1. Home
  2. |  
  3. ARTICLE
  4. |  
  5. एमबीए |  

भारत के ऐसे 10 IIM ग्रेजुएट्स जिन्होंने अपने पैशन को अपना करियर बनाया

टॉप 10 आईआईएम ग्रेजुएट्स जिन्होंने अपने पैशन को ही अपने करियर के रूप में चुना.इन आईआईएम पूर्व छात्रों ने अपने करियर में उत्कृष्टता हासिल करने के लिए अपने दिल की बात सुनी और उसी के अनुसार कठिन परिश्रम कर जीवन में सफलता हासिल की.

Apr 16, 2019 16:57 IST
Top 10 IIM GRADUATES
Top 10 IIM GRADUATES

यह तो सभी जानते हैं कि  आईआईएम ग्रेजुएट्स अपने एमबीए इंस्टीट्यूट से प्राप्त किये गए विलक्षण स्किल्स और एक्सपोजर के कारण पूरे भारत में विख्यात हैं. इन एमबीए उम्मीदवारों को आईआईएम परिवार का हिस्सा बनने का एक सुनहरा मौका मिलता है और वे एक ऐसी डिग्री हासिल करते हैं जो उनके करियर के विकास में सहयोगी होता है.

पैशन को करियर बनाना

आमतौर पर हम देखते हैं कि ज्यादातर लोग अपनी वर्तमान जॉब से खुश नहीं रहते. इतना ही नहीं वे यह भी नहीं जानते कि उनका पैशन क्या है और अगर वे अपने पैशन की दिशा में कार्य करें तो उन्हें शायद दोगुनी सफलता मिलेगी. लेकिन कुछ लोग ऐसे भी हैं जो अपने पैशन को ही अपना करियर बना लेते हैं और उसमें अपना सर्वश्रेष्ठ देते हुए मानसिक संतुष्टि प्राप्त करते हैं. लोग अक्सर चुनौतियों का सामना न कर सकने के कारण अनचाहे जॉब से चिपके रहने को विवश होते हैं. जो काम हमें अच्छा नहीं लगता उसे करने की विवशता का मुख्य कारण अपने करियर की सही दिशा निर्धारित करने और उस दिशा में निरंतर आगे बढ़ने की कोशिश का आभाव होता है.कुछ मामलों में लोग विफलता के डर के कारण भी जीवन में बड़ा जोखिम लेने के विषय में सोचते ही नहीं हैं.

“फाइंडिंग इन योर पैशन : द इजी गाइड टू योर ड्रीम करियर “ नामक किताब में मार्सी मॉरिसन ने बताया है कि व्यक्ति को अपने  जुनून और ताकत की पहचान कर उसके अनुरूप करियर की दिशा निर्धारित करनी चाहिए. वह यह बताती हैं कि कैसे एक व्यक्ति अपनी व्यक्तिगत योजना बनाकर अपनी क्षमताओं को और अधिक विकसित कर सकता है. व्यक्तिगत विकास और उपलब्धि की भावना स्थापित करने के लिए, यह आवश्यक है कि आप अपनी ज़िंदगी को अपनी रुचि और जुनून से मेल खाने वाले कुछ कार्यों को करने में व्यतीत करें. इससे आपके प्रयास में स्वचालित रूप से गुणात्मक वृद्धि होगी और सफलता के फल अपने आप मिलने लगेगा.

इस लेख में हमने टॉप 10 आईआईएम ग्रेजुएट्स की एक सूची संकलित की है जिन्होंने रोजी रोटी कमाने के साधन के रूप में अपने पैशन को ही चुना.वर्तमान में वे हमारे देश का चेहरा हैं और अपनी असाधारण प्रतिभा के कारण आकर्षक क्षेत्रों में पुरस्कार और प्रशंसा अर्जित कर रहे हैं.

