Jagran Josh Logo

महिलाओं के लिए करियर ऑप्शन्स

Oct 11, 2018 15:47 IST
  • Read in English

महिलाओं के लिए करियर ऑप्शन्स

आजकल, जीवन के हरेक क्षेत्र में महिलायें और पुरुष कंधे से कंधा मिलाकर काम कर रहे हैं. अब, महिलाओं की दुनिया केवल उनके घर की चारदीवारी तक ही सीमित नहीं रही है. उपयुक्त शिक्षा और कम्युनिकेशन के साथ-साथ मॉडर्न टेक्नोलॉजी के आगमन से प्रत्येक महिला को अपने सपनों और महत्वाकांक्षाओं को साकार करने के अपूर्व अवसर और पर्याप्त छूट मिले हैं.

इसलिये, अगर आप उन महिलाओं में से एक हैं जो अगली कॉरपोरेट लीडर बनने का इरादा रखकर अपने सपने साकार करना चाहती हैं, तो यहां आपके लिए ऐसा करने के कुछ अवसर पेश हैं. हम यहां आपकी सहूलियत के लिए कुछ करियर ऑप्शन्स की एक व्यापक लिस्ट पेश कर रहे हैं जो आपके पैशन, टैलेंट और स्किल्स के मुताबिक आपको अपने लिए एक बेहतरीन करियर चुनने का अवसर मुहैया करवाने में मदद कर सकती है. आइये आगे पढ़ें: 

एयर होस्टेस के तौर पर करियर

यह भारतीय महिलाओं के बीच बहुत लोकप्रिय करियर ऑप्शन है जो आकर्षक होने के साथ ही एक प्रोमिसिंग करियर ऑप्शन भी है. अगर आपको अन्य लोगों से बातें करना अच्छा लगता है और आपकी आकर्षक पर्सनैलिटी के साथ ही आपके पास बढ़िया कम्युनिकेशन स्किल्स हैं तो यह पेशा आपके लिए एक उपयुक्त करियर ऑप्शन है. एक एयर होस्टेस के तौर पर, आप विभिन्न स्थानों और देशों में विजिट करेंगी, जहां आप होटल्स में रहकर हर रोज़ नये लोगों से बातचीत कर नये-नये अनुभव प्राप्त कर सकती हैं. हालांकि, अगर आप यह प्रोफेशन अपनाना चाहती हैं तो आपको 100% प्रतिबद्धता, समर्पण और साहस के साथ मेहनत करने के लिए तत्पर रहना होगा.

एलिजिबिलिटी और पर्सनैलिटी ट्रेट्स

भारत में कई संस्थान महिला कैंडिडेट्स को डिप्लोमा और शॉर्ट-टर्म कोर्स तथा ट्रेनिंग करवाते हैं. एयर होस्टेस की ट्रेनिंग के लिए, एयर इंडिया और इंडियन एयरलाइन्स जैसे एयर सर्विस कैरियर्स कम से कम 157.5 सेंटीमीटर कद वाली, 19 से 25 वर्ष की युवा लडकियों को रिक्रूट करते हैं. अधिकांश सस्थानों में अनिवार्य एजुकेशनल क्वालिफिकेशन 12 वीं कक्षा पास है. लेकिन कुछ संस्थान आपसे ग्रेजुएशन की डिग्री के बारे में भी पूछ सकते हैं.

स्मार्ट और आत्मविश्वासी लड़कियां, जिनकी आकर्षक और पोलाइट पर्सनैलिटी हो, केवल वे ही एयर होस्टेस का पेशा चुन सकती हैं. इन ट्रेट्स के साथ ही, एक्सीलेंट कम्युनिकेशन स्किल्स और अच्छा सेंस ऑफ़ ह्यूमर भी इस पेशे की प्रमुख आवश्यकता है. इस पेशे के लिए आपको कम से कम एक विदेशी भाषा में महारत हासिल होनी चाहिए; हालांकि, यह एक अनिवार्य शर्त नहीं है.

शैक्षिक संस्थान

भारत में कई शैक्षिक संस्थान/ इंस्टिट्यूशंस एयर होस्टेस के पेशे के लिए स्टूडेंट्स को डिग्री कोर्स और ट्रेनिंग करवाते हैं. कुछ प्रसिद्ध संस्थानों के नाम नीचे दिए जा रहे हैं.

