Search

SSC CGL 2017: क्वांटिटेटिव एप्टिट्यूड में मास्टर कैसे बने

यदि आप एसएससी सीजीएल में मात्रात्मक योग्यता के पाठ्यक्रम को डीकोड करने का प्रयास कर रहे हैं, तो हमने इस विषय से कुछ टॉपिक्स व अन्हे तैयार करने की महतवपूर्ण टिप्स का निम्न आर्टिकल में उल्लेख किया है-

Oct 9, 2018 12:46 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon
SSC CGL 2017
SSC CGL 2017

केंद्रीय सरकार के विभिन्न विभागों में समूह-बी और समूह-सी पदों में उम्मीदवारों की भर्ती के लिए एसएससी हर साल संयुक्त स्नातक स्तर की परीक्षा (सीजीएल) परीक्षा आयोजित करता है।

क्वांटिटेटिव ऐप्टीट्यूड या गणित एसएससी सीजीएल परीक्षा में सबसे महत्वपूर्ण वर्गों में से एक है क्योंकि इसकी भूमिका अंतिम मेरिट सूची में निर्णायक के रूप में होती है। इसलिए, आपको अपनी इच्छानुसार पद पाने के लिए, टियर १ और २ दोनों परीक्षाओ में इस अनुभाग के संभवतः कई प्रश्नों को सुलझाने की कला में कुशल होने की कला सीखनी होगी।

एसएससी क्वांटिटेटिव एपटीट्यूड खंड: विस्तार में एक अध्ययन

अगर हम एसएससी सीजीएल मात्रात्मक योग्यता के पाठ्यक्रम को डीकोड करने का प्रयास कर रहे हैं, तो हमने इस विषय से कुछ टॉपिक्स का निम्न आर्टिकल में उल्लेख किया है जहाँ से अधिकतर प्रश्न पूछे जाते हैं और इस अनुभाग में उच्च स्कोर करने के लिए आपको पहले पाठ्यक्रम को समझना होगा और तदनुसार तैयार करना होगा। क्वांटिटेटिव एपटीट्यूड के विभिन्न खंड हैं जोकि इस प्रकार है -

अ.    अंकगणित: टियर-1 के मामले में,  २५ प्रश्नों में से, न्यूनतम ३-५ प्रश्न अंकगणित से होते हैं, जिसमें निम्न टॉपिक्स शामिल हैं

 

१.      Profit and loss, percentage

२.      Number system

३.      Permutation and combination

४.      Probability

५.      Time and distance

६.      Pipe and cistern

७.      Average

८.      Interest calculation

९.      Mixture and Allegations

१०.  Time and Work, इत्यादि|

 सभी प्रश्न आम तौर पर बेसिक स्तर के होते हैं

आ.  बीजगणित (Algebra): इसमें निम्नलिखित टॉपिक्स से प्रश्न पूछे जाते है

१.       Algebra and elementary surds

२.      Graphs of linear equation, इत्यादि|

प्रश्नों की संख्या औसतन आधार पर लगभग १-२ है और प्रश्नों का स्तर बहुत आसान होता है|

इ.      ज्यामिति (Geometry): ज्यामिति में एसएससी पाठ्यक्रम से निम्न टॉपिक्स को शामिल किया गया है जैसे- कि

१.      Triangles and its various kinds of centers

२.      Congruence and similarity of triangles

३.      Circles and its chords

४.      Tangents

५.      Angles subtended by chords of a circle

६.      Common tangents to two or more circles इत्यादि|

 यह खंड टियर-१ और २ दोनों में सबसे महत्वपूर्ण अनुभाग है क्योंकि अधिकांश प्रश्न इस पर आधारित होते हैं और हालांकि स्तर मुश्किल नहीं होता है, यदि आप फोर्मुलो से अवगत नहीं हैं, तो आप इन सवालों का हल निर्धारित समय अवधि के भीतर नहीं कर पाएंगे|

ई.      मेन्सूरेशन (Mensuration): इसमें निम्न टॉपिक्स को कवर किया जाता है जैसे कि

१.      Triangle,

२.      Quadrilaterals,

३.      Regular polygons,

४.      Circle,

५.      Right prism,

६.      Right circular cone,

७.      Right circular cylinder,

८.      Sphere,

९.      Cylinder,

१०.  Sphere, hemisphere, and rectangular parallelepiped,

११.  Regular right pyramid with triangular or square base

इस क्षेत्र से सामान्य स्तर के ३-४ प्रश्न होंगे।

उ.      त्रिकोणमिति (Trigonometry): इस भाग में से निम्न चैप्टर्स से प्रश्न पूछे जाते है-

१.      Trigonometric ratios,

२.      Degree and radian measures,

३.      Standard identities,

४.      Complementary angles,

५.      Height and Distance.

इस क्षेत्र से सामान्य स्तर के २-३ प्रश्न होंगे।

ऊ.     सांख्यिकी (Statistics): इस भाग में से निम्न चैप्टर्स से प्रश्न पूछे जाते है-

