एम.टेक के बाद करियर विकल्प

Oct 16, 2018 09:53 IST
  • Read in English

एमटेक की डिग्री प्राप्त करने के बाद उपलब्ध अवसर

आप अपनी एमटेक की डिग्री प्राप्त करने के बाद मिलने वाले करियर ऑप्शन्स को 4 प्रमुख हिस्सों में बांट सकते हैं. ये 4 प्रमुख भाग हैं:

  • पीएचडी जैसी रिसर्च डिग्री में एडमिशन लेना
  • एमटेक की डिग्री मिलते ही तुरंत कोई अच्छी जॉब प्राप्त करना
  • एक टीचर के तौर पर किसी इंजीनियरिंग कॉलेज में नौकरी करना
  • अपनी कंपनी खोलना

एमटेक के बाद डॉक्टोरल डिग्री (पीएचडी)

अगर आप टीचिंग के प्रोफेशन में जाना चाहते हैं या आप किसी रिसर्च एवं डेवलपमेंट कंपनी में काम करने का शौक रखते हैं तो आप अपनी एमटेक की पढ़ाई पूरी करने के बाद अपने पसंदीदा विषय में पीएचडी कर सकते है. जब आप एमटेक के बाद पीएचडी करने का इरादा कर लेते हैं तो आपका ऑब्जेक्टिव स्पष्ट होना चाहिए कि आप टीचिंग या रिसर्च को अपने करियर ऑप्शन के तौर पर चुन रहे हैं.

भारत में उच्च शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए, भारत सरकार ने रिसर्च एंड डेवलपमेंट ऑर्गेनाइजेशन्स (आर एंड डी) और आईआईटीज तथा एनआईटीज जैसी सेंट्रल यूनिवर्सिटीज को मंजूरी दी है. टीचिंग प्रोफेशन बेशक आकर्षक पेशा है लेकिन इसमें काफी चुनौतियां भी आती हैं. आप अपने जोश और रूचि के अनुसार, एमटेक के बाद अपना करियर चुन सकते हैं. 

एमटेक की डिग्री प्राप्त करने के तुरंत बाद कर सकते हैं जॉब ज्वाइन 

आजकल के ट्रेंड को देखते हुए, आपको अपनी बीटेक की पढ़ाई पूरी करने के बाद जो जॉब प्रोफाइल मिलती है, वही जॉब एमटेक की पढ़ाई पूरी करने के बाद भी मिल सकती है. हालांकि, एमटेक की डिग्री मिलने के बाद आपके  जॉब रोल और पोजीशन के तहत आपको ज्यादा जिम्मेदारियां सौंपी जायेंगी और आपका सैलरी पैकेज भी काफी अच्छा होगा. इसके अलावा, एमटेक की डिग्री हासिल करने के बाद क्योंकि आपको टेक्निकल प्वाइंट्स की ज्यादा अच्छी जानकारी और समझ होगी और आप अपने सुपूर्द कार्यों के बारे में ज्यादा अच्छी तरह सोच-विचार कर सकेंगे, इसलिये आप अपने सभी काम ज्यादा बेहतरीन और फायदेमंद तरीके से करने में सक्षम होंगे.

आप एमटेक की डिग्री हासिल करने के बाद, बड़ी सरलता से रिसर्च एंड डेवलपमेंट ऑर्गेनाइजेशन्स, मैन्युफैक्चरिंग फर्म्स और आईटी कंपनियों में किसी प्रोजेक्ट मैनेजर, रिसर्च एसोसिएट और सीनियर इंजीनियर्स के तौर पर जॉब प्राप्त कर सकते हैं.

टीचिंग प्रोफेशन में करें जॉब

आमतौर पर, अधिकांश स्टूडेंट्स अपनी एमटेक की डिग्री प्राप्त करने के बाद एकेडेमिक जॉब्स करना पसंद करते हैं. आजकल, भारत में उच्च शिक्षा के क्षेत्र का बड़ी तीव्र गति से विकास हो रहा है और इस कारण डीम्ड यूनिवर्सिटीज, शिक्षा संस्थानों और कॉलेजों में टीचर्स और प्रोफेसर्स की मांग काफी बढ़ रही है.