• वाईएमसीए, नई दिल्ली

• स्काईलाइन एजुकेशनल इंस्टिट्यूट, हौज खास, दिल्ली

• फ्रैंकफिन इंस्टीट्यूट ऑफ एयर होस्टेस ट्रेनिंग, नई दिल्ली

जॉब प्रॉस्पेक्ट्स

एयर होस्टेस की ट्रेनिंग और कोर्स सफलतापूर्वक समाप्त करने के बाद, कैंडिडेट्स विभिन्न पब्लिक और प्राइवेट एयरलाइन्स जैसे, एयर इंडिया, इंडिगो, ब्रिटिश एयरवेज आदि में जॉब्स प्राप्त कर सकती हैं.

एडवरटाइजिंग में करियर प्रॉस्पेक्ट्स

आजकल, एडवरटाइजिंग एक बहुत ही आकर्षक और पसंदीदा प्रोफेशन के तौर पर उभरा है, जो आपको एक तरफ फन और क्रिएटिविटी की गारंटी देता है और दूसरी तरफ, यह आपको पहचान और प्रसिद्धी दिलवाता है. इस पेशे में, आपके पास अपने आस-पास के माहौल के बारे में जागरूकता लाने और उसके बाद, दिलकश विज्ञापनों के माध्यम से अपनी टारगेट ऑडियंस को लुभाने की काबिलियत जरुर होनी चाहिए. एडवरटाइजिंग करियर के लिए ऑल-राउंड क्रिएटिविटी, यूजर बिहेवियर की समझ और ब्रांडिंग स्किल्स अनिवार्य शर्तें हैं.

एलिजिबिलिटी और पर्सनैलिटी ट्रेट्स

बैचलर लेवल पर कोई एडवरटाइजिंग कोर्स ज्वाइन करने के लिए एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया 12 वीं क्लास पास होना और पीजी लेवल के लिए किसी भी विषय में ग्रेजुएशन की डिग्री है. कई संस्थान अंडरग्रेजुएट और पोस्ट ग्रेजुएट लेवल के एडवरटाइजिंग कोर्सेज करवाते हैं. एडवरटाइजिंग में अपना करियर शुरू करने का सबसे अच्छा तरीका है कि आप किसी एड एजेंसी में जॉब ज्वाइन कर लें. अपने पैशन और स्किल्स के अनुसार, आप किसी भी एड एजेंसी में क्रिएटिव या मैनेजमेंट डिपार्टमेंट ज्वाइन कर सकते हैं.

एडवरटाइजिंग में सफल करियर बनाने के लिए, सहनशीलता और शांत स्वभाव होने के साथ-साथ आपके पास बहुत अच्छे इमैजिनेटिव और विजूअलाइजेशन स्किल्स होने चाहिए. इस कार्यक्षेत्र में तरक्की प्राप्त करने के लिए आपके पास प्रेशर के तहत काम करने क्षमता भी होनी चाहिए ताकि आप सख्त डेडलाइन्स में अपने टारगेट्स प्राप्त कर सकें. लैंग्वेज में महारत, टीम के साथ मिलकर काम करने की काबिलियत के साथ ही ऑर्गेनाइजेशन स्किल्स भी इस पेशे में महारत हसिल करने के लिए बहुत जरुरी हैं.   

शैक्षिक संस्थान

एडवरटाइजिंग में प्रोफेशनल कोर्सेज करवाने वाले कुछ बढ़िया इंस्टिट्यूट्स निम्नलिखित हैं:

• भारतीय विद्या भवन, (मुंबई, कलकत्ता, चेन्नई, दिल्ली)

• सेंटर फॉर मास मीडिया, वाईएमसीए, नई दिल्ली

• इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ मास कम्युनिकेशन्स (आईआईएमसी), नई दिल्ली

• केसी कॉलेज ऑफ मैनेजमैंट, मुंबई

• मुद्रा इंस्टिट्यूट ऑफ कम्युनिकेशंस, अहमदाबाद (एमआईसीए)

• नरसी मोंजी इंस्टिट्यूट ऑफ मैनेजमैंट स्ट्डीज़, मुंबई

• सेंट जेवियर्स कॉलेज ऑफ कम्युनिकेशंस, मुंबई

जॉब प्रॉस्पेक्ट्स

एडवरटाइजिंग में अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद, आपको एड एजेंसीज, रेडियो चैनल्स, मीडिया हाउसेज, ई-कॉमर्स स्टोर्स, एफएमसीजी कंपनियों और पीआर एजेंसीज में जॉब्स मिल सकती हैं. प्रोडक्ट प्रमोशन और ब्रांडिंग के लिए एडवरटाइजिंग की लोकप्रियता दिन-प्रति-दिन बढ़ती ही जा रही है. आजकल के संगठन क्लाइंट सर्विसिंग, अकाउंट मैनेजमेंट, पब्लिक रिलेशन्स, सेल्स प्रमोशन, आर्ट डायरेक्शन और कॉपी राइटिंग के क्षेत्रों से संबद्ध पेशेवरों को जॉब्स देने के लिए ज्यादा पसंद कर रहे हैं.