१.      Histogram,

२.      Frequency polygon,

३.      Bar diagram,

४.      Pie chart इत्यादि|

इस क्षेत्र से २-३ सवाल पूछे जाते हैं, यद्यपि ये हल करने में आसान होते हैं परन्तु हल करने में काफी समय लेते हैं| इसलिए, निर्धारित समय के भीतर इन सवालों को हल करने में सक्षम होने के लिए आपको मन में गति से गणना करने में बेहतर तैयारी करनी होगी।

क्वांटिटेटिव एपटीट्यूड: निर्णायक कारक

क्वांटिटेटिव एप्टीट्यूड को छात्रों को टियर १ और २ दोनों में सामना करना पड़ता है और इसलिए, आपको विषय की मूल बातें अच्छी तरह से तैयार करने पर जोर देना चाहिए। यह आपको दूसरों छात्रों पर बढ़त देता है और आपको अपना पसंदीदा पद प्राप्त करने के लिए आवश्यक अंक दिलाएगा। अब यह प्रश्न उठता है कि आपको इस खंड को कैसे पढना चाहिए?  आइये विस्तार से जाने-

अ.    बेसिक्स को ठीक से पढ़े: जब आप अपनी तैयारी शुरू कर रहे हो तो अध्यायों की मूलभूत जानकारी प्राप्त करना आपका पहला उद्देश्य होना चाहिए और यदि आवश्यक हो, तो उन्हें नोट करें ताकि आप उन्हें अंतिम दिनों में संशोधित कर सकें। इस विषय को समझने बिना याद करने की कोशिश न करें क्योंकि गणित स्मृति का नहीं; अनुप्रयोगों का परीक्षण है|

आ.  अगर आप कुशल नहीं हैं तो शॉर्टकट्स मत अपनाओ: यदि आप किसी समस्या के लिए शॉर्टकट ट्रिक्स याद रखने में अच्छे नहीं हैं, तो परेशान न हो। इसमें कुशल होने के लिए आसान और लंबे तरीको का अभ्यास करे| इसके बाद आपको शॉर्टकट की ही भांति प्रश्न हल करने में तेज़ी आ जाएगी|

इ.      अध्याय-वार दोहराए: एक बार पूरे पाठ्यक्रम को पूरा करने के बाद, पहले एक बार दोहराए और इसके लिए अध्याय विशिष्ट होना चाहिए। यदि संभवत: आपके पास समय हो, तो इस समय के दौरान अध्याय से जितने संभव हो उतने सवाल हल करने का प्रयास करें। तैयारी के इस पड़ाव पर केवल मुश्किल प्रश्नों को ही हल करने का प्रयास करे|

ई.      निरंतर अभ्यास करे: यदि दोहराने का काम ख़त्म हो गया हो, तो जितना संभव हो सके उतना पुराने साल के प्रश्न पत्रों को एकत्र करे व अभ्यास, अभ्यास और अभ्यास करें। कभी भी अपनी तैय्यारी के समक्ष किसी और काम को वरीयता न दे|

उ.      परीक्षा से पहले कुछ भी नया तैयार न करें: परीक्षा से पहले व तैयारी शुरू करने के बाद से किसी और करियर या परीक्षा को तैयार करने की कोशिश न करें। एक प्रकार के प्रश्न को हल करने की शॉर्टकट ट्रिक में कुशलता प्राप्त करने में समय बर्बाद करने से अच्छा है कि अन्य टॉपिक्स पर ज्यादा ध्यान दिया जाये|

ऊ.     मानसिक गणना बहुत मह्तवपूर्ण है: जितना संभव हो उतना मस्तिष्क में गणना करने की आदत डाले। यह आपके लिए बहुत समय बचाता है, जब आपको किसी निश्चित समय के भीतर प्रश्नों को हल करना हो। इस आदत को विकसित करने के लिए अपने आप को समय दें क्योंकि यह अभ्यास का ही खेल है|

ऋ.    गति और सटीकता दोनों आवश्यक हैं: यह किसी भी प्रतियोगी परीक्षा के किसी भी विषय के लिए सच है। आपको जितनी जल्दी हो सके समस्याओं को हल करना होगा, लेकिन साथ ही आपको उन्हें ठीक से भी हल करना होगा क्योंकि नकारात्मक अंकन इन परीक्षाओं में उम्मीदवारों के अंक कम कर देती है|

एसएससी सीजीएल आपके ज्ञान के साथ आपकी गति की भी परीक्षा है अंग्रेजी और क्वांटिटेटिव एप्टिड्यूड परीक्षा में सबसे महत्वपूर्ण वर्ग हैं क्योंकि दोनों विषय टियर १ और २ में आते हैं। मात्रात्मक योग्यता खेल परिवर्तक टेस्ट है क्योंकि अंग्रेजी में, जब आप कुछ जानते हैं तभी जवाब देते हैं, लेकिन अगर आप नहीं जानते, तो आप जवाब नहीं दे सकते, जबकि गणित में, आपको कभी नहीं पता होगा कि आपकी यह गणना सही है। ठीक से तैयार करें, इस विषय में सफलता का एकमात्र मंत्र: विषय के बारे में आंतरिक भय को दूर करना है। इस विषय की बारीकियों को समझने के लिए, इस विषय को प्राथमिकता देने की कोशिश करें और आप इसके स्वामी हों जायेंगे|

शुभकामनाएं!!

 

Related Stories