Search

बैंकिंग सेक्टर में जॉब पाने के लिए कुछ जरूरी स्किल्स

आज भी भारत का युवा वर्ग बैंकिंग सेक्टर में कोई सूटेबल जॉब प्राप्त करने को हमेशा तैयार रहता है. लेकिन बैंकिंग सेक्टर में जॉब प्राप्त करने के लिए खास स्किल सेट की जरूरत होती है. कौन से स्किल्स बैंकिंग सेक्टर में जॉब के लिए जरुरी हैं? आइये इस आर्टिकल में पढ़ें.

Dec 31, 2018 13:19 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon
Some Necessary Skills for jobs in Banking Sector
Some Necessary Skills for jobs in Banking Sector

हमारे देश में मौजूदा समय में 27 सार्वजानिक क्षेत्र के बैंक्स हैं जिनमें से 19 बैंक नेशनलाइज्ड बैंक्स हैं और 6 बैंक्स स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया और उसके एसोसिएट बैंक्स हैं. अन्य 2 बैंक्स हैं – आईडीबीआई बैंक और भारतीय महिला बैंक. इसके अलावा भारत में कुल 93 कमर्शियल बैंक्स हैं. अगर हम ग्रोथ रेट की चर्चा करें तो वर्तमान में हमारे देश के बैंकिंग सेक्टर में लगभग 8.5% सालाना ग्रोथ रेट है जिससे पता चलता है कि भारत में फाइनेंशियल/ बैंकिंग सेक्टर में स्थिर ग्रोथ रेट है जो विकास की परिचायक है. बैंकिंग सेक्टर में सैलरी पैकेज भी काफी आकर्षक हैं और बैंकिंग सेक्टर के कर्मचारियों को काम करने के अच्छे माहौल के साथ कई फैसिलिटीज भी मिलती हैं. ऐसे ही कई कारणों से हमारे देश में बैंकिंग सेक्टर में विभिन्न जॉब्स हमेशा से यंगस्टर्स के बीच काफी लोकप्रिय रही हैं. लेकिन बैंकिंग सेक्टर में कोई भी जॉब प्राप्त करने के लिए कुछ विशेष स्किल्स की जरूरत होती है. आइये ऐसे स्किल्स के बारे में चर्चा करें.

भारत में बैंकिंग सेक्टर में जॉब पाने के लिए ये हैं जरुरी स्किल्स:

हम आपकी सहूलियत के लिए बैंकिंग सेक्टर में जॉब पाने के लिए कुछ ऐसे खास स्किल्स का विवरण पेश कर रहे हैं जो किसी भी बैंक में जॉब करने के लिए निहायत जरुरी हैं जैसेकि: 

  • प्रॉब्लम सॉल्विंग एंड एनालिटिकल स्किल्स

आप किसी भी बैंक में चाहे किसी भी पोस्ट पर काम करें, उक्त स्किल्स आपके लिए सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण हैं. बैंकिंग सेक्टर का तकरीबन सारा कामकाज नंबर्स और कैलकुलेशन्स पर ही निर्भर करता है. इसलिए आपके पास नंबर्स को लेकर आत्मविश्वास के साथ ही बेसिक कैलकुलेशन्स में महारत होनी चाहिए, मार्जिन्स और परसेंटेज को कैलकुलेट करना ओर एनालाइज करना आना चाहिए. आपको फटाफट बेसिक कैलकुलेशन्स, मल्टीप्लीकेशन्स, रेश्यो, फ्रैक्शन्स आई में कुशल होना चाहिए. बैंकिंग सेक्टर के रिक्रूटर्स यह देखते हैं कि आप नंबर्स के साथ कितने कम्फ़र्टेबल हो, इनफॉर्मेशन को कैसे एनालाइज करते हो, प्रॉब्लम्स कैसे सॉल्व करते हो और कैसे अपनी जॉब प्रोफाइल से संबद्ध बढ़िया डिसीजन लेते हो?

  • डिटेल्स पर अटेंशन

बैंक में हरेक जॉब के लिए यह काफी महत्वपूर्ण वर्किंग स्किल है. आपको अपने काम के दौरान छोटी से छोटी गलती या असंगतता पकड़ने में माहिर होना चाहिए. इसके लिए आपको हमेशा अपना काम पूरे ध्यान से करना होगा ताकि क्लाइंट्स के साथ-साथ बैंक को भी कोई धन संबंधी हानि न हो.