फैशन डिजाइनिंग में करियर

आजकल, हमारे लाइफस्टाइल को आर्थिक विकास और मॉडर्न वैल्यूज ने काफी प्रभावित किया है. अब, हरेक व्यक्ति कपड़ों, खान-पान, ट्रेवल, शिक्षा और संबंधों के मामले में एक अलग और विशेष लाइफस्टाइल अपनाना चाहता है. इस ट्रेंड को देखते हुए, कुछ समय से फैशन डिजाइनिंग सबसे ज्यादा पसंदीदा करियर ऑप्शन के तौर पर उभरा है. अब, हर दूसरा व्यक्ति आकर्षक और सुरुचिपूर्ण तरीके से कपड़े पहनना और तैयार होना चाहता है और इस कारण इन दिनों फैशन डिज़ाइनर्स की मांग बहुत बढ़ गई है. आज के इस आधुनिक समाज में फैशन लोगों के जीवन का एक अभिन्न हिस्सा बन गया है. इसलिये, इस प्रोफेशन में आप अपना करियर शुरू करके उसे नई ऊंचाइयों तक पहुंचा सकते हैं.

एलिजिबिलिटी और पर्सनैलिटी ट्रेट्स

किसी प्रसिद्ध इंस्टिट्यूट से फैशन डिजाइनिंग कोर्स करने का बेसिक एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया 12 वीं क्लास पास करना है. 10+2 पास करने के बाद आप दो किस्म के कोर्स कर सकते हैं जो हैं – फैशन टेक्नोलॉजी में बैचलर की डिग्री और फैशन डिजाइनिंग में बैचलर की डिग्री. अपने इंटरेस्ट के मुताबिक आप इनमें से कोई भी कोर्स कर सकते हैं. इन दोनों कोर्सेज की अवधि 4 वर्ष है.

इस प्रोफेशन को ज्वाइन करने के लिए, आपके पास बहुत उम्दा इमैजिनेटिव पावर्स होनी चाहिए. बढ़िया मास्टरपीस तैयार करने के लिए फैब्रिक्स, कलर्स और स्टाइल के मिलान के लिए आपके पास आर्टिस्टिक व्यू-प्वाइंट के साथ ही असाधारण विज़ुअलाइज़ेशन क्षमतायें होनी चाहिए. इसके अलावा, आपको इस क्षेत्र में होनी वाली प्रतियोगिता और चुनौतियों के लिए पूरी तरह तैयार रहना होगा. आपको यूजर्स के फैशन टेस्ट और लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स के साथ खुद को जरुर अपडेटेड रखना होगा.

शैक्षिक संस्थान

फैशन डिजाइनिंग में कोर्सेज करवाने वाले टॉप इंस्टिट्यूट्स की लिस्ट निम्नलिखित है:

• सीईपीजेड इंस्टिट्यूट ऑफ फैशन टैक्नोलॉजी, मुंबई

• जेडी इंस्टीट्यूट ऑफ फैशन टेक्नोलॉजी (विभिन्न शहर)

• नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ फैशन डिजाइन, कलकत्ता

• नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ़ फैशन टेक्नोलॉजी (नई दिल्ली, मुंबई, कलकत्ता, चेन्नई, बंगलौर, हैदराबाद, गांधीनगर)

• पर्ल एकेडेमी ऑफ़ फैशन, नई दिल्ली

• सोफिया पॉलिटेक्निक, मुंबई

जॉब प्रॉस्पेक्ट्स

अगर आप कलात्मक हैं और आपके पास बेहतरीन फैशन सेंस है, तो इस प्रोफेशन में आप आसमान छू सकते हैं. एक कुशल और टैलेंटेड फैशन डिज़ाइनर को अपैरल कंपनियों, एक्सपोर्ट हाउसेज और रॉ मेटीरियल इंडस्ट्री में एक स्टाइलिस्ट या डिज़ाइनर के तौर पर जॉब मिल सकती है. इस पेशे की सबसे अच्छी बात तो यह है कि कुछ वर्षों का अनुभव प्राप्त करने के बाद आप अपना फैशन बुटीक खोल सकते हैं. किसी फैशन डिजाइनिंग ग्रेजुएट के लिए विजूअल मर्केंडाइजिंग, कॉस्टयूम डिजाइनिंग और फैशन राइटिंग अन्य बेहतरीन करियर ऑप्शन्स हैं. 

जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन में करियर

आप अवश्य अंजना ओम कश्यप और बरखा दत्त जैसी प्रसिद्ध न्यूज़ जर्नलिस्ट्स के नामों से परिचित होंगे. अगर आप उनके जैसी बनना चाहती हैं तो जर्नलिज्म और मास कम्युनिकेशन में कोर्स करना आपके लिए बहुत फायदेमंद रहेगा. जर्नलिज्म और मास कम्युनिकेशन में प्रोफेशन बहुत चुनौतीपूर्ण और जोखिम से भरा होता है. लेकिन आजकल, अधिकांश महिलायें यह प्रोफेशन अपना रही हैं क्योंकि इसमें जॉब सेटिस्फेक्शन के साथ-साथ प्रसिद्धी भी मिलती है. डिजिटल मीडिया के आने से जर्नलिज्म और मास कम्युनिकेशन का कार्यक्षेत्र ज्यादा व्यापक बन गया है और अब इस कार्यक्षेत्र के तहत रिपोर्टर्स, कॉपी राइटर्स, प्रोड्यूर्स, एंकर्स, एक्सपर्ट्स और कॉलमिस्ट्स के लिए भी बहुत ज्यादा जॉब्स उपलब्ध हैं.

एलिजिबिलिटी और पर्सनैलिटी ट्रेट्स

मास कम्युनिकेशन में अंडरग्रेजुएट डिग्री प्राप्त करने के लिए आपने 12 वीं क्लास जरुर पास की हो. इसी तरह,  मास कम्युनिकेशन में मास्टर डिग्री प्राप्त करने के लिए आपने मास कम्युनिकेशन में बैचलर डिग्री प्राप्त की हो. कुछ कॉलेज एंट्रेंस टेस्ट्स लेकर कैंडिडेट्स का चयन करते हैं. लेकिन, कुछ कॉलेज कैंडिडेट्स के एकेडेमिक रिकार्ड्स के आधार पर उनका चयन करते हैं. कई इंस्टिट्यूट्स जर्नलिज्म और मास कम्युनिकेशन में 1 साल का पीजी कोर्स भी ऑफर करते हैं.

इस पेशे में महारत हासिल करने के लिए, आपके पास असाधारण राइटिंग और वर्बल कम्युनिकेशन स्किल्स होने चाहिये. इसके साथ ही, आपमें भरपूर आत्मविश्वास होना चाहिए और आपकी पर्सनैलिटी आकर्षक होनी चाहिए. आप कैमरा के सामने पूरे आत्मविश्वास और स्मार्टनेस के साथ आयें. आपकी रिपोर्टिंग निष्पक्ष होनी चाहिए और आपके विचारों और राय पर लेशमात्र भी राजनीतिक प्रभाव नहीं पड़ना चाहिए. इसके अलावा, मास कम्युनिकेशन के कैंडिडेट्स के पास अपने टॉपिक्स में बहुत अच्छी तरह एक्स्टेंसिव रिसर्च करने के बाद किसी भी स्टोरी को प्रसारित करने की काबिलियत होनी चाहिए.

शैक्षिक संस्थान

भारत में मास कम्युनिकेशन कोर्सेज करवाने वाले टॉप इंस्टिट्यूट्स निम्नलिखित हैं:

• इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ मास कम्युनिकेशन, आईआईएमसी, नई दिल्ली

• एशियाई कॉलेज ऑफ जर्नलिज्म, चेन्नई

• जामिया मिलिया इस्लामिया, नई दिल्ली

• डिपार्टमेंट ऑफ़ कम्युनिकेशन एंड जर्नलिज्म, पुणे विश्वविद्यालय, पुणे

• सिम्बायोसीस इंस्टीट्यूट ऑफ मास कम्युनिकेशन, पुणे

• नई दिल्ली वाईएमसीए, नई दिल्ली

• भारतीय विद्या भवन, दिल्ली और मुंबई

जॉब प्रॉस्पेक्ट्स

विभिन्न समाचारपत्र, न्यूज़ एजेंसीज, मैगजीन्स, वेब साइट्स, सरकारी और प्राइवेट टीवी चैनल्स अपने ऑफिसेज में जर्नलिस्ट्स को रिपोर्टिंग, एडिटिंग और कॉपी राइटिंग के काम पर रखते हैं. इसके अलावा, इंटरनेशनल पेपर्स और न्यूज़ चैनल्स ढेरों जॉब्स ऑफर करते हैं. इनफॉर्मेशन एवं ब्राडकास्टिंग मंत्रालय में भी समय-समय पर जॉब के अवसर उपलब्ध होते रहते हैं.