ऐसे 10 आईआईएम ग्रेजुएट्स जिन्होंने अपने पैशन को अपना करियर बनाया

Harsha Bhogle

1. हर्ष भोगले (IIM-A)

पेशा : भारतीय क्रिकेट कमेंटेटर और जर्नलिस्ट

जन्म : 19 जुलाई 1961

भोगले ने एपीसीए के लिए क्रिकेट खिलाड़ी के रूप में अपना करियर शुरू किया और छोटे स्तर के क्रिकेट खेले हैं. 1992 क्रिकेट विश्व कप से पहले भारत की क्रिकेट श्रृंखला के दौरान ऑस्ट्रेलियाई प्रसारण निगम द्वारा आमंत्रित किया जाने वाले वे पहले भारतीय कमेंटेटर हैं.हर्ष ने आईआईएम-ए से अपनी मास्टर डिग्री ली और बाद में उसी इंस्टीट्यूट में अध्ययनरत अपने सहपाठी से शादी कर ली. वह और उनकी पत्नी अनीता भोगल ने खेल जगत से जुड़े अपने अनुभव और ज्ञान के आधार पर “द विनिंग वे” नामक एक पुस्तक भी लिखी है.

Chetan Bhagat

2. चेतन भगत (IIM-A)

पेशा : भारतीय लेखक, स्तंभकार (कॉलुमिनिस्ट),मोटिवेशनल स्पीकर

जन्म : 22 अप्रैल 1974,

फाइव प्वाइंट सम वन (2004), वन नाइट @ द कॉल सेंटर (2005), द 3 मिस्टेक्स ऑफ माई लाइफ (2008), 2 स्टेट्स (2009),रिवोल्यूशन 2020(2011),ह्वाट यंग इंडिया वांट्स (2012),स्पीचेज और कॉल्युम्स,हाफ गर्लफ्रेंड (2014) आदि बेस्ट सेलिंग किताबों के लेखक चेतन भगत ने अपनी लेखन शैली से हजारों पाठकों के दिल को जीता है. उन्होंने लगभग एक दशक पहले हांगकांग कार्यालय के गोल्डमैन सैक्स में एक इन्वेस्टमेंट बैंकर के रूप में अपना करियर शुरू किया. चेतन के बारे में एक दिलचस्प तथ्य यह है कि हर्ष भोगल की तरह ही उन्होंने भी आईआईएम से अपनी मास्टर डिग्री पूरी की और वहीं अपने सहपाठी से शादी भी की. आप चेतन भगत के बारे में और अधिक जानकारी के लिए उनकी ऑफिसियल वेबसाईट पर विजिट कर पूर्ण जानकारी प्राप्त कर सकते हैं.

Arvind Subramanian

3. अरविन्द सुब्रमण्यम  (IIM-A)

पेशा : भारत सरकार में मुख्य आर्थिक सलाहकार

जन्म : 7 जून 1959, चेन्नई, भारत

वह एक भारतीय अर्थशास्त्री और वर्तमान में भारत सरकार के मुख्य आर्थिक सलाहकार हैं. वह अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष के अनुसंधान विभाग में सहायक निदेशक भी रहें.सुब्रमण्यम ने ग्रोथ, ट्रेड, डेवेलपमेंट, इंस्टीट्यूशन, ऐड, ऑयल, भारत, अफ्रीका और विश्व व्यापार संगठन (डब्ल्यूटीओ) आदि पर कई निबंध और आर्टिकल लिखें हैं.

Raghuram Rajan

4. रघुराम राजन  (IIM-A)

पेशा : पूर्व आरबीआई गवर्नर

जन्म : 3 फरवरी 1963,भोपाल, मध्य प्रदेश

वह भारतीय रिजर्व बैंक के 23 वें गवर्नर हैं और वर्तमान में बैंक फॉर इंटरनेशनल सेटलमेंट्स के वाइस चेयरमैन हैं. 2003 से 2007 तक अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष में वह सबसे कम उम्र के मुख्य अर्थशास्त्री थे.1987 में उन्होंने इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट से बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन में पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा की डिग्री गोल्ड मेडल के साथ प्राप्त की.2014 में उन्हें लंदन स्थित फायनेंसियल जर्नल सेंट्रल बैंकिंग द्वारा गवर्नर ऑफ द इयर अवॉर्ड 2014 से सम्मानित किया गया.