  • कम्युनिकेशन स्किल्स

अब, क्योंकि बैंक के अधिकारियों और कर्मचारियों को रोजाना क्लाइंट्स से लेन-देन और कार्य-व्यवहार करना पड़ता है और हरेक बैंक में सभी किस्म के लोग – पढ़े-लिखे या अनपढ़, अमीर-गरीब, टेक्नो-फ्रेंडली या मॉडर्न टेक्निक्स से अनजान आदि -  आते हैं इसलिए सभी बैंक कर्मचारियों के कम्युनिकेशन स्किल्स बेहतरीन होने चाहिए.

  • टीम कोआर्डिनेशन

बैंक स्टाफ को अपने सीनियर ऑफिसर्स और जूनियर स्टाफ के साथ ही अपने क्लाइंट्स से भी पूरा कोआर्डिनेशन करना चाहिए.

  • पॉजिटिव एटीट्यूड और आकर्षक पर्सनलैटी

बैंकिंग सेक्टर में काम करते समय हरेक जॉब प्रोफाइल के लिए कर्मचारियों का एटीट्यूड हमेशा पॉजिटिव होना चाहिए और आपकी पर्सनलैटी आकर्षक होनी चाहिए ताकि क्लाइंट्स आपके साथ फ्रेंडली माहौल में लेन-देन कर सकें.

  • टाइम मैनेजमेंट एंड मल्टी टास्किंग स्किल्स

हरेक बैंक में अक्सर रोजाना एक समय पर काफी सारे कस्टमर्स होते हैं जिन्हें पैसों का लेन-देन या अन्य संबद्ध कार्य करने होते हैं. इसलिए हरेक बैंक जॉब प्रोफाइल के लिए टाइम मैनेजमेंट और मल्टी टास्किंग स्किल्स बेहद जरुरी हैं ताकि समय पर बैंक का हरेक काम पूरा हो सके.

  • इनिशिएटिव एंड क्रिएटिविटी

किसी भी बैंक में काम करने के दौरान अनेक बार बैंक के स्टाफ या ऑफिसर्स को अपने काम के संबंध में इनिशिएटिव लेना पड़ता है जिसके लिए बैंक के हरेक कर्मचारी को पूरी तरह तैयार रहना चाहिए और अपने काम में जहां तक हो सके क्रिएटिविटी का भी समावेश करना चाहिए ताकि काम में कुशलता आये.

  • लीडरशिप

आजकल सिर्फ देश की पॉलिटिक्स ही नहीं बल्कि हरेक जॉब को सुचारू रूप से संचालित करने के लिए एम्पलॉईज में लीडरशिप की क्वालिटी जरुर होनी चाहिए और बैंकिंग सेक्टर भी इसका अपवाद नहीं है. इसकी एक खास वजह यह है कि, कई बार जरूरत पड़ने पर आपको एक लीडर की तरह अपने ड्यूटीज के संबंध में उचित निर्णय समय रहते लेना पड़ता है.

  • कस्टमर्स के प्रति पॉजिटिव रवैया

हरेक बैंक में सारा स्टाफ क्लाइंट्स को धन संबंधी विभिन्न सेवायें उपलब्ध करवाता है इसलिए बैंक में आने वाले सभी कस्टमर्स से अच्छी तरह लेनदेन और कार्य-व्यवहार करते हुए उनकी सभी प्रॉब्लम्स को सॉल्व करना, उनकी क्वेरीज के सही उत्तर देना और कम्प्लेंट्स को समय रहते निपटाना हरेक कर्मचारी का पहला दायित्व है. 

  • न्यूमेरिकल स्किल्स

बैंकिंग सेक्टर में हरेक जॉब प्रोफाइल के लिए उक्त स्किल्स बेसिक स्किल्स हैं जिनके बिना आप बैंक में कोई भी काम ठीक से नहीं कर सकेंगे. अपने काम को कुशलता से पूरा करने के लिए आपको नंबर्स और कैलकुलेशन्स की बहुत अच्छी जानकारी और समझ होनी चाहिए. 

  • वर्क प्रेशर में काम करने का कौशल

हरेक बैंक कर्मचारी को प्रेशर में बिना किसी गलती के काम करने में कुशल होना चाहिए क्योंकि अक्सर हरेक बैंक में रोजाना काफी अधिक संख्या में कस्टमर्स रूपये-पैसे का लेनदेन करने के लिए आते हैं और कस्टमर्स की लंबी कतार से बैंक स्टाफ को रोज़-रोज़ निपटना होता है.