एमटेक करने के बाद टीचिंग का पेशा ज्वाइन करने के लिए, स्टूडेंट्स को इस बात का ध्यान जरुर रखना चाहिए कि उनके पास इस पेशे के लिये बेहतरीन कम्युनिकेशन और प्रेजेंटेशन स्किल्स अवश्य होने चाहिए क्योंकि इन दोनों ही स्किल्स का टीचिंग प्रोफेशन में खास महत्व है. इसके अलावा, आपको टीचिंग का शौक भी होना चाहिए और आपको बड़े धैर्य और शांति के साथ अपने स्टूडेंट्स के साथ व्यवहार करना चाहिए. आपको किताबें और जर्नल्स पढ़ने की आदत डालनी होगी ताकि आपको अपने संबद्ध विषय में प्रचलित ट्रेंड्स की पूरी जानकारी हो.

अपनी कंपनी शुरू करें

क्या आप एमटेक करने के बाद एक एंटरप्रेन्योर बनना चाहते हैं? यह बहुत बढ़िया करियर ऑप्शन है. बहुत ही कम एमटेक ग्रेजुएट्स अपनी कंपनी खोलना चाहते हैं. हालांकि, आपके लिए यह एक अच्छी खबर है कि एमटेक की डिग्री के आधार पर आपको वेंचर कैपिटलिस्ट्स से फंड और इंवेस्टमेंट्स को लेकर काफी सहायता मिलेगी. अगर आप अपना काम या व्यापार पूरे डेडिकेशन के साथ करना चाहते हैं और आप उपयुक्त बिजनेस सेंस के साथ एक निडर व्यक्ति हैं तो आप अवश्य एक सफल एंटरप्रेन्योर बनेंगे. हमारी शुभकामनायें आपके साथ हैं.

पीएचडी में करें स्पेशलाइजेशन

पीएचडी होल्डर को हमेशा महत्वपूर्ण समझा जाता है और उन्हें काफी सम्मान मिलता है. अगर आप एमटेक के बाद डॉक्टोरल स्टडी करना चाहते हैं तो इससे आपको आश्चर्यजनक फायदा होगा बशर्ते आप अपना काम पूरी लगन और जोश सहित करें. एमटेक में आपके स्पेशलाइजेशन विषय के आधार पर ही पीएचडी में आपका स्पेशलाइजेशन विषय निर्धारित होगा. उदाहरण के लिए, अगर आपने मैकेनिकल इंजीनियरिंग में एमटेक की है तो पीएचडी में आपका स्पेशलाइजेशन का विषय मैकेनिकल इंजीनियरिंग से संबद्ध होगा. यद्यपि, आपका वास्तविक रिसर्च एरिया अंतिम तौर पर इंस्टिट्यूट कमेटी का संबद्ध विभाग स्टूडेंट्स के नॉलेज बेस और एप्टीट्यूड के आधार पर निर्धारित करता है.

आजकल, पीएचडी में इंटर-डिसिप्लिनरी अप्रोच काफी लोकप्रिय हो रही है. इसका यह मतलब है कि पीएचडी स्टूडेंट्स एक साथ दो पीएचडी स्पेशलाइजेशन्स चुन सकता है, जहां गाइडेंस के लिए एक से ज्यादा एक्सपर्ट्स की जरूरत पड़ेगी.   

फेलोशिप्स

एनआईटीज, आईआईटीज और आईआईएससी, बैंगलोर जैसे प्रसिद्ध इंजीनियरिंग इंस्टिट्यूट्स की पीएचडी स्टूडेंट्स के लिए अपनी अलग फंडिंग पॉलिसीज हैं. फेलोशिप में रु. 19,000 - रु. 24,000  तक प्रतिमाह दिए जाते हैं. आमतौर पर, इस कोर्स की अवधि 3 वर्ष होती हैं जिसे जरुरत के मुताबिक बढ़ाया जा सकता है. 

स्कॉलरशिप्स

डिपार्टमेंट ऑफ़ इनफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी, डिपार्टमेंट ऑफ़ साइंस एंड टेक्नोलॉजी, यूजीसी, एआईसीटीई और सीएसआईआर पीएचडी स्टूडेंट्स को स्कॉलरशिप्स ऑफर करते हैं. महिला साइंटिस्ट्स के लिए भी अलग स्कॉलरशिप स्कीम्स हैं.

