Search

भारत में सोलर एनर्जी की फील्ड में स्टूडेंट्स के लिए ये हैं चुनिंदा करियर ऑप्शन्स

सोलर एनर्जी की फील्ड में असीम संभावनाएं हैं क्योंकि सोलर एनर्जी रिन्यूएबल एनर्जी का एक अकूत भंडार है. अब, इंडियन रिन्यूएबल एनर्जी इंडस्ट्री में सोलर एनर्जी की फील्ड में स्टूडेंट्स के लिए कई करियर ऑप्शन्स मौजूद हैं.

Sep 9, 2019 18:53 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon
Careers in Solar Energy in India
Careers in Solar Energy in India

अगर हम ‘रिन्यूएबल एनर्जी’ की बात करें तो ‘रिन्यूएबल एनर्जी’ किसी ऐसे प्राकृतिक संसाधन से प्राप्त की जाती है जो कभी समाप्त नहीं होता है जैसेकि, सूरज से सोलर पॉवर और हवा से विंड एनर्जी.  हमारे देश भारत में पूरे साल सूरज का प्रकाश काफी उपलब्ध रहता है और इसलिए भारत में सोलर एनर्जी या सोलर पॉवर के अकूत भंडार हैं तथा सोलर एनर्जी की फील्ड में विभिन्न करियर ऑप्शन्स में काफी आशाजनक संभावनाएं हैं. भारत में सोलर एनर्जी सेंटर (SEC) की स्थापना वर्ष 1982 में की गई थी जो मिनिस्ट्री ऑफ़ न्यू एंड रिन्यूएबल एनर्जी, भारत सरकार के अधीन सोलर एनर्जी टेक्नोलॉजीज़ के विकास के साथ प्रोडक्ट डेवलपमेंट के माध्यम से इन सोलर एनर्जी टेक्नोलॉजीज़ को आम आदमी के लिए उपयोगी बनाने की दिशा में लगातार अपना महत्वपूर्ण योगदान दे रहा है. आजकल भारत सरकार रिन्यूएबल एनर्जी रिसोर्सेज को बहुत बढ़ावा दे रही है ताकि पेट्रोल, गैस जैसे एनर्जी के सीमित संसाधनों पर हमारी निर्भरता कम हो सके. एक अनुमान के मुताबिक सोलर एनर्जी की कैपेसिटी मार्च, 2017 तक रिकॉर्ड 12,288 मेगावाट तक पहुंच गई थी. भारत में इस समय 150 से अधिक इंडस्ट्रीज़ सोलर पैनल्स, सोलर लाइट्स, सोलर गैजेट्स, सोलर फ्रेम्स और सोलर इन्वर्टर्स जैसे प्रोडक्ट्स तैयार कर रही हैं. आइए भारत में सोलर एनर्जी की फील्ड से संबंधित विभिन्न करियर ऑप्शन्स के बारे में इस आर्टिकल में पढ़ें.

भारत में सोलर एनर्जी की फील्ड से संबंधित एजुकेशनल कोर्सेज और एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया

हमारे देश में किसी मान्यताप्राप्त एजुकेशनल बोर्ड से 12वीं पास स्टूडेंट्स सोलर एनर्जी की फील्ड से संबंधित डिप्लोमा, सर्टिफिकेट या ग्रेजुएट/ पोस्टग्रेजुएट डिग्री कोर्सेज में एडमिशन ले सकते हैं. भारत के टॉप एजुकेशनल इंस्टीट्यूशन्स और IITs में BE और BTech. कोर्सेज में एडमिशन लेने के लिए स्टूडेंट्स को JEE या UPES जैसे विभिन्न एंट्रेंस एग्जाम्स अच्छे मार्क्स के साथ पास करने होते हैं ताकि मेरिट लिस्ट में उनका नाम आ सके.

भारत में सोलर एनर्जी की फील्ड में ग्रेजुएशन लेवल के कोर्सेज:

  • BE/ BTech. – सोलर एंड अल्टरनेट इंजीनियरिंग
  • BE/ BTech. – एनर्जी टेक्नोलॉजी/ इंडस्ट्रियल इंजीनियरिंग/ मैकेनिकल इंजीनियरिंग/ इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग.