मास कम्युनिकेशन ग्रेजुएट्स विभिन्न समाचारपत्रों, मैगजीन्स, न्यूज़ एजेंसीज, न्यूज़ वेबसाइट्स, सरकारी और प्राइवेट चैनल्स और रेडियो स्टेशन्स में रोज़गार प्राप्त कर सकते हैं. इसी तरह, इंटरनेशनल न्यूज़पेपर्स और न्यूज़ चैनल्स कई वेकेंसीज ऑफर करते हैं. ये जॉब्स रिपोर्टिंग, एडिटिंग, प्रोडक्शन, एंकरिंग, कॉपी राइटिंग, स्क्रिप्ट राइटिंग और वीडियो शूट्स के जॉब-प्रोफाइल्स के लिए उपलब्ध होती हैं.

एयर होस्टेस के तौर पर करियर

यह भारतीय महिलाओं के बीच बहुत लोकप्रिय करियर ऑप्शन है जो आकर्षक होने के साथ ही एक प्रोमिसिंग करियर ऑप्शन भी है. अगर आपको अन्य लोगों से बातें करना अच्छा लगता है और आपकी आकर्षक पर्सनैलिटी के साथ ही आपके पास बढ़िया कम्युनिकेशन स्किल्स हैं तो यह पेशा आपके लिए एक उपयुक्त करियर ऑप्शन है. एक एयर होस्टेस के तौर पर, आप विभिन्न स्थानों और देशों में विजिट करेंगी, जहां आप होटल्स में रहकर हर रोज़ नये लोगों से बातचीत कर नये-नये अनुभव प्राप्त कर सकती हैं. हालांकि, अगर आप यह प्रोफेशन अपनाना चाहती हैं तो आपको 100% प्रतिबद्धता, समर्पण और साहस के साथ मेहनत करने के लिए तत्पर रहना होगा.

एलिजिबिलिटी और पर्सनैलिटी ट्रेट्स

भारत में कई संस्थान महिला कैंडिडेट्स को डिप्लोमा और शॉर्ट-टर्म कोर्स तथा ट्रेनिंग करवाते हैं. एयर होस्टेस की ट्रेनिंग के लिए, एयर इंडिया और इंडियन एयरलाइन्स जैसे एयर सर्विस कैरियर्स कम से कम 157.5 सेंटीमीटर कद वाली, 19 से 25 वर्ष की युवा लडकियों को रिक्रूट करते हैं. अधिकांश सस्थानों में अनिवार्य एजुकेशनल क्वालिफिकेशन 12 वीं कक्षा पास है. लेकिन कुछ संस्थान आपसे ग्रेजुएशन की डिग्री के बारे में भी पूछ सकते हैं.

स्मार्ट और आत्मविश्वासी लड़कियां, जिनकी आकर्षक और पोलाइट पर्सनैलिटी हो, केवल वे ही एयर होस्टेस का पेशा चुन सकती हैं. इन ट्रेट्स के साथ ही, एक्सीलेंट कम्युनिकेशन स्किल्स और अच्छा सेंस ऑफ़ ह्यूमर भी इस पेशे की प्रमुख आवश्यकता है. इस पेशे के लिए आपको कम से कम एक विदेशी भाषा में महारत हासिल होनी चाहिए; हालांकि, यह एक अनिवार्य शर्त नहीं है.

शैक्षिक संस्थान

भारत में कई शैक्षिक संस्थान/ इंस्टिट्यूशंस एयर होस्टेस के पेशे के लिए स्टूडेंट्स को डिग्री कोर्स और ट्रेनिंग करवाते हैं. कुछ प्रसिद्ध संस्थानों के नाम नीचे दिए जा रहे हैं.

• वाईएमसीए, नई दिल्ली

• स्काईलाइन एजुकेशनल इंस्टिट्यूट, हौज खास, दिल्ली

• फ्रैंकफिन इंस्टीट्यूट ऑफ एयर होस्टेस ट्रेनिंग, नई दिल्ली

जॉब प्रॉस्पेक्ट्स

एयर होस्टेस की ट्रेनिंग और कोर्स सफलतापूर्वक समाप्त करने के बाद, कैंडिडेट्स विभिन्न पब्लिक और प्राइवेट एयरलाइन्स जैसे, एयर इंडिया, इंडिगो, ब्रिटिश एयरवेज आदि में जॉब्स प्राप्त कर सकती हैं.

