Search

अज़मल आमिर कसाब को मौत की सज़ा

मुंबई आतंकी हमलों के एकमात्र जीवित बचे आतंकवादी अज़मल आमिर कसाब को मुंबई में आर्थर रोड जेल के अंदर स्थित विशेष सत्र अदालत ने 6 मई 2010 को मौत की सज़ा सुनाई. मामले की पूरी सुनवाई विशेष न्यायाधीश एम.एल. तहलियानी ने किया.

Oct 23, 2010 17:45 IST

मुंबई आतंकी हमलों के एकमात्र जीवित बचे आतंकवादी अज़मल आमिर कसाब को मुंबई में आर्थर रोड जेल के अंदर स्थित विशेष सत्र अदालत ने 6 मई 2010 को मौत की सज़ा सुनाई. मामले की पूरी सुनवाई विशेष न्यायाधीश एम.एल. तहलियानी ने किया. ज्ञातव्य हो कि 26 नवंबर 2008 को 10 पाकिस्तानी आतंकवादियों ने मुंबई के निम्नलिखित जगहों पर हमला किया था :
I.    छत्रपति शिवाजी टर्मिनस
II.    कामा पैलेस
III.    होटल ताज
IV.    होटल ओबेराय
V.    लियोपोल्ड कैफे
VI.    नरिमन हॉउस

विशेष सरकारी वकील उज्जवल निकम ने कसाब पर कुल 86 आरोप पत्र दाखिल किया था. बचाव पक्ष के वकील के.एस. पवार थे. इनके पहले बचाव पक्ष के वकील एस.जी.अब्बास काज़मी थे, जिन्हें 30 नवंबर 2009 को विशेष न्यायाधीश एम.एल. तहलियानी ने झूठ बोलने और सहयोग नहीं देने के कारण बर्खास्त कर दिया था.