भारत में सोलर एनर्जी की फील्ड में पोस्टग्रेजुएशन लेवल के कोर्सेज:

  • MTech. – सोलर एंड अल्टरनेट इंजीनियरिंग
  • MTech. – सोलर एनर्जी
  • MTech. – रिन्यूएबल एनर्जी इंजीनियरिंग एंड मैनेजमेंट

भारत में सोलर एनर्जी की फील्ड से संबंधित कोर्सेज करवाने वाले टॉप एजुकेशनल इंस्टीटयूट

  • इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी, दिल्ली
  • इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी, मुंबई
  • नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी, त्रिची
  • यूनिवर्सिटी ऑफ़ पेट्रोलियम एंड एनर्जी स्टडीज, देहरादून
  • एमिटी इंस्टीट्यूट ऑफ़ रिन्यूएबल एंड अल्टरनेटिव एनर्जी, नोएडा
  • एमिटी इंस्टीट्यूट ऑफ़ एनर्जी एंड एनवायरनमेंट, दिल्ली
  • स्कूल ऑफ़ एनर्जी स्टडीज, जादवपुर यूनिवर्सिटी, कोलकाता
  • UPEC, देहरादून
  • स्कूल ऑफ़ एनर्जी स्टडीज, पुणे यूनिवर्सिटी
  • इंस्टीटयूट ऑफ़ एनर्जी स्टडीज़, अन्ना यूनिवर्सिटी, चेन्नई.

भारत में सोलर एनर्जी की फील्ड से जुड़े विभिन्न करियर ऑप्शन्स

आपको यह जानकर काफी ख़ुशी होगी कि भारत वर्ष 2022 तक अपनी सोलर एंड विंड एनर्जी कैपेसिटी को 160GW तक बढ़ाना चाहता है जिससे अगले 5 वर्षों में इस फिल्ड में 3.30 लाख नई जॉब्स तैयार होंगी. ये जॉब्स सोलर एंड विंड एनर्जी से संबंधित विभिन्न प्रोजेक्ट्स के कंस्ट्रक्शन, कमीशनिंग एंड डिज़ाइन, बिजनेस डेवलपमेंट और ऑपरेशन्स एंड मैनेजमेंट्स से संबंधित होंगी. इसी तरह, एक अनुमान के मुताबिक रूफटॉप सोलर सेगमेंट में लगभग 70% नए कामगरों को रोज़गार मिलेगा जो मौजूदा बड़े पैमाने के सोलर फार्म्स में उपलब्ध जॉब्स से 7 गुणा अधिक है. हमारे देश में सोलर एनर्जी की फील्ड में आमतौर पर सोलर इनस्टॉलर्स, सोलर इंजीनियर्स, मेंटेनेंस वर्कर्स, टेक्नीशियन्स और परफॉरमेंस डाटा मॉनीटर्स शामिल हैं जैसेकि:  

  • डिज़ाइनर - सोलर इक्विपमेंट्स
  • डिज़ाइनर – फोटोवोल्टेक
  • सोलर एनर्जी सिस्टम्स डिज़ाइनर
  • कंस्ट्रक्शन – सोलर प्रोजेक्ट्स
  • सोलर प्रोजेक्ट डेवलपर/ सोलर प्रोजेक्ट एनालिस्ट
  • सोलर इनस्टॉलर/ सोलर असेम्बलर
  • सोलर इक्विपमेंट्स – ऑपरेशन एंड मेंटेनेंस
  • इलेक्ट्रीशियन – सोलर फील्ड में एक्सपर्ट
  • कंप्यूटर न्यूमेरिकल कंट्रोल ऑपरेटर
  • मटीरियल्स साइंटिस्ट
  • सोलर यूटिलिटी प्रोक्योरमेंट स्पेशलिस्ट
  • सोलर मार्केटिंग स्पेशलिस्ट
  • सोलर सेल्स रिप्रेजेन्टेटिव
  • यूटिलिटी इंटरकनेक्शन इंजीनियर
  • बिल्डिंग इंस्पेक्टर

आइये सोलर एनर्जी की फील्ड से जुड़े कुछ करियर ऑप्शन्स की चर्चा करें:

  • सोलर इनस्टॉलर/ सोलर असेम्बलर – भारत में सोलर एनर्जी की फील्ड में सोलर इनस्टॉलर्स या सोलर असेम्बलर का करियर काफी महत्वपूर्ण है. इस करियर के लिए कैंडिडेट को हायर एजुकेशनल क्वालिफिकेशन की आवश्यकता नहीं पड़ती. केवल हाई स्कूल डिप्लोमा या समान योग्यता हासिल करके कैंडिडेट्स इस फील्ड में अपना करियर शुरू कर सकते हैं. इन पेशेवरों को शुरू में अपने काम की ट्रेनिंग दी जाती है. ये पेशेवर भारी इक्विपमेंट्स लेकर ऊंचे स्थानों पर सोलर पैनल्स या रूफटॉप इंस्ट्रूमेंट्स इनस्टॉल करते हैं. ये पेशेवर सोलर इक्विपमेंट्स को इनस्टॉल करने से पहले ठीक तरह से असेम्बल भी करते हैं.
  • सोलर एनर्जी सिस्टम्स डिज़ाइनर – ये पेशेवर सोलारी सिस्टम के डिज़ाइन क्लाइंट्स की जरूरतों के मुताबिक तैयार करते हैं. इस पेशे के लिए कैंडिडेट्स के पास साइंस या इंजीनियरिंग विषय सहित ग्रेजुएशन की डिग्री होनी चाहिए. कुछ इंस्टीट्यूट्स मास्टर डिग्री होल्डर कैंडिडेट्स को परेफरेंस देते हैं. ये एक्सपर्ट्स सोलर इक्विपमेंट्स के इंस्टालेशन समय भी सभी जरुरी मदद और निर्देश देते हैं.
  • यूटिलिटी इंटरकनेक्शन इंजीनियर – इंजीनियरिंग या साइंस में ग्रेजुएट कैंडिडेट्स, कुछ वर्षों के अनुभव के बाद इस पोस्ट के लिए अप्लाई कर सकते हैं. ये पेशेवर इलेक्ट्रिक ग्रिड से लेकर पॉवर जनरेशन तक सभी काम संभालते हैं.
  • सोलर प्रोजेक्ट डेवलपर – इस पेशे के लिए कैंडिडेट्स के पास कुछ वर्षों के अनुभव के साथ ही साइंस या इंजीनियरिंग विषय में बैचलर डिग्री होनी चाहिए क्योंकि ये पेशेवर विभिन्न सोलर प्रोजेक्ट्स के कंस्ट्रक्शन, फाइनेंस और इंस्टालेशन से जुड़े सभी काम देखते हैं.
  • डिज़ाइनर - सोलर इक्विपमेंट्स – सोलर इक्विपमेंट्स के डिज़ाइन का काम काफी महत्वपूर्ण होता है. इस काम के लिए पेशेवर के पास सोलर सेक्टर कि काफी बढ़िया टेक्निकल नॉलेज और स्किल-सेट होना चाहिए ताकि ये पेशेवर अपने क्लाइंट्स की जरूरतों के मुताबिक सोलर इक्विपमेंट्स या सोलर प्रोजेक्ट्स डिज़ाइन कर सकें.

भारत में रिन्यूएबल (सोलर) एनर्जी इंजीनियर्स का जॉब प्रोफाइल और सैलरी पैकेज

ये पेशेवर विंड एनर्जी और सोलर पॉवर जैसे क्लीन एनर्जी सोर्सेज से एनवायरनमेंट के अनुकूल एनर्जी प्रोडक्शन को लगातार बढ़ाने की कोशिश करते हैं. ये लोग एनर्जी-एफिशिएंट मशीनरी डिजाइन करने के साथ ही एनर्जी एक्सट्रैक्शन के नये साधन और एनर्जी प्रोडक्शन के नए ऑप्शन्स तैयार करते हैं और उनकी निगरानी भी करते हैं. इन पेशेवरों को सालाना 4 – 8 लाख रुपये का सैलरी पैकेज मिलता है. हमारे देश में सोलर एनर्जी की फील्ड में अन्य पेशेवरों को उनकी एजुकेशनल क्वालिफिकेशन, वर्क एक्सपीरियंस और पोस्ट के मुताबिक एवरेज 3 लाख रुपये सालाना से 10 लाख रुपये सालाना तक सैलरी पैकेज मिलता है.

जॉब, करियर, इंटरव्यू, एजुकेशनल कोर्सेज, प्रोफेशनल कोर्सेज, कॉलेज और यूनिवर्सिटीज़ के बारे में लेटेस्ट अपडेट्स के लिए आप हमारी वेबसाइट www.jagranjosh.com पर नियमित तौर पर विजिट करते रहें.  

Related Stories