Amish Tripathi

5. अमिश त्रिपाठी (IIM-C)

पेशा : उपन्यासकार और शिव त्रयी के लेखक

जन्म : 18 अक्टूबर 1974, मुंबई, भारत

उन्होंने भारत के युवाओं के बीच अपने उपन्यासों के लिए बहुत लोकप्रियता हासिल की. इम्मोर्टल्स ऑफ मेलुहा,द सीक्रेट ऑफ दी नागाज, द ओथ ऑफ द वायुपुत्र, सियोन ऑफ इक्ष्वाकू इनकी सर्वाधिक बिकने वाली पुस्तकें हैं. शिव त्रयी भारतीय प्रकाशन इतिहास में सबसे कम समय में सर्वाधिक बिकने वाली पुस्तकों में से एक है. सियोन ऑफ इक्ष्वाकू 2015 की सबसे तेज़ी से बिकने वाली किताब थी. फोर्ब्स इंडिया ने भारत के टॉप 100 हस्तियों के बीच अमिश को लगातार चार बार( 2012, 2013, 2014 और 2015 में) स्थान दिया है. लेखक बनने से पहले अमिश ने फायनेंसियल सर्विस इंडस्ट्री में लगभग 14 वर्षों तक स्टैण्डर्ड चार्टर्ड, डीबीएस बैंक और आईडीबीआई फेडरल लाइफ इंश्योरेंस जैसी कंपनियों में काम किया.

Shikha Sharma

6. शिखा शर्मा (IIM-A)

पेशा : एक्सिस बैंक की मैनेजिंग डायरेक्टर और सीईओ

जन्म : 19 नवम्बर 1958,

उन्होंने 1980 में इंडस्ट्रियल क्रेडिट और इन्वेस्टमेंट कारपोरेशन (आईसीआईसीआई) में नौकरी के साथ अपना करियर शुरू किया. 1992 में उन्होंने आईसीआईसीआई सिक्योरिटीज की स्थापना की जो आईसीआईसीआई और जेपी मॉर्गन का एक संयुक्त वेंचर है. वर्तमान में वह एक्सिस बैंक लिमिटेड की वह मुख्य कार्यकारी अधिकारी और 1 जून, 2009 से एक्सिस एसेट मैनेजमेंट कंपनी लिमिटेड की अध्यक्ष और एसोसियेट डायरेक्टर हैं. शिखा शर्मा उन दो महिला उद्यमियों में से एक है जो एक निजी बैंक में किसी उच्च पद पर हैं. वर्ष 2010 में फोर्ब्स पत्रिका द्वारा उन्हें 'दुनिया की 100 सबसे शक्तिशाली महिलाओं' की सूची में 89 वें स्थान पर रखा गया था.

Rashmi Bansal

7. रश्मि बंसल  (IIM-A)

पेशा : नॉन फिक्शन राइटर और पब्लिक स्पीकर

जन्म : 8 मार्च 1985

रश्मि एक प्रसिद्ध लेखिका हैं वह उन्होंने स्टे हंग्री और स्टे फुलिश, कनेक्ट द डॉट्स,आई हैव ड्रीम और पूअर लिटिल रिच स्लम आदि सुप्रसिद्ध रचनाओं की लेखिका हैं.

वह कल्ट यूथ मैगजीन की सह-संस्थापक भी हैं.रश्मि अंतर्राष्ट्रीय युवा शोध एजेंसियों जैसे फ्यूचर्स कंपनी (डब्ल्यूपीपी, लंदन का एक प्रभाग) और फ्लेमिंगो रिसर्च (सिंगापुर) के लिए कंसल्टेंसी का कार्य भी करती हैं.रश्मि भारतीय समाचार पोर्टल 'Rediff.com' पर एक कॉलुमिनिस्ट हैं. आईआईएम की डिग्री के साथ साथ उन्होंने अपने करियर में सफलता की ऊंचाईयों को छुआ है.

