ये टिप्स आजमाकर बनें एक कामयाब राइटर

अगर आप एक कामयाब राइटर बनना चाहते हैं तो  आप अवश्य ही एक ब्लॉगर, ट्रांसलेटर, स्क्रिप्ट राइटर, कंटेंट राइटर, टेक्निकल राइटर के तौर पर अपना करियर शुरू कर सकते हैं. इसके लिए आपके पास केवल क्रिएटिव राइटिंग स्किल्स और टैलेंट होने चाहिए.                                

Created On: Dec 31, 2020 19:40 IST
Tips for Career in Writing Body Image
Tips for Career in Writing Body Image

देश-दुनिया में सदियों से राइटर्स और पोएट्स ने लोगों के साथ-साथ मानव समाज और सभ्यता पर सतत प्रभाव डाला है. हमारे देश भारत में संत कबीर, रविदास, गुरु नानक देव ने जहां ईश्वर-भक्ति के प्रचार के लिए कई नए राइटिंग स्टाइल्स का इस्तेमाल किया है तो वहीँ, मिर्ज़ा ग़ालिब, महादेवी वर्मा, जयशंकर प्रसाद, भारतेंदु जैसे अनेक राइटर्स ने भी कालजयी लेखन किया है. इसी तरह, शेक्सपियर, जे.के. रोलिंग, मार्क ट्वेन, लियो टॉलस्टॉय, जेन ऑस्टिन और चार्ल्स डेकिन्स और होमर ने भी पूरी दुनिया के ज्ञान और जानकारी को अपनी कालजयी राइटिंग्स से समृद्ध किया है.

वैसे तो राइटिंग टैलेंट और स्किल्स के लिए किसी ख़ास ट्रेनिंग की जरूरत नहीं होती है लेकिन, इस स्पेशलाइजेशन के युग में अगर आप एक कामयाब राइटर बनना चाहते हैं तो आपको अपने लैंग्वेज स्किल्स को हमेशा सुधारना होगा और इसके साथ ही आपको क्रिएटिव राइटिंग स्किल्स में भी पेशेवर ट्रेनिंग अवश्य लेनी चाहिए. इसलिए, इस आर्टिकल में हम आपके लिए एक कामयाब राइटर बनने के कुछ कारगर टिप्स की जानकारी प्रस्तुत कर रहे हैं. आइये आगे पढ़ें यह आर्टिकल:

राइटिंग की प्रमुख किस्में

•    पेशेवर राइटिंग – कॉपी राइटर, कंटेंट राइटर, स्क्रिप्ट राइटर, ट्रांसलेटर आदि सभी राइटर्स जो कहीं जॉब करते हैं पेशेवर राइटर्स होते हैं. इन्हें अपने लेखन के बदले वेतन मिलता है. 
•    फ्रीलांस राइटिंग – ऐसे राइटर्स जो सेल्फ-एम्पलॉएड होते हैं और फ्रीलांसिंग के तहत राइटिंग का पेशा अपनाते हैं, इस फील्ड में शामिल होते हैं. फ्रीलांसर्स को अपने कस्टमर्स की जरूरत के मुताबिक किसी भी स्टाइल या टॉपिक पर लिखना होता है. ये राइटर्स भी अपनी आजीविका लेखन से ही अर्जित करते हैं.

एक कामयाब राइटर बनने के लिए आवश्यक क्वालिफिकेशन और स्किल सेट

आजकल के जमाना ‘स्पेशलाइजेशन का युग’ है. अब एक पेशेवर राइटर बनने के लिए आपके पास केवल लिखने का कौशल होना ही काफी नहीं है बल्कि कुछ अन्य निम्नलिखित प्वाइंट्स का ध्यान भी आपको पूरी तरह रखना होगा जैसेकि:

