यों और मौजूदा सामाजिक मुद्दों के आधार पर करेंट अफेयर्स से जुड़े प्रश्न पूछे जाते हैं.

मार्किंग सिस्टम

TISSNET एग्जाम का मार्किंग सिस्टम बिलकुल सिंपल है. इसमें 1 मार्क्स के कुल 100 प्रश्न पूछे जाते हैं. इस एग्जाम में निगेटिव मार्किंग का कोई प्राविधान नहीं है.

Related Stories