एडवरटाइजिंग में करियर प्रॉस्पेक्ट्स

आजकल, एडवरटाइजिंग एक बहुत ही आकर्षक और पसंदीदा प्रोफेशन के तौर पर उभरा है, जो आपको एक तरफ फन और क्रिएटिविटी की गारंटी देता है और दूसरी तरफ, यह आपको पहचान और प्रसिद्धी दिलवाता है. इस पेशे में, आपके पास अपने आस-पास के माहौल के बारे में जागरूकता लाने और उसके बाद, दिलकश विज्ञापनों के माध्यम से अपनी टारगेट ऑडियंस को लुभाने की काबिलियत जरुर होनी चाहिए. एडवरटाइजिंग करियर के लिए ऑल-राउंड क्रिएटिविटी, यूजर बिहेवियर की समझ और ब्रांडिंग स्किल्स अनिवार्य शर्तें हैं.

एलिजिबिलिटी और पर्सनैलिटी ट्रेट्स

बैचलर लेवल पर कोई एडवरटाइजिंग कोर्स ज्वाइन करने के लिए एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया 12 वीं क्लास पास होना और पीजी लेवल के लिए किसी भी विषय में ग्रेजुएशन की डिग्री है. कई संस्थान अंडरग्रेजुएट और पोस्ट ग्रेजुएट लेवल के एडवरटाइजिंग कोर्सेज करवाते हैं. एडवरटाइजिंग में अपना करियर शुरू करने का सबसे अच्छा तरीका है कि आप किसी एड एजेंसी में जॉब ज्वाइन कर लें. अपने पैशन और स्किल्स के अनुसार, आप किसी भी एड एजेंसी में क्रिएटिव या मैनेजमेंट डिपार्टमेंट ज्वाइन कर सकते हैं.

एडवरटाइजिंग में सफल करियर बनाने के लिए, सहनशीलता और शांत स्वभाव होने के साथ-साथ आपके पास बहुत अच्छे इमैजिनेटिव और विजूअलाइजेशन स्किल्स होने चाहिए. इस कार्यक्षेत्र में तरक्की प्राप्त करने के लिए आपके पास प्रेशर के तहत काम करने क्षमता भी होनी चाहिए ताकि आप सख्त डेडलाइन्स में अपने टारगेट्स प्राप्त कर सकें. लैंग्वेज में महारत, टीम के साथ मिलकर काम करने की काबिलियत के साथ ही ऑर्गेनाइजेशन स्किल्स भी इस पेशे में महारत हसिल करने के लिए बहुत जरुरी हैं.   

शैक्षिक संस्थान

एडवरटाइजिंग में प्रोफेशनल कोर्सेज करवाने वाले कुछ बढ़िया इंस्टिट्यूट्स निम्नलिखित हैं:

• भारतीय विद्या भवन, (मुंबई, कलकत्ता, चेन्नई, दिल्ली)

• सेंटर फॉर मास मीडिया, वाईएमसीए, नई दिल्ली

• इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ मास कम्युनिकेशन्स (आईआईएमसी), नई दिल्ली

• केसी कॉलेज ऑफ मैनेजमैंट, मुंबई

• मुद्रा इंस्टिट्यूट ऑफ कम्युनिकेशंस, अहमदाबाद (एमआईसीए)

• नरसी मोंजी इंस्टिट्यूट ऑफ मैनेजमैंट स्ट्डीज़, मुंबई

• सेंट जेवियर्स कॉलेज ऑफ कम्युनिकेशंस, मुंबई

जॉब प्रॉस्पेक्ट्स

एडवरटाइजिंग में अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद, आपको एड एजेंसीज, रेडियो चैनल्स, मीडिया हाउसेज, ई-कॉमर्स स्टोर्स, एफएमसीजी कंपनियों और पीआर एजेंसीज में जॉब्स मिल सकती हैं. प्रोडक्ट प्रमोशन और ब्रांडिंग के लिए एडवरटाइजिंग की लोकप्रियता दिन-प्रति-दिन बढ़ती ही जा रही है. आजकल के संगठन क्लाइंट सर्विसिंग, अकाउंट मैनेजमेंट, पब्लिक रिलेशन्स, सेल्स प्रमोशन, आर्ट डायरेक्शन और कॉपी राइटिंग के क्षेत्रों से संबद्ध पेशेवरों को जॉब्स देने के लिए ज्यादा पसंद कर रहे हैं.

फैशन डिजाइनिंग में करियर

आजकल, हमारे लाइफस्टाइल को आर्थिक विकास और मॉडर्न वैल्यूज ने काफी प्रभावित किया है. अब, हरेक व्यक्ति कपड़ों, खान-पान, ट्रेवल, शिक्षा और संबंधों के मामले में एक अलग और विशेष लाइफस्टाइल अपनाना चाहता है. इस ट्रेंड को देखते हुए, कुछ समय से फैशन डिजाइनिंग सबसे ज्यादा पसंदीदा करियर ऑप्शन के तौर पर उभरा है. अब, हर दूसरा व्यक्ति आकर्षक और सुरुचिपूर्ण तरीके से कपड़े पहनना और तैयार होना चाहता है और इस कारण इन दिनों फैशन डिज़ाइनर्स की मांग बहुत बढ़ गई है. आज के इस आधुनिक समाज में फैशन लोगों के जीवन का एक अभिन्न हिस्सा बन गया है. इसलिये, इस प्रोफेशन में आप अपना करियर शुरू करके उसे नई ऊंचाइयों तक पहुंचा सकते हैं.

