Search

UP Board एग्जाम 2018: अंकतालिकाओं के लिए अब छात्रों को करना पड़ सकता है इंतज़ार

UP Board एग्जाम 2018 के कक्षा 10वीं तथा 12वीं दोनों के ही परिणाम 29 अप्रैल को घोषित हो चुके हैं. बोर्ड के निर्णय के अनुसार यह बताया गया था कि परिणाम घोषित होने के 15 दिन के पश्चात् छात्रों को अंकतालिकाए स्कूल से उपलब्ध करा दी जाएँगी. लेकिन बोर्ड से अंक तालिकाएं न आने के कारण इनके वितरण में देरी हो रही है. माना जा रहा है कि 25 मई 2018 तक छात्रों को अंक तालिकाएं उपलब्ध करा दी जाएँगी. विस्तार में जनन्ने के लिए इस लेख को पूरा पढ़ें.

May 17, 2018 16:28 IST
students have to wait more for mark sheet

UP Board एग्जाम 2018 के कक्षा 10वीं तथा 12वीं दोनों के ही परिणाम 29 अप्रैल को घोषित हो चुके हैं. बोर्ड के निर्णय के अनुसार यह बताया गया था कि परिणाम घोषित होने के 15 दिन के पश्चात् छात्रों को अंकतालिकाए स्कूल से उपलब्ध करा दी जाएँगी. लेकिन बोर्ड से अंक तालिकाएं न आने के कारण इनके वितरण में देरी हो रही है. माना जा रहा है कि 25 मई 2018 तक छात्रों को अंक तालिकाएं उपलब्ध करा दी जाएँगी.

अंक तालिकाओं के वितरण के लिए सभी स्कूल अपनी तैयारियां पूरी कर चुके हैं. साथ ही साथ छात्र भी अंकतालिकाओं को लेने के लिए विद्यालय पहुंचने लगे हैं. प्रधानाचार्य और शिक्षा अधिकारियों ने यह सुचना बोर्ड को भी देदी है.

खासतौर पर बारहवीं कक्षा के छात्रों को अंकतालिकाओं की जरूरत अधिक है. कॉलेज में प्रवेश प्रक्रिया शुरू होते ही इन छात्रों को अंकतालिकाओं की जरूरत पड़ेगी. छात्रों को इस बात का भी खासा डर है कि अंकतालिकाओं के वितरण में देरी के कारण उनका प्रवेश कई अच्छे कॉलेज में होने से रह सकता है.

 

इस विषय में जिला विद्यालय निरीक्षक पीके उपाध्याय ने बताया की 25 मई  तक जिले के सभी विद्यालयों में अंकतालिकाएं वितरित करा दी जाएँगी और इस सम्बन्ध में बोर्ड से संपर्क किया जा रहा है. अंकतालिकाओं को सुरक्षित रखने और उन्हें वितरित कराने की पूरी व्यवस्था विभाग की ओर से पूरी कर ली गई है. बताया जा रहा है की किसी भी छात्र को अंकतालिकाओं के लिए परेशान नहीं होने दिया जाएगा.

कक्षा 10वीं तथा 12वीं के छात्रों की अंकतालिकाओं के साथ-साथ बोर्ड ने 2000 के लगभग ऐसे छात्रों की भी अंकतालिकाएं होल्ड पर रखी हैं जिन्होंने सप्लीमेंट्री परीक्षा दी थी. ऐसे छात्रों को अंकतालिकाएं आने का बेसब्री से इंतजार है. उन्हें उम्मीद है कि अंकतालिकाओं के वितरण के दौरान उन्हें अपने परिणाम के बारे में जानकारी जरूर होगी.

हालाकी गत वर्ष की तुलना में इस साल 29 अप्रैल को रिजल्ट घोषित होने के बाद ख़बरों के अनुसार बताया गया था की समय के अन्दर मार्कशीट व सर्टिफिकेट छात्रों को उपलब्ध कराया जायेगा जिस कारण छात्र समय रहते अपने आगे की पढ़ाई के लिए ज़रूरी औपचारिकताओं को सही तरीके से कर सकेंगे. अर्थात यदि किसी वजह से सर्टिफिकेट में नाम, पिता का नाम, जन्मतिथि या कोई अन्य संशोधन करवाना होगा तो वह भी समय रहते हो जाएगा. इस विषय में अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें...

शुभकामनाएं!!

 छात्रों में डिप्रेशन के मुख्य 3 कारण तथा इससे बचने के आसान तरीके

पीयर प्रेशर क्या है? स्कूल के छात्रों के लिए इससे बचने के कुछ आसान उपाय