  • विजनरी स्किल्स

सभी बैंकों में अपने काम को अंजाम देते समय हरेक कर्मचारी को पूरी सावधानी बरतते हुए अपने विजनरी स्किल्स का इस्तेमाल करना चाहिए ताकि काम-काज के दौरान ये कर्मचारी किसी भी बदलाव/ गलती या असंगतता को तुरंत पकड़ सकें और बैंक तथा क्लाइंट्स को धोखे से समय रहते बचा सकें.

  • बैंकिंग इंडस्ट्री की जानकारी

सभी कर्मचारियों को अपने संबद्ध कार्य के अलावा बैंकिंग सेक्टर के लेटेस्ट ट्रेंड्स और अन्य जरुरी मामलों की अच्छी जानकारी और समझ होनी चाहिए ताकि वे अपने कस्टमर्स को सही जानकारी दे सकें.

भारत के टॉप 10 बैंक एग्जाम्स:

  • नाबार्ड (नेशनल बैंक फॉर एग्रीकल्चर एंड रूरल डेवलपमेंट) ग्रेड ए और बी ऑफिसर
  • एसबीआई (स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया) पीओ
  • एसबीआई क्लर्क
  • आरबीआई (रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया) ग्रेड बी ऑफिसर
  • आईबीपीएस (इंस्टीट्यूट ऑफ़ बैंकिंग पर्सनल सिलेक्शन) पीओ
  • आईबीपीएस क्लर्क
  • आईबीपीएस आरआरबी ऑफिसर स्केल-1
  • आईबीपीएस आरआरबी ऑफिस असिस्टेंट
  • नाबार्ड डेवलपमेंट असिस्टेंट
  • आरबीआई ऑफिस असिस्टेंट

भारत के पब्लिक सेक्टर बैंक्स में जॉब हायरार्की:

  • क्लर्क
  • प्रोबेशनरी ऑफिसर
  • स्पेशलिस्ट ऑफिसर
  • असिस्टेंट मैनेजर
  • मैनेजर
  • सीनियर मैनेजर
  • चीफ मैनेजर
  • असिस्टेंट जनरल मैनेजर
  • डिप्टी जनरल मैनेजर
  • चीफ फाइनेंशियल ऑफिसर
  • चीफ एग्जीक्यूटिव ऑफिसर
  • प्रेजिडेंट

भारत के प्राइवेट सेक्टर बैंक्स में जॉब हायरार्की:

  • एनालिस्ट
  • एसोसिएट
  • सीनियर एसोसिएट
  • असिस्टेंट वाईस प्रेजिडेंट
  • वाईस प्रेजिडेंट
  • सीनियर/ एग्जीक्यूटिव वाईस प्रेजिडेंट
  • एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर
  • मैनेजिंग डायरेक्टर
  • रीजनल लेवल सीएक्सओ पोजीशन्स
  • ग्लोबल सीएक्सओ लेवल पोजीशन्स

भारत के बैंकिंग सेक्टर में एवरेज सैलरीज:

आपके जॉब प्रोफाइल के मुताबिक भारत के बैंकिंग सेक्टर में एवरेज सैलरीज दी जाती हैं. कुछ जॉब प्रोफाइल्स का एवरेज सैलरी पैकेज निम्नलिखित है:

  • ऑफिसर – 15 – 20 हजार रु. प्रति माह
  • सीनियर ऑफिसर – 25 – 30 हजार रु. प्रति माह
  • टीम लीडर – 40 – 50 हजार रु. प्रति माह
  • असिस्टेंट मैनेजर – 50 – 60 हजार रु. प्रति माह
  • मैनेजर – 1 लाख रु. प्रति माह
  • सीनियर मैनेजर – 1.5 लाख रु. प्रति माह
  • वाईस प्रेजिडेंट – 2 लाख रु. प्रति माह (सोर्स: कोरा)

जॉब, करियर और कोर्सेज के बारे में और अधिक जानकारी प्राप्त करने और लेटेस्ट आर्टिकल पढ़ने के लिए आप हमारी वेबसाइट www.jagranjosh.com पर विजिट कर सकते हैं.

Related Stories