•    अधिकांश राइटिंग जॉब्स के लिए कैंडिडेट ने कम से कम किसी मान्यताप्राप्त बोर्ड से 12 वीं क्लास पास की हो.
•    राइटिंग शुरू करने से पहले ही किसी प्रोफेशनल राइटिंग फील्ड को चुन लेना बहुत जरुरी है जैसेकि आप एक फिक्शन राइटर बनना चाहते हैं या पोएट, ब्लॉगर बनना चाहते हैं या स्क्रिप्ट राइटर.
•    राइटिंग स्टाइल में ट्रेनिंग लेना भी काफी बेहतर रहता है क्योंकि मुख्यतः 2 किस्म के राइटिंग स्टाइल्स होते हैं – औपचारिक और अनौपचारिक लेखन.
•    बिजनेस, हेल्थकेयर, मार्केटिंग या फैशन राइटिंग शुरू करने से पहले आप संबद्ध राइटिंग फील्ड में इंटर्नशिप जरुर पूरी कर लें. अपने कॉलेज के दिनों में ही आप एक सफल कॉपी-राइटर या जर्नलिस्ट बनने के लिए इंटर्नशिप कर सकते हैं.
•    किसी कंटेंट राइटर, ट्रांसलेटर, स्क्रिप्ट राइटर या कॉपी राइटर आदि के तौर पर एक जॉब हासिल करके संबद्ध फील्ड में राइटिंग एक्सपीरियंस प्राप्त करें.
•    लिखने की निरंतर प्रैक्टिस करते रहें और राइटिंग की संबद्ध फील्ड में अपना अनुभव लगातार बढ़ाते रहें.
•    संबद्ध राइटिंग फील्ड में पोस्ट ग्रेजुएशन की डिग्री प्राप्त करके आप अपने राइटिंग स्किल्स को और ज्यादा निखार सकते हैं.
•    अपनी राइटिंग फील्ड में पीएचडी की डिग्री हासिल करने के बाद तो आपको राइटिंग फील्ड में खास पहचान मिल ही जाती है.

भारत में आपके लिए उपलब्ध हैं ये बेस्ट राइटिंग कोर्सेज

•    सर्टिफिकेट इन क्रिएटिव राइटिंग
•    डिप्लोमा इन क्रिएटिव राइटिंग
•    डिप्लोमा इन क्रिएटिव राइटिंग (डिस्टेंस लर्निग)
•    पीजी डिप्लोमा इन क्रिएटिव राइटिंग
•    संबद्ध लैंग्वेज में ग्रेजुएशन/ पोस्ट ग्रेजुएशन की डिग्री
•    संबद्ध लैंग्वेज में एमफिल/ पीएचडी की डिग्री.

भारत की इन प्रमुख यूनिवर्सिटीज और इंस्टीट्यूट्स से करें राइटिंग कोर्स

आपकी सहूलियत के लिए हम निम्नलिखित यूनिवर्सिटीज और इंस्टीट्यूट्स की एक लिस्ट पेश कर रहे हैं ताकि आप यहां हायर एजुकेशन प्राप्त करके अपने लेखन कौशल को और अधिक निखार सकें:

•    इंदिरा गांधी नेशनल ओपन यूनिवर्सिटी, नई दिल्ली
•    दिल्ली विश्वविद्यालय, नई दिल्ली  
•    जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी, नई दिल्ली
•    जामिया मिलिया इस्लामिया, नई दिल्ली
•    कोलकाता यूनिवर्सिटी, कोलकाता
•    कर्नाटक स्टेट ओपन यूनिवर्सिटी, कर्नाटक
•    भारतीय विद्या भवन, नई दिल्ली
•    भीमराव अंबेडकर ओपन यूनिवर्सिटी, अहमदाबाद
•    ब्रिटिश काउंसिल ऑफ इंडिया

भारत में राइटर्स के लिए उपलब्ध हैं ये प्रमुख करियर ऑप्शन्स

आजकल दुनिया में हरेक क्षेत्र में स्पेशलाइजेशन देखने को मिलता है और राइटिंग की फील्ड भी इससे अछूती नहीं है. एक राइटर के तौर पर आजकल आपके पास राइटिंग की फील्ड में कई खास करियर ऑप्शन्स मौजूद हैं जो आपको मान-सम्मान दिलवाने के साथ-साथ अच्छा सैलरी पैकेज भी ऑफर करते हैं जैसेकि:

  • कॉपी राइटर

ये राइटर्स अक्सर एडवरटाइजिंग की फील्ड से संबद्ध होते हैं और विभिन्न गुड्स एंड सर्विसेज या प्रोडक्ट्स के प्रचार-प्रसार के लिए कैची स्लोगन्स/ डिस्क्रिप्शन आदि तैयार करते हैं. ये राइटर्स प्रिंट कैटलॉग्स, ब्रोशर्स, मेल्स और कमर्शियल स्क्रिप्ट्स तैयार करते हैं.