Mallika Sarabhai

8. मल्लिका साराभाई (IIM-A)

पेशा : डांसर (कुचिपुड़ी और भरतनाट्यम) और पॉलिटिशियन

जन्म : 9 मई 1954

अहमदाबाद,गुजरात की रहने वाली मल्लिका साराभाई एक भारतीय क्लासिकल डांसर हैं.उन्होंने 15 वर्ष की उम्र में समानांतर सिनेमा में अपना करियर शुरू किया. वह अहमदाबाद में स्थित दर्पण एकेडमी ऑफ परफॉर्मिंग आर्ट्स को भी मैनेज करती हैं.इतना ही नहीं, उन्होंने गांधीनगर लोकसभा सीट के लिए एक स्वतंत्र उम्मीदवार के रूप में भारतीय जनता पार्टी के प्रधान मंत्री पद के उम्मीदवार लालकृष्ण आडवाणी के खिलाफ अपनी उम्मीदवारी की घोषणा करके राजनीति में भी नाम कमाया है. इनके विषय में अधिक जानकारी के लिए ऑफिसियल वेबसाईट पर विजिट करें.

Salil Shetty

9. शैली सेट्ठी (IIM-A)

पेशा : एमनेस्टी इंटरनेशनल के सेक्रेटी जेनरल

जन्म : 3 फरवरी 1961, बंगलुरु, भारत

वह 2010 से मानवाधिकार संगठन एमनेस्टी इंटरनेशनल के महासचिव हैं. उन्होंने भारतीय आईटी कंपनी विप्रो के साथ अपना करियर शुरू किया और 1998 से 2003 तक एक्शनएड के मुख्य कार्यकारी के रूप में भी कार्य किया. इसके अलावा, उन्हें 2003 से 2010 तक संयुक्त राष्ट्र मिलेनियम अभियान को भी निर्देशित करने की ज़िम्मेदारी उठाई. इन्होने यह साबित कर दिया कि आईआईएम से मैनेजमेंट की डिग्री सिर्फ बिजनेस के लिए ही काफी नहीं है बल्कि इसका प्रयोग सामजिक उत्थान के लिए भी किया जा सकता है.

Nila Madhab Panda

10. नीला मदहाब पांडा  (IIM-B)

पेशा : फिल्ममेकर

जन्म : 18 अक्टूबर 1973

वह एक अंतरराष्ट्रीय ख्यातिप्राप्त फिल्म निर्माता और निदेशक हैं. वे “मैं कलाम हूँ” के प्रसिद्द निदेशक हैं.उन्होंने आईआईएम अहमदाबाद में इंटरप्रेन्योरशिप का अध्ययन किया. उन्होंने एलीनोरा इमेजेज और अंतर्राष्ट्रीय स्क्रीन राइटर्स की प्रयोगशाला की स्थापना की जो भारतीय फिल्म उद्योग के लिए पाथ ब्रेकिंग साबित हुआ. उन्हें भारतीय सिनेमा में चिल्ड्रेन मूवमेंट का जनक भी माना जाता है. उन्हें 2015 में “भारत गौरव” पुरस्कार से सम्मानित किया गया.एमबीए उम्मीदवार के रूप में आपको उससे प्रेरणा लेनी चाहिए क्योंकि उन्होंने अपने जीवनकाल में ऐसी उपलब्धि हासिल की है जिसे कई फिल्मों को निर्देशित करने के बाद भी कई अन्य निदेशक  हासिल नहीं कर पाते हैं.

हम आशा करते हैं कि इन 10 प्रसिद्द व्यक्तित्व के विषय में जानकर आपको भी अवश्य ही अपने पैशन को करियर के रूप में अपनाने की प्रेरणा मिलेगी.अपने जुनून के साथ अपनी ताकत को एकीकृत करके उत्कृष्टता प्राप्त करने की दिशा में वे एक आदर्श उदाहरण हैं.आईआईएम से गेजुएट होने के बावजूद आप अपना भविष्य उस क्षेत्र में भी बना सकते हैं जहां आपका दिल लगता हो.

हम आपके उज्ज्वल भविष्य की कामना करते हैं.

एमबीए में करियर से सम्बन्धित अधिक अपडेट्स के लिए हमारी सदस्यता लें.

Loading...

Register to get FREE updates

    All Fields Mandatory
  • (Ex:9123456789)
  • Please Select Your Interest
  • Please specify

  • ajax-loader
  • A verifcation code has been sent to
    your mobile number

    Please enter the verification code below

Loading...