Search

UPSC (IAS) Prelims 2020: शशि थरूर ने केंद्रीय मंत्री से सिविल सर्विस परीक्षा के बारें में संशय दूर करने का आग्रह किया

हाल ही में एक ट्वीट के द्वारा, श्री शशि थरूर ने यूनियन मिनिस्टर डॉ. जितेंद्र सिंह से यूपीएससी आईएएस प्रीलिम्स 2020 की परीक्षा तिथि को ले कर संशय दूर करने का आग्रह किया। 

Apr 13, 2020 14:28 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon
Shashi Tharoor Urges Jitendra Singh to Clarify over UPSC Exam Date in Hindi
Shashi Tharoor Urges Jitendra Singh to Clarify over UPSC Exam Date in Hindi

UPSC की सिविल सेवा परीक्षा इस वर्ष 31 मई को होनी है। हालांकि कोरोना वायरस महामारी के कारण इस परीक्षा की तारीख पर संकट के बादल घिर गए हैं। इसी के चलते कांग्रेस पार्टी के सीनियर लीडर शशि थरूर ने अपने ट्विटर हैंडल पर ट्वीट कर केंद्रीय मंत्री जीतेन्द्र सिंह से जवाब माँगा। अपने ट्वीट में थरूर लिखते हैं "हर साल करीब 9 लाख छात्र यूपीएससी परीक्षा में भाग लेते हैं जिससे कि वह देश की सम्मानित सिविल सर्विस ज्वाइन कर सकें। लेकिन अभी तक किसी भी उम्मीदवार को यह स्पष्ट नहीं है कि परीक्षा 31 मई को ही होगी या इसे टाला जाएगा।” उन्होंने केंद्रीय मंत्री जितेन्द्र सिंह से इस विषय पर स्पष्टता देने का आग्रह किया है। 

कोरोनावायरस (COVID-19) महामारी और उसके बाद किये गए लॉकडाउन ने देश को एक स्थिर स्थिति में ला दिया है। यह ध्यान दिया जाना है कि संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी), जो देश में कई प्रतियोगी परीक्षाओं का आयोजन करता है, ने लॉकडाउन के चलते  मार्च से सभी भर्ती प्रक्रियाओं को अगले आधिकारिक नोटिस आने तक के लिए स्थगित कर दिया है।

प्रतिष्ठित सिविल सेवा परीक्षा के लिए आवेदन करने के लिए हर साल 9-10 लाख उम्मीदवार पंजीकरण (रजिस्ट्रेशन) करते हैं। हालांकि, परीक्षा के लिए 50% उम्मीदवार ही उपस्थित होते है। इस वर्ष यूपीएससी ने पंजीकरण प्रक्रिया पूरी होने के एक सप्ताह बाद आवेदकों को अपने आवेदन वापस लेने की अनुमति दी थी।

UPSC (IAS) Prelims 2020: परीक्षा की तैयारी के लिए Subject-wise Study Material & Resources

उम्मीदवारों के लिए परीक्षा से पहले के 3 महीने रिविज़न और टेस्ट-सीरीज लेने के लिए महत्वपूर्ण होते है। देश भर में लॉकडाउन लागू होने के बाद उम्मीदवारों को तैयारी के लिए कठिन समय का सामना करना पड़ रहा है। इस बीच, कई उम्मीदवार ऑनलाइन याचिका दायर कर परीक्षा स्थगित करने के लिए सरकार से आग्रह कर रहे हैं।

उम्मीदवारों द्वारा फाइल की गयी इस याचिका के कुछ महत्वपूर्ण पॉइंट्स:

  •  हम, एस्पिरेंट्स, इस महामारी से निपटने में हमारी सरकार और इसके प्रयासों का समर्थन करते हैं। हालाँकि, हमारे मुद्दों पर भी पर्याप्त ध्यान दिया जाना चाहिए।
  • यूपीएससी प्रीलिम्स को 3-4 महीने की समर्पित तैयारी की आवश्यकता होती है और लॉकडाउन के विस्तार पर अनिश्चितता के कारण हमारी तैयारी में बाधा आ रही है
  • चिंता और तनाव हमें अपने सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन से रोक रहा है। हमें लगता है कि इस महामारी के दौरान परीक्षा लिखने के लिए हमारे स्वास्थ्य को खतरा है

हालांकि केंद्र या UPSC की तरफ से अभी कोई जवाब नहीं दिया गया है। उम्मीद है कि जल्द ही उमीदवारो को इस परीक्षा को ले कर कोई स्पष्ट जवाब मिलेगा। 

UPSC (IAS) Prelims 2020: टीना डाबी ने 3 महीने में ऐसा किया था रिवीजन, बताया अपना टाइम टेबल



Related Categories

Related Stories