  • कॉपी एडिटर

आमतौर पर ये पेशेवर किसी भी राइटिंग मटीरियल के फैक्ट्स को चेक करते हैं ताकि प्रकाशन से पहले ही आर्टिकल की गलतियों को सुधार लिया जाए. ये पेशेवर राइटिंग मटीरियल की प्रूफ-रीडिंग, करेक्शन, ग्रामर एंड सेंटेंस फॉर्मेशन, फॉर्मेटिंग इश्यूज आदि चेक करते हैं और आर्टिकल का फाइनल ड्राफ्ट तैयार करते हैं जो पहले ड्राफ्ट से ज्यादा बढ़िया और एरर-लेस होता है.

  • कंटेंट राइटर

विभिन्न टॉपिक्स पर रिसर्च करके ये राइटर अपने आर्टिकल्स तैयार करते हैं. इनके आर्टिकल्स में इनफॉर्मेशन, जानकारी या अन्य किस्मों के विवरण दिए गए होते हैं.

  • ट्रांसलेटर

इन पेशेवरों को कम से कम 2 भाषाओँ में महारत हासिल होती है और किसी एक भाषा (सोर्स लैंग्वेज) की विषय सामग्री को ये लोग किसी दूसरी भाषा (टारगेट लैंग्वेज) में ट्रांसलेट करते हैं ताकि जिन लोगों को कोई भाषा समझ नहीं आती है, वे लोग अपनी भाषा में उस न समझ में आने वाली भाषा की विषयवस्तु पढ़कर लाभ उठायें. एक ट्रांसलेटर के तौर पर आप प्रिंट, फिल्म और टेलीविज़न इंडस्ट्री में काम कर सकते हैं जहां आप मूवीज, शोज, डाक्यूमेंट्रीज और आर्टिकल्स को ट्रांसलेट करते हैं.

  • ब्लॉगर

ब्लॉगिंग अब राइटिंग फील्ड में कोई नया शब्द या कॉन्सेप्ट नहीं रह गया है. कुछ लोग ब्लॉगिंग के माध्यम से अपने राइटिंग स्किल्स प्रदर्शित करते हैं तो अन्य कई लोगों के लिए ब्लॉगिंग अब पूरी तरह से एक प्रोफेशनल राइटिंग फील्ड है क्योंकि ब्लॉगिंग के जरिये लोग आजकल अपना कारोबार बढ़ाते हैं. आजकल आप एक फ़ूड ब्लॉगर, मेक-अप एंड ब्यूटी ब्लॉगर, फैशन ब्लॉगर, ट्रेवल ब्लॉगर या किसी ऐसे विषय में ब्लॉगर बन सकते हैं जिस विषय में आपको काफी इंटरेस्ट है.

  • क्रिटिक

इन पेशेवरों का काम अन्य सभी राइटर्स के आर्टिकल्स और राइटिंग मटीरियल्स के गुण-दोषों का वर्णन करना होता है. क्रिटिक्स को संबद्ध फ़ील्ड्स की काफी अच्छी समझ और जानकारी होनी चाहिए तथा उनका नजरिया निष्पक्ष होना चाहिए.

  • जर्नलिस्ट्स

ये राइटर्स इनफॉर्मेशन – इंटरव्यूज, फैक्ट्स, रिपोर्ट्स, इवेंट्स आदि की जानकारी जुटा कर आर्टिकल्स तैयार करते हैं और फिर उन आर्टिकल्स की एडिटिंग और प्रूफ-रीडिंग करने के बाद इंटरनेट, टेलीविज़न, न्यूज़पेपर्स, मैगज़ीन्स आदि में पढ़ने लायक फॉर्मेट में प्रस्तुत करते हैं. अगर आप रिपोर्टिंग नहीं कर सकते हैं तो भी आप अपने डेस्क से विभिन्न आर्टिकल्स की एडिटिंग कर सकते हैं.