एलिजिबिलिटी और पर्सनैलिटी ट्रेट्स

किसी प्रसिद्ध इंस्टिट्यूट से फैशन डिजाइनिंग कोर्स करने का बेसिक एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया 12 वीं क्लास पास करना है. 10+2 पास करने के बाद आप दो किस्म के कोर्स कर सकते हैं जो हैं – फैशन टेक्नोलॉजी में बैचलर की डिग्री और फैशन डिजाइनिंग में बैचलर की डिग्री. अपने इंटरेस्ट के मुताबिक आप इनमें से कोई भी कोर्स कर सकते हैं. इन दोनों कोर्सेज की अवधि 4 वर्ष है.

इस प्रोफेशन को ज्वाइन करने के लिए, आपके पास बहुत उम्दा इमैजिनेटिव पावर्स होनी चाहिए. बढ़िया मास्टरपीस तैयार करने के लिए फैब्रिक्स, कलर्स और स्टाइल के मिलान के लिए आपके पास आर्टिस्टिक व्यू-प्वाइंट के साथ ही असाधारण विज़ुअलाइज़ेशन क्षमतायें होनी चाहिए. इसके अलावा, आपको इस क्षेत्र में होनी वाली प्रतियोगिता और चुनौतियों के लिए पूरी तरह तैयार रहना होगा. आपको यूजर्स के फैशन टेस्ट और लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स के साथ खुद को जरुर अपडेटेड रखना होगा.

शैक्षिक संस्थान

फैशन डिजाइनिंग में कोर्सेज करवाने वाले टॉप इंस्टिट्यूट्स की लिस्ट निम्नलिखित है:

• सीईपीजेड इंस्टिट्यूट ऑफ फैशन टैक्नोलॉजी, मुंबई

• जेडी इंस्टीट्यूट ऑफ फैशन टेक्नोलॉजी (विभिन्न शहर)

• नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ फैशन डिजाइन, कलकत्ता

• नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ़ फैशन टेक्नोलॉजी (नई दिल्ली, मुंबई, कलकत्ता, चेन्नई, बंगलौर, हैदराबाद, गांधीनगर)

• पर्ल एकेडेमी ऑफ़ फैशन, नई दिल्ली

• सोफिया पॉलिटेक्निक, मुंबई

जॉब प्रॉस्पेक्ट्स

अगर आप कलात्मक हैं और आपके पास बेहतरीन फैशन सेंस है, तो इस प्रोफेशन में आप आसमान छू सकते हैं. एक कुशल और टैलेंटेड फैशन डिज़ाइनर को अपैरल कंपनियों, एक्सपोर्ट हाउसेज और रॉ मेटीरियल इंडस्ट्री में एक स्टाइलिस्ट या डिज़ाइनर के तौर पर जॉब मिल सकती है. इस पेशे की सबसे अच्छी बात तो यह है कि कुछ वर्षों का अनुभव प्राप्त करने के बाद आप अपना फैशन बुटीक खोल सकते हैं. किसी फैशन डिजाइनिंग ग्रेजुएट के लिए विजूअल मर्केंडाइजिंग, कॉस्टयूम डिजाइनिंग और फैशन राइटिंग अन्य बेहतरीन करियर ऑप्शन्स हैं.

जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन में करियर

आप अवश्य अंजना ओम कश्यप और बरखा दत्त जैसी प्रसिद्ध न्यूज़ जर्नलिस्ट्स के नामों से परिचित होंगे. अगर आप उनके जैसी बनना चाहती हैं तो जर्नलिज्म और मास कम्युनिकेशन में कोर्स करना आपके लिए बहुत फायदेमंद रहेगा. जर्नलिज्म और मास कम्युनिकेशन में प्रोफेशन बहुत चुनौतीपूर्ण और जोखिम से भरा होता है. लेकिन आजकल, अधिकांश महिलायें यह प्रोफेशन अपना रही हैं क्योंकि इसमें जॉब सेटिस्फेक्शन के साथ-साथ प्रसिद्धी भी मिलती है. डिजिटल मीडिया के आने से जर्नलिज्म और मास कम्युनिकेशन का कार्यक्षेत्र ज्यादा व्यापक बन गया है और अब इस कार्यक्षेत्र के तहत रिपोर्टर्स, कॉपी राइटर्स, प्रोड्यूर्स, एंकर्स, एक्सपर्ट्स और कॉलमिस्ट्स के लिए भी बहुत ज्यादा जॉब्स उपलब्ध हैं|

एलिजिबिलिटी और पर्सनैलिटी ट्रेट्स

मास कम्युनिकेशन में अंडरग्रेजुएट डिग्री प्राप्त करने के लिए आपने 12 वीं क्लास जरुर पास की हो. इसी तरह,  मास कम्युनिकेशन में मास्टर डिग्री प्राप्त करने के लिए आपने मास कम्युनिकेशन में बैचलर डिग्री प्राप्त की हो. कुछ कॉलेज एंट्रेंस टेस्ट्स लेकर कैंडिडेट्स का चयन करते हैं. लेकिन, कुछ कॉलेज कैंडिडेट्स के एकेडेमिक रिकार्ड्स के आधार पर उनका चयन करते हैं. कई इंस्टिट्यूट्स जर्नलिज्म और मास कम्युनिकेशन में 1 साल का पीजी कोर्स भी ऑफर करते हैं.

इस पेशे में महारत हासिल करने के लिए, आपके पास असाधारण राइटिंग और वर्बल कम्युनिकेशन स्किल्स होने चाहिये. इसके साथ ही, आपमें भरपूर आत्मविश्वास होना चाहिए और आपकी पर्सनैलिटी आकर्षक होनी चाहिए. आप कैमरा के सामने पूरे आत्मविश्वास और स्मार्टनेस के साथ आयें. आपकी रिपोर्टिंग निष्पक्ष होनी चाहिए और आपके विचारों और राय पर लेशमात्र भी राजनीतिक प्रभाव नहीं पड़ना चाहिए. इसके अलावा, मास कम्युनिकेशन के कैंडिडेट्स के पास अपने टॉपिक्स में बहुत अच्छी तरह एक्स्टेंसिव रिसर्च करने के बाद किसी भी स्टोरी को प्रसारित करने की काबिलियत होनी चाहिए.

शैक्षिक संस्थान

भारत में मास कम्युनिकेशन कोर्सेज करवाने वाले टॉप इंस्टिट्यूट्स निम्नलिखित हैं:

• इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ मास कम्युनिकेशन, आईआईएमसी, नई दिल्ली

• एशियाई कॉलेज ऑफ जर्नलिज्म, चेन्नई

• जामिया मिलिया इस्लामिया, नई दिल्ली

• डिपार्टमेंट ऑफ़ कम्युनिकेशन एंड जर्नलिज्म, पुणे विश्वविद्यालय, पुणे

• सिम्बायोसीस इंस्टीट्यूट ऑफ मास कम्युनिकेशन, पुणे

• नई दिल्ली वाईएमसीए, नई दिल्ली

• भारतीय विद्या भवन, दिल्ली और मुंबई

जॉब प्रॉस्पेक्ट्स

विभिन्न समाचारपत्र, न्यूज़ एजेंसीज, मैगजीन्स, वेब साइट्स, सरकारी और प्राइवेट टीवी चैनल्स अपने ऑफिसेज में जर्नलिस्ट्स को रिपोर्टिंग, एडिटिंग और कॉपी राइटिंग के काम पर रखते हैं. इसके अलावा, इंटरनेशनल पेपर्स और न्यूज़ चैनल्स ढेरों जॉब्स ऑफर करते हैं. इनफॉर्मेशन एवं ब्राडकास्टिंग मंत्रालय में भी समय-समय पर जॉब के अवसर उपलब्ध होते रहते हैं.

मास कम्युनिकेशन ग्रेजुएट्स विभिन्न समाचारपत्रों, मैगजीन्स, न्यूज़ एजेंसीज, न्यूज़ वेबसाइट्स, सरकारी और प्राइवेट चैनल्स और रेडियो स्टेशन्स में रोज़गार प्राप्त कर सकते हैं. इसी तरह, इंटरनेशनल न्यूज़पेपर्स और न्यूज़ चैनल्स कई वेकेंसीज ऑफर करते हैं. ये जॉब्स रिपोर्टिंग, एडिटिंग, प्रोडक्शन, एंकरिंग, कॉपी राइटिंग, स्क्रिप्ट राइटिंग और वीडियो शूट्स के जॉब-प्रोफाइल्स के लिए उपलब्ध होती हैं.

DISCLAIMER: JPL and its affiliates shall have no liability for any views, thoughts and comments expressed on this article.

Newsletter Signup
Follow us on
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK