UPSC सिविल सेवा 2019: 22 वर्षीय सिमी करण ने केवल चार महीनों की तैयारी में हासिल की 31वीं रैंक

ओडिशा की सिमी करण ने पहले ही एटेम्पट में सिविल सेवा 2019 की परीक्षा पास कर 31वीं रैंक हासिल की है। सिमी ने यह सफलता केवल 22 साल की उम्र में हासिल की है। 

Created On: Aug 24, 2020 17:27 IST
UPSC सिविल सेवा 2019: 22 वर्षीय सिमी करण ने केवल चार महीनों की तैयारी में हासिल की 31वीं रैंक
UPSC सिविल सेवा 2019: 22 वर्षीय सिमी करण ने केवल चार महीनों की तैयारी में हासिल की 31वीं रैंक

ओडिशा की सिमी करण ने बड़े सपने देखे और कड़ी मेहनत से अपने सपनों को हकीकत में बदल दिया। 22 वर्षीय सिमी इस वर्ष की UPSC सिविल सेवा परीक्षा में उत्तीर्ण होने  वाली सबसे कम उम्र की महिलाओं में से एक है। उन्होंने यह सफलता बिना किसी कोचिंग संसथान की मदद लिए हासिल की है। आइये जानते हैं उनके इस सफर के बारे में 

UPSC सिविल सेवा परीक्षा 2019: जानें 5 टॉपर्स की सफलता की कहानी

ओडिशा में हुआ जन्म और छत्तीसगढ़ से की पढ़ाई पूरी 

सिमी करण का जन्म ओडिशा में हुआ था लेकिन उनकी स्कूली शिक्षा छत्तीसगढ़ के भिलाई से पूरी हुई। उन्होंने अपनी स्कूली शिक्षा डीपीएस भिलाई स्कूल से पूरी की। 22 वर्षीय सिमी ने 2015 में छत्तीसगढ़ से बारहवीं कक्षा की सीबीएसई परीक्षा में टॉप किया था और अखिल भारतीय स्तर पर 5वां स्थान हासिल किया था। उनके पिता डीएन करन भिलाई स्टील प्लांट में काम करते हैं और माता सुजाता एक शिक्षिका हैं। 

B.tech. की पढ़ाई के साथ साथ गरीब बच्चों को भी पढ़ाती थीं 

सिमी ने IIT Mumbai से B.tech.की पढ़ाई की है। जीवन के प्रति उसका दृष्टिकोण तब बदल गया जब वह मुंबई में एक बार झुग्गी के बच्चों को पढ़ाने गई और उनके संघर्ष को देखते हुए, उसने फैसला किया कि वह वंचित लोगों के जीवन को बदलने में योगदान देगी। इसलिए उन्होंने IAS बनने का फैसला किया।

4 महीनों में की UPSC की तैयारी 

सिमी की ग्रेजुएशन की परीक्षा मई 2019 में समाप्त हुई और उसी के तुरंत बाद ही सिमी ने UPSC की तैयारी शुरू की। क्योकि प्रीलिम्स की परीक्षा में केवल एक ही महीना शेष था इसलिए सिमी ने क्वालिटी स्टडी पर फोकस किया और सीमित स्टडी मटेरियल में से ही सही स्ट्रेटेजी के साथ पढ़ाई की। प्रीलिम्स की परीक्षा के तुरंत  बाद ही उन्होंने मेंस की तैयारी शुरू की और इसमें भी किसी कोचिंग की मदद नहीं ली। 

22 साल की उम्र में बन गईं हैं IAS

  अपनी सेलेक्टिव स्टडी की मदद से सिमी ने पहले ही एटेम्पट में परीक्षा पास कर 31वीं रैंक हासिल कर ली है। उन्होंने यह मुकाम केवल 22 वर्ष की आयु में ही हासिल कर लिया है। सिमी अपनी सफलता का क्रेडिट अपने माता-पिता, टीचर्स और दोस्तों को देती हैं। वह महिला सशक्तिकरण और बाल विवाह रोकने जैसे सामाजिक मुद्दों पर काम करना चाहती हैं। 

सिमी की सफलता ने यह साबित कर दिया है की अगर कुछ कर दिखाने की चाह हो तो कोई भी उम्र छोटी नहीं और सपना बड़ा नहीं होता। 

UPSC सिविल सेवा 2019 परीक्षा हिंदी मीडियम से दे कर ऋचा रत्नम ने हासिल की 274वीं रैंक: जानें उनकी Success Story



Comment (0)

Post Comment

7 + 5 =
Post
Disclaimer: Comments will be moderated by Jagranjosh editorial team. Comments that are abusive, personal, incendiary or irrelevant will not be published. Please use a genuine email ID and provide your name, to avoid rejection.