  • एक्वीजीशन एडिटर

इस पेशे के तहत आप उभरते हुए राइटर्स के आर्टिकल्स या राइटिंग मटीरियल्स को एडिटोरियल बोर्ड में पेश करने के लायक बनाते हैं और भावी राइटर्स तथा पब्लिशिंग हाउस के बीच कॉन्ट्रैक्ट के टर्म्स एंड कंडीशन्स आदि निर्धारित करने में सहायता करते हैं.

  • स्पीच राइटर

इन पेशेवरों का काम नेताओं और अन्य सभी एक्सपर्ट लोगों के लिए स्पीच या भाषण तैयार करना होता है. इन पेशेवरों द्वारा तैयार की गई स्पीच प्रभावी और सुनने लायक होनी चाहिए ताकि लोगों को स्पीच सुनने में आनन्द आने के साथ –साथ जरुरी जानकारी भी मिल सके.

  • स्टोरी/ स्क्रिप्ट राइटर

ये लोग फिल्म्स, टेलीविज़न और विभिन्न सीरियल्स के लिए स्टोरी या स्क्रिप्ट तैयार करते हैं.

  • ईमेल मार्केटिंग स्पेशलिस्ट्स

ये पेशेवर राइटर्स ई-मेल राइटिंग के जरीये विभिन्न इंडस्ट्रीज की गुड्स एंड सर्विसेज की मार्केटिंग करते हैं ताकि संबद्ध इंडस्ट्री के कारोबार में इजाफ़ा हो.

भारत में पेशेवर राइटर्स के लिए उपलब्ध हैं ये प्रमुख जॉब प्रोफाइल्स

पेशेवर राइटर्स भारत में निम्नलिखित जॉब प्रोफाइल्स के लिए अप्लाई कर सकते हैं:

•    साइंस राइटर
•    टेक्निकल राइटर
•    ग्रांट राइटर
•    स्क्रीन राइटर
•    लिटरेरी एजेंट
•    मेन्युस्क्रिप्ट रीडर
•    नॉवेलिस्ट
•    पोएट 
•    सोशल मीडिया मैनेजर
•    क्रिएटिव राइटर
•    ट्रेवल ब्लॉगर
•    वेब राइटर
•    ऑनलाइन राइटर – ट्विटर, इन्स्टाग्राम 

भारत में राइटर्स को मिलने वाला सैलरी पैकेज

हमारे देश में किसी कंटेंट राइटर को एवरेज 2.5 लाख रुपये का सालाना सैलरी पैकेज मिलता है और एक राइटर आम तौर पर रु. 3.5 लाख रुपये सालाना तक कमाता है. इसी तरह, टेक्निकल राइटर की एवरेज सैलरी रु. 4.7 लाख रुपये सालाना तक होती है. जैसे-जैसे राइटिंग की फील्ड में आपका अनुभव बढ़ता जाता है, उसके मुताबिक आपकी कमाई में भी इजाफ़ा होता जाता है. माइक्रोसॉफ्ट एक्सेल, राइटिंग प्रोसीजर्स एंड डॉक्यूमेंटेशन और क्रिएटिव राइटिंग के स्किल्स आपकी सैलरी में अच्छी-खासी बढ़ोतरी करते हैं. राइटर्स को आमतौर पर रॉयलिटी या कॉन्ट्रैक्ट के मुताबिक भी इनकम प्राप्त होती है.

जॉब, इंटरव्यू, करियर, कॉलेज, एजुकेशनल इंस्टीट्यूट्स, एकेडेमिक और पेशेवर कोर्सेज के बारे में और अधिक जानकारी प्राप्त करने और लेटेस्ट आर्टिकल पढ़ने के लिए आप हमारी वेबसाइट www.jagranjosh.com पर विजिट कर सकते हैं.

अन्य महत्त्वपूर्ण लिंक

राइटिंग स्किल्स: कॉलेज स्टूडेंट्स इम्प्रेसिव राइटिंग के लिए ये टिप्स जरुर करें फ़ॉलो

जानिये ये हैं कॉलेज स्टूडेंट्स ये बेसिक रिज्यूम राइटिंग टिप्स

स्टडी नोट्स: ये एकेडमिक राइटिंग टिप्स हैं स्टूडेंट्स के लिए कुछ ख़ास