Search

कुलदीप नैयर रामनाथ गोयनका लाइफटाइम अचीवमेंट पुरस्कार से सम्मानित

दिल्ली में आयोजित प्रतिष्ठित रामनाथ गोयनका एक्सीलेंस पुरस्कार समारोह के आठवें संस्करण में स्तंभकार और लेखक कुलदीप नैयर को पत्रकारिता में योगदान के लिए 23 नवंबर 2015 को रामनाथ गोयनका लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड से सम्मानित किया गया.

Nov 24, 2015 13:03 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon

स्तंभकार और लेखक कुलदीप नैयर, वरिष्ठ पत्रकार को पत्रकारिता में उनके योगदान के लिए 23 नवंबर 2015 को रामनाथ गोयनका लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड से सम्मानित किया गया.

दिल्ली में आयोजित प्रतिष्ठित रामनाथ गोयनका एक्सीलेंस पुरस्कार समारोह के आठवें संस्करण में उन्हें इस पुरस्कार से सम्मानित किया गया.

वर्ष 2013 और 2014 में पत्रकारिता के क्षेत्र में उत्कृष्ट सेवा के लिए सूचना एवं प्रसारण मंत्री अरुण जेटली ने पत्रकारों को सम्मानित किया. इलेक्ट्रोनिक प्रसारण मीडिया और प्रिंट के विभिन्न 56 से अधिक पत्रकारों को उनके असाधारण रिपोर्ताज के लिए अलग अलग श्रेणियों में पत्रकारों को पुरस्कार प्रदान किए गए.

 

कुलदीप नैयर के बारे में

वह इंडियन एक्सप्रेस के पूर्व संपादक रहे है.
1975 से 77 तक 21 महीने की अवधि, आपातकाल के दौरान प्रशासन की ज्यादतियों के खिलाफ उन्होंने विरोध प्रदर्शन कर रहे समूह का नेतृत्व किया. आंतरिक सुरक्षा अधिनियम (मीसा) के तहत वे जेल भी गए. उन दिनों, आपातकाल के समय वे उर्दू प्रेस रिपोर्टर थे.
उन्हें अनुभवी भारतीय पत्रकार, सिंडिकेटेड स्तंभकार, मानव अधिकार कार्यकर्ता और लेखक, वामपंथी राजनीतिक कमेंटेटर के रूप में उनके लंबे कैरियर में उल्लेखनीय योगदान के लिए याद किया जाएगा.
1996 में वे संयुक्त राष्ट्र के लिए भारतीय प्रतिनिधिमंडल के एक सदस्य थे.
1990 में वे ग्रेट ब्रिटेन के उच्चायुक्त नियुक्त किए गए.
अगस्त 1997 में वे भारतीय संसद, ऊपरी सदन राज्य सभा में सदस्य के रूप में मनोनीत किए गए.

कुलदीप नैयर लिखित 15 चर्चित पुस्तकों में से कुछ निम्न हैं-

• डिस्टेंट नेबर्स: ए टेल ऑफ़ सब कॉन्टिनेंट (1972)
• इंडिया आफ्टर नेहरू (1975)
• इंडिया हाउस (1992)
• द जजमेंट: इनसाइड स्टोरी ऑफ़ थे इमरजेंसी इन इंडिया (1977)
• मार्तायर: भगत सिंह एक्सपेरिमेंटस इन रेवोल्युसन (2000)

 वाल एट वाघा - इंडिया पाकिस्तान रिलेशनशिप (2003)
• स्कूप !: इनसाइड स्टोरी फ्रॉम पार्टीशन टू द प्रेजेंट (2006)

“बियॉन्ड द लाइन्स” नामक पुस्तक कुलदीप नैयर की आत्मकथा का जुलाई 2012 में विमोचन किया गया.

कुछ अन्य पुरस्कार
• सिविक पत्रकारिता के लिए प्रकाश कार्डले मेमोरियल अवार्ड (2014): टाइम्स ऑफ इंडिया के राधेश्याम बापू जाधव को पुणे में अवैध इमारतें और निवासियों का डर पर रिपोर्ट और एमिड पोलिटिकल अपेथी के लिए सम्मानित किया गया.
• सिविक पत्रकारिता के लिए प्रकाश कार्डले  मेमोरियल अवार्ड (2013): राष्ट्र दीपिका के रिचर्ड जोसेफ को लाइफ ऑफ़ चिल्ड्रन इन ट्राइबल विलेजेज हू ड्राप आउट ऑफ़ स्कूल तो सपोर्ट देअर फैमिलीज़ के लिए सम्मानित किया गया.

न्यूज़ रिपोर्ट्स जो पुरुस्कृत की गयी-
 
मूविंग एकाउंट ऑफ़ द 2012 मुजफ्फरनगर रायटस सर्वाइवर
सीरीज ऑफ़ रिपोर्ट फ्रॉम सीरिया और इराक ऑन द हवोक रॉउट द स्लामिक स्टेट
स्टरलाइजेशन इन छत्तीसगढ़
हार्ट वार्मिंग एकाउंट ऑफ़ यंग गर्ल्स लर्निंग टू प्ले क्रिकेट इन माओइस्ट एफेक्टेड विलेज इन झारखण्ड

Download our Current Affairs & GK app For exam preparation

डाउनलोड करें करेंट अफेयर्स ऐप एग्जाम की तैयारी के लिए

AndroidIOS