बोर्ड परीक्षा के प्रति विद्यार्थियों के दिमाग में डर पैदा करने वाले छः मुख्य कारण

इस लेख में हम जानेंगे कि आखिर किन कारणों से विद्यार्थियों के मन में बोर्ड परीक्षा के प्रति डर पैदा होता हैl आम छत्रों द्वारा बात-चीत करने पर ये कुछ ख़ास कारण सामने आए जिनकी वजह से लगभग हर छात्र बोर्ड परीक्षा देने से घबराता हैl

Feb 27, 2019 17:42 IST
Why do students fear board exams
Why do students fear board exams

अक्सर बोर्ड परीक्षा का नाम लेते ही विद्यार्थियों के दिल और दिमाग चिंता और दबाव के भाव आ जाते हैं. बोर्ड परीक्षा हर विद्यार्थी के शैक्षिक जीवन का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा तो होता ही है, साथ ही यह इम्तिहान विद्यार्थी के भविष्य को तैय करने में भी अहम भूमिका निभाता है. तो बोर्ड परीक्षा के लिए हर विद्यार्थी के दिल और दिमाग में एक अलग डर रहता है जो कि उसकी तैयारिओं को भी प्रभावित कर सकता है.

आज इस लेख में हम ऐसे कुछ कारणों का पता लगाने की कोशिश करेंगे जिनकी वजह से विद्यार्थी बोर्ड परीक्षा को अन्य स्कूल परीक्षाओं से अलग एक हौवा मानने लगते हैं.

बोर्ड परीक्षा से जुड़ी कौन सी चीज़ें छात्रों के मन में डर पैदा करती हैं?

देखा जाए तो बोर्ड एग्जाम, उन सभी इम्तिहानों की तरह ही होता है जो आपने अभी तक अपने स्कूल के दिनों में दिए हैंl वही प्रश्न पूछना और वही उत्तर लिखना. बस डर है तो ‘बोर्ड परीक्षा’ के नाम का. शायद छात्रों के दिमाग में आने वाले इस डर का सबसे बड़ा कारण हो सकता है पेरेंट्स की ओर से पड़ने वाला दबाव कि “इस बोर्ड परीक्षा में यदि अच्छी परसेंटेज नहीं आई तो तुम्हारा भविष्य ख़राब हो जाएगाl. यही एक मौका है, अब पढ़ गए तो सब कुछ ठीक होगा.” शायद समझाने का तरीका उचित ना हो लेकिन यह बात काफी हद तक सही भी है. यदि बोर्ड परीक्षा में अच्छे मार्क्स नहीं आएंगे तो अच्छे कॉलेज व कोर्स में दाखिला लेने में मुश्किल तो होगी ही साथ ही आपके पेरेंट्स को अपनी सेविंग्स का बहुत बड़ा हिस्सा भी ख़र्च करना पड़ेगा.

एग्जाम की चिंता को भगाओ दूर और इस तरह शुरू करो तैयारी

बीते सभी सालों की मेहनत का फल आपके बोर्ड एग्जाम के परिणाम पर ही निर्भर हैl इसलिए आज से लगभग एक महीने बाद होने वाली बोर्ड परीक्षा आपके लिए बेहद महत्वपूर्ण है.

कुछ छात्रों से बोर्ड एग्जाम के बारे में चर्चा करने पर पता चला कि, आखिर कौनसी बातें हैं जो बोर्ड परीक्षा के प्रति उनके मन में डर बनकर बैठ जाती हैं, लिस्ट कुछ इस प्रकार हैं:

1. बोर्ड एग्जाम में कैसा प्रश्न पत्र आएगा?

बीते वर्ष की परीक्षा के बारे में जानने के बाद, बहुत से विद्यार्थी इसी डर में रहते हैं कि यदि इस बार भी गणित का पेपर इतना ही मुश्किल आया तो? ज़्यादातर विद्यार्थी गतवर्ष प्रश्न पत्र से ही आने वाले इम्तिहान के आसान या मुश्किल होने का अंदाज़ा लगाते हैं. अधिकतर बोर्ड परीक्षा का मतलब एक कठिन या जटिल परीक्षा ही माना जाता है.

  Related Video: पढ़ने की क्षमता को इस तरह बढ़ाएं

2. कैसा होगा एग्जामिनर?

बहुत से विद्यार्थी बोर्ड परीक्षा से इसलिए भी डरते हैं क्योंकि इस बार उनकी उत्तर पत्रिका उनके स्कूल टीचर के द्वारा नहीं बल्कि बोर्ड द्वारा नियुक्त किसी एग्जामिनर द्वारा चेक की जाएगी जिसकी वजह से इस बात का डर बच्चों को सताता है कि एग्जामिनर कहीं ज़्यादा सख़्त हुआ तो वो मेरे अंक काट लेगा या पता नहीं उसको मेरे उत्तर या हैण्ड राइटिंग पसंद आएगी या नहीं.

3. क्या जो मैंने पढ़ा है उस में से ही प्रश्न पूछे जाएंगे या नहीं

शायद यह सबसे बड़ी चिंता है जो अधिक्तर विद्यार्थियों के मन में रहती है. हर विद्यार्थी बोर्ड द्वारा निर्धारित सिलेबस की पूरी तैयारी करने में कोई कसर नहीं छोड़ता, लेकिन कहीं ना कहीं यह डर फिर भी बना रहता है कि यदि कोई प्रश्न सिलेबस से बाहर से आ गया तो क्या होगा.

4. क्या मैंने सभी महत्वपूर्ण विषय कवर करे हैं?

परीक्षा से पहले सरे साल पढ़ाये गये विशाल पाठ्यक्रम को पढ़ते समय या परीक्षा की तैयारी करते समय सबसे बड़ा चिंता का विषय यह होता है कि “क्या सभी इम्पोर्टेन्ट टॉपिक पढ़ लिए हैं? कहीं कुछ छूट तोह नहीं रहा?”

5. परीक्षा के दिन मुझे सब कुछ याद तो रहेगा?

कुछ विद्यार्थियों को इस बात की बेहद चिंता रहती है कि क्या वे जो आज पढ़ रहे हैं, वो सब उन्हें परीक्षा के दिन तक याद रहेगा. वे इसी सोच में रहते हैं कि यदि परीक्षा लिखते समय अगर पढ़ी हुई चीज़ों को भूल गये तो क्या होगा.

6. एग्जाम के दिन मेरी सेहत ठीक रहेगी?

दिन-रात की मेहनत, परीक्षा का डर, तनाव, आदि के चलते सेहत के प्रति भी विद्यार्थियों के मन में चिंता बनी रहती है कि “यदि एग्जाम के दिन या उससे पहले तबियत ख़राब हो गई तो एग्जाम अच्छे से कैसे दे पाऊंगा?”

ये थे कुछ वाजिब कारण जो पहले से ही परीक्षा के बोझ, बड़ों के सुझावों और सेल्फ-एक्सपेक्टेशन टेल दबे छात्रों के मन में बोर्ड परीक्षा के प्रति असली डर पैदा करते हैं. हालांकि समझने वाली बात यह है कि डर कभी भी आपको आगे नहीं बढ़ने देगा, आपका प्रदर्शन सिर्फ़ आपकी मेहनत व निष्ठा पे ही निर्भर करता है जिससे आपको अपने क्षेत्र में जीत हासिल होगी. इसलिए अपनी मेहनत और तैयारी पर भरोसा रखते हुए बेहतरीन परीक्षा लिखें, परिणाम अवश्य अच्छा मिलेगा.

शुभकामनायें!

बोर्ड परीक्षा में प्रश्न पत्र हल करते समय इन ख़ास बातों का ज़रूर रखें ध्यान

पिछले पाँच वर्षों की डेटशीट का विश्लेष्ण व् बचे हुए तीन महीनों में CBSE बोर्ड परीक्षा 2018 की तैयारी

Loading...

Register to get FREE updates

    All Fields Mandatory
  • (Ex:9123456789)
  • Please Select Your Interest
  • Please specify

  • ajax-loader
  • A verifcation code has been sent to
    your mobile number

    Please enter the verification code below

Loading...