RPSC में DSP का वेतन और प्रोन्नति

RPSC पुलिस विभाग में DSPकी भर्ती करता है। पुलिस अधिकारी बनने के लिए RPSC परीक्षा में बहुत से छात्र उपस्थित होते हैं। RPSC के माध्यम से DSP पुलिस विभाग में दूसरा रैंक होता है। DSP को आकर्षक वेतन, कई अन्य लाभ और समाज में उचित सम्मान प्राप्त होता है। DSP को सेवा के दौरान पदोन्नति भी दी जाती है।

Created On: Dec 24, 2018 11:44 IST
rpsc dsp salary and promotion
rpsc dsp salary and promotion

DSP की नियुक्ति राज्य के पुलिस विभाग में की जाती है जिसे आकर्षक वेतन के साथ अन्य सुविधाएँ प्राप्त होती है। पुलिस विभाग में दिया जाने वाला DSP का पद दूसरे रैंक का होता है। DSP को समाज में सम्मान मिलता है और वह एक प्रतिष्ठित जीवन का आनंद लेता है।

DSP का पद जिम्मेदारी के साथ-साथ कई चुनौतियों से भरा होता है। इस पद में कार्य का कोई निश्चित समय नहीं होता है क्योंकि उन्हें कभी भी ड्यूटी पर जाना पड़ सकता है। DSP अपने क्षेत्र में कानून व्यवस्था के लिए ज़िम्मेदार होता है क्योंकि कानून और व्यवस्था के मामलों में वह निर्णय लेने का अधिकार रखता है। उन्हें यह सुनिश्चित करना होता है कि उनके क्षेत्र में कोई आपराधिक गतिविधियां न हों और नागरिक शांति और सद्भाव से रह सकें। यदि DSP एक संवेदनशील क्षेत्र में तैनात है तो उसे और अधिक सतर्क रहना पड़ता है।

RPSC Mains Syllabus

DSP का वेतन और सुविधाएं

कानून और व्यवस्था को बनाए रखने की ज़िम्मेदारी के साथ; DSP को आकर्षक वेतन और अन्य लाभ दिए जाते हैं। DSP को 5400 रूपए के ग्रेड पे के साथ 15600-39100 रूपए के पे स्केल में वेतन मिलता है।DSP को दिए जाने वाले अन्य सुविधाओं में निम्नलिखित शामिल हैं:

  • बिना किसी कीमत पर या मामूली किराए पर स्वयं और कर्मचारियों के लिए निवास
  • राज्य सरकार द्वारा वर्दी के लिए भत्ता
  • हथियारों और अन्य आवश्यक उपकरणों को रखने के लिए किट रखरखाव भत्ता
  • राज्य सरकार द्वारा यात्रा भत्ता
  • सुरक्षा गार्ड और घरेलू नौकर जैसे रसोइया और माली
  • ड्राइवर के साथ एक आधिकारिक वाहन
  • एक टेलीफोन कनेक्शन जिसका बिल सरकार द्वारा भरा जाता है
  • सरकार द्वारा बिजली के बिलों का भुगतान
  • आधिकारिक यात्राओं के दौरान उच्च श्रेणी आवास
  • उच्च शिक्षा के लिए अवकाश
  • पति / पत्नी को पेंशन

RPSC Top Posts

RPSC में DSP की प्रोन्नति

राज्य सरकार द्वारा बनाए गए नियमों के अनुसार,विभागीय संवर्धन समिति,जिसका नेतृत्व आयोग के अध्यक्ष द्वारा किया जाता है, के माध्यम से DSP को पदोन्नति दी जाती है। पुलिस विभाग में वरिष्ठता का पदानुक्रम निम्नलिखित है:

उप पुलिस अधीक्षक (DSP) → अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक (ASP) → पुलिस अधीक्षक (SP) → वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (SSP) → पुलिस महानिरीक्षक (DIGP) → पुलिस महानिरीक्षक (IGP) → अतिरिक्त निदेशक पुलिस जनरल (ADGP) → पुलिस महानिदेशक (DGP)

Salary and Promotion of SDM in RPSC

DSP को राज्य में सेवा के दौरान पदोन्नति भी मिलती है। DSP को पहली पदोन्नति 7 या 8 साल की सेवा के बाद दी जाती है जिससे DSP अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक (ASP) बन जाते हैं। 12 या 13 साल की सेवा करने के बाद, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक (ASP) को पुलिस अधीक्षक (SP) या DCP के पद पर पदोन्नत किया जाता है और उन्हें वरिष्ठ श्रेणी के पुलिस अधीक्षक (SSP) का पद अर्थात सेलेक्शन ग्रेड मिल जाता है। इसके बाद, अधिकारियों के संतोषजनक सेवा रिकॉर्ड के अनुसार राज्य लोक सेवा आयोग द्वारा संघ लोक सेवा आयोग को अधिकारियों के नाम की एक सूची भेजी जाती है। इसके बाद वे कनफर्ड IPS बन जाते हैं। यहाँ तक पहुँचने में अधिकारियों को कई वर्षों तक सेवा प्रदान करनी पड़ती है। DSP की पदोन्नति का चक्र निम्नलिखित है:

 

अपने करियर के दौरान DSP किसी भी रैंक तक पहुँच सकते हैं। लेकिन, DSP के पास शिखर तक पहुंचने की संभावना कम होती है। पदोन्नति की नीति ऐसी है कि शिखर तक पहुंचने में कई वर्षों तक सेवा प्रदान करनी पड़ती है और आमतौर पर DSP तब तक सेवानिवृत्त होने वाले होते हैं। इसलिए DSP को उनकी सेवा के दौरान दो या तीन पदोन्नति ही मिल पाती है।

Comment (0)

Post Comment

9 + 7 =
Post
Disclaimer: Comments will be moderated by Jagranjosh editorial team. Comments that are abusive, personal, incendiary or irrelevant will not be published. Please use a genuine email ID and provide your name, to avoid rejection.