उक्त सरकारी संस्थानों के अलावा, शेल और माइक्रोसॉफ्ट जैसी प्राइवेट कंपनियां भी इंडस्ट्री संबंधी प्रॉब्लम्स में स्पेशलाइजेशन करने वाले पीएचडी स्टूडेंट्स को स्कॉलरशिप उपलब्ध करवाती हैं. इसके अलावा, कई प्राइवेट कंपनियां भी देश में रिसर्च एंड डेवलपमेंट एक्टिविटीज को बढ़ावा देने के लिए इंवेस्टमेंट करके अपना योगदान देती हैं.

जो स्टूडेंट्स भारत में पीएचडी करना चाहते हैं, उन्हें निम्नलिखित बातों का ध्यान रखना चाहिए:

  • कोई भी इंस्टिट्यूट चुनने से पहले, स्टूडेंट्स को उस इंस्टिट्यूट की इंफ्रास्ट्रक्चरल फैसिलिटीज और  लाइब्रेरी की कंडीशन, इक्विपमेंट्स, लेब्स आदि जैसी अन्य सुविधाओं को अच्छी तरह चेक कर लेना चाहिए.
  • पीएचडी के स्पेशलाइजेशन एरिया के मुताबिक ही एक्सपर्ट्स का चयन किया जाना चाहिए. अन्यथा, पीएचडी स्टूडेंट और संबद्ध गाइड के बीच अलगाव की स्थिति हमेशा कायम रहेगी.
  • असल में, कोई भी पीएचडी प्रोग्राम एक ओपन-एंडेड प्रोग्राम होता है और यह तब तक पूरा नहीं समझा जाता है जब तक कि स्टूडेंट्स अपना रिसर्च कार्य अच्छी तरह पूरा न करें. इसलिये, आप अपने पीएचडी के पहले वर्ष से ही अपने रिसर्च कार्य को पूरी गंभीरता के साथ करें.

विदेश में करें पीएचडी

जो स्टूडेंट्स विदेश में पीएचडी करना चाहते हैं, उनके लिए काफी उज्ज्वल संभावना होती है. स्टेनफोर्ड, पिट्टसबर्ग, बर्कले और विस्कॉन्सिन जैसी काफी प्रसिद्ध यूनिवर्सिटीज, जो सभी जरुरी मॉडर्न फैसिलिटीज से पूरी तरह लैस होती हैं. इसलिये, ये यूनिवर्सिटीज आपकी पीएचडी की स्टडी बिना किसी रुकावट के पूरी करने के लिए बहुत उपयोगी साबित हो सकती हैं. विदेश में अपनी पीएचडी स्टडीज करने के लिए, स्टूडेंट्स को टीओईएफएल और जीआरई एग्जाम पास करने पड़ते हैं. इन एग्जाम्स में प्राप्त किये गये स्कोर्स के आधार पर, आप किसी सुप्रसिद्ध इंटरनेशनल कॉलेज में एडमिशन ले सकते हैं.

हमारे यहां पीएचडी प्रोग्राम्स के लिए जर्मनी और ऑस्ट्रेलिया को भी सबसे पसंदीदा स्थानों में शामिल किया जाता है. विभिन्न यूरोपीयन देशों में पीएचडी करने की लागत काफी कम है, हालांकि, इन देशों में कॉस्ट ऑफ़ लीविंग काफी ऊंची है.

फेक यूनिवर्सिटीज के जाल में मत फंसें

यह बहुत बढ़िया बात है कि आप किसी इंटरनेशनल यूनिवर्सिटी से अपनी पीएचडी की पढ़ाई करने के बारे में प्लान कर रहे हैं. यद्यपि, कोई इंस्टिट्यूशन चुनते समय आप पूरी सावधानी बरतें और उस इंस्टिट्यूट की क्रेडिबिलिटी एवं एक्रीडिटेशन को डबल चेक करें. भारत में एआईसीटीई की तरह ही, यूएसए में एक्रीडिटेशन प्रोसेस को एबीईटी मेनटेन रखता है. इसलिये, स्टूडेंट्स संबद्ध यूनिवर्सिटी की एबीईटी एक्रीडिटेशन रेटिंग जरुर चेक करें और उसके बाद ही कोई निर्णय लें.

DISCLAIMER: JPL and its affiliates shall have no liability for any views, thoughts and comments expressed on this article.

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK